Submit your post

Follow Us

Lefthanders Day: बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

TARINIये लेख 8 अगस्त 2019 को प्रकाशित किया गया था. कानपुर की रहने वालीं तारिनी ने इसमें बताया था कि बाएं हाथ से काम करने वाले लोगों की जिंदगी कैसी होती है. आज लेफ्ट हैंडर्स डे है. इस मौके पर ये लेख एक बार फिर पाठकों के लिए पेश है. तारिनी ने ये पीस अंग्रेजी में लिखा था. इसे ट्रांसलेट कर हम आपको पढ़ा रहे हैं. 


एक सवाल है जो मुझसे जाने कब से पूछा जा रहा है. मतलब, याद करने बैठो तो याद भी नहीं आता कि कब से. सवाल है:तो तुम कबसे लेफ्ट-हैंडर हो? और ऐसे पूछते हैं जैसे कुछ फेंक के मार दिया हो. और सवाल अकेला नहीं आता. सवाल के साथ चौंकने जैसी एक भावना होती है. मेरा बाएं-हत्था होना लोगों को चौंकाता है. और उनका सवाल मुझे चौंकाता है. क्योंकि इस सवाल का कोई मतलब नहीं है. कि मैं ‘कबसे’ लेफ्ट-हैंडर हूं.

ज़ाहिर सी बात है, किसी के मां-बाप एक उम्र के बाद जबरन अपने बच्चे को लेफ्ट हाथ से काम करना नहीं सिखाएंगे. हालांकि इसका ठीक उल्टा सच होता है. मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. तो हां, मैं पैदाइशी लेफ्ट-हैंडर हूं, हर लेफ्ट-हैंडर कि तरह.

बाएं का मतलब हमेशा नेगेटिव रहा है. हर बुरी, गंदी और नसुड्डी चीज को बाएं से जोड़ते हैं. और इसीलिए बाएं से जुड़ी हर चीज का अस्तित्व या तो होता ही नहीं है. या न के बराबर होता है. और ये तो हमारे कल्चर में साफ़-साफ़ दिखाई देता है. बाएं हाथ से किया गया काम शैतान का होता है. और हर अच्छी चीज दाहिने हाथ से. बाएं हाथ का काम टट्टी धोना होता है. और दाएं का पूजा करना. बस कंडक्टर को बोहनी के समय बाएं हाथ से पैसे दे दो, तो कहता है दाहिने से दो. अब दुनिया में ज्यादा लोग दाहिने हाथ से काम करते हैं, तो दाहिने हाथ को ही सबसे ज्यादा शुद्ध मान लिया गया.

समस्या सिर्फ विचारों पर ही ख़त्म नहीं होती. हमारी जीवनशैली में इस कदर हावी है, कि सारे प्रोडक्ट दाहिने हाथ वालों को ध्यान में रखकर बनाए जाते हैं. कैंची हो, चाकू, नेल कटर, कलम या फिर दरवाजों का हैंडल. हर चीज को यही मान कर बनाया जाता है कि इसे राइट-हैंडर यूज करेगा. ऐसे में बाएं-हत्थों के लिए एक ही विकल्प बचता है, समझौता.

क्लासरूम में होना बाएं-हत्था बच्चों के लिए बहुत बड़ी परेशानी होती है. इतनी, कि स्कूल उन्हें अपना दुश्मन लगने लगता है. अगर आप लेफ्टी हैं, और राईटी की बगल में बैठते हैं, मुमकिन हैं आपकी कुहनियां टकराएंगी. आपके दोस्त आपको देख कर मुस्कुराएंगे. और आपको ये महसूस होगा कि आप उनसे अलग हैं. फिर अगली बार वो आपको ‘लुक’ देंगे जिससे आपको खुद के बाएं-हत्था होने पर शर्मिंदगी महसूस हो. लेफ्टी बच्चे इसी सोच के साथ बड़े होते देखे जाते हैं, कि वो बाकी सभी दोस्तों से अलग हैं. और हो भी क्यों न. नोटबुक से लेकर डेस्क लगी कुर्सियों तक, कोई भी चीज उसके लिए नहीं बनी है.

बच्चों को दाहिने हाथ से काम करने के लिए मजबूर करना मां-बाप को एक सरल और शायद अनिवार्य काम लगता है. पर असल में उन्हें अंदाजा नहीं होता की वे अपने बच्चे के साथ कितना गलत कर रहे हैं. अगर नैसर्गिक रूप से बच्चे के बाएं हाथ में ज्यादा ताकत है. और आप उसे दाहिना हाथ यूज करने के लिए मजबूर करते रहें, तो बच्चा न इधर का रहता है, न उधर का. और उसके दोनों हाथ कमज़ोर रह जाते हैं. और अगर आप डॉक्टरों की मानें, तो 6 साल कि उम्र तक बच्चों के दोनों हाथों में बराबर ताकत होती है. 6 की उम्र के बाद ही वो ये जानना शुरू करते हैं कि किस हाथ से काम करेंगे.

