Submit your post

Follow Us

क्रुणाल पांड्या, जो 400 रुपल्ली का मैच खेलने दूसरे गांव जाता था

50.73 K
शेयर्स

ऑफ स्टंप के बाहर अमित मिश्रा की फ्लैटर बॉल. बल्लेबाज बॉल के नीचे आया और लॉन्ग ऑन के ऊपर उड़ा दिया. 6 रन. फिर क्रीज से उसने अपने डोलों की तरफ इशारा किया, जैसे कह रहा हो कि मैंने सारी ताकत यहां बटोर रखी है. कैमरा मुंबई इंडियंस के डगआउट की तरफ. कोच रिकी पॉन्टिंग की तिरछी हंसी.

दो शानदार लेगस्पिनर. अमित मिश्रा और इमरान ताहिर. एक ‘महाअनुभवी’ खब्बू पेसर, ज़हीर खान. लेफ्ट आर्म स्पिनर अलबत्ता नया था, शाहबाज़ नदीम.

रविवार रात आईपीएल के एक मैच में एक लड़का इन सबको धो रहा था. सब चकित थे. लेकिन डग-आउट में उसके छोटे भाई हार्दिक पांड्या के चेहरे पर एक सुस्त मुस्कान थी. वह बिना अतिरिक्त उत्साह दिखाए ताली बजा रहा था. जैसे कह रहा हो, मुझे पहले से पता था कि मेरा भाई क्या कर सकता है.

क्रुणाल पांड्या ने रविवार रात गैस्पैदरा फाड़ दिया. 37 बॉल पर 86 रन कूटे. चौके मारे 7. छ्क्के मारे 6. इस पारी की बदौलत मुंबई ने दिल्ली को 206 रन का टारगेट दिया और 80 रन से जीत हासिल की.

Photo: BCCI
Photo: BCCI

और जैसा कि हम भारतीयों के साथ होता है. किसी ऑलराउंडर को इतने भरोसे से छक्के उड़ाते देख हमारी बांछें – जहां कहीं भी होती हों- खिल जाती हैं. जोक्स बनने लगे कि क्रुणाल टीम इंडिया में कहीं अपने भाई की जगह ही न खा जाए.

पहले वो जो क्रुणाल ने इतवार को किया

दिल्ली के शहबाज नदीम जब पहला ओवर फेंकने आए तो उनकी शुरुआती दो गेंदों को बढ़िया ग्रिप और टर्न मिला. जहीर खान तीन स्पिनर खिलाने के अपने फैसले पर नाज़ कर रहे होंगे. लेकिन हालात बहुत जल्दी बदले. रोहित शर्मा के आउट होने के बाद क्रुणाल पांड्या तीसरे नंबर पर खेलने आए. थोड़ी हैरत हुई, क्योंकि रायुडू और बटलर उनसे काफी सीनियर और अनुभवी हैं. लेकिन क्रुणाल ने वही किया, जिसके लिए उन्हें भेजा गया था. दो लेग स्पिनर और एक लेफ्ट-आर्म फिरकीबाज के खिलाफ मिडविकेट की तरफ अपनी ‘नैचुरल हिटिंग आर्क’ का जानदार इस्तेमाल.

गेम 13वें ओवर से बदला. अब तक स्ट्रगल कर रहे गुप्टिल ने इमरान ताहिर को दो लगातर छक्के जड़ दिए. चौथी गेंद पर सिंगल लिया. क्रुणाल को इस ओवर की दो गेंदें मिलीं. एक पर लॉन्ग ऑन पर छक्का और आखिरी पर कवर्स की तरफ चौका. इस ओवर में 23 रन आए. यहां से क्रुणाल चार्ज होकर खेले. 22 बॉल पर फिफ्टी पूरी कर ली और अपने छोटे भाई हार्दिक के अंदाज में इसे सेलिब्रेट किया.

मैच के बाद उन्होंने कहा, ‘मैं जानता था कि बॉल बैट पर नहीं आ रही है. इसलिए मैंने अपना स्पॉट चुना और सही बॉल का इंतजार किया.’


क्रुणाल के बारे में 5 बातें

1

मैगी खाकर करते रहते थे प्रैक्टिस

क्रुणाल पांड्या और हार्दिक पांड्या भाई हैं. क्रुणाल 25 साल के हैं, हार्दिक 22 के. दोनों साधारण परिवार से हैं. 1999 में उनके पिता हिमांशु पांड्या बड़ौदा आ गए थे. बहुत छोटे स्केल पर कार फाइनैंसिंग का काम शुरू किया, लेकिन ज्यादा आमदनी नहीं होती थी. अपने बेटों के क्रिकेटीय हुनर पर भरोसा था. इसलिए जैसे तैसे उन्हें किरण मोरे की एकेडमी में दाखिल करा दिया. एक अखबार को इंटरव्यू में हार्दिक ने बताया कि कैसे वह और क्रुणाल मैगी खाकर पूरा दिन मैदान पर बिता देते थे.

2010-11 में उनके पिता को हार्ट अटैक आया. घर में कमाने वाले वो इकलौते शख्स थे. तब 20 साल के क्रुणाल ने तय किया कि एक ही चीज उन्हें और उनकी फैमिली को बेहतर जिंदगी दे सकती है. वो है क्रिकेट. दोनों भाइयों ने जान लगा दी.

