Submit your post

Follow Us

'फेसबुक पै जय हरियाणा की फोटू लगाणे तै कुछ नहीं होणा जाणा'

1.14 K
शेयर्स

ये आर्टिकल हमें ज्योति ने लिख भेजा है. जैसा कि ये आगे खुद बताने वाली हैं, ये हरियाणा के एक गांव से आती हैं. स्कूल के बाद दिल्ली आ गईं. दिल्ली विश्वविद्यालय से अंग्रेजी में एमए किया है. स्टूडेंट पॉलिटिक्स में खूब हिस्सा लिया. इन्हें अंग्रेजी के अलावा आप हिंदी और हरियाणवी में लिखता हुआ पाएंगे. खासकर फेसबुक पर. और हां, गांव की मिट्टी और मां के हाथ के की रोटी को रोमैंटिसाइज करते हुए नहीं, हरियाणा के रूढ़िवादी समाज पर हमला करते हुए. 


मेरा नाम ज्योति है. मैं हरियाणा के एक छोटे से गांव रसूलपुर से हूं. दिल्ली विश्वविद्यालय से अंग्रेजी मे एमए किया है. फिलहाल घर पर बैठ कर ये लिख रही हूं.

jyoti

हरियाणा का नाम सुनते ही आपके दिमाग में खाप पंचायत ही आता होगा. खाप पंचायत तो जैसे हरियाणा का पर्यायवाची ही बन गया है. खाप पंचायतें तो बड़े-बड़े मामलों में फरमान सुनाती हैं. हमारे घर में बैठी खाप, रोडवेज मे बैठी खाप, कॉलेजों मै बैठी खाप.

चूंकि हम हरियाणा आले हैं, हमणै परोगरैसिव लोग फूटी आंख नहीं सुहाते. के बात कर रहे हो? हमनै छोरियों की जींस बंद कराई? हम्बे.
(चूंकि हम हरियाणा वाले हैं, हमें प्रोग्रेसिव लोग फूटी आंख नहीं सुहाते. क्या बात कर रहे हो? हमने लड़कियों की जींस बंद कराई. ना.)

म्हारी छोरी खेलां मै आगै रही हैं. हम तो आगै बडण आले के साथी हां. पर ये जींस के चोंचले?
(हमारी बेटी खेलों में आगे रही है. हम तो आगे बढ़ने वालों के साथी हैं. लेकिन जींस क्यों पहननी है?)

महेंद्रगढ़ जिले में एक कनीना तहसील है. मेरे गांव से थोड़ी ही दूर है. चार-पांच साल पहले पीकेएसडी कॉलेज में लड़कियों का पायजामी पहनना बंद करवा दिया गया. कहा गया कि लड़कियों की टांगे दिखती हैं. छोरों का पढ़ाई से ध्यान हटता है.

पर कोई नहीं बोलता कि ‘थारे छोरो नै घर नै क्यूं नहीं बैठा लेते जब इतने डिस्ट्रैक्ट होरे हैं तो.’

पर नहीं, हम हरियाणा आलो नै कती धरती मां की कसम खा राखी सै, इन छोरियां नै छोरियों की तरह रखना. सर पै नहीं चढाणी.

दो तीन साल पहले एक मैगजीन मे पढ़ा था के भिवानी के किसी कॉलेज में लड़कियों का मोबाइल फोन भी बैन हुआ था. लड़कियां फोन से बिगड़ रही हैं. लड़कों से फोन पर बातें करती हैं. इनको लाइन पर नहीं लाया गया तो म्हारा कलचर खराब हो जाएगा जी. इब्ब छोरै तो जवान खून हैं. इक आधी छोरी तै फोन करकै छेड भी दिया तो के होगया? काल इनणै फौज मै जाणा सै, आज छोरी छेडण की छूट है. (ये लड़के तो जवान खून हैं. एक-आधी लड़की छेड़ भी दी तो क्या हो गया? कल इन्हें फ़ौज में जाना है . आज इन्हें लड़की छेड़ने की छूट है.)

दूर भी क्यूं जाऊं मैं, अपने गांव की ही बताती हूं ना. एक लड़की के पास फोन पकड़ लिया घरवालों ने. फिर फोन तो छीना ही, कॉलेज भी छुड़ा दिया. दो चार महीने बाद ब्याह कर दिया.

