Submit your post

Follow Us

मुझसे शादी न करने की एक हजार वजहें

प्रियंका दुबे का परिचय लिखना है. क्या लिखूं. कभी मिला ही नहीं. पर बात हम यूं करते हैं, जैसे बरसों से एक दूसरे को जानते हों.

priyanka dubeyजानता तो हूं. एक लड़की को. बहुत बहादुर. हम हर जीवन में कुछ लोगों सा बनना चाहते हैं. मने उनसे बिना हल्ला मचाए बहुत सीखते हैं. प्रियंका उनमें से एक है. उसकी रिपोर्ट पढ़ रहा हूं. बरसों बरस से. कभी चंबल घाटी तो कभी रेलवे स्टेशन पर रहने वाले लड़कों की खबरें. कभी पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बंधुआ बने लोग तो कभी कोई और. पत्रकारिता इन्हीं सब लोगों की वजह से एक जिंदा शब्द और सपना है.

एक तागा और भी है. नेह का. निर्मल वर्मा वाली धूप में पैदा हुआ. खूब किताबों को जमाकर पेंसिल से निशान बना बना पढ़ने का शौक. पेट दबा जो पूरी सांस खींचें तो आधी खुशबू जिल्द और पन्नों की हो. या फिर भटकना, नए शहर, नए देश, नए देहात. और जो लौटना तो नई आवाजें और यादें ले. और जो इतना सब होने पर भी बचा लेना, वो है अपनी सरलता. और संकल्प भी. कि दुनिया को बेहतर होना ही होगा. कि औरतों के प्रति, दलितों के प्रति, अल्पसंख्यकों के प्रति या एक ही बार में कह दूं तो हर उसके प्रति जो दबाया जा रहा है.

 

आज आप प्रियंका की आपबीती पढ़िए. ये जगबीती है. मेरे देश की हर बेटी, हर बहन ये लड़ाई अपने अपने मोर्चों पर, अकसर निपट अकेली लड़ रही है.

-सौरभ 


जबसे मेरी जिंदगी में ‘शादी कब करोगी’ वाला सवाल घुसा है, तबसे मैं एक पीस लिखना चाह रही हूं. जिसका टाइटल हो ‘मुझसे शादी न करने के एक हजार कारण’. मैं इसे लिखना टालती गई. क्योंकि पहली बात तो इसे लिखने से मुझे डर लग रहा था. दूसरी बात, शादी के प्रेशर के बारे में तो सभी लिखते हैं. इस आर्टिकल को लिखने का मोटिवेशन असल में इस समझ के साथ आया, कि ये प्रेशर सिर्फ शादी करने का नहीं, बल्कि बड़े ही क्रमबद्ध तरीके से औरतों को उनके करियर और जीने के तरीके के बारे में लेकर हतोत्साहित करना है. ये समझा कर, कि समय रहते शादी नहीं की तो अकेली रह जाओगी.

ये कुछ समय पहले की बात है, जब मैं भोपाल में घर पे रहते हुए तहलका हिंदी में रिपोर्टर थी. एक शाम काम के बाद मैं जिम गई. वापस आई तो देखा कि एक रैंडम चाचा मुझे ‘देखने’ आए हैं, अपने बेटे से ‘रिश्ते’ के लिए. और ये तब हुआ, जब मैं बार-बार अपने मम्मी-पापा से कह चुकी थी कि मुझे शादी की बातों के बाहर रखें. मां ने मुझसे कहा कि तैयार होकर आऊं. लेकिन मैं अपने जिम वाले कपड़ों में ही कमरे में घुस गई. और पांव पर पांव रख उनके सामने बैठ गई. उन्होंने अपने ‘नेवी वाले लड़के’ के बारे में बहुत कुछ कहा. फिर कहा, ‘बेटा तुम्हें तो एडवेंचर का बहुत शौक है. तुम मेरे बेटे के साथ दुनिया घूमना पसंद करोगी?

उस समय मैं 24 साल की थी. और उस साल ये सारे काम कर चुकी थी: ड्रग्स के गैरकानूनी धंधे पर एक स्टोरी, एक जाति के आधार पर किए जाने वाली हिंसा पर, औरतों और बच्चों को बेचने पर, ऑनर किलिंग, और बुंदेलखंड में रेप और मर्डर की कहानियां कवर कर चुकी थी. कुपोषण पर एक स्टोरी करते हुए सतपुड़ा के जंगलों में घूमी थी. एक कवर स्टोरी के लिए चंबल के डकैतों से इंटरव्यू फिक्स किए थे.

मैंने अंकलजी से कहा कि मेरी जिंदगी में पहले ही बहुत एडवेंचर हैं. मुझे उनके बेटे के शिप की जरूरत नहीं है. मेरे मम्मी-पापा ने हंस कर ये जता दिया कि मैं मजाक कर रही हूं. अंकल भी हंस लिए.

रुकना कब है, ये न तय पाने की अवस्था में उन्होंने पूछा, ‘बेटा, चश्मे के बिना कुछ भी नहीं दिखता? ज़रा चश्मा उतार के दिखाओ.

