Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

पीरियड्स के बारे में मर्द जरूर जानें ये 10 बातें

28.80 K
शेयर्स

“अभी तो गया था! फिर से आ गया?!” सवाल जो आपकी गर्लफ्रेंड या वाइफ के पीरियड्स के साथ हर महीने आपके दिमाग में आता है. उसके पीरियड्स के दिनों आप पूरी कोशिश करते हैं फिर भी उसको खुश नहीं कर पाते. कभी कभार तो एकाध थप्पड़ भी खा जाते हैं. प्यार आप उससे बहुत करते होंगे. आपके प्यार पर शक नहीं. पर हो सकता है आपका तरीका ज़रा गलत हो जाता हो. क्योंकि ‘गर्ल मैटर्स’ की जानकारी आपको ज़रा कम है. तो हम लड़कियों के पीरियड्स पर थोड़ा ज्ञान दे रहे हैं आपको. दोस्त समझकर. एडवाइस तो यही है कि रख लो कायदे में, रहोगे फायदे में.

1. हेल्थ से जुड़ी प्रॉब्लम्स

wailing
सबसे ज़रूरी बात ये है कि पीरियड्स अकेले नहीं आते. पीरियड्स के कुछ दिनों पहले से ही लड़कियों को हेल्थ इशूज़ होने लगते हैं. जैसे पेनफुल पिम्पल और ब्रेस्ट्स में सूजन. पीरियड्स के साथ आ सकता कभी कांस्टीपेशन तो कभी लूज़मोशन्स. और पीरियड क्रैम्प्स हलके हलके खिंचाव से लेकर लेबर पेन जितने भयंकर हो सकते हैं. इसलिए पीरियड्स में लड़कियों को खूब आराम करने दो.

2. चॉकलेट पाकर होती है बच्चों जैसी खुश
eating choclates
सभी नॉर्मल लोगों को चॉकलेट्स पसंद होती हैं. पर पीरियड्स में चॉकलेट खाने की ऐसी इच्छा उठती है कि वो उसके लिए किसी की जान भी ले सकती हैं.

3. मुझे प्यार चाहिए!
need love
मां हो, पापा, गर्लफ्रेंड या बॉयफ्रेंड, सबसे उसको प्यार चाहिए होता है. आप पुचकार के उसे सीने से लगा लें या सर और पीठ को हल्का सा मसाज कर दें, तो मिनटों में आप पर जान लुटाने को राज़ी हो जाएगी.

4. जिद्दी बच्चा बन जाती है 

smoking on bed
​चीख-चीख के रोने और बिस्तर पर पड़े-पड़े अपने मन की चीज़ों की फ़रमाइश करना उसका पीरियड-सिद्ध अधिकार है. वो जिद्दी हो जाती हैं, खासतौर पर उन चीज़ों को लेकर जो पीरियड्स में उसके लिए हार्मफुल हो सकती हैं. जैसे ठंडा पानी या कोक पीना, और सिगरेट फूंकना. और हां. सिगरेट पीना बुरी बात है. हेल्थ मिनिस्ट्री ने बताने को बोला था.

4. जान बचा के भागो!
girl hitting
ये 3-4 दिन ऐसे होते हैं जब उसका पेशेंस लेवल सबसे कम होता है. उसको आपसे कितना प्रेम है, और उसका कौन सा दोस्त सबसे ख़ास है, ये तय होता है उसकी मार से. अपने सबसे करीबी लोगों पर अक्सर झल्ला के उनको या तो अपनी बॉक्सिंग का शिकार बना लेती हैं या कुछ फेंक के मार देती हैं. लेकिन प्यार से. बाद में गिल्ट का शिकार होकर गले भी लग जाती है.

5. शॉपिंग

shopping
हो सकता है वो लोगों में से हों, जिनके दिमाग की गर्मी जेब की गर्मी ख़त्म करने से ख़त्म हो जाती है. जिस बार पीरियड्स महीने की शुरुआत में आ जायें, तो समझो पूरा महीना कंगाली में गुजारेगी. बिस्तर पर टांग पसार कर ऑनलाइन शॉपिंग करना उसे हैप्पी फील कराता है.

6. दाग़ लगने का डर
nightmare
हालांकि ब्लड का स्टेन लग जाना एक बिलकुल नॉर्मल सी बात है. खून बहेगा तो दाग़ तो लगेगा ही. पर पजामों से लेकर बेडशीट को धोने के ख़याल से वो इतना घबराती हैं कि रात को चौंक-चौंक कर उठती रहती हैं.