बाएं हाथ से काम करने वाले, किसी भी तरह से दाएं हाथ वालों से अलग नहीं होते. बाएं हाथ वाले बेवकूफ होते हैं, जीनियस होते हैं, बुरे होते हैं, या अच्छे होते हैं. ये सब मिथक हैं.

लेकिन बाएं-हत्थों से होने वाला ये भेद-भाव सिर्फ बाकी दुनिया नहीं, खुद बाएं-हत्थे भी नॉर्मल मानते हैं. ये वही देश है जहां आज हम LGBTQ राइट्स की बात करते हैं. जब इतने सालों में हम अपने बाएं हाथ को नॉर्मल नहीं कर पाए. तो इन मुद्दों पर तो अभी मीलों चलना पड़ेगा.


वीडियो- हज में कुर्बान होने वाले इतने जानवर कहां से आते हैं और कहां चले जाते हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

यूपी का वो गैंगस्टर, जिसने रन आउट होते ही अंपायर को गोली मार दी

यूपी का वो गैंगस्टर, जिसने रन आउट होते ही अंपायर को गोली मार दी

फिल्मी कहानी से कम नहीं खान मुबारक की जिंदगी?

देश के 13वें उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू देश को इमरजेंसी की देन हैं

देश के 13वें उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू देश को इमरजेंसी की देन हैं

इन्होंने अटल के लिए सड़क बनाई थी और मोदी के लिए किले. अब उपराष्ट्रपति हैं.

मुख़्तार अंसारी, सुनहरा चश्मा पहनने वाला वो 'नेता' जो मीडिया के सामने बैठकर पिस्टल नचाता था

मुख़्तार अंसारी, सुनहरा चश्मा पहनने वाला वो 'नेता' जो मीडिया के सामने बैठकर पिस्टल नचाता था

गैंग्स्टर से नेता बने मुख़्तार अंसारी के क़िस्से सुनिए.

जैन हवाला केस क्या है, जिसके आरोपों के छींटे बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ के ऊपर पड़ रहे हैं

जैन हवाला केस क्या है, जिसके आरोपों के छींटे बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ के ऊपर पड़ रहे हैं

इस केस में आरोप लगने के बाद आडवाणी को इस्तीफा देना पड़ा था.

इलॉन मस्क, जिसे असल दुनिया का आयरन मैन कहा जाता है

इलॉन मस्क, जिसे असल दुनिया का आयरन मैन कहा जाता है

जो स्कूल में बच्चों से पिट जाता था, वो दुनिया के सबसे अमीर इंसानों की लिस्ट में कैसे पहुंचा.

मेसी: पवित्रता की हद तक पहुंच चुका एक सुंदर कलाकार

मेसी: पवित्रता की हद तक पहुंच चुका एक सुंदर कलाकार

दुनिया के सबसे धाकड़ लतमार के जन्मदिन पर एक 'ललित निबंध'. पढ़िए प्यार से. पढ़िए चपलता से.

जिदान को उस रोज़ स्वर्ग से निष्कासित देवता के आदमी बनने की खुशी थी

जिदान को उस रोज़ स्वर्ग से निष्कासित देवता के आदमी बनने की खुशी थी

सामने की टीम का लड़का उसकी कमीज खींच रहा था, इसने कहा चाहिए क्या मैच के बाद देता हूं..

संजय गांधी: जोखिम का इतना शौक कि चप्पल पहनकर ही प्लेन उड़ाने लगते थे

संजय गांधी: जोखिम का इतना शौक कि चप्पल पहनकर ही प्लेन उड़ाने लगते थे

23 जून 1980 को पेड़ काटकर उतारी गई थी संजय गांधी की लाश.

भगवान शिव से लेकर रामदेव तक... वक्त के साथ ऐसे बदले योग के रूप-स्वरूप

भगवान शिव से लेकर रामदेव तक... वक्त के साथ ऐसे बदले योग के रूप-स्वरूप

योग के योगा बनने की पूरी टाइमलाइन.

बाढ़ में पिता का मेडल बह गया था, लिएंडर पेस ने घर में मेडल्स की बाढ़ ला दी

बाढ़ में पिता का मेडल बह गया था, लिएंडर पेस ने घर में मेडल्स की बाढ़ ला दी

वो खिलाड़ी जो अपनी 'सबसे खराब' टेनिस खेलकर भी मेडल ले आया.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.