Submit your post

Follow Us

आपकी बहन-बेटी को 'वेश्या' कहने वाले व्यक्ति और आप में क्या फर्क है?

जैसे-जैसे फेसबुक और ट्विटर हमारे जीवन के साथ-साथ मेनस्ट्रीम मीडिया का हिस्सा बनते जा रहे हैं, उन लोगों को मुखर होने का मौका मिल रहा है जिनको सुनने वाला पहले कोई नहीं था. शहरों से गांवों तक आई इंटरनेट क्रांति के बाद, फोन में नेट पैक हो तो आप घर बैठे बड़े-बड़े मंत्रियों तक अपनी आवाज पहुंचा सकते हैं. ये कहना न होगा कि इसका सबसे ज्यादा फायदा लड़कियों को हुआ है. वो लड़कियां, जिन्हें कोई सुनता नहीं था, जो अपने साथ हुई छेड़खानी के बाद बाथरूम में बंद होकर रोया करती थीं, अब असल में फेसबुक पर उसे लिख न ही सिर्फ अपनी भड़ास निकाल पा रही हैं, बल्कि अपनी बात इतने लोगों तक पहुंचा पा रही हैं, कि उसपर मुहिम छिड़ सके.

लेकिन एक बात और गौर करने वाली है, कि जितनी तेज़ी से लड़कियां फेसबुक पर खुद की समस्याएं रखती हैं, उतनी ही तेजी से उन्हें डिलीट कर देती हैं. हाइड कर देती हैं. या खुद का अकाउंट ही डीएक्टिवेट कर देती हैं.

बीती शाम हमने एक औरत के हैरेसमेंट की कहानी आपतक पहुंचाई थी. एक नौकरीपेशा लड़की की शादीशुदा बहन को कुछ लोगों ने सड़क पर छेड़ा. मगर लड़की के कहने पर वो स्टोरी हमें हटानी पड़ी. वजह, घर और समाज का प्रेशर.

जब एक लड़की समाज में बात करना शुरू कर देती है, चाहे वो घर के कमरे हों, मोहल्ले की सड़कें या फेसबुक की दुनिया, कुछ पुरुषों से बर्दाश्त नहीं होता. उन्हें लड़की से कोई ख़ास दुश्मनी नहीं होती. मगर चूंकि अगली लड़की है, और बात कर रही है, तो जरूर सेक्स चाहती होगी. इसलिए उसको लोग बहुत कुछ बोलकर चले जाते हैं.

एक स्टेटस, जो उसके साथ हुए हरासमेंट, उसके शरीर से जुड़ी किसी बात पर, या किसी भी मुद्दे पर महज उसकी राय भर बताता हो, का कमेंट बॉक्स लड़की के लिए नर्क बन जाता है. लड़की को कही जाने वाली बातें किस हद तक भद्दी हो सकती हैं, इसका अंदाज़ा आपको किसी भी औरतों के हक़ में आत करती लड़की के स्टेटस में मिल जाएगा. न मिले तो पल भर के लिए उससे उसका इनबॉक्स दखाने की गुजारिश करिएगा.

कुछ समय पहले हमने कुछ ऐसी मुसलमान लड़कियों के साथ बात करते हुए एक स्टोरी लगाई थी. ये वो लड़कियां थीं जो सोशल मीडिया पर खुलकर अपने विचार रखती थीं. हिंदू लोग इन्हें मुसलमान होने के लिए गालियां देते हैं. मुसलमान पुरुष इन्हें लड़कियां होने के लिए गालियां देते हैं. मगर ये रुकती नहीं, लिखती रहती हैं. स्टोरी लगाने के अगले दिन यूं हुआ, कि उनमें से कुछ लड़कियों ने ये कहा कि उनका नाम हटा लिया जाए. बता दें, कि लिखने के पहले उनकी अनुमति ले ली गई थी. मगर उनके नामों पर लोगों की नजर पड़ते ही लोग उन्हें बुरा भला कहने लगे.

लड़कियों पर मानसिक दबाव बनाने वाले बहुत से लोग होते हैं. जो उन्हें नीचे खींचने की कोशिश करते हैं. मगर ये लड़कियों को तोड़ते नहीं. लड़कियों को उनके घर वाले तोड़ते हैं. उनके पति, उनके मां-बाप, उनके बॉयफ्रेंड, उनके रिश्तेदार. कोई उनसे कहता है कि वे अपने संस्कार भूल गई हैं. तो कोई कहता है कि वो उनकी सुरक्षा को लेकर फिक्रमंद हैं. लड़कियां पराए लोगों कि गालियां तो सुनकर भूल जाती हैं. अगर घर-परिवार से आये प्रेशर के सामने हथियार डाल देती हैं.

