Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

जानिए भूकंप के बारे में सब कुछ

उत्तराखंड में अभी-अभी भूकंप आया है. माने 6 दिसंबर, 2017 की शाम 8 बजकर 49 मिनिट और 54 सेकंड पर. भूकंप था 5.5 मैग्नीट्यूड की रीडिंग वाला. दिल्ली एनसीआर तक का इलाका हिल गया. वैसे वैज्ञानिक आए दिन भूकंप के खतरों के बारे में बताते ही रहते हैं. तो आइए आपको भूकंप के बारे में तसल्ली से बताते हैं. सबकुछ.


धरती पर भूकंप आता क्यों है?

हम सभी कुछ ना कुछ गड़बड़ करते रहते हैं. कभी-कभी धरती भी गड़बड़ कर देती है, बल्कि रोज कर देती है. पूरे ग्लोब पर रोज-रोज कहीं ना कहीं कुछ खटपट होता रहता है. छोटे-छोटे वाले तो कुछ नहीं कर पाते. पर जब कहीं कुछ बड़ा हो जाता है, तो पता चलता है कि भूकंप आ गया है.

अगर धरती को छेद के देखें तो ये तीन लेयर में होती है. सबसे ऊपरी लेयर को क्रस्ट कहते हैं. ये क्रस्ट पूरी धरती को घेरे रहता है. मतलब हमारे पांव के नीचे की जमीन और नदी-समंदर के नीचे की भी जमीन. ये बहुत ही मोटी परत होती है. जो हम देख पाते हैं, इससे बहुत गहरी.

2000px-Earth-cutaway-schematic-english.svg_
धरती के लेयर्स

तो हमारी जमीन के नीचे बहुत सारी प्लेट्स होती हैं. आड़ी-तिरछी. इधर-उधर. एकदम फंसी हुई. एक हिली तो दूसरी भी हिलेगी. एक खिंची तो कई और खिंच जाएंगी. और जब ये ज्यादा हो जाता है, तो ऊपर की जमीन खड़खड़ा जाती है. भूकंप आ जाता है. करोड़ों बरसों पहले जब कई प्लेट्स ऐसे ही टकराई थीं, तब इसी टक्कर से कई सारे पहाड़ बने थे. मतलब हल्के में नहीं लेना है इस टक्कर को. हिमालय भी ऐसे ही बना था. कहीं-कहीं भूकंप के अलावा ज्वालामुखी भी फट जाते हैं. इसमें क्या होता है कि धरती के अन्दर का लावा बाहर आ जाता है. गरम-गरम.

indian-and-eurasian-plates
इंडिया और यूरेशिया के प्लेट्स

तो पूरी धरती पर कई फॉल्ट जोन हैं. मतलब कई जगह प्लेट्स एक-दूसरे से मिलती हैं. अब जहां मेल-जोल होगा, खटपट होगी ही. तो भूकंप ऐसे ही फॉल्ट जोन में आता है.

tectonics
पूरी दुनिया के प्लेट्स और फाल्ट लाइन्स

प्लेट्स के हिलने के भी कई तरीके हैं

1.Strike-Slip

इसमें प्लेट्स अगल-बगल में खिसक जाती हैं. इसका सबसे बड़ा उदाहरण है अमेरिका के कैलिफ़ोर्निया का सैन एंड्रियाज फॉल्ट.


 

2.Dip-Slip

जब प्लेट्स ऊपर-नीचे हिलती हैं, तो भी भूकंप आता है. उत्तरी अमेरिका और प्रशांत महासागर वाली प्लेट में ऐसा होता है.


 

3.Oblique

यहां मामला टेढ़ा है. ऊपर-नीचे और अगल-बगल दोनों तरफ प्लेट खिसकती है. सैन फ्रांसिस्को में ऐसा होता है.

इंसान भी इसमें पीछे नहीं है. लगे हाथ ऐसे काम कर देता है कि भूकंप आ जाता है. जैसे एटम बम और हाइड्रोजन बम का टेस्ट. नॉर्थ कोरिया के तानाशाह ने जब एटम बम फोड़ा था, तब जमीन हिलने से ही पता चला था. इसके अलावा किसी-किसी प्रोजेक्ट में इंसान इतना गहरा गड्ढा खोद देता है कि धरती उसे संभाल नहीं पाती. हल्के भूकंप आ ही जाते हैं.

