Submit your post

Follow Us

क्या करेंगे, अगर एक दिन आपका बच्चा कहे कि वो 'हिजड़ा' है?

6.41 K
शेयर्स

‘मुझे अपनी बच्चे के लिए डर लग रहा था. वो कैसे पलों से गुजरी होगी (गुजरा होगा). मुझे उस पर गर्व है कि वो सच्चाई के साथ जी रही थी. मुझे खुशी थी कि उसने अपना एहसास बांटने के लिए मुझे चुना. वो मेरे सवालों के साथ बेहद सहज थी.

हमारे बीच जो नहीं बदला वो प्यार था. वो मेरी बच्ची थी. इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वो ट्रांसजेंडर थी. हालांकि मुझे उसकी सुरक्षा के लिए चिंता हो रही थी लेकिन मेरा प्यार बेहद मजबूत था.’

ये एहसास बांटे हैं अमेरिका के पोर्टलैंड शहर में रहने वाली डेनिता ली ने, जब उन्हें पता चला कि उनका बेटा ट्रांसजेंडर है.

‘ठीक इसी समय मैं कई एहसासों से गुजर रही थी. मुझे ये सब अकेले सहना पड़ रहा था. मैंने इंटरनेट पर तमाम चीज़ें पढ़ीं और जानकारियां जुटाईं. दूसरे अभिभावकों के अनुभव पढ़े. जे खुद जानकारियों का जरिया बन गई थी. रिश्तेदारों ने कई तरह से रिएक्ट किया. ज्यादातर लोग सवाल कर रहे थे लेकिन साथ ही जे से प्यार भी कर रहे थे. जे तो जे थी. स्मार्ट, फनी और कूल.’

(सोर्स: कोरा)

अब ज़रा सोचिए क्या होता अगर भारत के किसी बड़े शहर में कोई लड़का अपनी मां से अपने ट्रांसजेंडर होने की बात साझा करता. गांव की तो बात ही छोड़ दीजिए. वहां तो तुरंत झाड़-फूंक करने वाले बाबाओं को बुला लिया जाता. घर से निकाल दिया जाता. या पीट-पीटकर ‘सुधारने’ की कोशिश करते. या उससे भी बुरा, उसे मार डालते.

‘मैंने बताया तो मेरी शादी करा दी’

शालिनी (बदला हुआ नाम) ने जब अपने पिता से खुद के ट्रांसजेंडर होने के बारे में बताया तो उनके पिता ने उन्हें ‘सुधारने’ के लिए एक रास्ता निकाला. शालिनी के मुताबिक उनका ख्याल था कि मैं उनके निकाले रास्ते से सुधर जाऊंगी.

‘मैं उन्हें यह बात समझा नहीं पाई कि पप्पा, मैं बिगड़ी हुई कहां हूं? मैं तो आप की ही औलाद हूं. मैं जैसी भी हूं, उसमें मेरा क्या कसूर? पप्पा का मानना था कि मुझ पर कोई भूत सवार है जो मेरी शादी करने से उतर जाएगा. ज़बरदस्ती मेरी शादी करा दी गई. 23 साल की उम्र में. मुझे यह कहने में कोई शर्म नहीं कि मैं उस लड़की को शारीरिक सुख नहीं दे पाई. लगभग सवा साल बाद मेरे पिता का स्वर्गवास हुआ, उसके बाद मैंने अपनी तथाकथित पत्नी से तलाक लेकर उसकी शादी करा दी.’

पिता ने मुझे मारा और घर से निकाल दिया

डांसर और कोरियोग्राफर सौंदर्या बताती हैं,

मेरे पिता ने मुझसे कहा कि मैंने उन्हें शर्मिंदा किया है. अगर मैं घर पर रही तो वे जान दे देंगे. 12 साल की उम्र में मुझे घर से निकाल दिया. मैं 12 दिन तक सड़कों पर रही, रिक्शा स्टैंड पर सोई. जब मैं उम्मीद के साथ फिर घर पहुंची, किसी ने मुझसे नहीं पूछा कि मैं कहां, किस हाल में रही. मेरे पिता ने मुझे मारा और घर से निकल जाने को कहा.

सौंदर्या एक भीख मांगने वाले रैकेट में फंसीं. वहां से किसी तरह भागने में सफल रहीं. हालांकि बाद में रैकेट चलाने वालों ने उन्हें पकड़ लिया और खूब मारा. खून से लथपथ सौंदर्या को वे सड़क पर छोड़कर चले गए. 2009 में वे ट्रांसजेंडर अधिकारों के लिए लड़ने वाली एक्टिविस्ट, अभिनेत्री और व्यवसायी कल्कि सुब्रमण्यम से मिलीं. और जीवन में पहली बार अपनी पहचान के बारे में कुछ सकारात्मक सुना. कल्कि ने उन्हें समझाया, ‘तुम्हें जीने के लिए भीख मांगने या सेक्स वर्कर बनने की जरूरत नहीं है. हम तुम्हारे लिए कुछ और ढूंढ लेंगे.

