Submit your post

Follow Us

महामहिम : जब नेहरू को अपने एक झूठ की वजह से शर्मिंदा होना पड़ा

पटना के एग्जीबिशन रोड पर पंजाब नेशनल बैंक की एक शाखा है. इस बैंक की खाता संख्या 0380000100030687 में करीब दो हजार रुपए पड़े हुए हैं. इस बैंक अकाउंट के मालिक को दुनिया छोड़े हुए 55 साल हो गए हैं. बैंक इस अकाउंट में हर 6 महीने में बिना नागा ब्याज जमा कर देता है. बैंक ने इसे अपने पहले अकाउंट का दर्जा दिया हुआ है. ये अकाउंट है भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद का. जिनके राष्ट्रपति चुनाव के खाते में 5,07,400 वोट थे.

आपने कभी सोचा है कि भारत का संविधान जब नवंबर 1949 में ही बनकर तैयार हो गया था तो उसे 26 जनवरी 1950 को लागू क्यों किया गया? दरअसल 26 जनवरी की तारीख भारत की आजादी की लड़ाई में बहुत ख़ास थी. 1929 में इसी दिन लाहौर अधिवेशन में कांग्रेस ने पूर्ण स्वराज की घोषणा की थी. संविधान सभा के लोग इसी दिन को यादगार बनाना चाहते थे, इसलिए इसे गणतंत्र दिवस के रूप में चुना गया.

maha

राजेंद्र बाबू की चलती तो हम किसी और दिन गणतंत्र दिवस मनाते

एक आदमी इस दिन को चुने जाने से खुश नहीं था. वो थे राजेंद्र प्रसाद. वो परंपरावादी हिंदू थे और उनके मुताबिक ये दिन ज्योतिष के हिसाब से ठीक नहीं था. पंडित नेहरू आधुनिक खयाल वाले नेता थे, जिनके लिए ज्योतिष शास्त्र कोई ख़ास महत्व नहीं रखता था. अंत में ना चाहते हुए भी राजेंद्र प्रसाद ने 26 जनवरी, 1950 को 10 बज कर 24 मिनट पर अश्विन नक्षत्र में राष्ट्रपति पद की शपथ ली. साल भर से चल रही वैचारिक लड़ाई में ये नेहरू के लिए सांत्वना पुरस्कार था. वो ये जंग काफी पहले हार चुके थे. राजगोपालाचारी को राष्ट्रपति बनाने की जंग.

नेहरू और राजगोपालाचारी
नेहरू और राजगोपालाचारी

1949 के मध्य में जब संविधान बनने की प्रक्रिया अपने आखिरी दौर में थी, नए लोकतंत्र के राष्ट्रपति के चुनाव को लेकर सरगर्मी तेज हो गई. नेहरू का विचार था कि राजगोपालाचारी को देश का पहला राष्ट्रपति होना चाहिए. एक तो वो पहले से गवर्नर जनरल के तौर पर काम कर रहे थे. उन्हें राष्ट्रपति बनाने के लिए महज टाइटल में बदलाव करना था. दूसरा राजगोपालाचारी की ‘सेक्युलरिज्म’ पर समझदारी नेहरू से मेल खाती थी. वहीं कांग्रेस के कई नेता राजाजी को इसलिए स्वीकार करने को तैयार नहीं थे क्योंकि उन्होंने भारत छोड़ो आंदोलन को बीच में छोड़ दिया था. जून 1949 में ब्लिट्ज में इस बाबत खबर छपी-

“राजाजी के समर्थकों का तर्क है कि राजेंद्र प्रसाद का स्वास्थ्य इतने मेहनत भरे काम की गवाही नहीं देता. वहीं कांग्रेस के कई नेता राजाजी को उनके अतीत की वजह से स्वीकार नहीं करना चाह रहे हैं.”

जब नेहरू का झूठ पकड़ा गया!
नेहरू उनके चुनाव के प्रति इतने उतावले थे कि इसके लिए उन्होंने झूठ बोलने से गुरेज नहीं किया. पूर्व इंटेलिजेंस अफसर रहे आरएनपी सिंह अपनी किताब “नेहरू ए ट्रबल्ड लेगेसी” में उस वाकये का जिक्र करते हैं. हुआ ये था कि 10 सितम्बर, 1949 को नेहरू ने प्रसाद को एक खत लिखा. इस खत का मजमून ये था कि उन्होंने सरदार पटेल से नए राष्ट्रपति के बारे में बात की. इस बातचीत में ये तय हुआ कि राजाजी को ही राष्ट्रपति बनाया जाना चाहिए.

राजेंद्र प्रसाद को सरदार पटेल का ये विचार हजम नहीं हुआ और उन्होंने इस बारे में पता करने की कोशिश की. अगले दिन उन्होंने नेहरू को जवाबी खत लिखा. जिसमें उन्होंने नेहरू को इस बात के लिए काफी खरी-खोटी सुनाई. उन्होंने साफ़ कहा कि पार्टी में उनकी हैसियत का खयाल रखते हुए उनके साथ बेहतर बर्ताव किया जाना चाहिए. उन्होंने इस खत की एक कॉपी सरदार पटेल को भी भेज दी.

पटेल को गृहमंत्री पद की शपथ दिलवाते राजेंद्र प्रसाद
पटेल को गृहमंत्री पद की शपथ दिलवाते राजेंद्र प्रसाद

जब ये खत नेहरू की टेबल पर आया, तो उन्हें समझ में आ गया कि वो इस मामले में बंद गली में फंस चुके हैं. उन्होंने आधी रात तक बैठकर अपनी सफाई तैयार की. अपने जवाबी खत में उन्होंने लिखा-

“जो भी मैंने लिखा था, उससे वल्लभभाई का कोई लेना-देना नहीं है. मैंने अपने अनुमान के आधार पर वो बात लिखी थी. वल्लभभाई को इस बारे में कुछ भी पता नहीं है.”

आखिर नेहरू क्यों चाहते थे कि राजेंद्र बाबू राष्ट्रपति ना बनें? दरअसल कांग्रेस उस समय कई विचारधाराओं वाला संगठन हुआ करता था. उस समय लड़ाई ये चल रही थी कि आखिर कौन सी विचारधारा कांग्रेस की आधिकारिक विचारधारा होगी. नेहरू पश्चिम में पढ़े-लिखे थे. उनके खयालात उस वक़्त के मुताबिक काफी खुले थे. वो समाजवाद के समर्थक थे. रूस की प्रगति से प्रभावित थे. वो राजनीति में धर्म का किसी भी किस्म का हस्तक्षेप नहीं चाहते थे. राजेंद्र प्रसाद नेहरू के इस खांचे में फिट नहीं बैठते थे.

अगली कड़ी में पढ़िए किस्सा उस खत का जो राजेंद्र प्रसाद ने बड़े गुस्से में लिखा था. इस खत को पहुंचना था पंडित नेहरू के पते पर, लेकिन एक नेता की सलाह पर यह खत राजेंद्र प्रसाद की जेब में धरा रह गया.


वीडियो- महामहिम: देश का इकलौता राष्ट्रपति, जिस पर गोलियां चलीं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.