Submit your post

Follow Us

इन हिंदी तस्वीरों से समझ लो 'गे' और 'लेस्बियन' कौन होते हैं

Anusha Raichur
Anusha Raichur

अनुषा रायचुर. बेंगलुरु में रहने वाली 24 साल की ग्राफ़िक डिज़ाइनर. इकॉनोमिक जर्नलिज़्मकी पढ़ाई की. फिर करीब एक साल तक मीडिया में काम भी किया. अनुषा को लगा कि वो वहां फिट नहीं हो पा रही थीं. इसलिए नौकरी छोड़ कर अपने सपनों के पीछे निकल पड़ीं. प्यार था आर्ट. प्यार बहुत पुराना था. देर से ही सही लेकिन अपने सपने को पूरा करने निकल पड़ीं. अब इंडिपेंडेंट डिज़ाइनर हैं.

अनुषा ने कुछ दिनों पहले LGBTQ सीरीज शुरू की. जिसमें वो रंग-बिरंगे इलस्ट्रेशन के ज़रिये हिंदी भाषा में लोगों को इस कम्युनिटी के बारे में बता रही हैं.

हमने अनुषा से बात की. अनुषा ने हमको अपने बारे में बताया. और ये भी बताया कि ट्रांसजेंडर और बाईसेक्शुअल लोगों को आज भी हमारी सोसाइटी में कैसे देखा और समझा जाता है. भले ही अमेरिका में सेम सेक्स की शादियां लीगल हो गई हैं. लेकिन हमारे देश में आज भी इस बारे में खुल कर बातें नहीं होतीं. जो काम बातें नहीं कर पातीं, तस्वीरें कर जाती हैं. इसलिए अनुषा ने ये इलस्ट्रेशन बनाए हैं.

LGBTQ


 

अनुषा, ये इलस्ट्रेशन आप कब से बना रही हैं? क्या आपने कोई प्रोफेशनल ट्रेनिंग ली है?

ड्राइंग करने का शौक मुझे बचपन से था. ड्राइंग की मैंने कोई ट्रेनिंग नहीं ली है. मैं हमेशा से पेंट करती आ रही हूं. जॉब मैंने छोड़ी ही इसलिए थी क्योंकि मुझे लगता था कि मैं वहां फिट नहीं हो पा रही थी. ये LGBTQ वाली सीरीज मैंने 10 अगस्त से शुरू की थी.

गे वो लड़के होते हैं जो दूसरे लड़कों की तरफ सेक्शुअली आकर्षित होते हैं. 

gay 1


LGBTQ कम्युनिटी पर ड्राइंग इलस्ट्रेशन करने की कैसे सोची?

मैं LGBTQ कम्युनिटी और उनकी परेशानियों को लेकर हमेशा से बहुत जागरूक थी. लेकिन हमारी सोसाइटी में आज भी बहुत सारे लोग हैं. जिनको ट्रांसजेंडर और बाई-सेक्शुअल के बारे में ठीक से पता ही नहीं है. बातें सब करते हैं. लेकिन क्लियर नहीं पता होता है. इसलिए मैं अपनी पेंटिंग्स से लोगों को बहुत सिंपल तरीके से ये बातें समझाना चाहती हूं.

जब मैं कुछ ट्रांसजेंडर लोगों से मिली. मुझे लगा शायद वो दुनिया के सबसे अच्छे लोगों में से थे. लोग उनके साथ इतनी बुरी तरह से सुलूक करते हैं. तब भी वो लोग इस दुनिया में बहुत सारा प्यार बांटना चाहते हैं. लोगों के बीच अपनी पहचान बनाना चाहते हैं. अभी भी वो हम लोगों से बात करने के लिए तैयार हैं.

जो लड़की किसी दूसरी लड़की की तरफ सेक्शुअली अट्रैक्ट होती है. वो लेस्बियन होती है. 

lesbian1


आपके इलस्ट्रेशन्स में हिंदी में लिखा होता है. इसके पीछे की क्या कहानी है?

मैं देश के ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचना चाहती थी. मुझे लगा हिंदी में लिखने से बहुत सारे लोग इसको पढ़कर समझ सकेंगे.

जो लोग लड़कों और लड़कियों दोनों की तरफ सेक्शुअली आकर्षित होते हैं. वो बाईसेक्शुअल होते हैं. 

bisexual2


LGBTQ कम्युनिटी से जुड़ा कोई खास किस्सा?

