Submit your post

Follow Us

दुनिया को एक करना है तो नोट फूंक दो, सिक्के गला दो

बाज दफे लोग कुछ भी ओंगा पोंगा कहते हुए मिल जाते हैं. जैसे कि आज एक एटीएम की लाइन से छिला खरोंचा हुआ तत्काल बना अर्थशास्त्री कह रहा था. कहिस कि “कुछ नहीं. देश में बड़ा सन्नाटा चल रहा था. मोदी जी को लगा कि एडवेंचर मांगता है. बस रात के आठ बजे टिंचर दिया, सुबह से एडवेंचर शुरू. अब जब तक फकीर सी हालत रहेगी, एडवेंचर चलता रहेगा.”

मन तो किया कि मुंह पर ही जवाब दे दें. लेकिन कही सुनी बातों का रिकॉर्ड नहीं होता कुछ. लिखा पढ़ी वाला हिसाब पक्का रहता है. इसलिए लिख रहा हूं. ये एडवेंचर के लालच में नहीं किया है मोदी जी ने. उनके लिए एडवेंचर की क्या कमी. अरविंद केजरीवाल के रहते. जब तक वो आदमी है कोई न कोई लकड़ी दिए ही रहेगा. फिर क्यों किया? चश्मा उतारो देखें कौन सा है? ह्म्म्म्म. दूरदृष्टि दोष है आपको. चश्मा कमजोर हो रहा है, नंबर बढ़ाओ. तो ये कदम दूरदृष्टि का नतीजा है. मोदी जी देश को एकता के सूत्र में पिरोना चाहते हैं. जो इंसानियत और प्रेम की भावना एकदम निल बटे सन्नाटा हो गई है, उसको फिर से जागृत करना ही लक्ष्य है. एक शेर अर्ज है-
एटीएम की कतार तो एक बहाना है.
इसी के रस्ते आपके दिल में उतर जाना है.

मालूम है फूहड़ था. तो उस पर अटकने को किसने कहा है. चलो आगे बढ़ो. आपको क्या लगता है. देश कैसे एक होगा? प्रेम समर्पण की भावना कैसे बलवती होगी? पब्लिक का ध्यान बेवफा सोनम गुप्ता से अपने वफादार दोस्तों रिश्तेदारों पर कैसे शिफ्ट होगा? क्या उसके लिए एलियन अटैक का इंतजार कर रहे हो? जैसे हर तीसरी हॉलीवुड फिल्म में होता है. अमेरिका की धरती पर एलियन हमला करते हैं. अलग अलग तरीकों से. फिर पूरी दुनिया एकउट जाती है. जापान चीन से लेकर ईराक अफगानिस्तान तक उसकी मदद के लिए तैयार हो जाते हैं. उनके पास तो तकनीक है. वो ओसामा बिन लादेन की रूह से भी हेल्प मांग सकते हैं. वो वहीं जन्नत से अपने एजेंट भेज कर एलियन को ठिकाने लगा सकता है. तो क्या उसी का इंतजार कर रहे हो? कि कोई बाहरी हमला करे तो हम एक हों. नहीं. इसकी जिम्मेदारी हमारे अपनों ने उठाई है इस बार. हमारे अपने प्रधानमंत्री ने.

Banks-rush-2
Image: PTI

आज सुबह का वाकया बताता हूं. मेरे पास पर्स में तीन ठो पुराने पनसौव्वा नोट बचे. एक ठो हजार का. 10-10 की दो नोटें पड़ी थीं. उनको निकाला. आंखों से लगाया. कातर निगाहों से देख रहा था. ये दोनों नोट दफ्तर तक जाने में खर्च हो जाने थे. ई रिक्शे वाला फूफा कहने से तो छोड़ेगा नहीं. उसके घर में भी बच्चे दाल के लिए उसका पजामा खींचते होंगे. गलती से नाड़े पर हाथ चला जाए तो इज्जत दाल की भेंट चढ़ जाए. उसकी इज्जत बचाना हमारा फर्ज है. और वो बचनी थी उन 10 के अंतिम नोटों से. उसके बाद मेरी जेब में ग़म खाने के भी पैसे नहीं बचते. हां भाई चेविंग गम. अचानक किचन से निकली देवी. रोज मुझे वो सिंपल सी बीवी लगती है. आज देवी लगी. मुझसे कहा “सुनो. क्या हुआ? ये गधे सा मुंह क्यों लटका रखा है? ये हाथ में चोर सा क्या छिपा रहे हो? छिनला आदमी सा कौन पाठ पढ़ाने जा रहे हमको?” उसकी बातें दल पर लगीं. आंसू आने से पहले ही उसने पर्स छीनकर तलाशी ली. फिर 50 ठो रुपए लाकर हाथ पर रखे. ‘संभाल कर खर्च करना.’ मैंने उसे गले लगा लिया. बरसों से जो हमारे रिश्ते से ठंडक लीक कर रही थी उसमें मोदी जी ने पैबंद लगा दिया. थैंक्यू मोदी जी.

