Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

आज़ादी की लड़ाई लड़ा वो पहाड़ी गांधी जिसके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं

370
शेयर्स

हिमाचल प्रदेश का जिला कांगड़ा. तहसील ज्वालामुखी. साल 1983. 20 जून की दोपहरी को 10 साल का एक लड़का कपिल देव को भारत का पहला क्रिकेट वर्ल्ड कप उठाते देखना चाहता था. दूर-दूर तक टीवी नहीं थे. पता चला कि पास के एक गांव में एक टीवी है. वो घर पर बिना बताए मैच देखने चला गया. लौटते हुए ऐसा महसूस हुआ मानो वो ही वर्ल्ड कप जीतकर लौट रहा हो. मगर यहां पिता की बेंत इंतजार कर रही थी. उन्होंने मैच देखने जाने के जुर्म में लड़के को बरामदे में उल्टा करके लटका दिया. नीचे लाल मिर्च का धुंआ लगाकर खूब पीटा. इससे ज्यादा बड़ी सज़ा और क्या हो सकती थी. मगर इस लड़के को उसमें भी एक तरह की खुशी मिल रही थी. खुशी इसलिए क्योंकि उसके दिमाग में उस वक्त एक किस्सा दौड़ रहा था.

किस्सा जो उसने अपनी तीसरी क्लास की किताब में पढ़ा था. उसमें लिखा था कि अंग्रेज स्वतंत्रता सेनानियों को कोड़े मारकर पीटते थे. इस तरह की यातनाएं अंग्रेंजों ने हिमाचल के एक स्वतंत्रता सेनानी को दी थीं. अंग्रेजों ने उन्हें उल्टा लटकाकर मिर्ची का धुंआ दिया था. और तो और बर्फ की सिल्लियों पर लिटाकर लात-घूंसे मारे थे. पिता की ये मार 10 साल के वीरेंद्र के आगे कुछ नहीं थी. वो सेनानी और कोई नहीं, हिमाचल का पहाड़ी गांधी था. वो पहाड़ी गांधी जिसने अपनी आखिरी सांस तक घूम-घूम कर लोगों में आजादी के लिए दीवानगी पैदा की.

10 साल के वीरेंद्र, अब 45 साल के वीरेंद्र शर्मा ‘वीर’ हो चुके हैं और हिमाचल में बाबा कांशीराम की भूली-बिसरी विरासत को संभालने और संजोने में लगे हैं. 11 जुलाई को कांशी राम के जन्मदिन पर दी लल्लनटॉप भी एक कोशिश कर रहा है इस स्वतंत्रता सेनानी की जिंदगी की एक झलकी आप तक लाने की.

भारत मां जो आजाद कराणे तायीं
मावां दे पुत्र चढ़े फांसियां
हंसदे-हंसदे आजादी दे नारे लाई..

मैं कुण, कुण घराना मेरा, सारा हिन्दुस्तान ए मेरा
भारत मां है मेरी माता, ओ जंजीरां जकड़ी ए.
ओ अंग्रेजां पकड़ी ए, उस नू आजाद कराणा ए..

कांशीराम जिन्द जवाणी, जिन्दबाज नी लाणी
इक्को बार जमणा, देश बड़ा है कौम बड़ी है.
जिन्द अमानत उस देस दी

जब हिंदुस्तान में आजादी के लिए नारे लग रहे थे, मुल्क इंकलाब जिंदाबाद बोल रहा था, दूर पहाड़ों में एक मामूली सा इंसान अपनी पहाड़ी भाषा और पहाड़ी लहजे में देशभक्ति की धुन जमा रहा था. वो गांव-गांव घूमकर अपने लिखे लोकगीतों, कविताओं और कहानियों से अलख जगा रहा था. वो हिमाचल के एक एक इंसान तक पहुंच कर उसे आजादी के आंदोलन से जोड़ रहा था. नाम कांशी राम. कांगड़ा जिले में देहरा तहसील के डाडासिबा गांव से निकले कांशी ने पहली बार पहाड़ी बोली को लिखा और गा-गाकर लोगों को नेशनल मूवमेंट से जोड़ा.

