Submit your post

Follow Us

मुझे लगा था दलित बर्तन को छूते हैं तो करंट आता होगा

5.68 K
शेयर्स

भारत में दलितों की स्थिति, आरक्षण, उसे हटाने, न हटाने या रिव्यू करने को लेकर बहुत सारी बहसें चलती हैं. ब्राह्मणवाद, दलित उत्पीड़न, चिंतन, ये, वो. लेकिन ज्यादातर दिल्ली में. मुंबई में. थोड़ा-बहुत राज्यों की राजधानियों में. लेकिन देश के गांवों में आएं तो स्थिति विकट है. वहां गैर-बराबरी वैसे ही बनी हुई है. जैसे मैंने जैसलमेर में या अपने गांव लौद्रवा में रहते हुए आसपास जो चीज़ें देखीं.

हमारे यहां घर बनाने का काम ज्यादातर मेघवाल करते हैं और कुछ घरेलू काम भीलों द्वारा किए जाते हैं. ये दोनों जातियां एससी और एसटी में आती है. उनको गांव की ऊंची जातियों के कहे जाने वाले लोग अपने बर्तन छूने नहीं देते हैं, बराबर नहीं बैठने देते हैं. आजकल अगर कोई शादी में घोड़ी पर बैठता है उनको धमकियां दी जाती हैं. उनको पानी पिलाते हैं तो बिना बर्तन छुआए ऊपर से. मैं छोटा था तो कई बार मुझे भी पानी पिलाने के लिए बोला जाता था.

मैं पानी पिलाते हुए बर्तन उनके हाथों से छू देता था. यह देखने के लिए कि कुछ होता है क्या? मुझे लगता था कि उनके छू लेने से करंट वरंट टाइप का कुछ होता होगा. पर होता तो कुछ नहीं था. मैं हर बार छुआ देता था. वो डर जाते और कहते कि अपने बर्तन मत छुआओ. आपको और मुझे दोनों को डांट पड़ेगी. और गांवों में ये सब अब भी चलता है. कई बार अगर गलती से भील/मेघवाल या पिछड़ी जाति के लोग सवर्ण जातियों का कोई बर्तन छू लेते हैं तो वह उसको वापस नहीं लेते. और उस बर्तन को हमेशा के लिए दलितों को दे दिया जाता है या उनके लिए अलग रख दिया जाता है.

एक और चीज जो मुझे अजीब लगी वो ये कि कथित ऊंची जातियों के लोग ऊपर बैठते हैं और जिन्हें नीची जातियां कहते हैं वो नीचे बैठते हैं. अगर बैठने के लिए कुछ बिछाया गया है तो दलितों को कोने में जहां दरी खत्म होगी वहां जमीन पर बैठाया जाता है. हाल के दिनों में हालात कुछ जगहों पर थोड़े से बदले हैं. मेरे गांव में दलित नॉर्मली सवर्णों के बराबर बैठ जाते हैं. कई बार जब किसी और गांव से रिश्तेदार आए होते हैं तो उनको आश्चर्य होता है. और पूछते हैं ‘ऐ ढे* थांरे बराबर ऊंचा बेसेय. सफाय माथे चाड़े राख्या हो. थे तो ब्हिस्ट हुआ पा.’ (यार, ये दलित तुम्हारे बराबर कैसे बैठते हैं. तुमने तो इनको सिर पर ही चढा रखा है.)

गांव में कोई भी कार्यक्रम हो तो उनको अलग, बाहर बैठाया जाता है. ये मैं किसी पुराने जमाने की बात नहीं बता रहा. 2016 तक का अपडेट है.

एक बार एक सवर्ण लड़के की शादी थी. उसके स्कूल के दोस्त थे कुछ दलित जातियों से. वो भी आए थे. वो बाकी सब मेहमानों के बीच में आकर बैठ गए. जब उन ऊंचे, हवा में रहने वाले सवर्णों को पता चला तो सब वहां से उठकर दूसरी जगह जाकर बैठ गए. अजीब स्थिति हो गई थी. बाद में हिदायत दी गई कि अपने दलित दोस्तों को सवर्ण मेहमानों के बीच नहीं बैठाया जाए. उनके लिए अलग व्यवस्था हो.

स्कूलों में हालात और खराब होते हैं. दलितों को बहुत परेशान किया जाता है. छात्रों को तो किया ही जाता है. अध्यापकों के भी हालात खराब है. गुट बने होते हैं. अध्यापकों पर कमेंट किए जाते हैं. ‘आरक्षण से बन गए मास्टर आता कुछ भी है नहीं’. अगर कोई सवर्ण लड़का किसी परीक्षा में थोड़े नम्बरों से रह जाता है तो वो दलितों से दुश्मनी पाल लेता है. कई बार नौबत मारापीटी तक आ जाती है.

पहले उनसे घरेलू काम करा के शारीरिक प्रताड़ना दी जाती थी. अब मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जाता है. हर जाति को नीचा दिखाने के लिए कुछ नाम रखे जाते हैं. ऑफिसों में सवर्ण उन्हें इन नामों से बुलाकर उनको कमतर साबित करने की कोशिश करते हैं. अगर कोई दलित ऊपर का अफसर है तो सवर्ण कर्मचारी उन्हें पीठ पीछे गालियां देते हैं. और जातिसुचक शब्द बोलते हुए कहते हैं कि ‘आरक्षण की कृपा से अफसर बन गए नहीं तो हमारे खेतों में या घर के काम कर रहे होते.’

गांव के लोग बताते हैं कि पहले सवर्ण और दलितों के बीच कटुता नहीं थी. दलित खेतों और घरों में काम करते थे. सवर्ण उन्हें काम के बदले खाने-पीने का सामान, पशु या धन देते थे. किसी ने एक किस्सा सुनाया था कि एक गांव के राजपूत थे. उनके पास बहुत अच्छा ऊंट था. उनके किसी रिश्तेदार ने ऊंट मांगा तो उन्होंने नहीं दिया. लेकिन जब एक वहीं उनके खेत में काम करने वाले ने मांगा तो उसे दे दिया था. हालांकि मुझे नहीं लगता कि सब जगह हालात ऐसे रहे होंगे. यह किसी एक जगह की कहानी होगी. या कुछ जगहों की.

आज की पीढ़ी के लोग उनसे ऐसे व्यवहार करते हैं जैसे उनका दलितों पर अधिकार हो. अगर कोई दलित काम करने से मना कर दे तो उसके साथ मारपीट कर दी जाती है. गांवों में मैंने देखा है कुछ निठल्ले सवर्ण होते हैं, जिनको कोई काम-धंधा नहीं होता, वो दलितों को तंग करते है. कोई आकर उनकी सेवा कर दे. उनको सामान लाकर दे. उनके खेत की फसल काट दे. या उनके लिए पत्थर तोड़ दे. कुछ वक्त पहले तक दलित महिलाओं के हालात भी अच्छे नहीं थे. उनके साथ आए दिन छेड़छाड़ की घटनाएं होती थीं. लेकिन इस तरह की घटनाएं हाल के दिनों में कम हो गई हैं.

एससी एसटी एक्ट और आरक्षण ने दलितों की स्थिति सुधारने में बहुत बड़ा योगदान दिया है. लेकिन इसका फायदा भी केवल वही लोग उठा पाए हैं जिन तक शिक्षा पहुंची या जो शहरों के नज़दीक रहते हैं. बाकि दूर-दराज के क्षेत्रों में आज भी हालात बदतर है. उनके साथ वैसे ही जानवरों की तरह व्यवहार किया जाता है. भेदभाव और छूआछूत जारी है.


SHAME पर एक निबंध

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.