Submit your post

Follow Us

वो इकलौता मौका, जब पूरा मुल्क एक कातिल को बचाना चाहता था

46.10 K
शेयर्स

लंबा कद. ठुसा हुआ कसीला बदन. सफेद रंग की ड्रेस पहनता और खामोश आंखें लिए निकलता, तो देखने वालों की जुबां बत्तीसी के अंदर पड़ी-पड़ी मुड़ने लगती. नेवी कमांडर कवस मानेकशॉ नानावटी. मुल्क की खातिर समंदर पर महीनों ड्यूटी पर तैनात रहता. वो साल 1959 था. कमांडर नानावटी बॉम्बे (मुंबई) में अपने घर लौटता है. तीन प्यारे बच्चों की खूबसूरत आंखों वाली मां और अपनी वाइफ सेल्विया से मिलता है.

मुलाकात का मिजाज इश्क से कुछ महरूम रहता है. नानावटी को अखरता है. सेल्विया को प्यार हो गया था, मगर किसी और से. बॉम्बे के अय्याश बिजनेसमैन प्रेम आहूजा से. खामोश आंखों से नानावटी अपने घर से निकल जाता है. साथ में सेल्विया और बच्चों को ले जाकर सिनेमा हॉल छोड़ देता है. कहता- तुम लोग फिल्म देखो. मैं आता हूं.

नानावटी हॉल से सीधा जाता है नेवल हेडक्वार्टर. सर्विस रिवॉल्वर इश्यू करवाकर सीधा पहुंचता है बॉम्बे की मालाबार हिल्स के पास जीवन ज्योति बिल्डिंग. प्रेम आहूजा के अपार्टमेंट. नानावटी प्रेम आहूजा के बैडरूम में जाता है. कुछ देर बाद बाहर काम कर रहे नौकर कांच टूटने की आवाज के साथ तीन गोलियों की गूंज सुनकर अंदर दौड़ पड़ते हैं. टॉवल और खून से सना प्रेम आहूजा फर्श पर पड़ा हुआ था. प्रेम आहूजा की बहन मैमी नानावटी को चौंकी सवालिया आंखों से देखती है. नानावटी बिना जवाब दिए घर के सिक्योरिटी गार्ड से निकलते वक्त कहता, ‘मैं सरेंडर करने पुलिस के पास जा रहा हूं.’

vikas2 (2)
किस्सा यहां से खत्म नहीं, शुरू होता है. इंडियन हिस्ट्री का सबसे यादगार दिलचस्प केस. कमांडर नानावटी केस, जिस में उस वक्त के प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू को भी दिलचस्पी रही. ये केस ज्यूरी ट्रायल, बॉम्बे सेशन कोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक लड़ा गया. कोर्ट समेत सब ने माना कि नानावटी ने आहूजा को मारा. खुद नानावटी ने भी. लेकिन उतने ही लोगों ने कहा- वो दोषी नहीं है. लेकिन सबने चाहा कि उसे रिहा किया जाए. नेहरू की बहन और तत्कालीन बॉम्बे गर्वनर विजय लक्ष्मी पंडित से लेकर बाद में खुद प्रेम आहूजा की बहन तक. कोर्ट के बाहर खड़ी सैकड़ों की भीड़ मर्डर के दोषी नानावटी की रिहाई की दुआ करते. नानावटी उस वक्त का हीरो बन चुका था.

films on nanavati

नानावटी केस इतना दिलचस्प रहा कि कई फिल्में बनीं. किताबें लिखी गईं. 1963 में आई ‘ये रास्ते हैं प्यार के’ और ‘अचानक’. सलमान रूश्दी जैसे बड़े राइटर्स ने ‘मिडनाइट्स चिल्ड्रन’  में इस इंसीडेंट पर अपनी किताब में एक चैप्टर लिखा. अक्षय कुमार की फिल्म ‘रुस्तम’ भी पूरी तरह से नानावटी केस पर बेस्ड है. पर ये तो बात हुई नानावटी केस और उसके पब्लिक सपोर्ट की. हम आपको बताते हैं उस केस की पूरी डिटेल्स. क्यों और कैसे एक गुनहगार कमांडर के किए मर्डर को देशभक्ति से जोड़ा गया. और उसे बचाने के लिए ज्यादातर सब एक ही हमाम में नजर आए.


तारीख: 27 अप्रैल 1959, पुलिस स्टेशन, बॉम्बे

कमांडर नानावटी: मैंने एक आदमी को गोली मारी.
इंस्पेक्टर लोबो: वो मर चुका है. मुझे अभी गामदेवी पुलिस स्टेशन से ये मैसेज मिला. कमांडर नानावटी, क्या आप चाय पिएंगे?
कमांडर नानावटी: बस एक ग्लास पानी.