Kanshi Ram1
कांग्रेस के वॉलेंटेयर्स के साथ बाबा कांशी राम (बीच में बैठे हुए)

11 जुलाई 1882 को लखनू राम और रेवती देवी के घर पैदा हुए कांशी की शादी 7 साल की उम्र में हो गई थी. उस वक्त पत्नी सरस्वती की उम्र महज 5 साल थी. अभी 11 साल के ही हुए तो पिता की मौत हो गई. परिवार की पूरी जिम्मेदारी सिर पर थी. काम की तलाश में वो लाहौर चले गए. यहां गए तो कुछ काम धंधा तलाशने थे, मगर उस वक्त आजादी का आंदोलन तेज हो चुका था और कांशी के दिल दिमाग में आजादी के नारे रह-रह कर गूंजने लगे थे. आज़ादी की तलब ने यहां मिलवाया दूसरे स्वतंत्रता सेनानियों से. इनमें लाला हरदयाल, भगत सिंह के चाचा सरदार अजीत सिंह और मौलवी बरक़त अली शामिल थे. संगीत और साहित्य के शौकीन कांशी की मुलाकात यहां उस वक्त के मशहूर देश भक्ति गीत ‘पगड़ी संभाल जट्टा’ लिखने वाले सूफी अंबा प्रसाद और लाल चंद ‘फलक’ से भी हुई जिसके बाद कांशीराम का पूरा ध्यान आजादी का लड़ाई में रम गया.

सालों से बाबा कांशी राम के जीवन के पहलुओं पर नजर रखने वाले वीरेंद्र शर्मा कहते हैं कि कांशी राम बहुत पहले ये बात भांप गए थे कि संगीत सबको बांधता है. संगीत के जरिए अनपढ़ से अनपढ़ इंसान तक पहुंचा जा सकता है. इसके लिए उन्होंने लाहौर की धोबी घाट मंडी में रहते हुए गाना सीखा अपनी बातों को लोगों तक अपनी बात पहुंचाने के लिए गाना शुरू किया. वो पहाड़ी भाषा में लिखते और गाने थे. वो कभी ढोलक तो कभी मंजीरा लेकर गांव-गांव जाते और अपने देशभक्ति के गाने और कविताएं गाते थे.”

साल 1905 में कांगड़ा घाटी भूकंप से तबाह हो गई. 7.8 की तीव्रता वाले उस ज़लज़ले में करीब 20 हजार लोगों की जान गई, 50,000 मवेशी मारे गए. उस वक्त लाला लाजपत राय की कांग्रेस कार्यकर्ताओं की एक टीम लाहौर से कांगड़ा पहुंची जिसमें बाबा कांशी राम भी शामिल थे. कांशी ने गांव-गांव जाकर भूकंप से प्रभावित लोगों की मदद की. यहां से उनकी लाजपत राय से नजदीकियां बढ़ीं. वो आजादी की लड़ाई में और सक्रिय हो गए. मगर 1911 में वो जब दिल्ली दरबार के उस आयोजन को देखने पहुंचे जहां किंग जॉर्ज पंचम को भारत का राजा घोषित किया गया था, कांशी राम ने ब्रिटिश राज के खिलाफ अपनी लेखनी को और धारदार बना लिया.

1919 में जब जालियांवाला बाग हत्याकांड हुआ, कांशीराम उस वक्त अमृतसर में थे. यहां ब्रिटिश राज के खिलाफ आवाज बुलंद करने की कसम खाने वाले कांशीराम को 5 मई 1920 को लाला लाजपत राय के साथ दो साल के लिए धर्मशाला जेल में डाल दिया गया. इस दौरान उन्होंने कई कविताएं और कहानियां लिखीं. खास बात ये कि उनकी सारी रचनाएं पहाड़ी भाषा में थीं. सजा खत्म होते ही कांगड़ा में अपने गांव पहुंचे और यहां से उन्होंने घूम-घूम कर अपनी देशभक्ति की कविताओं से लोगों में जागृति लानी शुरू कर दी. बाबा कांशीराम के बारे में पालमपुर से लेखक सुशील कुमार फुल्ल बताते हैं, “पालमपुर में एक जनसभा हुई थी और उस वक्त तक कांशीराम को भाषायी जादू और प्रभाव इतना बढ़ चुका था कि उन्हें सुनने हजारों लोग इकट्ठा हो गए. ये देख अंग्रेजी हुकूमत ने उन्हें फिर से गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया. इस तरह वो 11 बार जेल गए और अपने जीवन के 9 साल सलाखों के पीछे काटे. जेल के दौरान उन्होंने लिखना जारी रखा. 1 उपन्यास, 508 कविताएं और 8 कहानियां लिखीं.”

Kanshi Ram4
508 में से 64 कविताएं छपी हैं, बाकी संदूकों में पड़ी धूल खा रही हैं.

