Submit your post

Follow Us

फेसबुक से हमारा ये वाला डेटा उड़ाया जा रहा है!

नोट- ये लेख 27 दिसंबर 2016 को लिखा गया था. खबर आई थी कि सरकार फेसबुक से डेटा खरीदने जा रही है. अब पता चला है कि किसी कैंब्रिज एनेलिटिका ने फेसबुक से डेटा पार कर दिया. हमारे डेटा में क्या है, पढ़ लो. 

जकरबर्ग पूरा बिन्निस माइंड आदमी है. एक तीर से कितने शिकार करके रखता है ये न शिकार को पता होता है न तीर को. हम तुम जो फेसबुक पर सारा दिन श्रमदान करते हैं. लेंसकार्ट से लेकर खाने की दुकान का प्रचार करते हैं. ये सारा डेटा उठाकर बेच देता है. और मौज उड़ाता है. नै इसमें बुराई की बात नहीं है. जो है सो हइये है. मेन बात ये है कि हमारी सरकार ये डेटा खरीदने के जुगाड़ में है. जकरबर्ग हमसे भी पैसा ऐंठेंगे, सरकार से भी.

लेकिन ये गलती जकरबर्ग की नहीं, सरकार की है. वो जकरबर्ग से मांगने गई ही क्यों. अरे हमसे ज्यादा सगा है क्या वो आदमी. देश के लिए हम लाइन में लग सकते हैं. वहां बॉर्डर पर हमारे सैनिक लगे हुए हैं. हम देश के लिए अपना कीमती डेटा भी नहीं दे सकते. अरे वो हमसे एक बार कहें तो. हम पूरा डेटा एक्सेल शीट पर बनाकर दे देते हैं.

मार्क जकरबर्ग को कायदे से कानून समझाते कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद
मार्क जकरबर्ग को कायदे से कानून समझाते कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद

आपको क्या लगता है सरकार? क्या करते हैं हम फेसबुक पर? मुझसे सुनो. मैं अपने बॉस का बैग लादकर नखलऊ के अमौसी एयरपोर्ट तक छोड़ने गया था. वहां अंदर जाकर तीन चार धाकड़ सेल्फी खींचीं और प्लेन वाला साइन बनाकर डाल दिया. ट्रैवेलिंग टू गोवा. वापस लौटकर आया. ऑफिस से छुट्टी ले ली थी. घर जाकर कपड़े धोए. बाहर तार पर टांगे. फिर पेट में चूहे कूदने लगे तो जाकर ठेले पर से सड़ी सी 20 रुपए वाली चौमिंग खा ली. ये है मेरा डेटा.

हमारे रूममेट का डेटा भी दे देता हूं. अरे नहीं तकल्लुफ की कोई बात नहीं. वो इत्ता इंपॉर्टेंट आदमी नहीं है कि कुछ हाइली कॉन्फिडेंशियल माल हो उसके पास. देवदत्त नाम है उसका. सन 2010 से वो फेसबुक पर है. तबसे अब तक क्या क्या किया, अभी जान लो. वो पहले तो एक-दो महीने पर इधर आता था. कभी गीले रंगों से होली खेलती लड़कियों की तस्वीर डाल देता. कभी आयशा टाकिया का खास एंगल से खींचा फोटू. लेकिन लाइक वाइक नहीं आते थे भाईसाब. झूठ काहे कहें. उसके बाद काफी टाइम तक फिल्मी गाने और शेरो शायरी रोमन हिंदी में लिखता था. तब भी कुछ खास नहीं होता था. उसकी लोकप्रियता में उछाल तब आया जब उसने गुड मॉर्निंग की पोस्ट के 2 घंटे बाद 1001 ओम लिखकर पोस्ट किए. और नीचे लिख दिया, इसे शेयर करो. अच्छी खबर मिलेगी. अच्छे शेयर और लाइक हो गए. फिर ये रोज का काम हो गया. कभी पीपल के पत्ते से बने गणेश कभी गाड़ी के बोनट में चिपके भोले भंडारी की तस्वीर पोस्ट करता था. इसमें से कुछ डेटा अभी मौजूद होगा. लेकिन पहले वाला उसने मिटा दिया है. तो सरकार को मिटे हुए डेटा से कोई मतलब नहीं होगा.

दीपक भैया मेमे वाले. जकरबर्ग इनका डेटा निकाल ले तो उसकी यूगोस्लाविया में सरकार बन जाए
दीपक भैया मेमे वाले. जकरबर्ग इनका डेटा निकाल ले तो उसकी यूगोस्लाविया में सरकार बन जाए

सबसे बड़ा परिवर्तन सन 2013 में आया. जब लोकसभा चुनाव होने को थे. हमारे हर दोस्त ने अपने पाले चुन लिए थे. देवदत्त ने कमल वाला झंडा उठाया. उसके बाद से आज वो एक क्रांतिकारी के तौर पर एस्टैब्लिश हो चुके हैं. हर पोस्ट के तीन-चार हजार शेयर रहते हैं. नीचे तमाम चेले चपाटे वाह गुरू वाह गुरू लिखकर कमेंट कर जाते हैं. फेसबुक पर बड़े फेमस हैं. लेकिन बाजार में बैठा सब्जी वाला उनको नहीं जानता. धनिया मांगा तो कह दिया ये दान देने के लिए नहीं है दत्तू बाबू. वो उनका पर्सनल मैटर है. हम फेसबुक की बात करें. और उसके डेटा की. तो आज की डेट में उनकी पांच हजारी फ्रेंड लिस्ट से ऊपर करीब 27 हजार फॉलोवर्स हैं. इतनी फैन फॉलोविंग को देखते हुए उन्होंने अपना पेज भी बनाया लेकिन उसको टाइम नहीं दे पा रहे. क्योंकि व्हाट्सऐप से ज्ञानवर्धन भी करना रहता है.

