Submit your post

Follow Us

कुछ राजपूत आज़ाद भारत में भी एक औरत की इज्जत के लिए लड़े थे, उसे ज़िंदा जलाने के लिए

‘एक चिता जलने के लिए एकदम तैयार थी. गांव के सैकड़ों-हजारों लोगों की भीड़ वहां गायत्री मंत्र का जाप कर रही थी. चिता पर एक लाश और लाश को गोद में रखे 18 साल की लड़की. किसी ने उस चिता में आग नहीं लगाई. आसमान से अपने आप आग लग गई. पति का सिर गोद में लिए मुस्करा रही वह लड़की अपने हाथ आशीर्वाद की मुद्रा में उठाए थी. उसके बाद अग्नि ने सब कुछ जला दिया और इस तरह एक सुहागन सती हो गईं. और सती माता बन गईं.’

राजस्थान के चप्पे चप्पे में ये बनावटी कहानी अपने हिसाब से मिर्च मसाला लगाकर सुनाई जाती है. जिस इंसान से सुनोगे, वो अलग महत्व की चीजें बताएगा. असल में उस रोज एक मासूम लड़की को जबरन आग में ठेला गया था. वो दहशत के मारे बुरी तरह विक्षिप्तावस्था में थी. वहां एक भी आदमी इस कुकर्म पर सवाल उठाने वाला नहीं था जो उस आग और धुंएं में जलती इंसानियत देख पाता. वहां तलवारें लहराते और शोर मचाते राजपूतों की भीड़ थी. ये कहानी है सती रूप कंवर की.

इसे ‘देवराला के सती रूप कंवर कांड’ के नाम से भी जाना जाता है. राजस्थान के सीकर जिले में स्थित ये गांव राजधानी जयपुर से करीब तीन घंटे की दूरी है. इस मामले का पूरा बैकग्राउंड पहले जान लेते हैं. देवराला में एक स्कूल टीचर था सुमेर सिंह. उसके लड़के माल सिंह की शादी रूप कंवर से हुई थी, इस कांड से सात महीने पहले. माल सिंह बीएससी स्टूडेंट था और रूप कंवर ने हाईस्कूल पास कर रखा था. जयपुर के ट्रांसपोर्ट नगर में रूप कंवर के पिता के ट्रक वगैरह चलते थे.

पति के साथ रूप कंवर
पति के साथ रूप कंवर

शादी होने के बाद रूप कंवर अपने घर चली गई. जैसा कि कहा जाता है ससुराल ही लड़की का घर होता है. सात महीने बाद रूप कंवर अपने मायके आई हुई थी. तीन दिन बाद उधर अचानक पति माल सिंह की तबीयत बिगड़ गई. उल्टी वगैरह हुई. ये 2 सितंबर 1987 की बात है. अगले दिन रूप कंवर अपने पिता और भाई के साथ उसको लेकर सीकर के अस्पताल आ गए. वहां माल सिंह की हालत में कुछ सुधार हुआ तो रूप कंवर ने अपने भाई और पिता से कहा कि अब आप जाओ, मैं संभाल लूंगी. लेकिन दो दिन बाद सुबह 8 बजे माल सिंह की जान चली गई और उसकी बॉडी चार घंटे में देवराला ले लाई गई.

इसी बीच गांव में अफवाह फैल गई कि रूप कंवर सती होना चाहती है. पुरानी ‘राजपूती प्रथा’ के अनुसार. फिर गांव के कुछ बूढ़े बुजुर्ग और पंडे टाइप के लोग आए और उन्होंने ये परीक्षा की कि रूप कंवर सती होने लायक है या नहीं? उसके अंदर ‘सत’ है या नहीं. उन्होंने कन्फर्म कर लिया फिर बात पक्की हो गई. उधर चिता तैयार कराई गई. रूप कंवर को सजा धजाकर हाथ में नारियल देकर गांव में घुमाया गया. उसके बाद राजपूत शमशान में ले जाया गया. जहां चिता सजी थी.

इंडिया टुडे ने इस कांड के बाद 1987 में तफ्तीश की थी. रूप कंवर को जलाने के वक्त वहां मौजूद रहे तेज सिंह शेखावत ने बाद में बताया, “15 मिनट तक उसने (रूप कंवर ने) चिता की परिक्रमा की. हमने उसे बताया कि जल्दी करो नहीं तो पुलिस आ जाएगी और गड़बड़ हो जाएगी. उसने ‘मुस्कराते हुए’ कहा फिक्र न करो. फिर वो चिता पर चढ़ गई और पति का सिर गोद में रखा. माल सिंह के छोटे भाई ने माचिस जलाई लेकिन आग नहीं पकड़ी. आग तो अपने आप पकड़ी थी.”