तो क्या फर्क रह गया उनमें, जो उन्हें ‘वेश्या’ पुकारकर तोड़ते हैं और आपमें, जो प्रेम और सुरक्षा के नाम पर उनकी आजादी का गला घोंट देते हैं?

Passengers travel in a women-only bus in Kathmandu

लड़कियां इसलिए बार-बार अपने कहे से पीछे हटती दिखाई देती हैं. कभी कोई सेक्स क्लिप वायरल हो जाए जिसमें औरत की शक्ल दिख रही हो, उसके बाद तो वो जीने लायक ही नहीं बचती. एक से अधिक बार ऐसा देखा गया है कि किसी क्लिप में लड़कियां सहमति से सेक्स करती दिख रही हैं. उनकी तरफ से कोई प्रतिरोध नहीं है. मगर क्लिप के वायरल होते ही वो कहती हैं कि उनका रेप हुआ है. हालांकि ये बात सच है कि झांसा देकर या जबरन सहमति प्राप्त की गई सहमति से सेक्स भी रेप ही होता है. और अक्सर ऐसे रेप की क्लिप भी खूब दिखाई पड़ती हैं. मगर जो बात मैं कहने का प्रयास कर रही हूं, वो ये है कि बदनामी, गैर-संस्कारी, चरित्रहीन और वेश्या कहलाने के डर से औरतों के पास ये गुंजाइश नहीं होती, कि किसी अफेयर के सामने आने के बाद वो सच्चाई के साथ डटकर खड़ी रहें. वो अक्सर पूरा दोष पुरुष पर गढ़ देना चाहती हैं.

किसी को हिदायतें, नसीहतें देना मेरा काम नहीं. लेकिन एक ऐसी लड़की होने के नाते, जो खुद लिखती है, मैं ये कह सकती हूं कि एक बार डरकर, अपने कहे से पीछे हटकर हम आज तो जानने और न जानने वालों से मीठे संबंध बरक़रार ज़रूर रख पाएंगे, मगर पूरी औरत जात को सौ साल पीछे धकेल देंगे.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

दुबई के शेख ने अपनी ही बेटी का किडनैप करवाया और इस चक्कर में भारत की भयानक बेइज्ज़ती हुई

शेख राशिद अल-मख्तूम की बेटी लतीफा की डराने वाली कहानी.

क्या तालिबान के साथ शांति समझौता करके अमेरिका ने अपनी हार मान ली है?

कई लोग पूछ रहे हैं, क्या नवंबर 2020 में होने वाले अमेरिकी चुनावों के लिए ट्रंप ने ये डील की है?

महामहिम : जब नेहरू को अपने एक झूठ की वजह से शर्मिंदा होना पड़ा

नेहरू नहीं चाहते थे, राजेंद्र प्रसाद बनें देश के राष्ट्रपति

महामहिमः राजेंद्र प्रसाद और नेहरू का हिंदू कोड बिल पर झगड़ा किस बात को लेकर था?

कहानी नेहरू और प्रसाद के बीच पहले सार्वजनिक टकराव की.

कहानी उस बालाकोट की जहां हूर के हाथ की खीर खाने के चक्कर में युद्ध हो गया था

ये वही बालाकोट है जहां भारतीय वायुसेना ने एयर स्ट्राइक की थी.

21,500 करोड़ रुपए में भारत सेना के लिए अमेरिका से क्या साजो-सामान खरीद रहा है?

कभी जंग की नौबत पर पहुंचे अमेरिका के साथ, वहां से 3 बिलियन डॉलर की आर्म्स डील तक कैसे पहुंचे हम...

'नमस्ते ट्रंप' की टाइमिंग में ख़ास बात क्या है?

ट्रंप की इस भारत यात्रा में क्या बड़े फैसले हो सकते हैं, जानिए.

वो एक्ट्रेस जिन्हें जाति प्रमाणपत्र बनवाना पड़ा क्योंकि लोग उनका रोल देखकर छुआछूत करने लगे

पेट्रियार्की की मारी इंडियन सिनेमा की सबसे क्रूस सास ललिता पवार की आज बरसी है.

गुजरात का वो मुख्यमंत्री जो भारत-पाक युद्ध में शहीद हो गया

केंद्र में जवाहर लाल नेहरू और मोरारजी देसाई के बीच चल रही सियासी तनातनी के चलते इस नेता को मिली थी मुख्यमंत्री की कुर्सी.

जब पाकिस्तान के खिलाफ तेंडुलकर के रन आउट होने पर ईडन गार्डन्स में दंगा हो गया था

और इसमें सामने वाली पार्टी शोएब अख्तर थे.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.