केएम नानावटी इंडियन नेवी में लेफ्टिनेंट कमांडर था. पारसी कम्युनिटी से बिलॉन्ग करता था. सेल्विया इंग्लैंड में पली बढ़ी खूबसूरत औरत. नानावटी से साल 1949 में इग्लैंड में मुलाकात हुई. शादी हुई. दोनों के तीन बच्चे हुए. दो बेटे एक बिटिया.

कब शुरू हुआ ट्रायल?

23 सितंबर 1959. खचाखच भरे डिस्ट्रिक और सेशन कोर्ट में केस की सुनवाई शुरू हुई. जज थे आरबी मेहता. ये केस सबसे पहले ज्यूरी में चला. ज्यूरी में कुल 9 मेंबर थे. दो पारसी, एक एंग्लो इंडियन, एक क्रिश्चियन और पांच हिंदू. सरकार की तरफ से चीफ पब्लिक प्रोसिक्यूटर सी. एम त्रिवेदी ने नानावटी पर प्रेम आहूजा की इरादतन हत्या का चार्ज लगाया. डिफेंस की तरफ से फेमस क्रिमिनल लॉयर कार्ल जे खंडालावाला केस लड़ रहे थे. ये पूरा ट्रायल एक महीने चला. ज्यूरी मेंबर्स क्राइम सीन वाली जगह तक गए.

ज्यूरी यानी कोर्ट की ओर से किसी केस की  सुनवाई के लिए चुने गए लोग. ये सोसाइटी के जानेमाने लोग होते थे, जिनके सामने किसी केस की सारी दलीलें रखी जाती. इसके बाद ज्यूरी उस केस का फैसला सुनाती. नानावटी केस के बाद किसी भी केस में ज्यूरी ने कभी कोई सुनवाई नहीं की.

आहूजा के वकीलों ने कहा, नानावटी ने प्लान कर मर्डर किया था. सबूत पेश किए गए. 24 गवाहों की गवाही हुई. जिन इंस्पेक्टर लोबो के सामने नानावटी ने सरेंडर किया था, उनकी गवाही भी हुई. लेकिन लोबो के सामने नानावटी के कबूलनामे को ज्यूरी के सामने इसलिए भी नहीं माना गया, क्योंकि गवाही मैजेस्ट्रियल सुपरविजन में नहीं हुई थी. लोबो ने कोर्ट में लिखकर कहा:

‘नानावटी ने जब सरेंडर किया, तब उन्होंने अपनी ऑफिस ड्रेस पहने हुई थी. सफेद ड्रेस. इस ड्रेस में खून का एक भी धब्बा नहीं था.’

लोबो के इस बयान के बारे में आहूजा का केस लड़ रहे वकीलों ने कहा, ‘ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि नानावटी ने आहूजा को जानबूझकर दूर से मारा, ताकि कोई सबूत न रह जाए.’ डिफेंस के वकीलों ने कोर्ट में तमाम सबूत पेश किए, कि प्रेम आहूजा की मौत महज एक हादसा थी. नानावटी की तरफ से सेल्विया ने भी कोर्ट में गवाही दी. मंजर कोर्ट का कुछ यूं था कि दो दिन नानावटी विटनेस बॉक्स में खड़ा रहा.


 

सेल्विया और नानावटी ने कोर्ट में कहा:

मर्डर का लव ट्रॉयंगल

‘मैंने प्रेम आहूजा को इरादतन नहीं मारा. हां मैं प्रेम आहूजा के पास गया था. ताकि उससे पूछ सकूं कि क्या वो मेरी पत्नी सेल्विया से शादी करेगा. और मेरे बच्चों का ख्याल रखेगा. क्योंकि मेरी वाइफ सेल्विया को उससे प्यार हो गया था. लेकिन प्रेम आहूजा ने बात करने की बजाय झगड़ना शुरू कर दिया. प्रेम आहूजा ने मेरे सवालों के जवाब में कहा, ‘क्या मैं हर उस औरत से शादी कर लूं, जिनके साथ मैं बिस्तर पर सोया हूं. गेट आउट फ्रॉम हेयर.’ इसके बाद हम दोनों में झड़प हो गई. दोनों की झड़प में रिवॉल्वर लिफाफे समेत नीचे गिर गई. मैंने जल्दी से रिवॉल्वर उठा ली. प्रेम मुझसे रिवॉल्वर छीनने लगा, इसी झड़प के दौरान दो गोलियां चली. अगर मैं सच में प्रेम आहूजा को मारना चाहता तो मैं उसे तब ही गोलियों से छलनी कर देता, जब वो ड्रेसिंग टेबल के सामने खड़ा था.’ – नानावटी, विटनेस बॉक्स में

