Submit your post

Follow Us

क्या दिल्ली में एक साथ सारे लोग मर जाएंगे?

5.14 K
शेयर्स

दिवाली के पहले से ही दिल्ली में पॉल्यूशन लेवल बहुत ऊपर था. फिर ऑड-इवन के चक्कर में थोड़ा कम हो गया था. अपन लोगों को लेवल बहुत ऊपर चाहिए. सो, दिवाली के दिन लोगों ने दबा के पटाखे फोड़े. लेवल जरा भी डिप ना हो, इसके लिए दिवाली के दो दिन बाद भी पटाखे फोड़े जा रहे हैं.

मेहनत रंग लाई. सुबह उठे तो आसमान का रंग धूसर हो गया था. ऐसा लगा जाड़े का मौसम आ गया है. पर ठंड नहीं लग रही थी. सिर्फ दिखाई नहीं दे रहा था साफ-साफ. फिर महसूस हुआ कि सांस लेने में भी दिक्कत आ रही है.

जाड़ा नहीं आया है. ये स्मॉग है, जो कुहरे की फील दे रहा है.

पर स्मॉग क्या है?

इस शब्द का इस्तेमाल सबसे पहले लंदन में किया गया था. 1900 के आस-पास. ये शब्द बना है स्मोक और फॉग से. लोगों को लगता था कि फॉग पर धुआं जम गया है. क्योंकि उस वक्त तक ये नहीं पता था कि जो कुहरे जैसा दिखता है वो असल में पॉल्यूटेंट्स का मिक्स्चर है. पहले ये नहीं लगता था कि स्मॉग खतरनाक भी हो सकता है. बारिश या धूप की तरह लगता था. कि अभी है, फिर खत्म हो जाएगा. फिर पता चला कि ये जानलेवा भी है. धीरे-धीरे ये पता चला कि इंसान के चलते ही स्मॉग होता है वायुमंडल में.

जब भी कोई चीज जलाई जाती है, उसमें से धुआं निकलता है. ये धुआं कुछ देर में विलीन हो जाता है. आंखों के आगे. पर असल में इसमें बहुत कुछ होता है. इतने छोटे कण होते हैं कि आंखों से दिखाई नहीं देते. ईंधन या पटाखों में ऐसे कण ज्यादा होते हैं जो जलने के बाद वायुमंडल में ज्यादा देर तक रहते हैं. इसीलिए तो ये ईंधन हैं. जल्दी जलते हैं और देर तक रहते हैं. जब सूरज की रोशनी और गरमी वायुमंडल की गैसों से रिएक्ट करते हैं तो स्मॉग बन जाता है. ये सारे कण आपस में गुत्थमगुत्था होते हुए घूमते रहते हैं. हमारी हर सांस के साथ हमारे फेफड़ों में घुसते रहते हैं.

इनमें बहुत सारे ऑर्गेनिक कंपाउंड होते हैं. माने इनमें कार्बन और हाइड्रोजन होता है. इसीलिए जलते हैं मस्त होकर. सल्फर डाई ऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड भी इसमें होते हैं. ये सारी गैसें ईंधन, इंडस्ट्री से आती हैं. पटाखे रोज तो फूटते नहीं. पर जिस दिन फूटते हैं, काम ये भी कर जाते हैं. जाड़े के महीनों में हवा की स्पीड धीमी हो जाती है. तो धुआं छंट नहीं पाता. एक ही जगह रहता है. इससे देखने में भी परेशानी होती है और सांस लेने में भी. गरमी के दिनों में जब हवा तेज होती है तो ये दिक्कत नहीं आती.

क्या-क्या खतरे हैं इसके?

ये एक साथ इंसान, जानवर और पेड़-पौधों सब को प्रभावित करता है:

1. इसमें ज्यादा देर तक सांस लेने से फेफड़े फूल जाते हैं. सीने में दर्द की शिकायत बनी रहती है. जुकाम और न्यूमोनिया तो होता ही है. सांस की बीमारियों के चलते लोग मर भी जाते हैं.

2. सूरज की रोशनी साफ नहीं पहुंचती. जिससे विटामिन डी की कमी हो जाती है. इसके चलते लोगों को रिकेट्स की बीमारी हो जाती है.

3. आंखों में भी जलन होती है.

4. अस्थमा के मरीजों को तो इससे बच के ही रहना चाहिए. उनके लिए ये मौत का पैगाम ले के आता है. बूढ़े और बच्चे स्मॉग से सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं.

5. आसमान के भी ऊपर जो ओजोन की लेयर है, वो तो सूरज की खतरनाक अल्ट्रॉ-वायलेट किरणों से हमको बचाती है. पर जो जमीन पर ओजोन पैदा होती है वो स्मॉग के साथ मिल जाती है. और ये बेहद खतरनाक होती है. इंसान को तो प्रभावित करती ही है, फल और सब्जियों को भी ध्वस्त कर देती है. गेहूं, टमाटर, सोयाबीन और कॉटन इसके निशाने पर सबसे पहले आते हैं. बहुत सारे ऐसे जीव-जंतु होते हैं, जो ओजोन को झेल नहीं पाते. सूक्ष्म कीड़े-मकोड़े तो खत्म ही हो जाते हैं. मच्छर नहीं. इनको तो वरदान प्राप्त है.

जैसे-जैसे सामान्य मानवी का विकास हो रहा है, नये-नये उद्योग लग रहे हैं, स्मॉग की समस्या बढ़ती जा रही है. शहरी इलाकों में ये समस्या ज्यादा हो जाती है. अगर इसको रोका नहीं गया तो एक दिन ऐसा आएगा कि लोग सांस ले तो लेंगे, छोड़ नहीं पाएंगे. बीच में ही देहांत हो जाएगा. और दिल्ली में ऑड-इवन से मामला सुलझने वाला नहीं. बहुत क्रांतिकारी कदम उठाने पड़ेंगे. कड़े कदम. जिसमें नेता को जनता की गाली खानी पड़ेगी. आमूल-चूल परिवर्तन चाहिए.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.