Submit your post

Follow Us

दुनिया का सबसे ताकतवर आदमी पुतिन डरता है रमजान से

12.58 K
शेयर्स

27 फ़रवरी 2015

रूस के विपक्ष के नेता बोरिस नेम्त्सोव अपनी मॉडल गर्लफ्रेंड के साथ मॉस्को के रेड स्क्वायर के पास डिनर डेट पर थे. बोरिस पुराने नेता, पुतिन के विरोधी. उम्र बढ़ते-बढ़ते 55 हो गई पर प्रेमिकाएं 23-24 की ही रहीं. डिनर के बाद दोनों मॉस्को नदी के ब्रिज पर टहलने लगे. ठण्ड का मौसम. कम लोग थे. ब्रिज के एक तरफ सेंट बेसिल कैथेड्रल चमक रहा था, दूसरी तरफ शहर की इमारतें. दोनों अंधेरे के आगोश में और रोशनी बहुत ही दूर.

collage 2
बोरिस नेम्त्सोव अपनी मॉडल गर्लफ्रेंड के साथ

तभी एक कार आई. तेजी में. एक आदमी उतरा. बाकी बैठे रहे. उतरा आदमी धीरे-धीरे चलता आया और नेम्त्सोव की पीठ में चार गोलियां दाग दीं. नेम्त्सोव गिर गए. उस आदमी ने तसल्ली से लाश को देखा और और टहलते हुए गाड़ी में बैठ गया. फिर गाड़ी निकल गई.

बोरिस की डेड बॉडी
बोरिस की डेड बॉडी

पुलिस ने एक हफ्ते के अन्दर चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया. वो आदमी निकले चेचेन्या के रमजान कादिरोव के. रमजान, रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन का ख़ास आदमी.

तो पुतिन अपने विरोधियों का मर्डर करवाने लगे? ये सवाल उठा हर जगह. पुतिन दबाव में आ गए. कहने वाले कहते हैं कि रूस में छोटे पंछियों का तो मर्डर हो सकता है. लेकिन बड़े-बड़े लोगों का तो बिना प्रेसिडेंट के कहे नहीं होगा. ऐसा माना जा रहा है कि पुतिन का इस घटना से कोई सम्बन्ध नहीं है. रमजान कादिरोव ने पुतिन को बाईपास करके इस हत्या को अंजाम दिया था.

कौन है ये रमजान कादिरोव?

39 साल का ये आदमी रमजान रशियन रिपब्लिक ऑफ़ चेचेन्या का नेता है. अपने आप को पुतिन का सबसे बड़ा भक्त बताता है. पुतिन के ही तिकड़म इस्तेमाल कर के वो चेचेन्या में बना हुआ है. ‘दुनिया के किसी भी नियम को दिल से तोड़ने’ की पुतिन की अदा का वो कायल है. यूक्रेन पर पुतिन के चढ़ाई करने का ड्रामा रमजान के लिए सपने जैसा था. अब वो चेचेन्या को रूस से आज़ाद करने की राह में है.

ramzan putin
रमजान और पुतिन साथ-साथ

चेचेन्या क्या है?

रूस के साउथ बॉर्डर पर एक छोटी सी जगह है चेचेन्या. हमारे मिजोरम से थोड़ी छोटी. 19वीं सदी में उस समय के सोवियत यूनियन ने इसे जीत लिया था. उसके बाद से ये रूस के लिए समस्या बना हुआ है. चेचेन लोग हर वक़्त रूस से झगड़ते रहते थे आज़ाद होने के लिए. 1991 में जब सोवियत यूनियन टूट गया तब चेचेन्या ने खुद को आज़ाद घोषित कर दिया. पर रूस को ये गवारा नहीं था.

1994 से 1996 के बीच दोनों में जबरदस्त लड़ाई हुई. रूस ने कुछ समय बाद पैर पीछे खींच लिए. 1999 में फिर दूसरी लड़ाई हुई. इस बार रशियन आर्मी ने चेचेन्या में कहर ढा दिया. चेचेन्या को रूस के कंट्रोल में ला दिया गया. वहां के शहर ग्रोज्नी को बर्बाद कर दिया गया. कुछ वक़्त तक सब कुछ शांत हो गया.

पुतिन का पालतू रमजान कादिरोव

फिर शुरू हुआ आतंकवाद. इससे निपटने के लिए रूस ने वही खेल खेला जो हर देश में खेला जाता है. पैसे और पावर का लालच दिखा के विद्रोहियों को तोड़ दिया गया. अखमद कादिरोव अपने साथी विद्रोहियों को छोड़ के रूस के साथ आ गया. पर 2004 में वो अपने पुराने साथियों के हाथों मारा गया. फिर उसका बेटा रमजान कादिरोव वहां का प्रधानमंत्री बना. अब वो पुतिन का आदमी था चेचेन्या में.

