Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

टाइम पर्सन ऑफ़ द इयर 2017: बड़े-बड़े पुरुषों के असल चरित्र का पर्दाफाश करने वाली औरतें

216
शेयर्स

टाइम मैगज़ीन दुनिया की सबसे मशहूर मैगजीनों में से एक है. न्यूयॉर्क से छपने वाली इस मैगजीन को छपते हुए 94 साल हो गए. लगभग एक सदी से चल रहे इस मैगजीन की अगर सबसे ज्यादा चर्चा होती है तो उसके दो विशेषांकों के लिए. पहला: ‘टाइम 100’, दूसरा: ‘पर्सन ऑफ़ द इयर’. ‘टाइम 100’ विशेषांक में मैगजीन दुनिया के सौ लोगों की लिस्ट बनाता है, जो दुनिया में किसी भी तरह का बड़ा बदलाव लाए हैं. कॉम्पटीशन मुश्किल होता है और टाइम मैगजीन में जगह पाना अपने आप में बड़ी बात होती है. शायद आपको याद हो, नरेंद्र मोदी भी इस लिस्ट में दिखाई पड़े थे.

‘पर्सन ऑफ़ द इयर’ भी इसी तरह की ख़ास वार्षिकी है. इसमें किसी एक व्यक्ति, ग्रुप, चीज़ या विचार को टाइम मैगजीन के कवर पर जगह मिलती है. अक्सर विवादों में रहने वाला ये फैसला महज़ उन्हीं को नहीं चुनता जो दुनिया में कोई सकारात्मक बदलाव लेकर आए हों. टाइम के मुताबिक़ वो दुनिया का सबसे बड़ा ‘न्यूज़मेकर’ चुनते हैं, फिर चाहे वो फ़रिश्ता हो या तानाशाह.

टाइम मैगजीन ने 6 दिसंबर को ‘पर्सन ऑफ़ द इयर 2017’ जारी किया. यूं तो हर बार इस पर चर्चा होती है. मगर इस बार के कवर में कुछ ख़ास है. ख़ास है उस पर उन औरतों का होना जिन्होंने बीते दिनों ट्विटर पर ‘मी टू’ कैंपेन चलाया या खुद के साथ हुए यौन शोषण के बारे में खुलकर बात की. उन बड़े-बड़े पुरुषों के असल चरित्र का पर्दाफाश किया, जिनकी ताकत के डर से कोई उनके खिलाफ ‘चूं’ तक करने से डरता है.

क्या है ‘मी टू’?

2015 में इटली की मॉडल अंब्रा गितेरेज ने एक स्टिंग ऑपरेशन कर दुनिया को बताने की कोशिश की थी कि हॉलीवुड का सबसे ज्यादा पैसे वाला आदमी, औरतों का यौन शोषण करता है. आदमी था हार्वी वाइनस्टीन–प्रोड्यूसर, बिजनेसमैन. फिल्मों को परदे पर उतारने का सबसे बड़ा कारोबारी. जिन फिल्मों में इसने पैसे लगाए हैं, उनमें से 300 फ़िल्में कोई न कोई ऑस्कर जीत चुकी हैं. अब आप इस आदमी की ताकत का अंदाजा लगाएं.

2015 में इटली की मॉडल अंब्रा गितेरेज ने एक स्टिंग ऑपरेशन कर दुनिया को बताने की कोशिश की थी, कि हॉलीवुड का सबसे ज्यादा पैसे वाला आदमी औरतों का यौन शोषण करता है. आदमी था हार्वी वाइनस्टीन--प्रोडूसर, बिजनेसमैन.
2015 में इटली की मॉडल अंब्रा गितेरेज ने एक स्टिंग ऑपरेशन कर दुनिया को बताने की कोशिश की थी कि हॉलीवुड का सबसे ज्यादा पैसे वाला आदमी औरतों का यौन शोषण करता है. आदमी था हार्वी वाइनस्टीन–प्रोड्यूसर, बिजनेसमैन.

