Submit your post

Follow Us

भारत-पाक के उस मैच के बाद हमारी हॉकी तबाह हो गई

एशियन गेम्स दिल्ली में हॉकी का भारत-पाक फाइनल. प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने राजीव गांधी और बूटा सिंह के ज़रिए टीम को पैगाम पहुंचाया था कि हमने अब तक 7 गोल्ड जीते हैं वो हॉकी गोल्ड के आगे कुछ नहीं हैं. मैच की पूर्व संध्या पर बड़े-बड़े लोग आकर टीम को कह रहे थे – देश की इज्जत दांव पर लगी है. मैच के दिन कई मंत्रियों, मुख्यमंत्रियों समेत इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, बूटा सिंह मौजूद थे. आमतौर पर शुक्रवार को पाकिस्तान और मंगलवार को भारत के लिए शुभ समझा जाता है. हालांकि भारत ने शुक्रवार को भी मैच जीते हैं लेकिन ये अंधविश्वास दिमाग पर पूरा असर डालता था उन दिनों. पर उस दिन बुधवार था दिल्ली की सर्दियों की खुशनुमा धूप, 1 दिसंबर 1982. ये वो दिन था जब भारत की हॉकी ने क्रिकेट के लिए अपनी जगह छोड़ दी.

मैच से पहले ही माहौल खेल का नहीं युद्ध का सा हो गया था. भारत में टीवी तब तक ब्लैक एंड व्हाईट था लेकिन दिल्ली एशियन खेलों के साथ भारत में पहली बार टीवी रंगीन हुआ था. लोग आकाशवाणी पर हॉकी की कॉमेंट्री चौराहों और चाय की दुकानों पर झुंड बनाकर सुनते थे.

इन खेलों के साथ ही भारत में रंगीन टीवी आया
इन खेलों के साथ ही भारत में रंगीन टीवी आया

भारत-पाकिस्तान मैच शुरू होता है. मैच से पहले शुभ स्वागतम् और अमिताभ बच्चन की बुलंद आवाज़ में ‘हम इस उत्सव में आप सभी का स्वागत करते हैं…’ की गूंज आज तक कई लोगों के कानों में गूंज रही होगी. शुभंकर अप्पू के साथ मैच से पहले भारत के खिलाड़ियों को राष्ट्रपति से मिलवाया गया. माहौल ऐसा हो गया था कि कोच बलबीर सिंह को भी खिलाड़ियों से कहना पड़ा – इज्जत दांव पर है लड़कों. खेल शुरू होने से पहले ही भारत की टीम सुपर-प्रेशर में थी.

भारत की शुरूआत शानदार हुई. और 4थे ही मिनट में सईद अली स्ट्राकिंग सर्कल में, ज़फर इकबाल के पास गेंद और गोल ! गोल ! गोल भारत 1-0 पाकिस्तान. नेशनल हॉकी स्टेडियम में 27000 दर्शकों की चिंघाड ऐसी थी कि आवाज़ जनपथ और कनॉट प्लेस तक पहुंची.

अगले 6 मिनट तक भारत इस सनसनीखेज़ हॉकी को देखकर पागल की तरह झूमता रहा. 10वें मिनट में हनीफ खान, मंज़ूर और कलीमुल्लाह ने गोल कर दिया और कुछ ही देर में स्कोर हो गया भारत 1-3 पाकिस्तान. इंदिरा गांधी के चेहरे पर तनाव साफ झलक रहा था. चौथा गोल होते ही प्रधानमंत्री ने मैच देखना छोड़ दिया. प्रधानमंत्री ही नहीं बल्कि 27000 लोगों में से 20000 लोग मैच खत्म होने से पहले ही बाहर आ गए. हाफ टाइम पर स्टेडियम के बाहर और पूरी दिल्ली में मातम सा माहौल था.

भारत कोई इतना खराब नहीं खेला था, कुल 10 पेनल्टी कॉर्नर मिले थे लेकिन एक भी गोल नहीं कर पाए. मैच में 2 गोल ऐसे थे कि जो गोल नहीं थे लेकिन कीवी अंपायर ने पाकिस्तान को गोल दे दिए थे.

उम्मीदों का दबाव कैसे तबाह करता है इसका क्लासिक उदाहरण है ये मैच. मैच से ठीक पहले एस एस सोढी की जगह बीमार राजिंदर सिंह को खिलाया गया. राजिंदर सिंह ने कुछ ही दिनों पहले पाकिस्तान के खिलाफ मैच जिताऊ खेल खेला था. ये सोचकर दवा वगैरह देकर मैदान पर फिट तो छोड़िए बीमार होने के बाद भी उतार दिया गया. कोच बलबीर सिंह जूनियर और मैनेजर बलबीर सिंह सीनीयर के लिए भी लोगों ने ये मैच युद्ध जैसा बना दिया था. एक के बाद एक रणनीतिक गलतियां होती चली गईं.

