Submit your post

Follow Us

चेन्नई में भी लड़ा गया था पहला विश्व युद्ध

वैसे तो लोग मानते हैं कि पहला विश्व युद्ध इंडिया की जमीन तक नहीं पहुंच पाया था. लेकिन इस वर्ल्ड वॉर की एक छोटी, बहुत छोटी सी लड़ाई मद्रास के किनारे पर हुई थी. और इस लड़ाई ने तमिलों की बहादुरी के झंडे तो गाड़े ही गाड़े, साथ ही देश को एक ऐसा हीरो दिया, जो आज भी देशभक्ति की मिसाल है.

पहला विश्व युद्ध दो गुटों के बीच लड़ा गया था. एक गुट में थे – फ्रांस, ब्रिटेन, रूस और जापान जैसे देश, जिन्हें एलाइड पावर्स कहा जाता था और दूसरा ग्रुप था जर्मनी, ऑस्ट्रिया-हंगरी और बुल्गारिया का. इस ग्रुप को सेंट्रल पावर्स कहा जाता था. हालांकि भारत इनमें से किसी भी गुट में शामिल नहीं था, पर ये भी कहने की बात नहीं कि भारत पर उस समय ब्रिटेन का राज था, जो भारतीय सैनिकों को जबरदस्ती अपनी ओर से लड़ने पर मजबूर कर रहा था. ब्रिटेन के राज को भारत में कमजोर करने के लिए जर्मनी के ही एक जहाज ने भारत पर अटैक किया था.

ये अटैक 22 सितंबर, 1914 को ठीक ‘मद्रास डे’ के एक महीने बाद हुआ था. ‘मद्रास डे’ हर साल मद्रास शहर के बसने की याद में 22 अगस्त को मनाया जाता है. हुआ ये था कि जर्मनी का एक जहाज अचानक से मद्रास आया और शहर के तट पर बम बरसाने शुरू कर दिए. इस जहाज का नाम था, SMS एम्डेन.

जर्मनी के हमले ने चेन्नई को दो महान विरासतें दीं. एक, तमिलों की नायाब बहादुरी और दूसरा एक धांसू देशभक्त चेंपाकरन पिल्लई, जिनकी बहादुरी को दूसरे विश्व युद्ध के समय सुभाष चंद्र बोस के समांतर आंका जाता है. सुभाष की तरह चेंपाकरन ने भी भारत की आजादी की लड़ाई के लिए ब्रिटेन की दूसरे देशों से दुश्मनी का फायदा  उठाया था.

एम्डेन माने बहादुर

Karl_von_Müller
कैप्टन कार्ल वॉन मुलर

भारत में अंग्रेजों से बदला लेने के लिए 22 सितम्बर की रात जर्मनी का एम्डेन नाम का शिप लेकर कैप्टन कार्ल वॉन मुलर अपनी बड़ी सी फ्लीट के साथ आया और बंगाल की खाड़ी में घुस गया. फिर हिंद महासागर में मद्रास के तट तक उसने जबरदस्त तबाही तो मचाई ही मचाई, साथ ही बुमराह नाम की तेल कंपनी का 3.5 लाख गैलन तेल वहां रखा हुआ था. उसे भी तबाह कर दिया.

एम्डेन ने करीब 130 शेल बंदरगाह पर बरसाए. और दो बड़े टैंकों को तहस-नहस कर दिया. उसने दो दूसरे टैंकों को भी काफी नुकसान पहुंचाया. दो जहाज भी ध्वस्त कर दिए. इसके अलावा दो जहाजों को भारी नुकसान भी पहुंचाया. मद्रास के जनरल पोस्ट ऑफिस और मद्रास सेलिंग क्लब की बिल्डिंग भी इस हमले में टूट गई. और बंदरगाह के पास की बहुत सी इंपॉर्टेंट सड़कें भी इस हमले में टूट गईं. आज भी मद्रास के उस हिस्से में इस हमले के निशान देखे जा सकते हैं.


पर कुछ अनसुलझे सवाल अब भी हैं

Bombardment_of_Madras_by_S.S._Emden_1914

जलते हुए तेल के टैंकर

जबकि कुछ हिस्टोरियन लोगों के लिए आज भी ये छकाने वाली बात है कि एम्डेन ने बस मद्रास को ही टारगेट क्यों किया और इस हमले को आगे क्यों नहीं बढ़ाया गया.

सारे हिंद महासागर में सक्सेजफुली अटैक करने वाले इस जहाज ने इंडिया से इंडोनेशिया तक कई जगहों पर बम बरसाए थे. इस जहाज की बहादुरी इतनी फेमस हुई थी कि जो भी कोई इंसान कोई बड़ा चैलेंज एक्सेप्ट करने को तैयार होता तो उसे लोग ‘एम्डेन’ नाम से पुकारने लगते. यानी कि एम्डेन बन गया था बहादुरी का प्रतीक.

मिला एक देशभक्त चेंपाकारामन पिल्लई

ऐम्डेन के अलावा एक और महारथी जिसे इस युद्ध के कारण लीजेंड की तरह याद किया जाता है, वो है चेंपाकारामन पिल्लई. चेंपाकरन भी एक तमिल था और ये चेंपाकरन ही एम्डेन को लेकर इंडिया तक आया था और उसने ही मद्रास के बंदरगाह पर हमला करने में मदद की थी. हालांकि कुछ हिस्टोरियंस इस क्लेम को सही नहीं मानते हैं.

Champakraman_Pillai
चेंपाकारामन पिल्लई

चाहे चेंपाकरन का रोल इस अटैक में प्रूव होता हो या नहीं, इस बात के बहुत से दूसरे भी सबूत हैं कि ये युवा क्रांतिकारी ही जर्मनी की मदद ब्रिटिशों के खिलाफ भारत के लिए लाया था. यहां तक कि इनकी मदद का ही नतीजा था कि 1915 में काबुल में भारत की पहली प्रांतीय सरकार बन सकी थी, भले ही ज्यादा दिन चल न सकी हो. आखिरी में जब ये प्रयास असफल हुआ तो इसमें भाग लेने वाले लोग ब्रिटिश सरकार के बदले का शिकार भी हुए और उन्हें कड़ी सजा मिली.

कुछ सोर्सेज के हिसाब से चेंपाकरन का रोल सुभाष चंद्र बोस के इंडियन नेशनल आर्मी बनाने और सपोर्ट जुटाने में भी इंपार्टेंट था. कहते हैं दूसरे विश्व युद्ध के लिए इंडिया के लिए देश से बाहर सपोर्ट जुटाने में उन्होंने पूरी ताकत लगा दी थी. 2008 में चेंपाकरन का एक मेमोरियल गांधी मंडपम के पास अड्यार में बनाया गया. उस आदमी का मेमोरियल जिसने मद्रास पर हमला करने में जर्मनी की मदद की क्योंकि जर्मनी भी अंग्रेजों का दुश्मन था. अड्यार के गांधी मंडपम में 2008 में तमिलनाडु के उस वक्त चीफ मिनिस्टर रहे करुणानिधि ने चेंपाकरन की मूर्ति लगवाई थी.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.