ये ताकत ही थी, जो गितेरेज के स्टिंग पर हजारों सवाल उठाकर उसे चुप करा दिया गया. उसे ‘बुरे चरित्र’ का बताकर मामले पर मिट्टी डाल दी गई. मगर 5 अक्टूबर 2017 में रॉबर्ट फैरो नाम के एक पत्रकार की ‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ में एक ऐसी तफ्तीश छपी, जिसने हॉलीवुड को हिला दिया. हार्वी का स्टिंग ऑपरेशन, जिसमें वो मॉडल के स्तन पकड़ने और मालिश करवाने की बात कर रहा था. उसका सच दुनिया के सामने आ चुका था.

हार्वी का स्टिंग ऑपरेशन, जिसमें वो मॉडल के स्तन पकड़ने और मालिश करवाने की बात कर रहा था, का सच दुनिया के सामने आ चुका था.
हार्वी का स्टिंग ऑपरेशन, जिसमें वो मॉडल के स्तन पकड़ने और मालिश करवाने की बात कर रहा था.

हॉलीवुड में एक-दूसरे से दबी आवाज़ में बात करने वाली औरतें अब सामने आने वाली थीं. और इसकी शुरुआत की ऐश्ले जड ने. 50 साल की इस एक्ट्रेस ने बताया कि किस तरह 20 साल पहले हार्वी ने उसे अपने होटल के कमरे में बुलाकर मालिश करने को कहा. फिर ये पूछा कि क्या वो उसे नहाते हुए शावर में नग्न देखना चाहती है. ऐश्ले को ये वाकया जाहिर करने में 20 साल लग गए, इससे ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि हॉलीवुड में इस आदमी की क्या पकड़ होगी.

कुछ साल पहले से औरतों के यौन शोषण के लिए इस्तेमाल हो रहे दो शब्द ‘मी टू’ अब अलग मायने पा रहे थे. एक्ट्रेस एलिसा मिलानो ने सभी एक्ट्रेसों से कहा कि वो चुप न रहें. उनके साथ जब भी, किसी भी लेवल का यौन शोषण हुआ है, उसके बारे में #MeToo हैशटैग के साथ लिखें. और एक के बाद एक, हार्वी का पूरा कच्चा-चिट्ठा खुलता गया. लड़कियां एक-एक कर बाहर आती रहीं. हफ्ते भर में हार्वी पर 20 से ज्यादा आरोप लग चुके थे. और अनुमान था कि कम से कम 100 औरतें होंगी, जो हार्वी से पीड़ित रही होंगी. जैसे ही लड़कियां एक-दूसरे के साथ आईं, हार्वी वाइनस्टीन के पौरुष का पूरा महल रेत के किसी ढांचे सा भरभरा कर गिर पड़ा.

टाइम मैगजीन 'पर्सन ऑफ़ द इयर' कवर
टाइम मैगजीन ‘पर्सन ऑफ़ द इयर’ कवर

सिलसिला रुका नहीं. एंजलीना जोली, जेनिफ़र लॉरेंस, लेडी गागा जैसी दुनिया भर में मशहूर औरतें सामने आईं. केविन स्पेसी जैसे एक्टर और लुइ सीके जैसे कॉमेडियन्स का पर्दाफाश हुआ. यहां तक वुडी ऐलेन पर भी आरोप लगे. दुनिया को मालूम पड़ा कि कोई अगर अपने पेशे में अच्छा कर रहा है तो जरूरी नहीं वो महिलाओं के प्रति भी इंसानियत दिखा रहा हो. ये बड़े नाम हजारों-लाखों के लिए प्रेरणा स्रोत थे. इनका ब्रांड गिर गया, इनकी परिभाषा बदल गई. अगर आप अपने साथ काम करने वाले व्यक्ति का यौन शोषण कर रहे हैं तो आपकी सफलता के क्या मायने?

ये हैशटैग इतना चला कि एक समय में ये 85 देशों में ट्रेंड कर रहा था. दुनिया के अलग-अलग हिस्सों, अलग-अलग पेशों से औरतें अपने साथ काम कर रहे मर्दों का पर्दाफाश कर रही थीं.

हैशटैग की आलोचना भी हुई कि ये बिना किसी जांच और सबूतों के पुरुषों को बदनाम करने, उनके करियर को ख़त्म करने का जरिया बनता जा रहा है. करियर तो बेशक ख़त्म हुए, ऊंचे पदों पर बठे रेपिस्ट और मोलेस्टर्स के.

कवर पर दिखने वाली औरतें कौन हैं?