ब्याह कर आगले घर भेज देणा, म्हारा अलटीमेट सोलूसन है, समाज सुधारण का.

ऐसे ही एक बार रसूलपूर और पाथेरा गांव के कॉलेज जाने वाले लड़कों में झगड़ा हो गया किसी लड़की को लेकर. हमारे रसूलपुर गांव के छोरे पिट कर आ गए. किसी एक का सर फूट गया. बस अगले दिन जो लुगाईयां उसके घर से आ रही थीं, लड़की का ही कसूर निकालती आ रही थीं--“ऐ बिरा, बताय फौज मे लागण बरगा छोरा, कित छोरी कै चक्कर मे सिर फुडा लिया, इसी छोरियां का कै करै.” (लड़का फ़ौज में जाने वाला था. कहां लड़की के पीछे सर फोड़ लिया. इन लड़कियों का क्या करें.)

अरे! मक्खा, अपणे पूतां नै तो समझा लयो, उस छोरी का दोस निकालने से पहले!
(अरे! सुनो, अपने लड़कों को समझा लो, उस लड़की का दोष निकालने के पहले)

अब अगर ये सब बातें सोशल मीडिया पर लिख दो तो गुड़गांव, सोनीपत, या दूसरे शहरों में बैठे आदमियों को हर्ट हो जाता है. डिफेंड करते फिरेंगे कि अब ऐसा ना है. यै सब तो होया ही ना करै. जनाब आप जिस हरियाणा की बात कर रहे हो वो तो गुडगामा के पबों पर ही खत्म हो जाता है. और मै जिन जगहों की बात कर रही हूं, वो उन गांवों की हैं जहां ये सब अब तक चल रहा है. टाईम आ गया है कि अब आप थोड़ा कम्फर्ट जोन से बाहर निकलें और कुछ करें.

या फेसबुक पै जय हरियाणा की फोटू लगाणे तै कुछ नहीं होणा जाणा.
(ये फेसबुक पर जय हरियाणा की फोटो लगाने से कुछ नहीं होने वाला)

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

वो मौका, जब बेगम अख्तर ने कैफी आज़मी को शराब देकर कमरे में बंद कर दिया था

शायरों का तख़य्युल: बेगम अख्तर की ज़ुबानी. आज बड्डे है.

ज़हीर खान: जिसने एक वर्ल्ड कप हराया, तो दूसरा जिता दिया

ज़हीर खान. स्विंग का बादशाह. ग्रीम स्मिथ का सबसे बुरा ख़्वाब. आज जन्मदिन है.

वो जबराट नेता, जिसकी खोपड़ी भिन्नाट हो तो चार-छह आतंकी खुद ही निपटा दे

शारीरिक और मानसिक रूप से दुनिया का सबसे मजबूत नेता पुतिन. आज उनका बड्डे है.

इनके चलते हो गया हिंदी और उर्दू का ब्रेक-अप

पढ़ लो, दमदार किस्से हैं कि दिल बमबम हो जाए.

क्या गांधी चाहते, तो भगत सिंह को फांसी से बचा लेते?

क्या गांधी ने भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को बचाने की कोई कोशिश नहीं की?

जिसके नाम पर मारे गए, उस पाकिस्तान में गांधी की क्या जगह है?

पाकिस्तानी इतिहास ने तो जैसे गांधी को 'हिंदू विलेन' की जगह दी हुई है.

इस आदमी ने करवाया आज़ाद भारत पर पहला मिलिट्री हमला

बहुत तेजी में थे. सब सुधारना चाहते थे, सब बिगाड़ने के बाद.

कहानी जासूस कूमर नारायण की, जिसकी जासूसी ने राजीव गांधी सरकार को हिला दिया था

ब्लैक लेबल शराब की बोतल देकर देश के सीक्रेट्स खरीदे गए थे.

परमवीर जोगिंदर सिंह की कहानीः जिन्हें युद्धबंदी बनाने वाली चीनी फौज भी सम्मान से भर गई

जानें उनकी पूरी कहानी जिस पर बीते दिनों एक फिल्म भी आई.

उस इंसान की कहानी, जिसके आगे मोदी हाथ जोड़ के नमन करते हैं

भाजपा की विचारधारा की शुरुआत इनकी ही बातों से हुई थी. आज बर्थ एनिवर्सरी है.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.