Submit your post

Follow Us

डियर अजय देवगन, विमल के 25 साल पूरे होने पर किसे बधाई

7.13 K
शेयर्स

25 साल पुराने फैन

चलो यहीं से शुरू करते हैं. कोच्चन बाद में भी हो सकता है. विमल के 25 साल पूरे, तुमको भी बहुत बहुत मुबारक. बात ये है कि अपन तुम्हारे जन्मजात फैन हैं. कोई हमसे पूछे कि तुम्हारा फेवरेट हीरो कौन है. ठांय से उसके मुंह पर फेंक कर तुम्हारा नाम मारते हैं. लेकिन इधर कुछ दिनों से तुम्हारा ओहदा कुछ और बढ़ गया है. आप में हमको सिर्फ हमारा फेवरेट हीरो ही नहीं दिखता. बल्कि एक फरिश्ते के दर्शन होते हैं. जिसकी पोस्टिंग यमराज ने धरती पर की है. ऐसा काहे है इसका किस्सा आगे. पहले तो ये सुनो हम फैन आपके किस दैवीय प्रेरणा से बने.

Diljale

तो साहब जब तुम्हारी वो फिलिम आई थी नाम था जिसका दिलजले. हम कोई 6-7 साल के थे. लखनऊ के लीला टॉकीज में देखे थे हम उसको. ससुरा बड़ा पइसा वाला पिच्चर तब नहीं आई थी. ये फिल्म दिखाने के बाद लीला टॉकीज भोजपुरी फिल्मों के नाम पट्टा हो गया. इस पिच्चर को देखने के बाद तुम और सोनाली बेंद्रे मेरे लाइफ टाइम फेवरेट हीरो हीरोइन बन गए. सिर्फ दो ही चेहरे याद थे सिनेमा के नाम पर.

apharan

कच्चे धागे याद है तुम्हें? मुझे है. तब मैं छठी क्लास में था जब आई थी. क्या गज्जब मार मचाए थे यार. तुमको रेगिस्तान में घिसटता देख कर आंख में आंसू आ गए थे कसम से. फिर उसके बाद हम कुछ कुछ समझदार हुए. और तुम बुढ़ाने लगे. हल्ला बोल पिच्चर में आपकी डिप्रेसन के मरीज सी शकल देख कर जिउ सन्न से रह गया. हम कहे कि अचानक हमारा हीरो इत्ता कमजोर कैसे हो गया. फिर अपहरण में तुम ऑटो से किडनैपिंग कर रहे थे. हम तब भी तुम्हारे साथ थे. पता है मैं हमेशा अपने बाल बड़े होने का इंतजार करता हूं. ताकि उस फैंटेसी में वापस जा सकूं जहां तुम 20 साल पहले छोड़े थे.

kesar

अब सुनो मतलब की बात

लेकिन अब खेला बदल गया है बहादुर. आप हीरो होने के साथ ब्रांड एंबेसडर भी हैं. कई चीजों के. सही है भाई सब पइसा की रईसी है. कमाओ खाओ हमाई दुवा है. लेकिन यार तुम पान मसाला बेच रहे हो. मने अच्छी चीज होगी लेकिन उसके साथ झुट्ठई बड़ी है. एक तो तुम अपने दांत नहीं दिखाते हो. अगर खाते हो तो पता होगा कि उसके दाने दाने में केसर का दम तो हैए है. उससे ज्यादा तम्बाकू और कत्थे का दम है. जिसको दिन भर कूचते रहने के बाद दांत अजीब से हो जाते हैं. पहले पीले फिर लाल फिर भूरे और फिर एकदम करिया कुट्ट.

हम जब पहली बार पान मसाला खाकर घर आए थे तो मुंडी घूम रही थी. उसके असर से घूमनी बंद हुई तो पापा ने चार लात दो मुक्के और आधा दर्जन कंटाप लगाए. उसकी वजह से मुंडी घूमी. तब से पान मसाला नहीं चखे. हो सकता है हम आप जैसे बहादुर न हों. पर पापा की बात मानना सही लगा. आपकी बेटी न्यासा भी पापा की बात मानती होगी. अगर वो सुबह उठ कर मंजन कुल्ला करने से पहले पुड़िया मुंह में डाल ले. और पूंछे “पापा कहां इत्ते ठुबे ठुबे चल्लहे हो, कहां ठूटिंग है”. थोड़ा अजीब लगेगा न. और पान मसाला खाने के बाद आपको काजोल घर में घुसने नहीं देंगी. बालकनी के कोनों और बाथरूम में लाल कलर की सुपारी मिली वालपुट्टी वो बर्दाश्त करेंगी, इसमें मुझे शक है.

mukesh_harane

अच्छा अपनी फिल्में देखने कभी आप खुद मल्टीप्लेक्स में जाते हो? वो लोग पिच्चर शुरू होने से पहले एक बड़ा बोरिंग सा ऐड दिखाते हैं. उसका एक एक डायलॉग रटे बैठे हैं लोग. उसमें एक भूतपूर्व लड़का होता है. कहता है ‘मेरा नाम मुकेश है’. इसके बाद का तो याद ही होगा. और जो लौंडे दिन भर में 50 की कमाई में 150 की पुड़िया फांक जाते हैं. उनका तो कोई ऐड भी नहीं बनता. वो धंधे में हेराफेरी करते हैं. घर में पैसे चुराते हैं. बर्तन बेचते हैं. उस पैसे से पहले पान मसाला खाते हैं. फिर पापा की धुनक धुन लातें.

अच्छा आप न ये एक सस्पेंस क्लियर कर दो प्लीज. कि विमल पान मसाले वाले और कित्ते साल अपने 25 साल पूरे होने का जश्न मनाएंगे. और इस बार विमल वालों से आपकी बात हो तो मेरा एक मैसेज पास कर देना प्लीज. कि आप तो विमल बेचने के 25 साल पूरे होने का जश्न मना रहे हो. लेकिन खाने वाले नहीं मना रहे. क्योंकि उनमें से ज्यादातर 25 साल के पहिले ही कट लिए होंगे. इस असार संसार से.

Vimal-Pan-Masala-Ad

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.