सारा देश इस मुसीबत की घड़ी में एक होकर खड़ा है. एटीएम और बैंकों के सामने. डेबिट क्रेडिट सब कार्ड चिल्हिया का मूत हो गया. क्रेडिट किसको जाता है? बड़का रिश्तेदार अपने भिखारी रिश्तेदार के यहां लाखों रुपए भेज रहा है. अमीर का पैसा गरीब के हाथ आ रहा है. पहले लोग गंगा के पुल से गुजरते वक्त चिल्लर फेंकते जाते थे. गंगा मैया प्रदूषित हो रही थीं. प्रशासन के सामने चैलेंज था. कैसे बचाएं मां गंगा को? उसमें इत्ता खतरनाक मेटल जा रहा है. समस्या हल हो गई इस एक कदम से. अब लोग पुल से गुजरते वक्त कोशिश करते हैं कि गंगा को अर्पण किए पैसे किसी तरह वापस मिल जाते. उसकी जगह बड़े आदमी पुरानी पेपर करेंसी गंगा में बहा रहे हैं. गंगे भी खुश हैं. उनको शायद अब तक नहीं पता कि यहां ये नोट चलना बंद हो गए. क्या पता स्वर्ग में चलते हों. न भी चलें तो यहां मछलियां और कछुए खाएंगे. उनका पेट भरेगा. नोट फेंकने वाले को पुन्न मिलेगा.

Image: PTI
Image: PTI

इस कदम के उठने से पहले भारत देश का क्या हाल था याद है? लोग सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठा रहे थे. शहीदों पर बयानबाजी कर रहे थे. फेसबुक व्हाट्सऐप से देशभक्ति का अलख जगाए थे. अमा सोशल मीडिया पर बूंकने से कुछ होता है क्या? प्रधानमंत्री को पता है कहां चोट पड़ने पर युवा जागेगा. जेब पर चोट मार दी. अब सोशल मीडिया पर जो लड़ाइयां करते थे दिन भर वो भी एक दूसरे से पूछते हैं “भाई, तेरी तरफ वाले एटीएम में पैसा निकल रहा है?”

मैंने दफ्तर से लौटते वक्त ठेले पर लदे हरे भरे सिंघाड़े देखे. लार घूंट कर रह गया. काले धन पर सर्जिकल स्ट्राइक से पहले ऐसा नहीं हो सकता था कि मैं बिना एक किलो सिंघाड़े लिए घर आ जाऊं. फिर आगे बढ़ा तो बढ़िया लाल लाल सेब. और आगे संतरे. और आगे अमरूद. और आगे ताजे कार्बाइड में पकाए केले. जेब में सिर्फ 10 रुपए थे. उनसे एक सेब, एक केला, एक संतरा भी नहीं आ सकता था. लेकिन एक फायदा हुआ. वह 10 रुपए भी बच गए. ये पूरा मामला जानते हो किसलिए समझा रहे हैं. वो 10 तो बचे ही, खाते में जो 2-4 हजार हैं वो भी सेफ रहेंगे. न जेब में पैसा रहेगा न खर्च होगा. क्रेडिट किसको जाता है?

Image: PTI
Image: PTI

सजग सरकार और गुड गवर्नेंस की यही पहचान है. वह जनता को एक करने उसमें इंसानियत का बीज बोने के लिए वो एलियन अटैक का इंतजार नहीं करती. खुद अटैक कर देती है.


ये भी पढ़ें:

तीन दिन से घर नहीं गया था बैंक मैनेजर, हार्ट अटैक से मौत

क्या प्रधानमंत्री का रोना लोगों की चीखों पर भारी पड़ गया है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.