Submit your post

Follow Us

जब लालू बोले, 'एक मुसलमान बचाने को 10 यादव कुर्बान'

29.56 K
शेयर्स

ताश की गड्डी में जिसे जोकर समझा गया, वह तुरुप का इक्का निकला. बिहार चुनाव में लालू प्रसाद यादव की हैरतअंगेज वापसी हुई. साथ ही बिहार में, ‘एम-वाई’ यानी ‘माई’ समीकरण भी चर्चाओं में लौट आया, जिसने लालू की पार्टी को दोबारा संजीवनी दी.

‘माई’ यानी बिहार के मुस्लिम (M) और यादव (Y) समुदाय के 30 फीसदी वोटरों का गठजोड़, जो लालू का पारंपरिक वोट माना जाता है. इसी सोशल इंजीनियरिंग के आधार पर उन्होंने बिहार में पॉलिटिक्स शुरू की और इसी के दम पर बरसों तक राज किया.

‘माई’ समीकरण की अहमियत और ताकत लालू समझते हैं. इस पर याद आता है उनका एक बयान, जिसकी आज भी मिसालें दी जाती हैं और जो उनके राजनीतिक उभार को समझने की बुनियाद तैयार करता है.

lalu1 New

8 अक्टूबर 1990 की बात है. लालू को पहली बार मुख्यमंत्री बने 7 महीने हुए थे. पटना के गांधी मैदान में आरक्षण के समर्थन में रैली हुई थी. उस वक्त के प्रधानमंत्री वीपी सिंह समेत दिल्ली के बड़े-बड़े नेता पहुंचे हुए थे. बिहार से लाखों लोग जुटे थे, जिनमें जाहिराना तौर पर, यादव और मुसलमानों की खासी तादाद थी.

इसी दौरान नए नवेले सीएम लालू यादव ने चिल्लाते हुए नारा दिया कि आज से सांप्रदायिक दंगों मे मुसलमान भाइयों की जान-माल की हिफाज की जिम्मेदारी यादवों की होगी.

lalu2 New

‘अगर एक मुसलमान को बचाने में दस यादवों की कुर्बानी देने पड़े, तब भी कोई बात नहीं.’ ये उनके शब्द थे. इसके बाद बिहार की राजनीति में ‘माई’ समीकरण पैदा हुआ, जिससे लालू को नई राजनीतिक ताकत मिली और बिहार के मुसलमानों में पहली बार आत्मविश्वास भी जगा. इसी समीकरण के दम पर लालू दावा करते रहे कि जब तक वे मुख्यमंत्री हैं प्रदेश में दंगे नहीं होने देंगे.

लेकिन ठीक दो साल बाद स्थिति उलट थी. अक्टूबर 1992 में ‘माई’ समीकरण उनके लिए बुरा सपना बन गया था. उत्तरी बिहार में नेपाल से सटे ‘यादव बहुल’ सीतामढ़ी में दशहरे की रात सांप्रदायिक आग की लपटें भड़कीं तो लालू को लगा कि कहीं इसकी चपेट में उनकी कुर्सी ही न जल जाए. वे गुस्से से चीख पड़े, ‘शरारती तत्वों ने सब कुछ बर्बाद कर दिया.’ उन्होंने जोड़े हाथ और लगे लोगों को समझाने. यादवों से कहा, ‘लाठी उठाओ और मुसलमानों की रक्षा करो. तुम सब खुद को लालू समझो और उन्हें बचाओ.’

सीतामढ़ी में लालू. साल 1992.
सीतामढ़ी में लालू. साल 1992.

वे सीतामढ़ी के मुहल्लों और दूर-दराज के गांवों तक गए. लोगों की फरियादें सुनीं, अधिकारियों के निकम्मेपन पर डांटा. दंगाइयों को देखते ही गोली मारने का आदेश जारी करवाया, कर्फ्यू लगवाया, अर्धसैनिक बल भिजवाए, अफसरों की पूरी फौज वहां भेज दी और फिर केंद्र की दंगा विरोधी रैपिड एक्शन फोर्स की चार कंपनियां सीतामढ़ी में तैनात कर दीं. तीन दिन बाद 44 लाशों और 500 जले मकानों-दुकानों के ढेर पर थमता दिखा.

खुसफुसाहट थी कि लालू की पार्टी के ही कुछ सांसद-विधायकों की वजह से यह दंगा भड़का और ‘चिंता’ वाली बात ये थी कि ये नेता ‘माई’ समाज के अंग थे. लिहाजा लालू का दुख सिर्फ ये नहीं था कि उनके शासनकाल में दंगा हो रहा था. दुख ये भी था कि यह सब उनके अपने ‘माई’ नेताओं की जिद और चूक के चलते हो रहा था.

जानकार मानते हैं कि सीतामढ़ी का दंगा लालू और मुसलमानों के बीच गहरी खाई बन सकता था. इसलिए लालू ने एड़ी-चोटी का जोर लगाकर सीतामढ़ी को भागलपुर नहीं बनने दिया. सीतामढ़ी में बैठकर दो दिनों के अंदर उन्होंने हालात पर काबू पा लिया और अपने ‘माई’ को बचा लिया.

2015 चुनाव में जब लग रहा था कि माई का ‘वाई’ यानी यादव छिटककर बीजेपी केे पाले में जा सकता है, लालू एक बार फिर अपने दुलारे कॉम्बिनेशन को बचा ले गए. ‘माई’ लालू की पॉलिटिक्स का माई-बाप है. इसी ‘माई’ ने बीते चुनावों में PM नरेंद्र मोदी के ‘लोकप्रिय’ चेहरे पर चुनाव लड़ने वाले NDA गठबंधन की माचिस लगा दी.

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
When Lalu Prasad Yadav said, ‘Can sacrifice 10 yadavs for one muslim’

गंदी बात

सर्फ एक्सेल के ऐड में रंग फेंक रहे बच्चे हमारे हैं, इन्हें बचा लीजिए

इन्हें दूसरों की कद्र न करने वाले हिंसक लोगों में तब्दील न होने दीजिए.

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बच्चे के ट्रांसजेंडर होने का पता चलने पर मां ने खुशी क्यों मनाई?

आप में से तमाम लोग सोच सकते हैं कि इसमें खुश होने की क्या बात है.

'मैं तुम्हारे भद्दे मैसेज लीक कर रही हूं, तुम्हें रेपिस्ट बनने से बचा रही हूं'

तुमने सोच कैसे लिया तुम पकड़े नहीं जाओगे?

औरत अपनी उम्र बताए तो शर्म से समाज झेंपता है वो औरत नहीं

किसी औरत से उसकी उम्र पूछना उसका अपमान नहीं होता है.

#MeToo मूवमेंट इतिहास की सबसे बढ़िया चीज है, मगर इसके कानूनी मायने क्या हैं?

अपने साथ हुए यौन शोषण के बारे में समाज की आंखों में आंखें डालकर कहा जा रहा है, ये देखना सुखद है.

इंटरनेट ऐड्स में 'प्लस साइज़' मॉडल्स को देखने से फूहड़ नजारा कोई नहीं होता

ये नजारा इसलिए भद्दा नहीं है क्योंकि मॉडल्स मोटी होती हैं...

लेस्बियन पॉर्न देख जो आनंद लेते हैं, उन्हें 377 पर कोर्ट के फैसले से ऐतराज है

म्याऊं: संस्कृति के रखवालों के नाम संदेश.

सौरभ से सवाल

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.