Submit your post

Follow Us

अपने देश के लिए बुरा लगना बुरा है क्या?

उनके नायक गुटखा दबाए एंकर हैं. जो कैमरे के सामने चिल्ला-चिल्लाकर वो कहने का अभिनय कर रहे हैं. जो वो समझ पाते हैं और जो शायद वो कहना भी चाह रहे होंगे. एंकर हीरो हैं. अंग्रेजी में भी गरिया पाते हैं. पूरे शोर के साथ. उन्हें लगता है बखिया उधेड़ी जा रही है. वो मगन हो जाते हैं. जल्द ही मंदिर बनेंगे. जहां एंकरों की मूर्तियां रखी जाएंगी. हवन होंगे. एंकर्स नए भारत के नए अवतार हैं.

चौराहे पर खड़े होइए. 10 लोगों से पूछिए JNU में जो हुआ वो सही था या गलत? ज्यादातर कहेंगे गलत हुआ. उनका कहना गलत है क्या? नहीं! कुछ कहेंगे, बहुत गलत हुआ, मार दो, भगा दो. ये गलत है. पर अब भी गलती उनकी नहीं है. इस मार दो के पीछे 69 साल खपाए गए हैं. उन्हें कश्मीर दिखता है, गोले-बम दिखते हैं. टेररिज्म दिखता है. तमाम वो चीजें दिखती हैं जो हैं भी, और बार-बार उन्हें दिखाई भी गई हैं. उनने देखनी भी चाही हैं.

उनको नहीं पता कि अफज़ल की फांसी पर किसी को ऐतराज़ क्यों हो सकता है. उनको ये समझ नहीं है कि AK-47 लेकर संसद में घुसना और उसी मामले से जुड़े एक शख्स की पैरवी करना, उसके फेवर में दो नारे लगा देना. दो अलग बाते हैं.

उनने वो देखा है जो सुलभ था, हर कोई JNU का नहीं है. हर किसी की समझ आपके जैसी नहीं है. उन्हें समझाया भी तो नहीं जा रहा. हर कोई क्रांति में जुटा है और उन्हें लगने लगा है. हर मंसूबा उनके खिलाफ बांधा जा रहा है. दरअसल उन्हें कुछ बताने की कभी जरूरत ही नहीं समझी गई.

उनको दिखता क्या है? देशभर में 700 से ज्यादा यूनिवर्सिटीज तो होंगी ही. वैसी ही यूनिवर्सिटी का एक लड़का है. चलो प्रेसिडेंट है. उसके लिए सुप्रीम कोर्ट पुलिस कमिश्नर पर चढ़े बैठी है. सारे देश का ध्यान बस इस पर लगा है कि उसके साथ क्या हो रहा है. वो भी तब जब एक बड़े वर्ग के अनुसार उसने कुछ गलत किया है. आप कहते हैं सरकार गलत कर रही है तो वो खुश होते हैं कि सरकार कुछ तो कर रही है. और ऐसे ही सरकार के गलत करने के रास्ते खुलते हैं फिर कोई कुछ नहीं बोल पाता, फिर कोई आपकी नहीं सुनता. आप नारे लगाने में खप रहे हैं. उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा.

आदमी के शरीर में 70% पानी होता है तो 140% PDA होता होगा. संभव नहीं है, पर होता ही होगा. यहां देश के लिए बड़ा PDA भरा है. कमजोरियां भी उसी के तले छुपा लेना चाहते हैं. ये जो वकील हाथ चला रहे हैं वो भी संगठित नहीं हैं, उन्हें कोई पार्टी नहीं भेज रही है. कोई पार्टी इतनी मूर्खता नहीं करेगी. वो भी ऐसे ही लोग हैं. पर वो बहस नहीं करना चाहते. हाथ चलाकर PDA दिखाना चाहते हैं.

दरअसल बहुत भावुक और एक सी सोच वाले करोड़ों लोग इस देश में हैं. जो खुद की अच्छाई-बुराई में लिपटे पड़े हैं. वो बहुत अच्छे लोग हैं. इतने सरल हैं कि उनकी सरलता से खीझ होने लगती है. उन्हें अपनी चीजें अच्छी लगती हैं. अपनी चीजों के लिए वो इनसिक्योर भी फील करते हैं, देश भी उसी में एक है. देश भी एक चीज है. आप कितने भी लॉजिकल हो जाएं कभी कोई कन्हैया कुमार उनका हीरो नहीं बनेगा.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.