ऐश्ले जड

ashley judd
ऐश्ले ने ये पूरा वाकया 2015 में न्यूयॉर्क टाइम्स को बताया था. मगर हार्वी का नाम नहीं लिया था.

49 साल की एक्ट्रेस जो 30 से ज्यादा फिल्मों में काम कर चुकी है. इनके मुताबिक़, 20 साल पहले हार्वी ने इन्हें बेवेरली हिल्स होटल में बुलाकर पूछा, क्या वो हार्व को नहाते हुए देखना चाहती हैं. उसके बाद उनसे मालिश करने के लिए कहा. ऐश्ले ने ये पूरा वाकया 2015 में न्यूयॉर्क टाइम्स को बताया था. मगर हार्वी का नाम नहीं लिया था. हार्वी के खिलाफ बयान देने वाली शुरुआती औरतों में ऐश्ले थीं.

सूसन फाउलर

फरवरी 2017 में सूसन के ब्लॉग ने ऐसा तहलका मचाया कि अकेले ट्विटर पर उनकी कहानी 22 हजार बार शेयर हुई.
फरवरी 2017 में सूसन के ब्लॉग ने ऐसा तहलका मचाया कि अकेले ट्विटर पर उनकी कहानी 22 हजार बार शेयर हुई.

एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर, जिसकी वजह से दुनिया का सबसे बड़ा सॉफ्टवेयर इलाका सिलिकॉन वैली और सबसे बड़ी कैब कंपनी उबर आज ज्यादा सुरक्षित है. फरवरी 2017 में सूसन के ब्लॉग ने ऐसा तहलका मचाया कि अकेले ट्विटर पर उनकी कहानी 22 हजार बार शेयर हुई. ये ब्लॉग उन्होंने उबर में काम करते हुए लिखा था. उबर के काम में किस तरह महिला कर्मचारियों के साथ भेदभाव होता है, किस तरह उसके पिछले मैनेजर, जिसने उन्हें सेक्स का ऑफर दिया. इन सबके खिलाफ उनके HR ने कोई कदम नहीं उठाया. सूसन के ब्लॉग ने उबर के सीईओ ट्रेविस कलानिक की नौकरी खा ली. ये उसके लिए सबसे अच्छी सजा थी.

अदामा इवु

 इवु ने फंक्शन के तुरंत बाद CNN को दिए एक इंटरव्यू में अपने साथ हुए शोषण के बारे में खुलकर बोला. ये जाहिर करते हुए कि किसी ने उनका साथ नहीं दिया.
इवु ने फंक्शन के तुरंत बाद CNN को दिए एक इंटरव्यू में अपने साथ हुए शोषण के बारे में खुलकर बोला. ये जाहिर करते हुए कि किसी ने उनका साथ नहीं दिया.

अमेरिका में एक सरकारी अफसर. इवु एक सरकारी फंक्शन में थीं, जब एक आदमी ने उन्हें पकड़कर दबोचने की कोशिश की. इवु के मुताबिक़ कई लोगों ने ये देखा, मगर उनके सपोर्ट में कोई भी नहीं आया. इवु के मुताबिक़ पूरा कमरा शांत हो गया. बाद में उनके पुरुष सहकर्मियों ने कहा, इस वाकए को यौन शोषण की तरह नहीं देखा जाना चाहिए क्योंकि इवु उस पुरुष को जानती थीं. उस समय हार्वी का नाम मीडिया में आना शुरू हो गया था. इवु ने फंक्शन के तुरंत बाद CNN को दिए एक इंटरव्यू में अपने साथ हुए शोषण के बारे में खुलकर बोला. ये जाहिर करते हुए कि किसी ने उनका साथ नहीं दिया.

टेलर स्विफ्ट

इंटरनेट पर ट्रोलिंग और 'टेलर स्विफ्ट बट ग्रैब केस' (टेलर स्विफ्ट पिछवाड़ा विवाद) नाम से मीम चुटकुले चल पड़े थे. इतना मजाक उड़ने के बावजूद वो लड़ती रहीं और अंततः केस जीतीं.
इंटरनेट पर ट्रोलिंग और ‘टेलर स्विफ्ट बट ग्रैब केस’ (टेलर स्विफ्ट पिछवाड़ा विवाद) नाम से मीम चुटकुले चल पड़े थे. इतना मजाक उड़ने के बावजूद वो लड़ती रहीं और अंततः केस जीतीं.