समुद्र के नीचे भूकंप आ जाए, तो पानी की धार बदल जाती है और सुनामी आ जाती है. भूकंप प्रकृति का एक नियम है. जैसे हर चीज टूट-फूट के फिर कुछ नई चीज बन जाती है, वैसे ही धरती के अन्दर भूकंप प्लेटों को फिर से व्यवस्थित कर देता है.

अब कैसे नापते हैं? इंची-टेप से? नहीं यार. ऐसे होता तो सब लोग साइंटिस्ट बन जाते.

पुराना ज़माना

1.

इंडिया में वराह मिहिर की लिखी बृहत् संहिता और बल्लाल सेना की अद्भुत सागर में भूकंप का जिक्र है. इसको ज्यादा पढ़ा नहीं गया.


2.

चीन में 2000 साल पहले भूकंप नापने के लिए एक जुगाड़ था. खुले मैदान में एक कांसे का 6 फीट डायमीटर का जार रख दिया जाता था. डायमीटर के चारों ओर खुले मुंह के 8 ड्रैगन लगा दिए जाते थे. नीचे 8 मेंढक लगा दिये जाते थे. सब कांसे के ही. ड्रैगन के मुंह में एक बॉल रख दी जाती थी. जब भूकंप आता तो बॉल उसके मुंह से छिटक कर मेंढक के मुंह में चली जाती. जिस दिशा में जाती, उसे भूकंप की दिशा मान लिया जाता था.

Houfeng Didong
चीन का जुगाड़: Houfeng Didong

नया ज़माना

जब भी भूकंप की न्यूज़ आती है, कुछ ऐसे ही आती है: जापान में 7.5 रिक्टर की तीव्रता का भूकंप आया. डिटेल 10 बजे. इसका मतलब क्या है?

भूकंप में दो चीजें देखी जाती हैं: मैग्नीट्यूड और इंटेंसिटी. मतलब कितना आया और कितनी जोर से. ये नापा जाता है रिक्टर स्केल से.

जब प्लेट्स टकराती हैं, तो एनर्जी निकलती है. ये तरंग के रूप में निकलती है. तो इसके लिए एक यंत्र बैठाया जाता है. सीज्मोमीटर. वैसे एरिया में जिससे 100-200 किलोमीटर दूर भूकंप आते हैं. तो भूकंप की तरंग आ के सीज्मोमीटर से टकराती है. ये इसको बढ़ा-चढ़ा के नापता है. फिर दूरी और इस तरंग के आधार पर एक फ़ॉर्मूले के तहत रिक्टर स्केल पर नंबर बताया जाता है. और भी एक-दो तरीके हैं, पर रिक्टर वाला ज्यादा चलन में है.

रिक्टर स्केल पर 3 तक के तो पता भी नहीं चलते. पर 4 से गड़बड़ शुरू हो जाती है. 6 वाले गंभीर खतरा पैदा करते हैं.

tremor.nmt.edu
tremor.nmt.edu

धरती के नीचे जहां भूकंप शुरू होता है, उसको फोकस कहते हैं. इसके ठीक ऊपर की दिशा में जमीन पर जो पॉइंट होता है, उसको एपीसेंटर कहते हैं. सीज्मोमीटर इसी पॉइंट से भूकंप की तीव्रता नापता है.

FIG18_002
भूकंप का एपीसेंटर और फोकस

दी लल्लनटॉप के लिए ये लेख ऋषभ ने लिखा था.


ये भी पढ़ेंः

हम भूकंप से नहीं डरते, सुसाइड से डरते हैं

तूफान समंदर में उठता है तो उसे नाम कौन देता है?

सिलाई होती है कि थान कच्चा होता है जो बादल फट पड़ता है?

कहानी उस चेन्नई महानगर की, जहां हर साल बारिश अपने साथ मौतें भी लाती है

Video:ठंडी में बार-बार हमें सूसू क्यों लगती है?

