Submit your post

Follow Us

'ब्लैक' में रानी मुखर्जी का किरदार देख, बोल, सुन नहीं सकने वाली हेलेन से इंस्पायर्ड था

142
शेयर्स

हेलेन केलर याद हैं? स्कूल में ज़रूर पढ़ाया जाता था उनके बारे में. आज (27 जून) केलर का बर्थडे है. संजय लीला भंसाली की फिल्म ब्लैक, जिसमें अमिताभ बच्चन और रानी मुखर्जी थे. फिल्म की कहानी हेलेन केलर से इंस्पायर्ड थी.

हेलेन केलर की कहानी कितनी दुख भरी थी. लेकिन हमारे ज़ेहन में कभी भी उसकी याद दुख भरी नहीं होती. केलर के बारे में बातचीत की शुरुआत ऐसे होती है कि वो बोल नहीं पाती थीं. सुन नहीं पाती थीं और देख भी नहीं पाती थीं. लेकिन इस एक लाइन में ही उनकी सारी असमर्थता सिमट जाती है. क्योंकि इसके जवाब में उनकी उपलब्धियां ढेरों थीं. और उनके बारे में आगे की पूरी बातचीत खुशनुमा हो जाती है.

केलर ने किताबें लिखीं. आर्टिकल्स लिखे. पॉलिटिकल स्टैंड लिया. घुड़सवारी की. तैरना सीखा और भी क्या-क्या नहीं किया. ये सब जानते वक़्त ये ध्यान रखना कि ये सब करने वाली लड़की देख, सुन और बोल नहीं सकती थी, बड़ा मुश्किल होता है.

केलर जब 19 महीने की थीं, तो एक बीमारी ने उनकी ये तीनों शक्तियां ख़तम कर दी. जिस उम्र में बच्चे आसपास की हर चीज़ को देख कर समझते हैं. बोलते हैं. सवाल करते हैं. उस उम्र में केलर अनजान अंधेरे और सन्नाटे से जूझ रही थीं.

वो चीजों को छू कर महसूस तो कर सकती थीं. लेकिन न तो देख कर उनके निश्चित फॉर्म जान सकती थीं. और न ही उनके बारे में बात करके कुछ समझ सकती थीं. केलर को इस झल्लाहट से बाहर उनकी पहली टीचर ऐन सुलिवान निकाल सकीं. उन्होंने केलर को ‘वाटर’ ‘डॉल’ और ‘मग’ जैसे शब्द सिखाए. इसके लिए उन्होंने ये चीज़ें उन्हें छूने को दी और फिर समझाया. इसी तरह केलर के सीखने का सिलसिला शुरू हो गया. जो कभी ख़तम नहीं हुआ. आगे जा के वो पहली ऐसी ग्रेजुएट बनी जो सुन और बोल नहीं सकती थीं.

केलर की जिंदादिल शख्सियत हमेशा एक मिसाल रहेगी. जहां एक तरफ लोग एग्जाम में फेल होने, शादी टूटने और नौकरी छूटने जैसी चीज़ों के सामने आने पर ही उम्मीद छोड़ देते हैं. और दूसरी तरफ केलर को पता रहता था कि अगली सुबह भी वो देख नहीं पाएंगी. सुन नहीं पाएंगी और बोल नहीं पाएंगी. तब भी हर दिन वो नई एनर्जी और उम्मीद से भरी रहती थीं.

ख़ुद की ज़िंदगी में कभी रोशनी का मतलब ही न जान सकने वाली हेलेन केलर मेरे दिमाग में हमेशा सुबह की पहली धूप और शाम की ठंडी हवा की तरह ही आती हैं. अपनी बायोग्राफी, ‘द स्टोरी ऑफ़ माय लाइफ’ में केलर अपने बचपन के बहुत सारे किस्से सुनाती हैं. ये किस्से किसी भी आम बच्चे की बचपन की कहानियों की तरह ही हैं. केलर कभी तितली के पीछे भागती हैं, कभी पेड़ पर चढ़कर खेलती हैं, कभी बिल्ली और चूहों का पीछा करती हैं.

लेकिन इन किस्सों को ख़ास बनाता है उनका नजरिया. किसी का भी आम इंसान से अलग होना, उसके नैरेटिव को एक ऐसी जगह जाने की छूट दे देता है जो आम लोगों को नहीं मिल पाती. हेलेन केलर हर चीज़, हर किस्से को ऐसे बयां करती हैं जैसे उसमें देखने, सुनने या बोलने की ज़रूरत या गुंजाइश ही न हो. ये एक आम इंसान के लिए संभव नहीं है. लेकिन ऐसा नहीं है कि इसे पढ़कर आपके दिमाग में दूसरी किताबों की तरह दिमागी चित्र नहीं बनते जाएंगे. और यही ख़ास बात है कि वो चीज़ें जो बिना देखे या सुने लिखी गईं हैं. आपको दिखाई भी देंगी और सुनाई भी देंगी. किस्से एक अलग तरीके से दिमाग में चित्र बनाते जाएंगे. और यही वो पॉइंट होगा जहां पढ़ने वाला भी वहां जा सकेगा जहां जाने की आज़ादी लिखने वाली हेलेन को ही मिली थी.

helen keller-1

लेकिन केलर को आम लोगों की पहुंच से दूर वाली इस जगह पर घूमने की आज़ादी बड़ी कीमत पर मिली थी. उनका एक आर्टिकल है ‘थ्री डेज टू सी’, जिसमें वो बताती हैं कि अगर तीन दिनों के लिए वो देख पातीं, तो क्या क्या देखतीं. ये एक खूबसूरत आर्टिकल है, जिसमें वो देख सकने वाले लोगों के ‘न देखने’ की बात करती हैं. और यही सोच उन्हें यहां तक ले जाती है कि अगर मैं देख पाती तो क्या-क्या देखती. बचपन में इसे पढ़ा तो इसे सहजता से ले पाना बड़ा मुश्किल था.

आखिर ‘क्या क्या देखना है’ ये कोई पहले से कैसे तय कर सकता है! दो पन्ने के छोटे से आर्टिकल के ख़तम होने पर लगा कि पहली बार हमने ‘देखने’ को देखा. हेलेन केलर पेड़ की पत्तियों की लाइन, कंटीली झाड़ियां, ओस की नयी बूंद, सब कुछ को रुककर, फुर्सत से महसूस करने और छूकर याद कर लेने के लिए कहती हैं. क्या पता कब आप आखिरी बार ऐसा कर रहे हों. और पढ़ते वक़्त आपको ये सब ‘दिखाई’ देगा, महसूस होगा, फुर्सत से.

केलर सच ही कहती हैं, अंधेरे में रहना रौशनी की अहमियत सिखा देता है. और तीखा सन्नाटा ही शोर की खुशी का अंदाज़ा दिला सकता है. और इसीलिए बरसों बाद भी एक न देख-सुन पाने वाली लड़की हमें ‘देखना’ और ‘सुनना’ सिखाती है, और सिखाती रहेगी.


(ये स्टोरी पारुल ने लिखी है.)


वीडियो देखें:

इंदिरा गांधी का वो मंत्री जिसने संजय गांधी को कहा- मैं तुम्हारी मां का मंत्री हूं-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.