कोई एक किस्सा तो नहीं है. लेकिन मेरे बहुत सारे फ्रेंड हैं जो बाईसेक्शुअल या ट्रांसजेंडर हैं. कॉलेज में मैंने ट्रांसजेंडर्स पर एक सेमिनार अटेंड किया था. जर्नलिज़्म के वक़्त भी कई ऐसे लोगों से मिली और उनके इंटरव्यू किये. उन्होंने मुझे अपने बॉयफ्रेंड्स के बारे में बताया. सेक्स वर्कर के तौर पर अपनी जिंदगी के बारे में बताया. लोग उनके बारे में क्या सोचते हैं. सोसाइटी उनको कैसे देखती हैं. ये सब देख, समझकर मुझे लगा कि मुझे इस बारे में ज़रूर कुछ करना चाहिए.

जो लोग अपने बायोलॉजिकल जेंडर से अलग महसूस करते हैं. वो ट्रांसजेंडर होते हैं. मतलब अगर कोई लड़का पैदा हुआ है. लेकिन वो दिल से खुद को लड़का नहीं,लड़की जैसा महसूस करता है. वैसे ही कपड़े पहनना चाहता है. वैसा ही दिखना चाहता है. जैसे उनकी आत्मा गलत शरीर में फंसी हुई है.

trans3


आपके ड्राइंग इलस्ट्रेशन में आर्ट का कौन सा फॉर्म यूज़ होता है?

ये कोई एक फॉर्म नहीं है. मैं ज़्यादातर आर्ट ग्राफ़िक डिजाइन और फोटोशॉप से करती हूं.

All in one
ये है पूरी सीरीज का एक लोगो

ये भी पढ़ो:

‘मैं हर जनम में हिजड़ा होना चाहती हूं’

‘तुम हिजड़े हो क्या जो लिपस्टिक लगाकर नाचोगे?’

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

वो रेल हादसा, जिसमें नीलगाय की वजह से ट्रेन से ट्रेन भिड़ी और 300 से ज्यादा लोग मारे गए

उस दिन जैसे हर कोई एक्सिडेंट करवाने पर तुला था. एक ने अपनी ड्यूटी ढंग से निभाई होती, तो ये हादसा नहीं होता.

'मेरी तबीयत ठीक नहीं रहती, मुझे नहीं बनना पीएम-वीएम'

शंकर दयाल शर्मा जीके का एक सवाल थे. आज बड्डे है.

मांझी की घर-वापसी बिहार में दलित राजनीति के बारे में क्या बताती है?

कभी मांझी और नीतीश की ठन गई थी. अब फिर दोस्ती हो रही.

गुलज़ार पर लिखना डायरी लिखने जैसा है, दुनिया का सबसे ईमानदार काम

गुलज़ार पर एक ललित निबंध.

जब गुलजार ने चड्डी में शर्माना बंद किया

गुलज़ार दद्दा, इसी बहाने हम आपको अपने हिस्से की वो धूप दिखाना चाहते हैं, जो बीते बरसों में आपकी नज़्मों, नग़मों और फिल्मों से चुराई हैं.

सौरभ द्विवेदी ने धोनी के रिटायरमेंट पर जो कहा, उसे आपको ज़रूर पढ़ना चाहिए

#DhoniRetires पर सौरभ ने साझा की दिल की बात.

अटल बिहारी बोले, दशहरा मुबारक और गोविंदाचार्य का पत्ता कट गया

अटल की तीन पंक्तियां उनके इरादे की इबारत थीं. संकेत साफ था, वध का समय आ गया था.

बचपन का 15 अगस्त ज्यादा एक्साइटिंग होता था! नहीं?

हाथों में केसरिया मिठाई लिए, सफेद बादलों के साए में, हरी जमीन पर फहराते थे साड्डा तिरंगा .

शम्मी कपूर के 22 किस्से: जिन्होंने गीता बाली की मांग में सिंदूर की जगह लिपस्टिक भरकर शादी की

'राजकुमार' फिल्म के गाने की शूटिंग के दौरान कैसे हाथी ने उनकी टांग तोड़ दी थी?

कहानी फूलन देवी की, जिसने बलात्कार का बदला लेने के लिए 22 ठाकुरों की जान ले ली

फूलन की हत्या को 19 साल हो गए. भारतीय समाज का हर पहलू छिपाए हुए है उसकी कहानी.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.