Submit your post

Follow Us

सागरमल, जिन्होंने झुलसाती लू में घोली थी क्रांति की आग

22
शेयर्स

‘क्रांति की आंधी न रुकेगी मुगर से
सेकेंड की सलाह से शासन गंवाओगे
नौ रत्न के पंजों से बचो भूप जवाहर तुम
जैसाण के किले पर तिरंगा पाओगे’

दरबार के लिए ये खारे आखर अमर शहीद सागरमल गोपा ने कहे थे. गोपा आज ही के दिन यानी 25 मई 1941 को जैसलमेर रियासत द्वारा गिरफ्तार कर लिए गए थे.

सुदूर रेगिस्तान में एक रियासत थी जैसलमेर. केंद्रीय हलचल से कटी हुई. देश पर उस वक्त अंग्रेज जुल्म ढा रहे थे और जैसलमेर पर महारावल जवाहर सिंह के कारिंदे. रियासत में पत्र-पत्रिकाओं के छपने और पढ़ने पर रोक थी. जनता इस निरंकुश शासन से त्रस्त थी.

इसी वक्त में रियासत का एक जवान माड़ू शासन के खिलाफ उठ खड़ा हुआ. नाम था सागरमल गोपा. इनका जन्म 3 नवंबर 1900 को एक संपन्न ब्राह्मण परिवार में हुआ था. इनके पिता अखेराज गोपा महारावल के दरबार में उच्च पद पर आसीन थे. पर सागरमल तो आजादी के दीवाने थे. भिड़ गए अंग्रेजी शासन और दरबार से.

जैसलमेर जो आजादी के इतने सालों बाद आज भी शिक्षा के लिए संघर्ष कर रहा है. वहां सागरमल ने सौ साल पहले एक लाइब्रेरी की स्थापना की थी. उस वक्त उनकी उम्र थी 15 साल. सागरमल 1921 में गांधीजी के असहयोग आंदोलन का हिस्सा भी बने थे और जैसलमेर से उन्होंने इस आंदोलन का हिस्सा बनने का आह्वान किया था. सागरमल ने किताबें भी लिखी.

जैसलमेर राज्य का गुंडाराज. आजादी के दीवाने और रघुनाथ सिंह का मुकदमा.

इन किताबों ने जैसलमेर रियासत के हुक्मरानों को डरा दिया था. महारावल सागरमल की इन हरकतों से क्रोधित हो गए. सागरमल को तंग किया जाने लगा. इससे परेशान होकर वो नागपुर चले गए. वहां पर रहकर भी उन्होंने संघर्ष जारी रखा. 1941 का साल था. उनके पिताजी का देहांत हो गया. पिंडदान करने के लिए सागरमल को लौटना पड़ा. महारावल उनसे खुन्नस खाए बैठे ही थे. आते ही गिरफ्तार करवा दिया.

सागरमल को छह साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई गई. जेल में सागरमल को अमानवीय यातनाएं दी जाती थी. ऐसी यातनाएं कि सुनकर जी कांप उठे. ये सब कर रहे थे क्रूर थानेदार गुमान सिंह. उन्होंने माफी मंगवाने के सारे जतन कर लिए. लेकिन सागरमल तो आजादी के दीवाने थे. ऐसे ही थोड़े झुक जाते. सहते रहे और लड़ते रहे. उनको ये स्वीकार नहीं था कि सारा देश आजादी की लड़ाई लड़ रहा है और जैसलमेर गोरों की जी हजूरी करे.

जय नारायण व्यास को इन यातनाओं की खबर पहुंची. उन्होंने अपने पॉलिटिकल एजेंट से इसके बारे में जानकारी लेनी चाही. रेजीडेंट का 6 अप्रैल को जैसलमेर जाने का प्रोग्राम बना. रेजीडेंट के पहुंचने से पहले ही 3 अप्रैल को जैसलमेर की गर्म हवाओं में रुदन घुल गया. खबर आई कि सागरमल गोपा ने जेल में आत्महत्या कर ली. पर यह आत्महत्या नहीं थी. वो जिंदा थे. जेल में सागरमल को गर्म तेल डालकर जलाने की कोशिश की गई. किसी को उनसे मिलने नहीं दिया गया. 4 अप्रैल को उनकी दर्दनाक मौत हो गई.

जैसलमेर में क्रांति की अलख जगाकर वो अमर शहीद हो गए. इस मृत्यु की जांच करने के लिए एक कमेटी बनाई गई. गोपाल स्वरूप पाठक कमेटी. कमेटी ने उनकी हत्या को आत्महत्या साबित कर दिया. लेकिन क्रांति यहां की झुलसाती लू में घुल चुकी थी. मीठालाल व्यास ने जैसलमेर में 1945 में प्रजामंडल की स्थापना कर दी.

30 मार्च 1949 को वह शुभ दिन था, जब जैसलमेर आजाद भारत का हिस्सा बन गया. भारतीय डाक विभाग ने 1986 में सागरमल गोपा की शहादत को जनमानस की स्मृतियों में जिंदा रखने के लिए उनकी याद में एक डाक टिकट जारी किया.

(ये स्टोरी दी लल्लनटॉप के साथ काम कर रहे सुमेर सिंह राठौड़ ने लिखी है)

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Remembering freedom fighter and patriot from Rajasthan Sagarmal gopa

गंदी बात

नौकरानी, पत्नी और 'सेक्सी सेक्रेटरी' का 'सुख' एक साथ देने वाली रोबोट से मिलिए

ब्लॉग: हमारे कुंठित समाज को टेक्नोलॉजी का तोहफा.

हम रेप की कहानियां किस तरह सुनना चाहते हैं?

मसाला छिड़ककर या मलाई मारकर?

मलाइका अरोड़ा की कांख पर कुछ लोगों की आंख क्यों चढ़ गई?

कुछ ने तारीफ़ की. मगर कई लोग मुंह भी बना रहे हैं. लिख रहे हैं, वैक्स क्यों नहीं करवाया.

साइकल, पौरुष और स्त्रीत्व

एक तस्वीर बड़े दिनों से वायरल है. जिसमें साइकल दिख रही है. इस साइकल का इतिहास और भूगोल क्या है?

महिलाओं का सम्मान न करने वाली पार्टियों में आखिर हम किसको चुनें?

बीजेपी हो या कांग्रेस, कैंडिडेट लिस्ट में 15 फीसद महिलाएं भी नहीं दिख रहीं.

लोकसभा चुनाव 2019: पॉलिटिक्स बाद में, पहले महिला नेताओं की 'इज्जत' का तमाशा बनाते हैं!

चुनाव एक युद्ध है. जिसकी कैजुअल्टी औरतें हैं.

सर्फ एक्सेल के ऐड में रंग फेंक रहे बच्चे हमारे हैं, इन्हें बचा लीजिए

इन्हें दूसरों की कद्र न करने वाले हिंसक लोगों में तब्दील न होने दीजिए.

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बच्चे के ट्रांसजेंडर होने का पता चलने पर मां ने खुशी क्यों मनाई?

आप में से तमाम लोग सोच सकते हैं कि इसमें खुश होने की क्या बात है.

'मैं तुम्हारे भद्दे मैसेज लीक कर रही हूं, तुम्हें रेपिस्ट बनने से बचा रही हूं'

तुमने सोच कैसे लिया तुम पकड़े नहीं जाओगे?

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.