(सोर्स: तहलका)

जबरन दाढ़ी-मूंछ रखनी पड़ी

मैं जब तीसरी-चौथी क्लास में थी, तब से मुझे सजना-संवरना और आईने के सामने खड़े होकर खुद को घंटों निहारना पसंद था. एक दिन लड़की की ड्रेस पहनकर मम्मी की लिपस्टिक लगाकर नाच रही थी कि पिताजी ने देख लिया और फिर जमकर पिटाई हुई. वह खुद को अंदर से लड़की मान चुकी थीं, लेकिन घरवालों के दबाव में 30 साल की उम्र में उन्हें जबरन मूंछ-दाढ़ी रखकर पुरुष के रूप में रहना पड़ा.

ये अनुभव है विद्या का.

(सोर्स: भास्कर)

***

ट्रांसजेंडर यानी किन्नरों की कई बातें छिपा कर रखी जाती हैं. तमाम राज हैं जिनसे किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता. इस समुदाय के इतिहास में खास दौर अप्रैल 2014 में आया जब हाईकोर्ट ने ट्रांसजेंडर को तीसरे लिंग के रूप में मान्यता दी और‘अन्य पिछड़ा वर्ग’(ओबीसी) में शामिल किया.

पहले तो भारत जैसे देश में खुद को समझ पाना ही मुश्किल है. क्योंकि हमें दूध के साथ घोलकर पिला दिया जाता है कि हम क्या हैं. बची-खुची कसर ये पढ़ाकर पूरी कर दी जाती है कि हमें क्या होना चाहिए. और इन सबके बाद अगर गलती से किसी को अपने कुछ अलग होने का एहसास हो जाए तो उस पर थोप दी जाती हैं समाज के ‘चार’ लोगों की सोच. उन चार लोगों से छुट्टी मिल जाए तो मां-बाप की नाक बीच में आ जाती है.

हमारे यहां कहते हैं कि किन्नरों की बद्दुआ इसलिए नहीं लेनी चाहिए क्योंकि ये बचपन से बड़े होने तक दुखी ही रहते हैं. ऐसे में दुखी दिल की दुआ और बद्दुआ लगना स्वाभाविक है.

अहम बात ये है कि 2014 से पहले इन्हें समाज में नहीं गिना जाता था. अब भी इनके साथ हुए बलात्कार को बलात्कार नहीं माना जाता है. ऐसे में कोई कैसे खुद को ट्रांसजेंडर मान सकेगा और मान भी ले तो किसी से कह सकेगा. हम अभी लड़के-लड़की के प्यार को पचाने जितना हाजमा नहीं बना पाए, ट्रांसजेंडर तो…


ये भी पढ़ें:

मां औरत ही नहीं, ट्रांसजेंडर भी हो सकती है

एक ट्रांसजेंडर को पेशाब आए तो वो किस बाथरूम में जाए?

LGBTQ 4: ‘ए मुझे हाथ नहीं लगाना कोई’

‘मैं दिखने में अलग थी, मेरी आवाज अलग थी इसलिए मुझे एग्जाम में सेलेक्ट नहीं किया गया’

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

कहानी कश्मीर की कोटा रानी की, जो झांसी की रानी और पद्मावती का मिलाजुला रूप थी

जिन पर अब एक फिल्म बन रही है.

क्या चीज है G7, जिसमें न रूस है, न चीन, जबकि भारत को इस बार बुलाया गया

रूस इस ग्रुप में था, लेकिन बाकी देशों ने उसे नाराज होकर निकाल दिया था.

इन 2 चमत्कारों की वजह से संत बनीं मदर टेरेसा

यहां जान लीजिए, वेटिकन सिटी में दी गई थी मदर टेरेसा को संत की उपाधि.

गायतोंडे को लड़कियां सप्लाई करने वाली जोजो, जो अपनी जांघ पर कंटीली बेल्ट बांधा करती थी

जिसकी मौत ही शुरुआत थी और अंत भी.

ABVP ने NSUI को धप्पा न दिया होता तो शायद कांग्रेस के होते अरुण जेटली

करीब चार दशक की राजनीति में बस दो चुनाव लड़े जेटली. एक हारे. एक जीते.

कैसे डिज्नी-मार्वल और सोनी के लालच के कारण आपसे स्पाइडर-मैन छिनने वाला है

सालों से राइट्स की क्या खींचतान चल रही है, और अब क्या हुआ जो स्पाइडर-मैन को MCU से दूर कर देगा.

इस्मत लिखना शुरू करेगी तो उसका दिमाग़ आगे निकल जाएगा और अल्फ़ाज़ पीछे हांफते रह जाएंगे

पढ़िए मंटो क्या कहते थे इस्मत के बारे में, उन्हीं की कलम से निकल आया है.

वो रेल हादसा, जिसमें नीलगाय की वजह से ट्रेन से ट्रेन भिड़ी और 300 से ज्यादा लोग मारे गए

उस दिन जैसे हर कोई एक्सिडेंट करवाने पर तुला था. एक ने अपनी ड्यूटी ढंग से निभाई होती, तो ये हादसा नहीं होता.

'मेरी तबीयत ठीक नहीं रहती, मुझे नहीं बनना पीएम-वीएम'

शंकर दयाल शर्मा जीके का एक सवाल थे. आज बड्डे है.

गुलज़ार पर लिखना डायरी लिखने जैसा है, दुनिया का सबसे ईमानदार काम

गुलज़ार पर एक ललित निबंध.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.