आहूजा के साथ जब तक मैं फिजिकल नहीं हुई थी, तब तक वो हमेशा वादे करता था कि वो मुझसे शादी करेगा. लेकिन जब हम दोनों ने सेक्स कर लिया. उसके बाद वो अपनी बात से पलट गया. प्रेम आहूजा से मेरे रिलेशन के बारे में जब मैंने नानावटी को बताया तो उसने मुझसे पूछा कि क्या वो शादी करेगा. मेरे पास इस बात का जवाब नहीं था. मैं चुप थी. नानावटी ने मुझसे कहा कि वो आहूजा से मेरे बारे में बात करने जा रहा है कि क्या वो तुम्हें अपनाएगा. मैंने नानावटी से बहुत कहा कि वो ऐसा न करे, आहूजा तुम्हें गोली मार देगा. लेकिन वो नहीं माना. और कहा- तुम मेरी फिक्र मत करो. ये अब मायने नहीं रखता. वैसे भी मैं खुद को मार दूंगा. जब मेरे पति नानावटी ने ऐसा कहा तो मैंने उसकी बांहें पकड़कर उसे रोकने की कोशिश करते हुए कहा- तुम्हारी कोई गलती नहीं है, तुम खुद को क्यों मारोगे.- सेल्विया

vikas

ज्यूरी और बाद में कोर्ट में सेल्विया और नानावटी ने बारी बारी से ये बयान दिया. नानावटी से पब्लिक प्रोसिक्यूटर ने पूछा, अगर आप प्रेम आहूजा को इरादतन नहीं मारना चाहते थे, तो क्यों आपने अपनी सर्विस रिवॉल्वर इश्यू करवाई. नानावटी ने इसके जवाब में कहा,

‘मैं खुद की जान लेना चाहता था, इसलिए मैंने सर्विस रिवॉल्वर इश्यू करवाई.’


नानावटी का जलवा
केस की सुनवाई के दौरान नानावटी की दीवानगी हर तरफ थी. कोर्ट की गैलरी में लड़कियां सज धज कर आती थीं. द न्यू यॉर्कर की जर्नलिस्ट एमिली हाहन के मुताबिक, लड़कियां केस की सुनवाई के लिए ऐसे सजकर आतीं, जैसे ओपेरा जा रही हों. मैडल और सफेद नेवी ड्रेस में कमांडर नानावटी कमाल लगता था. लोग नानावटी से मुहब्बत करने लगे थे.

सनकी, जिद्दी, धाकड़ Blitz एडिटर: करंजिया
रूसी के करंजिया. अमीर पारसी परिवार में पैदा हुए. टाइम्स ऑफ इंडिया के लिए ‘लेटर्स टू द एडिटर’ लिखते. पेपर के एडिटर को लेखनी बढ़िया लगी तो नौकरी के लिए बुला लिया. ट्रेनिंग के लिए लंदन भेजा. इंडिया लौटे तो पेपर छोड़ दिया. साल 1941 में एक टैबलॉयड शुरू किया. नाम रखा Blitz. नानावटी केस में खुल्लम खुल्ला स्टैंड लेने वाला इकलौता अखबार.

2

Blitz शुरू होने के कुछ वक्त बाद ही काफी फेमस हो गया था. Blitz वीकली पेपर था, इसके बावजूद नानावटी केस की जैसी कवरेज Blitz ने की, कोई दूजा अखबार नहीं कर पाया. करंजिया ने अखबार में चार-चार पन्ने नानावटी केस की कवरेज पर छापे. नानावटी के लिए करंजिया ने खुलकर स्टैंड लिया. बिना किसी परवाह के.

nanawati case for defence

फोटो फीचर लगाने के साथ सेल्विया के प्रेम आहूजा और कमांडर नानावटी के लिए लोगों की दीवानगी को Blitz ने खूब परोसा. बताते हैं कि Blitz ने नानावटी केस की ऐसी कवरेज करी कि शनिवार को आने वाले इस अखबार को खरीदने के लिए लोग शुक्रवार को ही न्यूजपेपर स्टैंड पर जुट जाते थे. 25 पैसे का ये अखबार उस दौर में 2 रुपये तक बिका है.

ahuja room


डिफेंस बनाम प्रोसिक्यूशन

नानावटी के वकील कार्ल खंडालावाला ने ज्यूरी के सामने कहा, ‘प्रेम आहूजा की मौत बस एक हादसा है. नानावटी के खिलाफ एक भी पुख्ता सबूत नहीं है. कमांडर नानावटी ने इस देश के कानून, भगवान की नजर में कोई अपराध नहीं किया है. मैं किसी दया या सिम्पेथी की उम्मीद नहीं करता हूं. मैं बस चाहता हूं कि फैक्टस के आधार पर फैसला हो.’

