Submit your post

Follow Us

निहलानी जी, टाइम मशीन में बैठ कर अपनी फिल्में सेंसर कर आइए

1.65 K
शेयर्स

सेंसर बोर्ड के हेड पहलाज निहलानी जी

फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ की उड़ान पर ब्रेक लगाने का बहुत बहुत शुक्रिया. उसमें पंजाब के साथ जो वर्ल्ड प्ले करने की कोशिश की गई है वो नाकाबिले बर्दाश्त है. पता नहीं उस फिल्म को आपने देखा या नहीं. लेकिन फिल्म से जुड़े लोग बता रहे हैं कि फिल्म में भी पंजाब का सिर्फ ट्रेलर है. असल में पंजाब की हालत इससे भी बुरी है. वहां पाकिस्तान से ड्रग्स सप्लाई हो रही है. बॉर्डर पार से ड्रग्स लेकर उनको यहां की खुफिया जानकारी मुहैया करा देते हैं चंद लालची लोग.

लेकिन ड्रग्स वग्स पर रोक लगाना फिलिम वालों का काम नहीं है. उनको बस नाच गाना लैला मजनू की लव स्टोरी में खर्च हो जाना चाहिए. यही आज के वक्त में सिनेमा की डिमांड है. उनको पता नहीं किसने बता दिया है कि फिल्में समाज का आइना हैं. तब से कुछ फिल्मकार उसमें सच्चाई दिखाने को पिले पड़े हैं. उनको पता नहीं कि हम ब्यूटी फेस और फोटो एडिटर ऐप यूज करने वाली जनरेशन में हैं. अपना असली चेहरा देख घिना जाते हैं. मत दिखाओ असलियत प्लीज.

उन फिल्मकारों को सबक सिखाना आपकी जिम्मेदारी है पहलाज जी. फिल्म में सिर्फ 83 कट नहीं लगने चाहिए. बल्कि उनको बता दो जो ट्रेलर रिलीज कर दिया है वही काफी है. लेकिन उससे पहले एक रिक्वेस्ट है. आपने मनोरंजन के भूखे इंडिया को कुछ ऐसे अनमोल नगीने भेंट किए हैं अपने जमाने में कि उनको राष्ट्रीय त्रासदी कहा जा सकता है. प्लीज उनको वापस ले लो. उनको किसी भी कीमत पर सेंसर कर दो. चाहिए उसके लिए हॉलीवुड वालों से टाइम मशीन उधार लेकर आपको वापस अतीत में जाना पड़े.

अभी लेटेस्ट जो हमारी आंखों से गुजरा था आपका कारनामा वो था एक इंकलाबी वीडियो. जो आपने पीएम नरेंद्र मोदी को डेडीकेट किया था. हम लोग प्यार से उसे ‘मोदी काका’ वीडियो कहते हैं. उसमें जो आपने फैक्चुअल एरर किए थे. जिसमें आपकी बाद में बड़ी भद्द पिटी थी वो तो याद ही होगी. स्पेस सेंटर को इंडियन सैटेलाइट बना दिया था. कहीं का ईंट कहीं का रोड़ा जोड़ कर 6 मिनट 42 सेकेंड का वीडियो पब्लिक को थोप दिया था.

modi kaka

आपकी एक फिल्म का गाना याद आ रहा है. मेरे हाथ में बीड़ी है जलती हुई. अग्नि देवता हाथ में हैं इसलिए झूठ नहीं बोलूंगा. बड़ा वाहियात गाना था. बहुतै डबल मीन. और टोटली मीनिंगलेस. अंदाज फिल्म का. अमा ये खड़ा है खड़ा है खड़ा है गाना सुनते ही दिमाग में विजुअल्स चलने लगते हैं. जो कतई उस गाने के नहीं होते. हम जानते हैं कि आपका इरादा कतई हमारी भावनाएं आहत करने का नहीं था. लेकिन आज ये गाना आप नहीं रिलीज करते इसका भरोसा है.

आपको एक सीन दिखाते हैं आपकी ही फिल्म का. आग का गोला थी ये फिल्म. सीन भी पूरा गर्मी वाला. तब बेवकूफ सेंसर बोर्ड ने इसे नहीं काटा था. सनी देओल और अर्चना पूरण सिंह को भी कोई नोटिस नहीं मिला था. काश आप उस वक्त सेंसर बोर्ड के हेड होते.

इनके अलावा आपने एक और फौलाद, आग ही आग, आग का गोला, आंधी तूफान, मिट्टी और सोना जैसी तूफानी फिल्में बनाई हैं. जिनके बारे में मरहूम एक्टर प्राण कह गए हैं “ये दिन देखने से पहले मैं मर क्यों नहीं गया.” सच है. इन फिल्मों में एक्शन, इमोशन, वाहियात रोमांस, कॉमेडी सब कुछ था. बस कॉमन सेंस की कमी थी. आपकी फिल्में उस दौर की कहानी कहती हैं जब फिल्में समाज की आइना नहीं सरकारी राशन की दुकान हुआ करती थीं. जिसमें जो भी मोटा झोंटा मिले वो लेने को आदमी मजबूर था.

अफसोस कि अब ऐसा नहीं है. अब लोगों की समझ विकसित हुई है. और अच्छी समझ वाले, रिस्क लेने वाले, अच्छा सिनेमा बनाने वाले प्रोड्यूसर डायरेक्टर अस्तित्व में आ गए हैं. तो अब वो आग ही आग और आग का गोला देखने तो कोई जाएगा नहीं.

आपको फिल्मों में गालियों से प्रॉब्लम है. तो आप कभी कानपुर बनारस मत जाना. लखनऊ तो कतई नहीं. वहां बहुत सलीके से गालियां खानी पड़ती हैं. लोग घर आए मेहमान से पूछते हैं “भाईसाब चाय पानी भी लेंगे या गाली से काम चल जाएगा.” और वहां के नाम पर कभी फिल्म बने तो हम कभी सेंसर करने की मांग नहीं करेंगे. पक्का वाला प्रॉमिस.

आपने सख्त निर्देश दे रखे हैं कि विवादित विषयों पर फिल्म नहीं बनानी हैं. तो किस विषय पर बना लें ये भी सजेस्ट कर दीजिए. सिर्फ जय संतोषी मां, गंगा जमना सरस्वती जैसी फिल्में बनाते हैं. यही ठीक रहेगा. लेकिन उसमें भी लव और किस सीन नहीं रखने हैं. नहीं तो भावना बेन आहत हो जाएंगी. तो ऑप्शन क्या बचता है फिर? आई थिंक फिर सेंसर बोर्ड की जिम्मेदारी और बढ़ जाती है. कि वो सिर्फ ओ माई फ्रेंड गणेशा और बाल हनुमान जैसी फिल्में रिलीज होने दे बाकी सिनेमा जिसे देखना है वो पाकिस्तान चला जाए.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.