Submit your post

Follow Us

अपने देश के लिए बुरा लगना बुरा है क्या?

270
शेयर्स

उनके नायक गुटखा दबाए एंकर हैं. जो कैमरे के सामने चिल्ला-चिल्लाकर वो कहने का अभिनय कर रहे हैं. जो वो समझ पाते हैं और जो शायद वो कहना भी चाह रहे होंगे. एंकर हीरो हैं. अंग्रेजी में भी गरिया पाते हैं. पूरे शोर के साथ. उन्हें लगता है बखिया उधेड़ी जा रही है. वो मगन हो जाते हैं. जल्द ही मंदिर बनेंगे. जहां एंकरों की मूर्तियां रखी जाएंगी. हवन होंगे. एंकर्स नए भारत के नए अवतार हैं.

चौराहे पर खड़े होइए. 10 लोगों से पूछिए JNU में जो हुआ वो सही था या गलत? ज्यादातर कहेंगे गलत हुआ. उनका कहना गलत है क्या? नहीं! कुछ कहेंगे, बहुत गलत हुआ, मार दो, भगा दो. ये गलत है. पर अब भी गलती उनकी नहीं है. इस मार दो के पीछे 69 साल खपाए गए हैं. उन्हें कश्मीर दिखता है, गोले-बम दिखते हैं. टेररिज्म दिखता है. तमाम वो चीजें दिखती हैं जो हैं भी, और बार-बार उन्हें दिखाई भी गई हैं. उनने देखनी भी चाही हैं.

उनको नहीं पता कि अफज़ल की फांसी पर किसी को ऐतराज़ क्यों हो सकता है. उनको ये समझ नहीं है कि AK-47 लेकर संसद में घुसना और उसी मामले से जुड़े एक शख्स की पैरवी करना, उसके फेवर में दो नारे लगा देना. दो अलग बाते हैं.

उनने वो देखा है जो सुलभ था, हर कोई JNU का नहीं है. हर किसी की समझ आपके जैसी नहीं है. उन्हें समझाया भी तो नहीं जा रहा. हर कोई क्रांति में जुटा है और उन्हें लगने लगा है. हर मंसूबा उनके खिलाफ बांधा जा रहा है. दरअसल उन्हें कुछ बताने की कभी जरूरत ही नहीं समझी गई.

उनको दिखता क्या है? देशभर में 700 से ज्यादा यूनिवर्सिटीज तो होंगी ही. वैसी ही यूनिवर्सिटी का एक लड़का है. चलो प्रेसिडेंट है. उसके लिए सुप्रीम कोर्ट पुलिस कमिश्नर पर चढ़े बैठी है. सारे देश का ध्यान बस इस पर लगा है कि उसके साथ क्या हो रहा है. वो भी तब जब एक बड़े वर्ग के अनुसार उसने कुछ गलत किया है. आप कहते हैं सरकार गलत कर रही है तो वो खुश होते हैं कि सरकार कुछ तो कर रही है. और ऐसे ही सरकार के गलत करने के रास्ते खुलते हैं फिर कोई कुछ नहीं बोल पाता, फिर कोई आपकी नहीं सुनता. आप नारे लगाने में खप रहे हैं. उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा.

आदमी के शरीर में 70% पानी होता है तो 140% PDA होता होगा. संभव नहीं है, पर होता ही होगा. यहां देश के लिए बड़ा PDA भरा है. कमजोरियां भी उसी के तले छुपा लेना चाहते हैं. ये जो वकील हाथ चला रहे हैं वो भी संगठित नहीं हैं, उन्हें कोई पार्टी नहीं भेज रही है. कोई पार्टी इतनी मूर्खता नहीं करेगी. वो भी ऐसे ही लोग हैं. पर वो बहस नहीं करना चाहते. हाथ चलाकर PDA दिखाना चाहते हैं.

दरअसल बहुत भावुक और एक सी सोच वाले करोड़ों लोग इस देश में हैं. जो खुद की अच्छाई-बुराई में लिपटे पड़े हैं. वो बहुत अच्छे लोग हैं. इतने सरल हैं कि उनकी सरलता से खीझ होने लगती है. उन्हें अपनी चीजें अच्छी लगती हैं. अपनी चीजों के लिए वो इनसिक्योर भी फील करते हैं, देश भी उसी में एक है. देश भी एक चीज है. आप कितने भी लॉजिकल हो जाएं कभी कोई कन्हैया कुमार उनका हीरो नहीं बनेगा.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
why is the common man against the JNU students

गंदी बात

हम रेप की कहानियां किस तरह सुनना चाहते हैं?

मसाला छिड़ककर या मलाई मारकर?

मलाइका अरोड़ा की कांख पर कुछ लोगों की आंख क्यों चढ़ गई?

कुछ ने तारीफ़ की. मगर कई लोग मुंह भी बना रहे हैं. लिख रहे हैं, वैक्स क्यों नहीं करवाया.

साइकल, पौरुष और स्त्रीत्व

एक तस्वीर बड़े दिनों से वायरल है. जिसमें साइकल दिख रही है. इस साइकल का इतिहास और भूगोल क्या है?

महिलाओं का सम्मान न करने वाली पार्टियों में आखिर हम किसको चुनें?

बीजेपी हो या कांग्रेस, कैंडिडेट लिस्ट में 15 फीसद महिलाएं भी नहीं दिख रहीं.

लोकसभा चुनाव 2019: पॉलिटिक्स बाद में, पहले महिला नेताओं की 'इज्जत' का तमाशा बनाते हैं!

चुनाव एक युद्ध है. जिसकी कैजुअल्टी औरतें हैं.

सर्फ एक्सेल के ऐड में रंग फेंक रहे बच्चे हमारे हैं, इन्हें बचा लीजिए

इन्हें दूसरों की कद्र न करने वाले हिंसक लोगों में तब्दील न होने दीजिए.

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बच्चे के ट्रांसजेंडर होने का पता चलने पर मां ने खुशी क्यों मनाई?

आप में से तमाम लोग सोच सकते हैं कि इसमें खुश होने की क्या बात है.

'मैं तुम्हारे भद्दे मैसेज लीक कर रही हूं, तुम्हें रेपिस्ट बनने से बचा रही हूं'

तुमने सोच कैसे लिया तुम पकड़े नहीं जाओगे?

औरत अपनी उम्र बताए तो शर्म से समाज झेंपता है वो औरत नहीं

किसी औरत से उसकी उम्र पूछना उसका अपमान नहीं होता है.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.