प्रेम आहूजा और सरकार की तरफ से केस लड़ रहे वकील त्रिवेदी ने कहा, सबूत ये साफ कह रहे हैं कि नानावटी ने जानबूझकर प्रेम आहूजा का मर्डर किया. सारे सबूत नानावटी के खिलाफ हैं. लेकिन इस केस की एक्सपशनल सर्कमस्टेंशस को देखते हुए ज्यूरी नानावटी को गिल्टी करार देने का फैसला वापस ले सकती है.’

vikas3

तारीख 21 अक्टूबर 1959. जज ने ज्यूरी से फैसला सुनाने के लिए कहा. शाम के साढ़े चार बज रहे थे. ज्यूरी ने कुछ वक्त मांगा. घंटे बीते. लोगों की भीड़ बढ़ी. ज्यूरी शाम को साढ़े सात बजे लौटी और फैसला सुनाया:

‘कमांडर नानावटी मर्डर के दोषी नहीं हैं, नॉट गिल्टी.’

ज्यूरी ने प्रेम आहूजा की इरादतन हत्या करने के आरोप को भी खारिज किया. इस फैसले के पक्ष में ज्यूरी के 9 में से 8 मेंबर रहे. कोर्टरूम में तालियां बजने लगी. सब चहकने लगे. लेकिन कुछ देर बाद ही सेशन कोर्ट जज मेहता ने एक बात कही, जिससे मंजर में खामोशी छा गई. जज मेहता ने ज्यूरी के फैसले के बावजूद केस को बॉम्बे हाईकोर्ट में रेफर कर दिया. कहा- इंसाफ के लिए ये जरूरी है.


हाईकोर्ट में नानावटी केस
हाईकोर्ट में नानावटी केस में डिफेंस की सारी दलीलें काम नहीं आईं. हाईकोर्ट में कमांडर नानावटी घिरते नजर आए. हाईकोर्ट में नानावटी को दोषी माना गया. आगे केस सुप्रीम कोर्ट गया, वहां भी हाईकोर्ट के फैसले को बरकरार रखा गया. नानावटी को जेल भेज दिया गया.

मुंबई के गवर्नर ने इंडिया के संविधान का हवाला देते हुए कहा कि नानावटी केस की नेवल कस्टडी पेंडिंग है, सुप्रीम कोर्ट में इसको लेकर याचिका भी दायर की हुई. तब के प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने नेवी चीफ की अपील और लॉ मिनिस्ट्री की क्लीयरेंस मिलने पर गर्वनर को नानावटी की सजा सस्पेंड करने और रिमांड नेवी को सौंपने की सलाह दी. Blitz ने नानावटी को माफी देने को लेकर फ्रंट पेज पर लगभग कैंपेन सा चला दिया. लोग नानावटी को माफ करने की अपील करने लगे.

बता दें नानावटी पारसी कम्युनिटी से था. और प्रेम आहूजा सिंधी. ऐसे में नानावटी को रिहा करने को लेकर एक पॉलिटिकल डर ये भी था कि कहीं सिंधी बुरा न मान जाएं. लेकिन तभी एक सिंधी ट्रेडर भाईप्रताप को फर्जी लाइसेंस मामले में जेल हो गई. भाईप्रताप को सिंधियों का सपोर्ट था. भाईप्रताप की रिहाई की मांग की जाने लगी. तर्क दो दिए गए. क्राइम छोटा है और दूजा फ्रीडम फाइटर बैकग्राउंड.

उधर, प्रेम आहूजा की बहन मैमी ने लिखित में नानावटी को माफ करने के लिए अपील की. मैमी ने कहा कि उसे नानावटी के रिहा होने से कोई दिक्कत नहीं है. दोनों पार्टियों के बीच समझौते की बात की जाने लगी. तब काम आए वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी. जेठमलानी ने दोनों ग्रुप्स के बीच समझौता कराया. तब मुंबई की गवर्नर थीं नेहरू की बहन विजयलक्ष्मी पंडित. गवर्नर विजयलक्ष्मी पंडित ने एक ही दिन नानावटी और भाईप्रताप को जेल से रिहा कर दिया. तारीख थी 17 मार्च 1964. तीन साल से कम वक्त जेल में रहने के बाद नानावटी जेल से रिहा हो चुका था.

कुछ वक्त मुंबई में रहने के बाद नानावटी फैमिली के साथ कनाडा शिफ्ट हो गए. और फिर कभी नहीं लौटे. साल 2003 में कमांडर नानावटी की मौत हो गई.


ये भी पढ़ें

प्रोतिमा बेदी की न्यूड पिक्चर का वो झूठ, जो आपको हर साल हर मीडिया बताता है

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.