8. बिस्तर उसका बेस्ट फ्रेंड है
want to sleep
गर्म पानी, चॉकलेट्स, किताबें या अपनी फेवरेट टीवी सीरीज को लेकर बिस्तर में पड़े रहना उसकी हर प्रॉब्लम का सॉल्यूशन है.

9. चाहिए चम बडी
chum buddy
हर लड़की एक चम बडी होता/होती है. इस दोस्त को वो हमेशा घर बुला लेती हैं. दोस्त दूर हो तो उसे फ़ोन कर घंटों दूर होने के लिए गालियां देती हैं. पर अपने मन की बात भी उसी से शेयर करती हैं. और इससे अच्छी बात क्या होगी कि आप ही उसके चम बडी बन जाएं?

10. सेक्स बिहेवियर
want sex
होर्मोन्स में बदलाव आने के कारण इनका सेक्शुअल बिहेवियर एक्सट्रीम हो जाता है. कभी कभी वो अपने प्रेमी को बिस्तर से लात मार के गिरा देती हैं क्योंकि ‘आई जस्ट वांट टू स्लीप’. और कभी कभी आप इतनी एक्स्साईटेड हो उठती हैं कि हर तरह की किंकी चीज़ ट्राय करना चाहती हैं.

( सभी GIFs Giphy से )

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Ten things men should know about girls’ periods

आरामकुर्सी

जिसके नाम पर मारे गए, उस पाकिस्तान में गांधी की क्या जगह है?

पाकिस्तानी इतिहास ने तो जैसे गांधी को 'हिंदू विलेन' की जगह दी हुई है.

जब मशहूर गे एक्टिविस्ट ने महात्मा गांधी को कहा 'हरामज़ादा बनिया'

उस बड़बोले गे एक्टिविस्ट की जुबान फिसली नहीं थी, वो यही सोचता था.

इस आदमी ने करवाया आज़ाद भारत पर पहला मिलिट्री हमला

बहुत तेजी में थे. सब सुधारना चाहते थे, सब बिगाड़ने के बाद. आज ही के दिन पैदा हुए थे लियाकत अली.

क्या गांधी चाहते, तो भगत सिंह को फांसी से बचा लेते?

क्या गांधी ने भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को बचाने की कोई कोशिश नहीं की?

लता ने पल्लू खोंसा और बोलीं, 'दोबारा दिखा तो गटर में फेंक दूंगी, मराठा हूं'

जानिए लता मंगेशकर के उस रूप के बारे में, जिससे बहुत कम लोग परिचित हैं.

क्या है PM मोदी की पुतिन से 39 हजार करोड़ रुपए की डील, जिस पर ट्रंप नाराज हो सकते हैं

ये डील करने पर भारत को आर्थिक प्रतिबंध तक झेलने पड़ सकते हैं.

हेफनर ने सेक्स को फेमिनिज्म, होमो-सेक्सुअलिटी, एबॉर्शन और इकॉनमी सबसे जोड़ दिया था

'अगर आप जिंदगी पर और खुद पर हंस नहीं सकते तो समझिए कि बूढ़े हो गए.'

क्यों ये साल आमिर खान, अक्षय कुमार, सलमान इनमें से किसी का नहीं एक नन्हीं सी फिल्म 'तुम्बाड' का है?

'तुम्बाड' का ट्रेलर रिएक्शन. वो फिल्म जिसे बनाने के लिए डायरेक्टर को दस साल नरक भोगना पड़ा.

समंदर में अकेले फंसे नौसैनिक अभिलाष को बचाए जाने की कहानी जानकर गला सूख जाता है

जिन हालात में वो थे, उसमें तो कोई आम आदमी निराशा में खत्म हो जाए.

क्यों इब्राहिम मुहम्मद सालेह के चुनाव जीतने पर भारत खुश है

इतना खुश कि नतीजों के ऐलान से पहले ही बधाई दे डाली.

सौरभ से सवाल

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.

ऑफिस के ड्युअल फेस लोगों के साथ कैसे मैनेज करें?

पर ध्यान रहे. आप इस केस को कैसे हैंडल कर रहे हैं, ये दफ्तर में किसी को पता न चले.

ललिता ने पूछा सौरभ से सवाल. मगर अधूरा. अब क्या करें

कुछ तो करना ही होगा गुरु. अधूरा भी तो एक तरह से पूरा है. जानो माजरा भीतर.

ऐसा क्या करें कि हम भी जेएनयू के कन्हैया लाल की तरह फेमस हो जाएं?

कोई भी जो किसी की तरह बना, कभी फेमस नहीं हो पाया. फेमस वही हुआ, जो अपनी तरह बना. सचिन गावस्कर नहीं बने. विराट सचिन नहीं बने. मोदी अटल नहीं बने और केजरीवाल अन्ना नहीं बने.