आज़ादी के दीवाने और पहाड़ी भाषा की उन्नति के प्रति अनुराग रखने के कारण कांशी राम अपनी मातृभाषा में लगातार लिखते रहे. उनकी प्रसिद्ध कविता है- ‘अंग्रेज सरकार दा टिघा पर ध्याड़ा’ (अंग्रेज सरकार का सूर्यास्त होने वाला है). इसके लिए अंग्रेज सरकार ने उन्हें एक बार फिर गिरफ्तार कर लिया था मगर राजद्रोह का मामला जब साबित नहीं हुआ तो रिहा कर दिया गया. अपनी क्रांतिकारी कविताओं के चलते उन्हें 1930 से 1942 के बीच 9 बार जेल जाना पड़ा.

दौलतपुर जो अब ऊना जिले में आता है, एक जनसभा चल रही थी. यहां उस वक्त सरोजनी नायडू भी आयी थीं. यहां कांशीराम की कविताएं और गीत सुनकर सरोजनी ने उन्हें बुलबुल-ए-पहाड़ कहकर बुलाया था. जेल के दिनों में लिखी हर रचना उस वक्त लोगों में जोश भरने वाली थी. ‘समाज नी रोया’, ‘निक्के निक्के माहणुआं जो दुख बड़ा भारा’, ‘उजड़ी कांगड़े देश जाना’ और ‘कांशी रा सनेहा’ जैसी कई कविताएं मानवीय संवेदनाओं और संदेशों से भरी थीं.

साल 1937 में जवाहर लाल नेहरू होशियारपुर में गद्दीवाला में एक सभा को संबोधित करने आए थे. यहां मंच से नेहरू ने बाबा कांशीराम को पहाड़ी गांधी कहकर संबोधित किया था. उसके बाद से कांशी राम को पहाड़ी गांधी के नाम से ही जाना गया. जीवन में अनेक मुश्किलों से जूझते हुए बाबा कांशी राम ने देश, धर्म और समाज पर अपनी चुटीली रचनाओं से गहन टिप्पणियां कीं.

हिमाचल से निकलने वाले स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में जानकारी रखने वाले पूर्व मुख्यमंत्री और वर्तमान लोकसभा सांसद शांता कुमार ने दी लल्लनटॉप को बताया कि कांशी राम खुद को देश के लिए समर्पित कर चुके थे. वो कहते हैं,” स्वतंत्रता आंदोलन से जुड़ाव इतना गहरा हो चुका था कि 1931 में जब भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरू को फांसी की सजा की खबर बाबा कांशी राम तक पहुंची तो उन्होंने प्रण लिया कि वो ब्रिटिश राज के खिलाफ अपनी लड़ाई को और धार देंगे. साथ ही ये भी कसम खाई कि जब तक मुल्क आज़ाद नहीं हो जाता, तब तक वो काले कपड़े पहनेंगे. इसके लिए उन्हें ‘स्याहपोश जरनैल’ (काले कपड़ों वाला जनरल) भी कहा गया. कांशीराम ने अपनी ये कसम मरते दम तक नहीं तोड़ी. 15 अक्टूबर 1943 को अपनी आखिरी सांसें लेते हुए भी कांशीराम के बदन पर काले कपड़े थे. कफ़न भी काले कपड़े का ही था.”

Kanshi Ram2
इंदिरा गांधी ने ज्वालामुखी में ये डाक टिकट जारी किया था.

पहाड़ी गांधी के स्वतंत्रता आंदोलन में योगदान के चलते 23 अप्रैल 1984 को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने कांगड़ा के ज्वालामुखी में बाबा कांशी राम पर एक डाक टिकट जारी की थी. उस वक्त कांशी राम के नाम पर हिमाचल प्रदेश से आने वाले कवियों और लेखकों को अवॉर्ड देने की भी शुरुआत हुई थी जो पिछले कुछ सालों से नहीं दिया जा रहा है.

अपने जीवन को देशहित में लगाने वाले इस पहाड़ी गांधी की समय के साथ वो अनदेखी हुई है कि उनका पुश्तैनी मकान भी पूरी तरह ढहने की कगार पर है. 2017 में चुनावों से पहले डाडासिबा में इस घर को कांशीराम संग्रहालय बनाने के सरकारी वादे को पूरा करने कोई सरकार नहीं आई है. बाकी कांशीराम के नाम यहां एक सरकारी स्कूल है, वो भी हिमाचल बनने से पहले पंजाब के मुख्यमंत्री प्रताप सिंह कैरों ने बनवाया था, उसके अलावा कोई इमारत, चौक, स्कूल, कॉलेज बाबा कांशीराम के नाम पर नहीं है.