इसी तरह सारे दोस्त काम से लगे हैं. विनीत बाजपेई अभी भी वही कर रहे हैं जो तीन साल पहले करते थे. पान की दुकान पर बैठकर, जामुन से पेड़ पर चढ़कर, पुलिया पर बैठकर सेल्फी खींचते हैं. उसमें 80-90 लोगों को टैग करके पोस्ट कर देते हैं. अफसोस की बात ये है कि जितने लोगों को टांगते हैं उतने भी लाइक नहीं आते. हरिओम भैया शेरो शायरी में पारंगत हो गए हैं. वो हर शायरी के साथ एक अधनंगी लड़की की तस्वीर पोस्ट करते हैं और शेर से ज्यादा फोटो पर कमेंट आते हैं. चंदन हलवाई दुकान पर बैठे बैठे रसगुल्ले के फोटो डालते हैं. और उनके पापा भी अब फेसबुक पर आ गए हैं. जो ये नजर रखते हैं कि उनका लौंडा दुकान की लंका लगाकर किस लड़की को जलेबी खिला रहा है.

विनीत भाई का डेटा
विनीत भाई का डेटा

अशफाक भाई मुसलमानों की लड़ाई लड़ रहे हैं फेसबुक पर. काफी फेमस हैं. वो सेव गाजा, सीरिया, अलेप्पो सारे जहां के मुसलमानों की लड़ाई में डटे रहे. घर के सामने एक खटिया भर की जगह में धनिया बो रखी है. एक दिन उनके पड़ोसी रऊफ चचा की बकरियां चर गईं. एक बकरी की टांग तोड़ दी. चचा उलाहना देने आए तो ईंट फेंककर मारी, सिर फोड़ दिया. पड़ोसी होते ही कमीने हैं लेकिन फेसबुक के मुसलमानों की लड़ाई असल ईमान की लड़ाई है.

मंदिर मस्जिद की फोटोशॉप्ड तस्वीर
मंदिर मस्जिद की फोटोशॉप्ड तस्वीर

टिल्लू सरमा फेसबुक पर कभी कुछ लिखते पढ़ते नहीं दिखे. डीपी कभी कभी चेंज करते हैं. लेकिन उनका शगल है इनबॉक्स में दोस्ती. उसमें काफी बिजी रहते हैं. उनका डेटा निकालने के लिए सरकार को पासवर्ड की जरूरत पड़ेगी. हम नहीं बता पाएंगे. उसमें मानव जननांगों की तस्वीरों के अलावा नॉनवेज जोक्स मिलेंगे. जिनको पढ़ने से सरकार को कोई फायदा नहीं मिलेगा. क्योंकि उसको खुशी तो नोटबंदी जैसे चुटकुलों से आती है.

गोपे भैया आर्मी डिवोटी हैं. उनके खानदान, गांव जवांर से कोई फौज में नहीं गया लेकिन उन्होंने ADGPI का पेज लाइक कर रखा है. हर पोस्ट शेयर करते हैं. इस बार कारगिल विजय दिवस पर उन्होंने भावभीनी स्पीच दी. फेसबुक लाइव करके. मजा आ गया कसम से.

जब इस पेज के एडमिन सेना में गए
जब इस पेज के एडमिन सेना में गए

इसके अलावा तमाम दोस्त जहरीला, आजाद, विद्रोही, परिंदे, कुलकलंकी, अंकी, मंकी ढंकी नाम से भी लिखते हैं. कई तो आपस में ही एक दूसरे को गरियाते लड़ते रहते हैं. कुछ ने क्राउड फंडिंग करने का जुगाड़ बना लिया है उसको. पैसे इकट्ठे करते हैं गरीबों को कंबल बांटने के नाम पर और मनाली चले जाते हैं. कुछ लोगों ने पाकिस्तान को भारत में मिलाने का सपना देख रखा है और उसके लिए फेसबुक पर पूरी तरह प्रयत्नशील है.

इधर फेसबुक पर फेमिनिज्म का जोर बढ़ा. ये लोग दूध से मक्खी भी नहीं निकालकर फेंकते क्योंकि वो स्त्री है. वो इस पितृ सत्तात्मक समाज से लोहा लेते हुए दूध में कूद गई और खुदकुशी कर ली. इसकी लाश पर हार चढ़ाकर वो फेसबुक पर फोटो डालते हैं. स्त्रियों को दबा कुचला दिखाने वाली फोटो पर लाइक्स और शेयर्स गजब के आते हैं. लेकिन इनका एकछत्र राज नहीं रहने वाला था. पितृ सत्तात्मक समाज के कमीने पुरुषों ने इसकी काट निकाल ली. फहीम भाई ने इसकी नई मिसाल पेश की. उसने अपने बेटे के खतने की वीडियो फेसबुक लाइव पर दिखा दी.


ये भी पढ़ें:

क्रिसमस तुलसी पूजन दिवस है तो बाकी त्योहार क्या हैं?

तैमूर के नाम की छीछालेदर से आहत गोलू ने नाम बदलने की अर्जी डाली, फिर वापस ली

आधार कार्ड का डेटा सुरक्षित रखने के लिए दीवार नहीं ये चीज चाहिए

अच्छी कविता लिखने की इच्छा रखने वालों के नाम खुला खत

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.