कृणाल, हार्दिक. Photo: BCCI
क्रुणाल, हार्दिक. Photo: BCCI

शुरुआती दिनों में दोनों भाई 400-500 रुपये कमाने के लिए पास के गांव में क्रिकेट खेलने जाते थे. क्रुणाल ने बताया, ‘गांव का नाम था पालेज.’ हर मैच के 400-500 रुपये मिल जाते थे. क्रुणाल के मुताबिक, वो दिन नहीं होते तो आज के दिन भी नहीं होते.

2

भाई से 20 गुना महंगे बिके क्रुणाल

2015 IPL की नीलामी पांड्या परिवार के लिए खुशियां लाई. हार्दिक पांड्या को मुंबई इंडियंस ने उनके बेस प्राइज 10 लाख रुपये में खरीदा. तब तक क्रुणाल के हुनर से ज्यादा लोग वाकिफ नहीं थे. फिर भी मुंबई ने उन्हें हार्दिक के मुकाबले 20 गुना ज्यादा कीमत में खरीदा. यानी 2 करोड़ रुपये.

उस दिन क्रुणाल 10:30 बजे प्रैक्टिस पर निकले और 3:30 बजे घर लौटे थे. तब तक उन्हें खरीदा नहीं गया था. घर पर सब लोग साथ बैठे थे. जब उनका नाम आया और बोली बढ़ती गई तो यह हैरानी भरी खुशी का मौका था. क्रुणाल कहते हैं, मैं तो खुशी से चिल्ला रहा था.

3

छुटके से 9 दिन बाद किया डेब्यू

क्रुणाल हार्दिक से दो साल बड़े हैं, लेकिन T20 डेब्यू हार्दिक का पहले हुआ. हार्दिक ने 17 मार्च 2013 को मुंबई के खिलाफ पहला डोमेस्टिक T20 मैच खेला. बैटिंग नहीं आई. 3 ओवर गेंदबाजी की, 22 रन दिए. कोई विकेट नहीं मिला.

क्रुणाल का डोमेस्टिक T20 डेब्यू इसके 9 दिन बाद हुआ. 26 मार्च 2013, बंगाल के खिलाफ. 2 ओवर फेंके, 15 रन दिए. 11 बॉल में 12 रन बनाकर आउट हो गए.

फ्लाइट में भाई के कंधे पर सो गए हार्दिक. Photo: BCCI
फ्लाइट में भाई के कंधे पर सो गए हार्दिक. Photo: BCCI

दोनों भाई घरेलू क्रिकेट में बड़ौदा की टीम से खेलते थे. इत्तेफाक है कि टीम इंडिया के भाइयों की दूसरी जोड़ी इरफान पठान-यूसुफ पठान भी इसी टीम से ताल्लुक रखती है. अगर क्रुणाल कभी इंटरनेशनल टीम में चुने जाते हैं तो दो भाइयों की जोड़ी देने का गौरव बड़ौदा के पास होगा. क्रुणाल अपने छोटे भाई के कॉन्फिडेंस और मेहनत के मुरीद हैं और कहते हैं कि उससे बहुत कुछ सीखता रहता हूं.

4

IPL से पहले एक साल तक मैदान से दूर थे क्रुणाल

IPL में चुने जाने से पहले क्रुणाल करीब एक साल तक क्रिकेट के मैदान से दूर थे. साहिर मुश्ताक अली ट्रॉफी में सौराष्ट्र के खिलाफ उन्होंने आखिरी मैच खेला था. इसकी वजह उनके कंधे की चोट थी. जिसकी उन्हें सर्जरी करानी पड़ी थी.

5

हरफनमौला परफॉर्मेंस

क्रुणाल लेफ्ट हैंड अटैकिंग बैट्समैन और लेफ्ट आर्म स्पिनर हैं. उन्होंने सिर्फ 26 T20 और 4 लिस्ट A मैच खेले हैं. 26 T20 मैचों में उन्होंने 400 रन बनाए हैं और दिल्ली के खिलाफ 86 रन की पारी उनका निजी बेस्ट स्कोर है. बीसमबीस मैचों में उनका स्ट्राइक रेट 165 का रहा है. गेंद से भी उनकी परफॉर्मेंस काबिले-गौर रही है. 22 विकेट लिए हैं, 21.22 के ऐवरेज से. इकॉनमी 6.41. बेस्ट बोलिंग फिगर है 25 रन देकर 3 विकेट.

कृणाल. Photo: BCCI
क्रुणाल. Photo: BCCI

क्रुणाल पांड्या ने अपनी इनिंग  में बॉटम हैंड और ताकत का बढ़िया इस्तेमाल किया. जो शॉट टाइम नहीं हुए, वे भी बाउंड्री पार गए. T-20 क्रिकेट में और चाहिए भी क्या होता है. एक इनिंग्स के बेस पर टीम इंडिया में  किसी की जगह के बारे में बात करना थोड़ी जल्दबाजी होगी. लेकिन IPL में ऐसी एकाध पारी और खेल दें तो क्रुणाल को नजरअंदाज करना मुश्किल होगा.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

हीरो की हिंसा और शोषण को सहने वाली बेवकूफ नायिकाएं

हमें क्रोध और हिंसा क्यों रोमैंटिक लगते हैं?

नौकरानी, पत्नी और 'सेक्सी सेक्रेटरी' का 'सुख' एक साथ देने वाली रोबोट से मिलिए

ब्लॉग: हमारे कुंठित समाज को टेक्नोलॉजी का तोहफा.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.