Submit your post

Follow Us

दुनिया को करेंसी का मुंह दिखाने वाला तुगलक भोंदू तानाशाह नहीं था

केजरीवाल ऑड ईवेन लाए. बीजेपी वालों ने कहा तुगलकी फरमान. कांग्रेस मोदी को तुगलक कहती है. इस तरह सब एकदूसरे को तुगलक बुलाते हैं. क्योंकि भारत में डेमोक्रेसी है. और तुगलक था बादशाह, उस वक्त प्रजातंत्र नाम की चिड़िया ने उड़ान नहीं भरी थी. तुगलक माने दिल्ली सल्तनत का सुल्तान मोहम्मद बिन तुगलक. इसने राज किया चौदहवीं सदी में. 1324 से 1351 तक. जिसे ‘भारतीय इतिहास का सबसे मूर्ख सुल्तान’, ‘भारत का सबसे बदकिस्मत सुल्तान’ और न जाने क्या क्या कहा गया है. ये बेचारा सुल्तान बदकिस्मत तो था लेकिन मूर्ख नहीं. पॉपुलर ट्रेडिशन में तो जनाब की इमेज बहुत ख़राब हो चुकी है. असलियत तो यह है कि तुगलक में कई अच्छी क्वालिटीज़ थीं. दर्शन, धर्मशास्त्र, calligraphy, इतिहास, सहित बहुत सारे विषयों में उसकी पकड़ काफी मजबूत थी. वह लीक से हटकर नयी योजनाएं लाने, और हर चीज़ को नए नजरिये से देखने में यकीन करता था. मोहम्मद बिन तुगलक जब सुल्तान बना तो आम जनता का पूरा समर्थन उसके साथ था. मगर धीरे धीरे जब एक एक कर उसकी सारी योजनाएं फ्लॉप होने लगीं तो जनता का विश्वास उठ गया. चलो बात करते हैं उन योजनाओं की, जिनके कारण तुगलक को नकारा सुल्तान कहा गया.

राजधानी बदलने की योजना

devgiri

मोहम्मद बिन तुगलक की पहली योजना थी दिल्ली से बदल कर देवगिरी (जिसे बाद में दौलताबाद नाम दिया गया) को राजधानी बनाना. आमतौर पर ये माना जाता है कि आनन-फानन में लिए इस फैसले के बाद उसने पूरी पब्लिक को बिना सोचे-समझे दिल्ली से देवगिरी भेज दिया, जिसमें काफी लोग मारे गए. जबकि सुल्तान मोहम्मद ने यह फैसला बहुत सोच समझ कर और इकॉनमी गड़बड़ाने के कारण लिया था. दरअसल मुल्तान और सिंध से जुड़े दिल्ली के बिजनेस में भारी मंदी चल रही थी. दिल्ली से अलग एक पॉलिटिक्स और इकॉनमी का अड्डा बनाना जरूरी था. देवगिरी को ही चुनने कि ख़ास वजह यह थी कि साउथ स्टेट्स से बाकी प्रदेशों की दूरी ज़्यादा थी. सल्तनत बचाने के लिए वो दूरी खत्म करना बहुत जरूरी था. सुल्तान ने खास तौर पर राजनैतिक रूप से ऊंचा रुतबा रखने वालों को ही देवगिरी भेजा था. हाँ, भरी गर्मी में कुछ लोगों पर बसी बसाया घर परिवार छोड़कर जाने को मजबूर करना एक खतरनाक कदम था. सूफी संतों को वहां भेज कर सुल्तान साउथ के इलाकों को सांस्कृतिक रूप से नज़दीक लाना चाहता था लेकिन हुआ कुछ और ही. दिल्ली में सूफी संत आम लोगों के बहुत करीब आ चुके थे और उनका वहां न रहना दिल्ली को कतई मंज़ूर नहीं था. जब सुल्तान को लगा कि ये प्लान चौपट हो गया तो राजधानी बदलने के ऑर्डर्स वापस ले लिए.

आधुनिक करेंसी तुगलक ने चलाई थी

coins

दूसरी बड़ी योजना थी टोकन करेंसी. सोने और चांदी के सिक्कों के ज़माने में टोकन मुद्रा के बारे में सोचना एक बहुत बड़ा कदम था. यह योजना अपने समय से बहुत आगे थी. टोकन करेंसी का मतलब तो समझते ही हो. जैसे आजकल के सिक्के और नोट. यानी जब सिक्के पर लिखा रेट उसके खुद के रेट से ज्यादा हो. ऐसी करेंसी शुरू करने के कुछ नियम व शर्ते होती हैं.

