Submit your post

Follow Us

मोदी का वोट बैंक बनाने वाले श्यामजी कृष्ण वर्मा असल में कॉमरेड थे

जब नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे तब उन्होंने स्विट्ज़रलैंड से श्याम जी कृष्ण वर्मा की अस्थियां मंगवाईं थीं. इस चीज को ‘देशभक्ति वोट बैंक’ ने काफी सराहा था. कहा गया कि जो काम हिंदुस्तान की सरकारें 60 साल में नहीं कर पायीं वो नरेन्द्र मोदी ने तुरंत कर दिया. फिर तुरंत ही हिंदूवादी ग्रुप्स ने श्याम जी को लपक लिया. हिन्दुओं के स्वतंत्रता सेनानी के रूप में उनकी इमेज बनायी जाने लगी. पर श्याम जी एक सेक्युलर और बेहद सुलझे हुए इंसान थे. उस दौर में ब्रिटेन में इंडिया हाउस बनाकर क्रांति की ऐसी नींव रखी थी जो प्रथम विश्व-युद्ध के दौरान ही ब्रिटिश राज को उखाड़ फेंकने का प्लान कर चुका था. ये खतरनाक प्लान हिन्दू, मुस्लिम, सिख सबके सहयोग से तैयार हुआ था. प्लान फेल हो गया. पर श्याम जी ने ग़दर का बिगुल तो बजा ही दिया था. आज श्याम जी का जन्मदिन है. बिगुल तो बजना ही था.

गांधी, लेनिन इस क्रांतिकारी के हॉस्टल को देखने भी आए थे

4 अक्टूबर 1857 को जन्म हुआ था. 1857 क्रांति की कहानी सुन ही बड़े हुए होंगे. बम्बई से स्कूल ख़त्म करके ऑक्सफ़ोर्ड चले गए थे. वहां लंदन में घर खोजते हुए उनको रेसिज्म का सामना करना पड़ा. लोग इंडियन कह लौटा देते थे. पर ये लोग हार मानने वाले थोड़ी थे. श्याम जी ने लंदन में ही इंडिया हाउस बना दिया. इंडियन स्टूडेंट्स के लिए हॉस्टल. और ये हॉस्टल बड़ा ही पॉपुलर हुआ. इस हॉस्टल में गांधी, लेनिन, लाला लाजपत राय, गोपाल कृष्ण गोखले, सावरकर, मदन लाल धींगरा सभी आये थे. भयानक डिस्कशन होता था स्वतंत्रता संग्राम के प्लान को लेकर. इस हॉस्टल ने भारत को कई क्रांतिकारी दिए. इसके पहले 1875 में श्याम जी का कांटेक्ट स्वामी दयानंद सरस्वती से हुआ. दयानंद ने उनको बड़ा प्रभावित किया. उसी दौरान उनको देश भर में घूमने का मौका मिला. काशी के पंडितों के साथ मिलकर इन्होेने 1905 में इंडियन होम रूल सोसाइटी और एक अख़बार The Indian Sociologist शुरू किया.

ब्रिटिशों से विश्वास उठा तो छोड़ दी दीवान की नौकरी

बी. ए. की पढ़ाई के बाद श्यामजी कृष्ण वर्मा 1885 में भारत लौट आये. और वकालत करने लगे. एक दिन रतलाम के राजा ने उनको बुलाया. और कहा ‘आप हमारे यहां दीवान का काम करो.’ फिर श्यामजी वहां दीवान का काम करने लगे. पर ख़राब हेल्थ की वजह से उन्होंने दीवान का काम छोड़ना पड़ा. मुंबई में कुछ वक़्त बिताने के बाद वो अजमेर में बस गए. अजमेर के ब्रिटिश कोर्ट में अपनी वकालत जारी रखी. इसके बाद उन्होंने उदयपुर के राजा के यह 1893 से 1895 तक काम किया और फिर जूनागढ़ राज्य में भी दीवान के तौर पर काम किया लेकिन सन 1897 में एक ब्रिटिश अधिकारी से विवाद के बाद ब्रिटिश राज से उनका विश्वास उठ गया और उन्होंने दीवान की नौकरी छोड़ दी.