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

इस तरह खचाखच भरे क्रिकेट स्टेडियम में, मैच के दौरान एक औरत को शर्मसार किया गया

ये खेल की मर्दानगी है, ये फैन्स का पौरुष है.

घंटों रेप करते हैं, भूखा रखते हैं: नॉर्थ कोरियाई महिला फौजियों का जीवन

ऐसी ट्रेनिंग करवाते हैं कि औरतों को पीरियड तक आने बंद हो जाते हैं.

राधिका आप्टे से प्रोड्यसूर ने पूछा 'हीरो के साथ सो लेंगी' और उन्होंने घुमाके दिया ये जवाब!

इसीलिए वे अपनी पीढ़ी की सबसे ब्रेव एक्ट्रेसेज़ में से हैं.

पीएम मोदी, ट्रिपल तलाक बुरा है, मगर औरतों के 'खतने' का दर्द और भी बुरा है

बचपन में बच्चियों के प्राइवेट पार्ट काट देना, ये कैसा रिवाज है?

माफ़ करिए, मुझे मिस वर्ल्ड मानुषी छिल्लर पर गर्व नहीं है

न ही 'देश के लिए' ब्यूटी कॉन्टेस्ट जीतने वाली किसी और लड़की पर.

प्रियंका तनेजा उर्फ़ हनीप्रीत: गुरमीत की 'गुड्डी', जिसके बिना उसका एक मिनट भी नहीं कटता

मुंहबोली बेटी के लिए राम रहीम ने कोर्ट से चौंकाने वाली अपील की है.

जिसे हमने पॉर्न कचरा समझा वो फिल्म कल्ट क्लासिक थी

अठारह वर्ष से ऊपर वाले दर्शकों/पाठकों के लिए.

17 साल की लड़की ने सड़क पर बच्चा डिलीवर किया, इसका जिम्मेदार कौन है?

विचलित करने वाला ये वीडियो हमारे समाज की नंगई दिखाता है.

इंसानी पाद के बारे में सबसे महत्वपूर्ण जानकारियां

जिन्हें लगता है कि लड़कियां नहीं पादतीं, वो ये ज़रूर पढ़ें.

'गुप्त रोगों' के इलाज के नाम पर की गई वो क्रूरता, जिसे हमेशा छिपाया गया

प्रेगनेंट औरतों, बीमार पुरुषों और अनाथ बच्चों के साथ अंग्रेज और अमेरिकी करते थे जघन्य हरकत.

सौरभ से सवाल

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.

ऑफिस के ड्युअल फेस लोगों के साथ कैसे मैनेज करें?

पर ध्यान रहे. आप इस केस को कैसे हैंडल कर रहे हैं, ये दफ्तर में किसी को पता न चले.

ललिता ने पूछा सौरभ से सवाल. मगर अधूरा. अब क्या करें

कुछ तो करना ही होगा गुरु. अधूरा भी तो एक तरह से पूरा है. जानो माजरा भीतर.

ऐसा क्या करें कि हम भी जेएनयू के कन्हैया लाल की तरह फेमस हो जाएं?

कोई भी जो किसी की तरह बना, कभी फेमस नहीं हो पाया. फेमस वही हुआ, जो अपनी तरह बना. सचिन गावस्कर नहीं बने. विराट सचिन नहीं बने. मोदी अटल नहीं बने और केजरीवाल अन्ना नहीं बने.

तुम लोग मुझे मुल्ले लगते हो या अव्वल दर्जे के वामपंथी जो इंडिया को इस्लामिक मुल्क बनाना चाहते हो

हम क्या हैं. ये पूछा आपने. वही जो आप हैं. नाम देखिए आप अपना.

एक राइटर होने की शर्तें?

शर्तें तो रेंट एंग्रीमेंट में होती हैं. जिन्हें तीन बार पढ़ते हैं. या फिर किसी ऐप या सॉफ्टवेयर को डाउनलोड करने में, जिसकी शर्तों को सुरसुराता छोड़कर हम बस आई एग्री वाले खांचे पर क्लिक मार देते हैं.