जहां पर हमेशा रूस से अलग होने के नारे लगाए जाते थे, वहां रमजान ने रूस की सत्ता फैला दी. रूस की चिंता अब कम हो गई थी. फिर चेचेन्या को भी फायदा होने लगा था. वहां का 80% बजट रूस से फाइनेंस होता है. बड़ी-बड़ी बिल्डिंगें आ गईं. चमकते मॉल. रमजान भी एक धनी आदमी बन गया. Lamborghini Reventón से चलता है. अपने मजे के लिए ‘प्राइवेट चिड़ियाघर’ भी रखा है.

Ramzan Kadyrov-TheIndependent
रमजान अपने मगरमच्छ के साथ

यूरोप और अमेरिका पुतिन को पहले से ही घेर रहे हैं. यूक्रेन वाले मुद्दे पर पुतिन को ‘डिक्टेटर’ और ‘कॉलोनियल माइंडसेट’ का बताया गया था वेस्टर्न मीडिया में. अब बोरिस नेम्त्सोव की हत्या के बाद कहा जाने लगा है कि पुतिन अपना आधा काम अपने ‘हिटमैन’ से करवाते हैं. चेचेन लोग मानते हैं कि चेचेन्या अभी भी पुलिस स्टेट है. चकमक-दकमक सब दिखावा है.

रमजान: अब पुतिन का डर

कयास लगाए जा रहे थे कि पुतिन रमजान के खिलाफ कोई एक्शन जरूर लेंगे. पर पुतिन चुप रहे. कहीं-न-कहीं ये डर था कि फिर रमजान चेचेन्या में चरस बो देगा. चेचेन्या में पुतिन कोई लड़ाई नहीं करना चाहते.

putin guardian
पुतिन बन्दूक ले के कुछ खोज रहे हैं

साइबेरिया के एक नेता ने रमजान को कह दिया: ये रूस का कलंक है. इस बात पर रमजान के लौंडे उसको समझाने साइबेरिया पहुंच गए. कि बोरिस नेम्त्सोव वाला हाल कर दिया जायेगा. फिर इन्स्टाग्राम पर रमजान ने अपने विपक्षी लोगों की ‘मॉर्फ़ तस्वीरें’ डालीं. सारे फोटोज में राइफल-बन्दूक कायदे से लगे हुए थे. रमजान आजकल अपनी हर बात इन्स्टाग्राम से ही कहता है.

वेस्टर्न मीडिया कहता है कि ये सारी अदाएं पुतिन की ही हैं. पुतिन NATO देशों के साथ यही करते हैं. उनको लगता है कि डिप्लोमेसी कमजोर लोगों की निशानी है. असली ताकत तो दिल में होती है.

रमजान ने फ़रवरी 2016 में कहा: अगर पुतिन चाहते हैं तो मैं अपना पद छोड़ दूंगा. परिवार में मन लगाऊंगा. या इस्लाम को अपना जीवन समर्पित कर दूंगा. मेरे को क्या करना है.

पर रूस के पंछी बताते हैं कि भीतर ही भीतर रमजान अपने यार-दोस्तों के लिए भी पैसे मांगने लगा है. बोरिस नेम्त्सोव के मर्डर के बारे में वो श्योर है कि कुछ नहीं होगा. सारा बवाल यूं ही है. धीरे-धीरे ये लगने लगा है कि पुतिन जिस शेर की सवारी कर रहे थे वो शेर आगे निकल चुका है. पुतिन रूस में हैं और शेर चेचेन्या में.

लादेन से लेकर बगदादी तक की सारी कहानी रमजान वाली ही है. हर जगह यही हुआ है. फिर भी नेता खुद को हर जगह चौधरी साबित करने के चक्कर में बार-बार भांग खा लेते हैं. कभी-कभी ऐसा लगता है कि नेताओं को जनता से बात करने में शर्मिंदगी लगती है. या फिर वो काम की बात ही करना भूल गए हैं. तभी तो जब भी जनता अपना मुंह खोलना चाहती है आर्मी पहुंच जाती है लट्ठ ले के. रमजान अब पुतिन को भारी पड़नेवाला है.


ये भी पढ़ें:

पुतिन के बारे में : वो जबराट नेता, जिसकी खोपड़ी भिन्नाट हो तो चार-छह आतंकी खुद ही निपटा दे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.