Submit your post

Follow Us

'पापा को बताना चाहती हूं कि मेरी बॉडी पर कटे के 12 निशान हैं'

1.21 K
शेयर्स

एक ऐबस्ट्रैक्ट ख्याल: नसें काट लेना आसान होता है. लेकिन इन साबुत नसों के साथ रात-दिन जी पाना बहुत मुश्किल होता है.

पापा घर आए हुए हैं. कहते हैं कि मैं चिड़चिड़ी हो गई हूं. वैसी नहीं रही, जैसी उनकी बिटिया बचपन में हुआ करती थी. उनकी आंखों में मेरे लिए डर दिखने लगा है. डर कि मैं वो नहीं हूं जिसे उन्होंने जाना था. मैं वो नहीं हूं जिसे वो स्कूल छोड़ने जाते थे. मैं वो नहीं हूं जो उनसे खूब लड़ती थी. शायद वो किसी अजनबी के घर में हैं. हम दोनों की फीलिंग बहुत म्यूच्युअल है.

मैं अब चुप रहती हूं. या तो सोती हूं. या ऑफिस चली जाती हूं. हम अब भी बहुत बातें करते हैं. मोहल्ले की. मां की. बाकी रिश्तेदारों की. जब से वो आए हैं, मैं उनके ऊपर हाथ रखकर ही सोती हूं.

बड़ी-बड़ी कोई भी चीज़ नहीं बदली. लेकिन छोटी-छोटी बहुत सारी चीज़ें बदल गई हैं.

मां से ज्यादा मैं पापा से क्लोज रही हमेशा. हम बेस्ट फ्रेंड्स हुआ करते थे. मेरी हर छोटी-छोटी बात, मेरी हर ज़रूरतें. मेरी परेशानियां. सब के लिए मेरे पापा. उनसे ही लड़ती थी. उन्हें ही मनाती थी. हमारे बीच कभी कोई बड़ी लड़ाई नहीं हुई.

मैंने पापा को हमेशा आइडियलाइज़ किया. हमेशा उनके जैसा बनना चाहा. स्ट्रॉन्ग, फनी, जिंदगी के हर पल को एन्जॉय करने वाला इंसान. जो खुद भी खुश रहता है, सबको हंसाता रहता है. बच्चों-सा साफ़ दिल. बहुत कोशिश की. कई सालों तक मैं भी वैसी ही रही. हर मौके के लिए अलग मुखौटे भी जमा कर लिए थे मैंने. फिर एक दिन कुछ हुआ. कुछ ऐसा कि मुझे मेरे सुपरहीरो पापा एक आम इंसान लगने लगे. उनकी वे कमियां दिखने लगीं जो हर किसी में होती हैं. अंधभक्ति छूट रही थी. मैं इसके लिए तैयार ही नहीं थी. डिल्यूजन में जीना हमेशा आसान होता है. ‘इग्नोरेंस इज़ अ ब्लिस.’ पापा भी इंसान थे. हम सब के जैसे. स्ट्रांगेस्ट वो आज भी हैं. लेकिन वो बूढ़े हो रहे हैं. एक दिन शायद वो मर जाएंगे. मेरी हिम्मतें टूट गईं. 

मैं सुबह सुबह ऑफिस चली जाती हूं. नहीं पता कि मेरे दस बाय दस के घर में पापा पूरे दिन क्या करते हैं. दिनभर में कई दफे मन करता है कि मैं फ़ोन करके उनसे पूछ लूं कि खाना खाया या नहीं. कहीं घूमने गए क्या. किसी पुराने दोस्त से मिले. कुछ भी. पर मैं नहीं फ़ोन नहीं करती. देर रात जब मैं घर आती हूं. पापा उनींदे से बैठे रहते हैं. खाने पर मेरा इंतज़ार करते हुए. मैं रोज़ उनसे कहती हूं. आप खा लिया करिए, मुझे बहुत देर हो जाती है. वो रोज़ मुझसे कहते हैं. कल से. खाना खाते हुए मैं उनको चोर निगाहों से बार बार देखती हूं. एक सांस में पूरा ग्लास पानी उड़ेल लेने वाले बच्चे में मैं अपने पापा ढूंढती हूं. हम दोनों पहले कुछ देर तक चुपचाप खाना खाते हैं. फिर मैं पूछती हूं, आज पूरे दिन क्या किया? उनका चेहरा एकदम से चमक जाता है. जैसे किसी बहुत टफ क्वेश्चन पेपर में एक ऐसा सवाल आ जाए जिसका जवाब उनको आता है. बताते हैं कि आज तुम्हारे शेल्फ से निकाल कर ये वाली बुक पढ़ी. थोड़ी सफाई की. मार्केट तक हो कर आया. यहां पर आम बिलकुल इलाहाबाद वाले रेट में मिल रहे हैं. पड़ोस वाला धोबी भी यूपी का है.

सारा दिन अकेले रहने के बाद जब कोई बात करने को मिल जाता है. इंसान अपनी पेशाब का रंग भी उसको बताना चाहता है.

मैं उनको देखती रहती हूं. बीच-बीच में फ़ोन का लॉक खोलती बंद करती हूं. जितना उस वक़्त में मैं चाह रही होती हूं कि पापा बोलते रहें. उतना ही उस वक़्त मैं उस जगह से भाग जाना चाहती हूं. मैं उनसे ये ऊपरी बातें नहीं करना चाहती.