मोदी ने धांसू स्ट्रेटेजी तैयार की और वर्मा को भगवा रंग डाला

श्यामजी कृष्ण वर्मा और उनकी पत्नी की राख जिनेवा में सहेज के रखी थी. नरेंद्र मोदी 2003 में जब चीफ मिनिस्टर थे तो जिनेवा गए और वर्मा की राख को वापस भारत लेकर आए. मोदी ने इस तरह से वर्मा की भारत में दफनाए जाने की आखिरी विश पूरी की. मोदी अपने CM के कार्यकाल में श्यामजी कृष्ण वर्मा की अपने भाषणों में खूब चर्चा करते थे. 2010 में मोदी ने मांडवी जहां श्यामजी कृष्ण वर्मा पैदा हुए थे वहां पर क्रांति तीर्थ मेमोरियल भी बनवाया था. इस मेमोरियल हाउस में इंडिया हाउस की नकल भी बनवाई गई थी. वही इंडिया हाउस जो वर्मा ने एक सेंचुरी पहले बनवाया था.

श्यामा प्रसाद मुखर्जी और श्यामजी कृष्ण वर्मा में कंफ्यूज हो जाते हैं मोदी

2003 में भुज की कच्छ यूनिवर्सिटी का नाम भी वर्मा के नाम पर कर दिया गया था. हर साल 4 अक्टूबर को मोदी श्यामजी कृष्ण वर्मा के बर्थडे पर विश किया करते थे. हां बस ये है कि 2014 के चुनावों के दौरान बस मोदी जी ने जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी को मिला दिया था. मोदी बोले थे –

‘जब भारत को 1947 में आजादी मिली. तो नेहरू को जो पहला काम करना चाहिए था कि वो भारत से एक रिप्रजेंटेटिव भेजते जो श्यामा प्रसाद मुखर्जी की अस्थियां लेकर आता. मुखर्जी देश के लिए जिंदगी भर लड़े. पर नेहरू ने ऐसा नहीं किया. ये काम 2003 तक नहीं किया गया था. वो 1930 में ही गुजर गए थे. उनके मरने के 73 साल बाद तक भारत ये काम नहीं कर पाया था. जबकि उसको आजाद हुए भी 50 साल गुजर चुके थे. उनकी अस्थियां भारत आने का इंतजार कर रहीं थीं. PM साहब आपकी पार्टी ने कभी ये काम नहीं किया. बस इतिहास को दबाने की कोशिश की गईं.’

पर सच्चाई तो यहां छिपी बैठी है

जब मोदी 12 नवंबर को यूके की यात्रा पर गए थे तो उन्होंने वहां भी वर्मा की तारीफ की. मोदी के इस कदम का वर्मा को जानने वाले विरोधी करते हैं. वो कहते हैं कि मोदी वर्मा के नाम का प्रयोग कच्छ के इलाके में अपना वोट बैंक बनाने के लिए करते हैं.

मांडवी के श्यामजी कृष्ण वर्मा सोशल सेंटर के चेयरमैन रहे सुरेंद्र ढोलकिया ने एक प्रेस कांफ्रेस रिलीज के दौरान कहा था,

‘भले ही मोदी का 2003 उठाया गया कदम वर्मा की लिगेसी को कब्जाने और एक मिलिटेंट हिंदू के रूप में पेश करने की कोशिश हो पर वर्मा बड़े पैमाने पर एक सोशलिस्ट और सेक्यूलर थे. गुजरात के लोगों को ये जान लेना चाहिए कि श्यामजी सेक्यूलर, डेमोक्रेटिक और नॉन-फासिस्ट इंडिया चाहते थे. संघ परिवार ने उनके रूप में बस एक फ्रीडम फाइटर पाया और उसे अपने रंग में रंगने लगे. न ही वर्मा संकुचित देशभक्त थे और न ही हिंदू एक्स्ट्रीमिस्ट. फिर भी संघ परिवार उन्हें भुनाने में लगा है.’


ये भी पढ़ें –

इनके चलते हो गया हिंदी और उर्दू का ब्रेक-अप

Video: करण जौहर ने डीडीएलजे से भी पहले इस टीवी शो में एक्टिंग की थी

भारत में बोलने की आजादी के ये 8 खतरे बताए रामचंद्र गुहा ने

वो 30 साल जेल में रहा और कोई पाकिस्तानी पॉलिटीशियन जिसे देखना नहीं चाहता था

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.