गांव वाले छाती ठोक कर बताते हैं कि जब वो चिता से नीचे गिर गई तो पैर घसीटकर वापस पहुंच गई. फिर वहां मौजूद हर राजपूत ने अपने घर से घी के कनस्तर लाकर डाले ताकि आग तेज हो जाए. डेढ़ बजे तक काम तमाम हो गया.

गांव वालों ने जो किया वो भारी जुर्म था. सती प्रथा गैर-कानूनी थी और आईपीसी की धारा 306 का केस लगता था. बाद में गांव वालों पर केस हुआ भी. लेकिन उस वक्त वहां के होम मिनिस्टर गुलाब सिंह शेखावत ने कहा था कि ये धार्मिक मामला है. हमने स्टेट से रिपोर्ट भेज दी है कि पुलिस इस मामले में हस्तक्षेप न करे.

जब केस रजिस्टर हुए, मुख्य मुजरिम रूप कंवर के ससुर सुमेर को बनाया गया था. बगल के ढोई पुलिस स्टेशन से एक हेड कॉन्स्टेबल आया मौके पर एक घंटे बाद. उसने खुद FIR लिखी लेकिन एक भी गवाह वहां मौजूद नहीं था. बाद में 39 लोगों के खिलाफ मुकदमा हुआ. पहली गिरफ्तारी 9 सितंबर को हुई पुष्पेंद्र सिंह की. लेकिन स्टेट गवर्नमेंट पूरे मामले में धार्मिक उपद्रवियों के सामने घुटने के बल रही. 16 सितंबर को उस कांड की जगह पर सारे रिश्तेदार इकट्ठा हुए. गंगाजल और दूध से पवित्तर किया. एक त्रिशूल में चार हजार की चुनरी लपेटकर वहां सती माता का मंदिर बना दिया गया. इस काम में सती के पिता बल सिंह राठौड़ भी थे. उनको बेटी जलाने के बाद बताया गया था. सती स्थल पर उस दिन चुनरी महोत्सव मनाया गया. तकरीबन दो लाख लोग इकट्ठा हुए, देश भर से.

16358550_1566888940014206_225096880_n
चुनरी महोत्सव के खिलाफ जयपुर में महिलाओं का आंदोलन

इस एक केस की वजह से भारत की इतनी भद्द पिटी दुनिया भर में जिसकी वजह से सिर शर्म से झुक जाता है. चुनरी महोत्सव का आयोजन रोकने के लिए सैकड़ों औरतों ने जयपुर में आंदोलन किया.

हाई कोर्ट से डिमांड की गई कि वो संज्ञान ले. सरकार से मदद मांगी गई. लेकिन कुछ न हुआ. चुनरी महोत्सव में लाखों लोग पहुंच गए. दरअसल मामला सरकार और प्रशासन के हाथ से निकल चुका था. 4 सितंबर को उस जगह 5,000 लोग थे जो अगले तीन दिन में 50,000 हो गए. ये सारा खेल पॉलिटिक्स और पैसे का था. चुनरी महोत्सव में 5 लाख लोग आए और 30 लाख का दान दिया. सती माता का आशीर्वाद लेने वालों में गांव देहात के लोग ही नहीं थे. बल्कि बहुत बड़े बड़े नेता पहुंचे थे. जनता पार्टी के कल्याण सिंह कालवी (भंसाली पर हमला करने वाली करणी सेना के संस्थापक लोकेंद्र सिंह कालवी के पिता), डीएस शेखावत, कांग्रेस नेता हरिराम खारा और तमाम सारे विधायक.

चुनरी महोत्सव
चुनरी महोत्सव

इस कहानी को चटखारे लेकर गर्व से सीना फुलाकर राजपूताने में सुनाया जाता है. जिस ‘सत’ और ‘शक्ति’ की बातें उसके साथ जोड़ी जाती हैं, उसको एक सामान्य समझ वाला इंसान भी आसानी से जान सकता है. रानी पद्मावती के इतिहास पर गर्व करने वाला समाज इस कांड की जिम्मेदारी से भी मुंह नहीं मोड़ सकता.


ये भी पढ़ें:

‘हम पर बोलते हो तो उन पर क्यों नहीं’ पूछने वालों को एक देशभक्त का जवाब

फिल्मकार को पीटकर कौन सा इतिहास बना रहे हैं इतिहासप्रेमी?

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

Lefthanders Day: बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

Lefthanders Day: बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मेरा बाएं-हत्था होना लोगों को चौंकाता है. और उनका सवाल मुझे चौंकाता है.

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.