मैं उन्हें बताना चाहती हूं कि मेरे पूरे जिस्म पर कुल 12 कटे के निशान हैं. मैं बताना चाहती हूं कि जब चोट लगती है तो मम्मी या पापा कोई भी याद नहीं आता. मैं बताना चाहती हूं कि आपने कभी मुझे नहीं मारा इसलिए मैं जानती ही नहीं थी कि कोई हाथ उठाए तो कैसा लगता है. मैं बताना चाहती हूं कि मेरी नाक पर और आंखों के नीचे जो चोट के निशान हैं. उन्हीं की वजह से मैं दो साल पहले होली पर घर नहीं आई थी.

मैं बताना चाहती हूं कि मैं अन्दर से बहुत पहले ही मर चुकी हूं. कुछ भी महसूस नहीं होता अब मुझे. बहुत मुश्किल है ये मेरे लिए. अपने खुद के वज़न को ढो पाना. बड़ी महनत से खुद को हर रोज़ सुबह जिंदा रहने की वजहें देती हूं.

शायद उनके अन्दर भी ऐसा बहुत कुछ होगा जो वो मुझे बताना चाहते होंगे.

उनकी आंखों में जेन्युइन चिंता दिखती है जब मैं एक घंटे बाद वॉशरूम से बाहर निकलती हूं. मेरी सूजी लाल आंखें उनको भी दिख जाती हैं. लेकिन हम इस बारे में कभी बात नहीं करते. पापा पूछने लगते हैं कि मेरे घर से करोल बाग जाने का रास्ता क्या है. अभी दो दिन पहले उन्होंने पूछ लिया कि मैं ठीक तो हूं ना. कहते हैं, अगर कोई प्रॉब्लम है तो मैं उनसे शेयर करूं. उनकी बातें सुन कर मेरा वात्सल्य जाग जाता है. दुलार आ जाता है उन पर. ऐसा लगता है कोई बच्चा अपनी मां से उसकी उदासी की वजह पूछ रहा है. मां नहीं बता सकती. क्योंकि बच्चा अभी बहुत छोटा है मां की परेशानियां समझने के लिए. मेरे पापा भी बहुत छोटे हैं उम्र में मुझसे. बहुत मासूम हैं. मैं उनसे उनकी मासूमियत नहीं छीनना चाहती. शायद यही रीज़न है कि मैं उनको अपनी दुनिया में आने ही नहीं देना चाहती. वो खूब बोलते हैं. एक से एक जोक्स मरते हैं. जोकरों जैसी हरक़तें करते हैं. हम खूब हंसते हैं.

रोल बदल गए हैं. वो बिलकुल छोटे से बच्चे हो गये हैं. मैं उनकी मां हो गयी हूं. अब शायद वो मुझे आइडियलाइज़ करते हैं. बहुत सारी चीज़ें वो देख कर भी नहीं देखना चाहते. क्योंकि उनको डर है कि उनकी ये अंधश्रद्धा ना टूटे. बेहतर है कि अब हम 12 महीने साथ में नहीं रहते.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

कैसे डिज्नी-मार्वल और सोनी के लालच के कारण आपसे स्पाइडर-मैन छिनने वाला है

सालों से राइट्स की क्या खींचतान चल रही है, और अब क्या हुआ जो स्पाइडर-मैन को MCU से दूर कर देगा.

इस्मत लिखना शुरू करेगी तो उसका दिमाग़ आगे निकल जाएगा और अल्फ़ाज़ पीछे हांफते रह जाएंगे

पढ़िए मंटो क्या कहते थे इस्मत के बारे में, उन्हीं की कलम से निकल आया है.

वो रेल हादसा, जिसमें नीलगाय की वजह से ट्रेन से ट्रेन भिड़ी और 300 से ज्यादा लोग मारे गए

उस दिन जैसे हर कोई एक्सिडेंट करवाने पर तुला था. एक ने अपनी ड्यूटी ढंग से निभाई होती, तो ये हादसा नहीं होता.

'मेरी तबीयत ठीक नहीं रहती, मुझे नहीं बनना पीएम-वीएम'

शंकर दयाल शर्मा जीके का एक सवाल थे. आज बड्डे है.

गुलज़ार पर लिखना डायरी लिखने जैसा है, दुनिया का सबसे ईमानदार काम

गुलज़ार पर एक ललित निबंध.

जब गुलजार ने चड्डी में शर्माना बंद किया

गुलज़ार दद्दा, इसी बहाने हम आपको अपने हिस्से की वो धूप दिखाना चाहते हैं, जो बीते बरसों में आपकी नज़्मों, नग़मों और फिल्मों से चुराई हैं.

...मन को मैं तेरी नज्में नज़्में रिवाइज़ करा देता हूं

उनके तमाम किरदार स्क्रीन पर अपना स्कैच नहीं खींचते. आपकी मेमोरी सेल में अपना स्पेस छोड़ जाते हैं.

जब केमिकल बम लिए हाईजैकर से 48 लोगों को बचाने प्लेन में घुस गए थे वाजपेयी

कंधार कांड का वो किस्सा, जो लालजी टंडन ने सुनाया था.

शम्मी कपूर के 22 किस्से: क्यों नसीरुद्दीन शाह ने उन्हें अपना फेवरेट एक्टर बताया

'राजकुमार' फिल्म के गाने की शूटिंग के दौरान कैसे हाथी ने उनकी टांग तोड़ दी थी?

'मैं नहीं कहता तब करप्शन अपवाद था, पर अब तो माहौल फ़िल्म से बहुत ब्लैक है': कुंदन शाह (Interview)

आज ही के दिन 12 अगस्त, 1983 को रिलीज़ हुई थी इनकी कल्ट 'जाने भी दो यारो'.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.