27 साल की एक सिंगर, जिनके लिखे और गाए हुए सिंपल गीत दुनिया भर के युवाओं में मशहूर हैं. एक फोटोशूट के दौरान डेविड मुएलेर नाम के DJ ने इनके कूल्हे दबोच लिए थे. टेलर ने यौन शोषण का आरोप लगाते हुए DJ पर केस कर दिया था. भरसक लड़ाई के बाद टेलर ये केस जीत गई थीं. मगर इसके पहले टेलर ने एक बड़ी लड़ाई लड़ी थी. इंटरनेट पर ट्रोलिंग और ‘टेलर स्विफ्ट बट ग्रैब केस’ (टेलर स्विफ्ट पिछवाड़ा विवाद) नाम से मीम चुटकुले चल पड़े थे. इतना मजाक उड़ने के बावजूद वो लड़ती रहीं और अंततः केस जीतीं.

इसाबेल पस्कुएल

टाइम मैगज़ीन से बात करते हुए इसाबेल ने बताया कि किस तरह एक आदमी रोज़ घर तक उसका पीछा करता, मगर डर के मारे वो किसी से कुछ कह न पाती
टाइम मैगज़ीन से बात करते हुए इसाबेल ने बताया कि किस तरह एक आदमी रोज़ घर तक उसका पीछा करता, मगर डर के मारे वो किसी से कुछ कह न पाती.

एक आम औरत, जो स्ट्रॉबेरी बीनने का काम करती हैं और मेक्सिको की रहने वाली हैं. ये उनका असली नाम नहीं है. अपने परिवार की सुरक्षा के चलते इन्होंने अपना नाम बदल लिया. टाइम मैगज़ीन से बात करते हुए इसाबेल ने बताया कि किस तरह एक आदमी रोज़ घर तक उसका पीछा करता, मगर डर के मारे वो किसी से कुछ कह न पाती. स्टॉकर ने उसको ये धमकी भी दी थी कि अगर उसने किसी को बताया तो वो उसके परिवार को नष्ट कर देगा.

वो महिला जिसकी केवल कुहनी दिख रही है

स्वीर में अपना हाथ दिखाते हुए वो हर औरत के साथ अपना सपोर्ट दर्ज करना चाहती हैं.
तस्वीर में अपना हाथ दिखाते हुए हर औरत के साथ अपना सपोर्ट दर्ज करना चाहती हैं.

इस महिला का नाम और शक्ल हमें नहीं पता है. ये अमेरिकी शहर टेक्सास के एक अस्पताल में काम करती हैं. इनको डर था कि इनकी शक्ल दिख गई तो इनके परिवार के लिए अच्छा नहीं होगा. मगर तस्वीर में अपना हाथ दिखाते हुए वो हर औरत के साथ अपना सपोर्ट दर्ज करना चाहती हैं.

‘पर्सन ऑफ़ द इयर’ इतने सारे लोगों को क्यों?

silence breakers 1
कई राज़ को लोगों के सामने लाने के लिए, फुसफुसाहटों को सोशल मीडिया तक पहुंचाने के लिए, बुरे को अस्वीकार करने की हिम्मत दिखाने के लिए, ‘ये साइलेंस ब्रेकर्स’ टाइम की पर्सन ऑफ़ द इयर हैं.

टाइम के एडिटर एडवर्ड फेल्सेंथर के मुताबिक़:

‘हमारे कवर पर दिख रही औरतों और साथ ही सैकड़ों और औरतें, साथ ही कई पुरुषों ने बहुत बड़ा काम किया है. साल 1960 के बाद आने वाला ये बहुत बड़ा कल्चरल बदलाव है. सोशल मीडिया ने इसमें ईंधन का काम किया है. लाखों बार एक हैशटैग से महिलाओं ने ट्वीट किया है […] दबे हुए राज़ को लोगों के सामने लाने के लिए, फुसफुसाहटों को सोशल मीडिया तक पहुंचाने के लिए, बुरे को अस्वीकार करने की हिम्मत दिखाने के लिए, ‘ये साइलेंस ब्रेकर्स’ टाइम की पर्सन ऑफ़ द इयर हैं.’