कहा तो ये भी जाता है कि खुद प्रधानमंत्री ने 1-3 होते ही गोलकीपर मीररंजन नेगी को बदलने के लिए कहा था, लेकिन राजीव गांधी ने जवाब दिया कि हम टीम और कोच के फैसलों में हस्तक्षेप नहीं कर सकते. इस मैच की हार का सारा ठीकरा मीर रंजन नेगी के सिर पर ही फूटना था. हुआ ये था कि मैच की शुरूआत से पहले शिष्टाचारवश भारत-पाकिस्तान के सभी खिलाड़ी हंसी-बात कर रहे थे. मीररंजन नेगी को भी ऐसे ही बात करते दिखाया गया. लोगों ने स्कोरलाइन देखकर समझा कि इसने तो मैच फिक्स कर लिया है. मैच के दौरान ही भीड़ ने मां-बहन की गालियां देनी शुरू कर दी.

मैच खत्म हुआ भारत 1-7 पाकिस्तान. ये मैच ही खत्म नहीं हुआ बल्कि इस स्कोरलाइन के साथ भारत की हॉकी भी तबाह हो गई. भारत ने रजत पदक जीता था लेकिन किसी भी खिलाड़ी की देर शाम तक स्टेडियम छोड़ने की हिम्मत नहीं हुई. रात को खेल गांव जाते वक्त जिस कार में मीर रंजन नेगी थे उसे 50 लोगों ने घेर लिया. तब योकिम कार्वाल्हो ने आकर नेगी को बचाय़ा था. कुछ दिन बाद पंडारा रोड पर नेगी अपने कुछ साथियों के साथ एक होटल में खाना खा रहे थे वहां भी लोग जान से मारने के लिए पहुंच गए. कई कई बार नेगी को भागकर जान बचानी पड़ी. और तो और बिजली बोर्ड के कुछ लोगों ने शादी के दिन मीर रंजन नेगी के घर की लाइट काट दी. शादी-समारोह स्कूटरों और कारों की रौशनी में संपन्न हुआ. ‘चक दे इंडिया’ में शाहरूख खान का रोल इन्हीं से प्रेरित था.

एक अखबार ने तो ये भी छाप दिया कि रीता बहुगुणा जोशी के पिता हेमवतीनंदन बहुगुणा और मीर रंजन नेगी रिश्तेदार हैं और बहुगुणा ने राजीव गांधी को बदनाम करने के लिए नेगी को पैसे दिए थे. नेगी और बहुगुणा में इतनी ही रिश्तेदारी थी कि दोनों गढ़वाल के थे.

इस मैच के कुछ ही दिनों बाद भारत ने एसांडा कप के पहले ही मैच में पाकिस्तान को 2-1 से हराया. उन दिनों क्रिकेट की तरह नियमित तौर पर हॉकी के मैच होते थे. लेकिन वो घाव कभी नहीं भरे. इसी दौरान भारत ने पहले क्रिकेट वर्ल्ड कप और फिर बेंसन एंड हेजेज ट्रॉफी जीतकर तहलका मचा दिया. फिर 1987 में क्रिकेट का वर्ल्ड कप भारत में ही आयोजित हो गया. तब तक लोग हॉकी देखना-सुनना भूल चुके थे.

राजिंदर सिंह सीनियर कुछ खुशकिस्मत रहे. हॉकी के सबसे शानदार मैचों में से एक 2003 चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी के मैच में भारत 1-4 से पिछड़ कर 7-4 से जीता था. उस मैच में राजिंदर कोच थे. लेकिन मैच के बाद कहा वो घाव नहीं भरेगा. 2010 हॉकी वर्ल्ड कप दिल्ली के मैच में भी भारत ने पाकिस्तान को हराया.

srijesh

वो घाव भरा इंचॉन एशियाड 2014 में केरल की चट्टान गोलची श्रीजेश के दमदार प्रदर्शन की बदौलत भारत ने पाकिस्तान को पेनल्टी शूट आउट में हराकर सोना जीता. लेकिन तब तक 32 साल हो चुके थे. एक पीढ़ी ने दूसरी पीढ़ी की जगह ले ली. शायद फिर कभी दिल्ली में एशियाड हो, शायद फिर कभी मैच के लिए ऐसा ही माहौल बने औऱ भारत जीते, शायद तब कहीं जाकर इंडिया फिर दिल देगा हॉकी को.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.