1: करेंसी जारी करने वाली संस्था सोना और चांदी अपने पास रिज़र्व रखे.
2: जो करेंसी उसने बनाई है उसे खुद भी उसी कीमत पर स्वीकार करना होगा.
3: नोट या सिक्के ऐसे हों जिनकी नकल न की जा सके. नहीं तो घर घर नोट छपेंगे.

आज के समय में पूरी दुनिया यही तरीका अपना चुकी है. जिसका पहली बार जुगाड़ किया था तुगलक ने. सुल्तान के ऐसा करने की वजह थी. मार्केट में सोना और चांदी बहुत कम बचा था. अगर उससे ही बिजनेस किया जाता तो इकॉनमी का सत्यानाश हो जाता. इस समस्या से निपटने के लिए ये तरीका बहुत कारगर था लेकिन लोग इसके लिए तैयार नहीं थे. उनको पता ही नहीं था कि इस स्कीम का कॉन्सेप्ट क्या है. कुछ खामी सिक्के बनाने वालों से हुई. मार्केट में नकली सिक्कों की बाढ़ आ गई. उस दौर में सोने या चांदी के सिक्कों की भी जांच की जाती थी. लेकिन पब्लिक ने इन सिक्कों को परखने का जरा भी रिस्क नहीं उठाया. फिर वही हुआ जो नए नवेलों के साथ होता है. तुगलक को सिक्के वापस लाकर अपने खजाने में जमा करने पड़े और उसी रेट पर सोने चांदी से बिजनेस करने की मजबूरी गले आ पड़ी. इकॉनमी की बधिया बैठ गई.

सूखे में जनता के लिए खाना मुफ्त कर दिया था

tughlaq raj
इसके कुछ समय बाद ही सल्तनत का बड़ा हिस्सा सूखे की चपेट में आ गया. माना जाता है कि सुल्तान ने इस स्थिति में ही दोआब इलाके में टैक्स बढ़ा दिया. लेकिन बात इतनी सीधी नहीं है. तुगलक के सुल्तान बनते ही पिछले सुल्तान के वक़्त से चली आ रहीं मुश्किलें और अंदरूनी खींच- तान खुले तौर पर सामने आने लगीं. एक के बाद एक राज्य बगावत होने लगी. जिनसे जूझने के लिए चुस्त दुरुस्त फौज की जरूरत थी. फौज को बढ़ाने और तकनीकी से लैस करने में खाजाना खतम हुआ जा रहा था. मुश्किल ये थी कि इस स्थिति में अर्थव्यवस्था संभाली कैसे जाए. लेकिन सुल्तान ने हिम्मत नहीं हारी. सूखे से परेशान प्रजा को को कुछ समय के लिए अनाज और अन्य ज़रुरत की चीज़ें मुफ्त या कम दाम में बांटी थी.

इतनी सारी राजनीतिक और आर्थिक समस्याओं के बीच और योजनाएं फेल होने के बावजूद तुगलक सल्तनत को कंट्रोल करने में कामयाब रहा. दिल्ली के किसी दूसरे सुल्तान ने अपने जीवन के इतने साल जंग के मैदान पर नहीं बिताये जितने इस बदकिस्मत सुल्तान ने. कार्यकाल बहुत विवादित रहा तुगलक का, लेकिन फिर भी इतिहास लिखने वालों ने उसकी दूरदृष्टि और समझदारी की खूब तारीफ की है. तो अब किसी भी ऊटपटांग आदमी को तुगलक कहने से पहले सोच लेना.


ये स्टोरी हमारी टीम के साथ इंटर्नशिप कर रहीपारुल ने लिखी है. आपके पास भी हिस्ट्री से जुड़े मजेदार किस्से हों, या इतिहास के किसी अनोखे इंसान के बारे कुछ जानकारी हो या जानकारी चाहते हों तो हमें मैसेज करें.

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

Lefthanders Day: बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

Lefthanders Day: बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मेरा बाएं-हत्था होना लोगों को चौंकाता है. और उनका सवाल मुझे चौंकाता है.

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.