ये भी पढ़ें:

वो शख्स जिसे अपनी पसंद से सेक्स पार्टनर चुनने को नहीं मिलता, वो गुलाम है

15 साल से पेट में गैस का इलाज करवाती रही, सर्जरी की तो आंत से मृत बच्चा निकला

यूपी की पहली महिला मुख्यमंत्री जो एक वक्त सायनाइड का कैप्सूल ले के चलती थीं

ये भी देखें:

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

क्या सनी लियोनी के एड देखने से बच्चे बिगड़ते हैं?

और निरोध के बारे में बात करने पर हमें शर्म क्यों आती है?

इस तरह खचाखच भरे क्रिकेट स्टेडियम में, मैच के दौरान एक औरत को शर्मसार किया गया

ये खेल की मर्दानगी है, ये फैन्स का पौरुष है.

घंटों रेप करते हैं, भूखा रखते हैं: नॉर्थ कोरियाई महिला फौजियों का जीवन

ऐसी ट्रेनिंग करवाते हैं कि औरतों को पीरियड तक आने बंद हो जाते हैं.

राधिका आप्टे से प्रोड्यसूर ने पूछा 'हीरो के साथ सो लेंगी' और उन्होंने घुमाके दिया ये जवाब!

इसीलिए वे अपनी पीढ़ी की सबसे ब्रेव एक्ट्रेसेज़ में से हैं.

पीएम मोदी, ट्रिपल तलाक बुरा है, मगर औरतों के 'खतने' का दर्द और भी बुरा है

बचपन में बच्चियों के प्राइवेट पार्ट काट देना, ये कैसा रिवाज है?

माफ़ करिए, मुझे मिस वर्ल्ड मानुषी छिल्लर पर गर्व नहीं है

न ही 'देश के लिए' ब्यूटी कॉन्टेस्ट जीतने वाली किसी और लड़की पर.

प्रियंका तनेजा उर्फ़ हनीप्रीत: गुरमीत की 'गुड्डी', जिसके बिना उसका एक मिनट भी नहीं कटता

मुंहबोली बेटी के लिए राम रहीम ने कोर्ट से चौंकाने वाली अपील की है.

जिसे हमने पॉर्न कचरा समझा वो फिल्म कल्ट क्लासिक थी

अठारह वर्ष से ऊपर वाले दर्शकों/पाठकों के लिए.

17 साल की लड़की ने सड़क पर बच्चा डिलीवर किया, इसका जिम्मेदार कौन है?

विचलित करने वाला ये वीडियो हमारे समाज की नंगई दिखाता है.

इंसानी पाद के बारे में सबसे महत्वपूर्ण जानकारियां

जिन्हें लगता है कि लड़कियां नहीं पादतीं, वो ये ज़रूर पढ़ें.

सौरभ से सवाल

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.

ऑफिस के ड्युअल फेस लोगों के साथ कैसे मैनेज करें?

पर ध्यान रहे. आप इस केस को कैसे हैंडल कर रहे हैं, ये दफ्तर में किसी को पता न चले.

ललिता ने पूछा सौरभ से सवाल. मगर अधूरा. अब क्या करें

कुछ तो करना ही होगा गुरु. अधूरा भी तो एक तरह से पूरा है. जानो माजरा भीतर.

ऐसा क्या करें कि हम भी जेएनयू के कन्हैया लाल की तरह फेमस हो जाएं?

कोई भी जो किसी की तरह बना, कभी फेमस नहीं हो पाया. फेमस वही हुआ, जो अपनी तरह बना. सचिन गावस्कर नहीं बने. विराट सचिन नहीं बने. मोदी अटल नहीं बने और केजरीवाल अन्ना नहीं बने.

तुम लोग मुझे मुल्ले लगते हो या अव्वल दर्जे के वामपंथी जो इंडिया को इस्लामिक मुल्क बनाना चाहते हो

हम क्या हैं. ये पूछा आपने. वही जो आप हैं. नाम देखिए आप अपना.

एक राइटर होने की शर्तें?

शर्तें तो रेंट एंग्रीमेंट में होती हैं. जिन्हें तीन बार पढ़ते हैं. या फिर किसी ऐप या सॉफ्टवेयर को डाउनलोड करने में, जिसकी शर्तों को सुरसुराता छोड़कर हम बस आई एग्री वाले खांचे पर क्लिक मार देते हैं.