Kanshi1
डाडा सीवा में ये इकलौता स्कूल बाबा कांशी राम के नाम पर है.

वीरेंद्र बताते हैं कि उन्होंने 2016 में कांशी राम के इस जर्जर घर की एक तस्वीर फेसबुक पर डाली थी और लिखा था कि क्या कोई बता सकता है कि ये घर हमारे किस स्वतंत्रता सेनानी का है. लोग बता ही नहीं पाए. तभी से हमने ये मुहिम चलाई है कि कांशी राम से जुड़ी हर चीज को संरक्षित किया जाए. इनके घर को राष्ट्रीय धरोहर घोषित किया जाए. आज भी इनकी कुछ दुर्लभ चीजें लावारिस पड़ी हैं जिसकी कीमत करोड़ों में हो सकती है. इसमें जेलों से लिखे कुछ पत्र, तस्वीरें, संस्मरण, कविताएं और कुछ निजी इस्तेमाल वाली चीजें हैं. जुलाई 2017 में चुनावों से ऐन पहले वीरभद्र सरकार ने इनके जर्जर घर को स्मारक बनाने की घोषणा की थी. मगर सरकार बदलने तक ये फाइल सरकारी दफ्तरों के ही चक्कर काट रही है. यहां मकान के नाम पर दो दीवारें गिर चुकी हैं और बाकी बची दो एक तेज बारिश का इंतजार कर रही हैं.

कांशी राम की विरासत को बचाना इसलिए भी जरूरी है क्योंकि महात्मा गांधी या भगत सिंह तभी नेशनल हीरो बन पाए, जब उन्हें जमीनी स्तर पर बाबा कांशी राम जैसे आजादी के दीवाने मिले.


Also Read

101 साल के देश के पहले वोटर का इंटरव्यू

शांता कुमार की दोनों सरकारें अपना कार्यकाल पूरा क्यों नहीं कर पाईं?

वीडियो भी देखें:

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Pahadi Gandhi: Freedom Fighter from Himachal who ignited fire in masses with his poems and songs

गंदी बात

#MeToo मूवमेंट इतिहास की सबसे बढ़िया चीज है, मगर इसके कानूनी मायने क्या हैं?

अपने साथ हुए यौन शोषण के बारे में समाज की आंखों में आंखें डालकर कहा जा रहा है, ये देखना सुखद है.

तनुश्री-नाना मसले पर अमिताभ बच्चन ने ये बात कहकर अपना दोहरापन साबित कर दिया

'पिंक'? वो तो बस फिल्म थी दोस्तों.

इंटरनेट ऐड्स में 'प्लस साइज़' मॉडल्स को देखने से फूहड़ नजारा कोई नहीं होता

ये नजारा इसलिए भद्दा नहीं है क्योंकि मॉडल्स मोटी होती हैं...

लेस्बियन पॉर्न देख जो आनंद लेते हैं, उन्हें 377 पर कोर्ट के फैसले से ऐतराज है

म्याऊं: संस्कृति के रखवालों के नाम संदेश.

कोर्ट के फैसले को हमें ऑपरा सुनते एंड्र्यू के कमरे तक ले जाना है

साढ़े 4 मिनट का ये सीक्वेंस आपके अंदर बसे होमोफ़ोबिया को मार सकता है.

राधिका आप्टे से प्रोड्यसूर ने पूछा 'हीरो के साथ सो लेंगी' और उन्होंने घुमाके दिया ये जवाब!

'बर्थडे गर्ल' राधिका अपनी पीढ़ी की सबसे ब्रेव एक्ट्रेसेज़ में से हैं.

'स्त्री': एक आकर्षक वेश्या जो पुरुषों को नग्न तो करती थी मगर उनका रेप नहीं करती

म्याऊं: क्यों 'स्त्री' एक ज़रूरी फिल्म है.

भारत के LGBTQ समुदाय को धारा 377 से नहीं, इसके सिर्फ़ एक शब्द से दिक्कत होनी चाहिए

सबकी फिंगर क्रॉस्ड हैं, सुप्रीमकोर्ट का एक फैसला शायद सब-कुछ बदल दे!

'पीरियड का खून बहाती' देवी से नहीं, मुझे उसे पूजने वालों से एक दिक्कत है

चार दिन का ये फेस्टिवल असम में आज से शुरू हो गया है.

सौरभ से सवाल

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.

ऑफिस के ड्युअल फेस लोगों के साथ कैसे मैनेज करें?

पर ध्यान रहे. आप इस केस को कैसे हैंडल कर रहे हैं, ये दफ्तर में किसी को पता न चले.