Submit your post

Follow Us

औरंगज़ेब का वो बेटा, जिसे नाखून और बाल तक कटवाना मना था

कैसा होता होगा औरंगज़ेब का बेटा होना, वो भी तब जब औरंगज़ेब की शादी उस बेटे की मां से उस आदमी ने करवाई थी, जिससे औरंगज़ेब नफरत करता था. शाहजहां ने अपने महत्वाकांक्षी बेटे की शादी कश्मीर के मुस्लिम राजपूत राजा ताजुद्दीन खान की बेटी बेगम नवाब बाई से करा दी थी. औरंगज़ेब पर नवाब बाई का जादू बहुत दिन चल नहीं पाया था.

इनका बेटा हुआ बहादुरशाह प्रथम. 14 अक्टूबर 1643 को पैदा हुआ था. मुगल वंश के छठे बादशाह औरंगज़ेब के कई बेटों में से यही बन पाया था सातवां बादशाह. पर राह इतनी आसान नहीं थी. बाप ने इसके प्यारे दद्दू शाहजहां और मां सबसे नफरत की थी. जब बाप औरंगज़ेब हो, तो नफरत की ताब बढ़ जाती है. वो नोंक-झोंक नहीं रह जाती, हत्या की संभावना मंडराती है सिर पे हमेशा. वैसे बहादुरशाह ने बाप के खिलाफ ठानी भी खूब थी.

बाप के खिलाफ बगावती तेवर

बचपन में नाम था मुअज्जम. दद्दू शाहजहां के राज में लाहौर का नवाब बना था. 20 की उम्र में डेक्कन का गवर्नर बना. उसके सामने सबसे बड़ी चुनौती थी शिवाजी की स्मार्टनेस. 1663 में इसने पुणे पर हमला कर दिया, पर शिवाजी ने इसे पकड़ लिया. सात साल तक ये उनकी कैद में रहा. पर शिवाजी का बेटा संभाजी भी उधर औरंगज़ेब की कैद में था. शिवाजी ने इसको बस पकड़ा था. आराम पूरा दिया था. शिवाजी और औरंगज़ेब की लड़ाई भी बड़ी विचित्र रही है. जब शाहजहां मर गया, तब शिवाजी ने इसे छोड़ दिया था. ये अपने दद्दू को ताजमहल में दफनाने गया.

नवाबी की आदत लग ही चुकी थी. दद्दू ने मन बढ़ा ही दिया था. 1670 में इसने बाप के खिलाफ बगावत कर दी. मराठा लोगों ने भी इसे खूब चढ़ाया था. पर औरंगज़ेब को इसका पता चल गया और उसने इसकी अम्मा को भेज दिया समझाने के लिए. उसके बाद मुअज्जम को बाप की निगरानी में रहना पड़ा. 1680 में इसने फिर ट्राई मारा था. पर पकड़ लिया गया. अबकी बार निगरानी और कड़ी हो गई.

औरंगज़ेब का फरमान हुआ कि नाखून तक नहीं काटना है, पर बादशाह बनना नसीब में लिखा था

1681 में औरंगज़ेब ने इसको डेक्कन भेजा. इसके सौतेले भाई मुहम्मद अकबर के विद्रोह को रोकने के लिये. क्योंकि इसको डेक्कन का एक्सपीरियेंस भी था और बहुत दिन किले में रहने के बाद मन बदलना भी ज़रूरी था. पर ये जान-बूझकर लड़ाई हार गया. 1687 में इसने बड़ा कांड कर दिया. इसको औरंगज़ेब ने भेजा था गोलकोंडा के राजा अबुल हसन को हराने के लिए. पर इसने उससे यारी कर ली. अब औरंगज़ेब गुस्से में भभूका हो गया. इसको फिर पकड़ लिया. इसकी हरम की औरतों को इससे दूर भेज दिया. इसको आदेश दिया कि छह महीने तक ना तो नाखून काटना है, ना ही बाल. अच्छा खाना भी नहीं देना है. किसी से मिलना भी नहीं है. नौकर वगैरह भी छीन लिए गए.

1694 में औरंगज़ेब को इस पर तरस आ गया. इसको फिर से कार्यक्रम समझा के भेजा गया. अबकी पंजाब के राजा गुरु गोविंद सिंह को रोकना था. मुअज्जम ने रोक तो दिया पर औरंगज़ेब के मन मुताबिक नहीं. बातें कर ली, लड़ाई नहीं की. कहा कि मैं सिख धर्म की जेनुइन रेस्पेक्ट करता हूं. उसके बाद इसको अकबराबाद, लाहौर और फिर काबुल का गवर्नर बनाया गया. जहां वो 1707 में अपने बाप के मरने तक रहा.

उस वक्त इसके भाई कामबख्श और आज़म शाह, डेक्कन और गुजरात के गवर्नर थे. सब आगरा की ओर बढ़ चले. पर मुअज्जम ने सबको हरा दिया. आजम शाह को तो मार भी दिया. 19 जून 1707 को मुअज्जम बहादुरशाह प्रथम के नाम से दिल्ली का सातवां बादशाह बना.

अपने मरने तक मुगलिया बादशाहों से अलग नेचर का ही रहा

बादशाह बनने के बाद बहादुरशाह ने आमेर, जोधपुर और उदयपुर को मामूली लड़ाई में अपने राज्य में मिला लिया. उदयपुर वही था, जिसके लिए अकबर ने महाराणा प्रताप से लड़ाई लड़ी थी. वहां के राजाओं को इसने उचित इज़्ज़त भी दी.

कामबख्श ने बहादुरशाह का काम बड़ा खराब किया था. बात-बात में चढ़ बैठता. भाई के समझाने का कोई असर नहीं था इस पर. एक ज्योतिषी ने इससे कह दिया था कि तुम बादशाह बनोगे. इस बात को मानकर वो अपनी ढाई हज़ार की सेना लेकर हिंदुस्तान के बादशाह से लड़ता रहा. तब तक, जब तक कि मर नहीं गया.

फिर सिखों से लड़ने में भी इसका उतना मन नहीं था. राजपूताना की तरह वो यहां भी बात से काम चलाना चाहता था. पर हो नहीं पाया. लड़ना पड़ा. इसी चक्कर में बादशाह फंस भी गया था. लड़ाई छोड़ जान बचाकर भागना भी पड़ा. किसी तरह इधर-उधर कर मामला निपट पाया था.

इसको जो अच्छा लगता कर देता था. खुतबा यानी प्रार्थना का नियम बदल दिया इसने. चौथे सुन्नी और पहले शिया खलीफा अली को इसने वली का खिताब दे दिया. इस बात पर खूब बवाल मचा. इसने भी खूब नाटक किया. खूब दिखाया कि पढ़ रहा हूं. पता करता हूं. ये वो. पर किया वही, जो इसके मन में आया.

1712 में इसकी मौत हो गई. तिल्ली माने लिवर बढ़ने से. आज का ज़माना रहता तो एक टेबलेट खाकर ठीक हो गया होता.


ये स्टोरी ऋषभ ने लिखी है.


वीडियो देखें:

ये भी पढ़ लो:

दिल्ली का वो रंगीला किंग, जो अपनी XXX तस्वीरें बनवाता था

मुगले-आजम आज बनती तो Hike पर पिंग करके मर जाता सलीम

दिल्ली में 22 हज़ार मुसलमानों को एक ही दिन फांसी पर लटका दिया गया!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.