मैंने अपने दोस्तों से सुना था, किस तरह ‘लड़के वालों’ ने उन्हें सैंडल उतरवा, चलवा कर देखा था कि उनकी असल हाइट का पता लग सके. लेकिन इस तरह की कोई चीज़ मेरे साथ पहली बार हुई थी. मेरा पारा चढ़ गया. मैंने अंकल से दफा होने को कहते हुए कहा, ‘मैं किसी के शौक पूरे करने के लिए अपना चश्मा नहीं उतारती. आपके लिए तो बिलकुल नहीं उतारूंगी.


 

मेरे रिश्तेदार कहते हैं, ‘ज़माना बदल गया है. अब मर्द पहले जैसे नहीं होते. वो किचन में मदद करते हैं. और बहुत एडजस्टिंग होते हैं. तुम्हें हर दिन खाना नहीं बनाना पड़ेगा.’

इस ‘एडजस्ट’ शब्द से मुझे नफरत होती है. इस शब्द में औरतों के लिए दया है. मैं कुछ लड़कों को जानती हूं जो इस बात से खुश हैं कि ऑफिस के बाद घर पहुंचने पर उनकी पत्नी अपने ऑफिस में होती हैं. ‘मैं घर पे पत्नी से आराम और सुकून चाहता हूं.’ ऐसा एक आदमी ने मुझसे कहा, जिससे मैं एक स्टोरी के सिलसिले में मिली थी.

अधिकतर मर्द, जिन्हें मैं जानती हूं, औरत को आराम का सामान मानते हैं. ‘उन्हें घर आते ही गर्म खाना, और उससे भी गर्म बिस्तर चाहिए’. ऐसा एक दोस्त ने कहा. दूसरी ने कहा, ‘अगर तुम अपने काम और करियर पर ज्यादा फोकस करोगी तो कोई लड़का तुम्हें पसंद नहीं करेगा. अगर तुम फेमिनिस्ट हो, तो तुमसे कोई प्यार नहीं करेगा.’ ‘नॉर्मल’ लड़की की केटेगरी भी उसी तरह बनाई गई है जिस तरह नॉन-नॉर्मल’ लड़की की बनाई गई है. इसलिए मुझे कॉन्फिडेंस नहीं है कि शादी के बाद मेरे करियर पर फर्क नहीं पड़ेगा. उन पुरुषों के मुकाबले, जो किचन में पत्नी का हाथ बंटाते है, मैंने पाया है वो औरतें कई ज्यादा संख्या में हैं जो काम करते हुए भी पूरे परिवार का ध्यान रखती हैं, सास-ससुर का ख्याल रखती हैं, डिनर के समय एक अच्छी बहू का किरदार निभाती हैं. फिर अगर मैं अपनी शादी के ऊपर अपने करियर को प्राथमिकता देती हूं, तो इसमें क्या गलत है?


 

मेरी मां कभी स्कूल नहीं गईं. लेकिन बाद में हिंदी में दस्तखत करना, और थोड़ी बहुत हिंदी पढ़ना सीख गईं. मेरे पिता ने 10वीं के बाद स्कूल छोड़ दिया. ट्यूशन पढ़ाकर और दूध बेचकर 12वीं के प्राइवेट एग्जाम दिए. इसके बाद पार्ट टाइम नौकरी करते हुए डिप्लोमा पूरा किया. वो मुझे पढ़ाना चाहते थे, और पढ़ाया. भले ही वो मेरी मर्ज़ी की पढ़ाई नहीं थी. लेकिन वो धीरे-धीरे मुझे समझना सीख रहे हैं. मेरी ज़िन्दगी और भविष्य के फैसलों के साथ सामंजस्य बिठाने की कोशिश कर रहे हैं.

पिछले महीने मैं एक फेलोशिप के लिए लंदन में थी. तभी एक दोस्त का मैसेज आया कि उसकी शादी हो रही है. उसकी सगाई की तस्वीरों को ज़ूम कर देखने के बाद मैंने उसे उत्साहित होकर जवाब दिया. लेकिन वो उत्साह मेरा पहला रिएक्शन भर था. मुझे पेट में अजीब-अजीब सा लगा. अब मैं अपने पूरे फ्रेंड सर्कल में अकेली सिंगल लड़की बची हूं. मुझे अचानक प्रेशर महसूस हुआ, 28 की उम्र में शादीशुदा न होने का. शायद मैंने गलत फैसले लिए. कहीं ऐसा तो नहीं कि शादी के बारे में अपने विचारों के चलते मैं अब अकेली न रह जाऊं.

मैंने ये समझा है कि मुझे सिर्फ इसलिए शादी करने की जरूरत नहीं है कि सब कर रहे हैं. लेकिन किसी का प्यार या साथ, या फिर शादी के लिए पार्टनर खोजना? ये भी मेरे लिए आसान नहीं होने वाला. इंडिया में जवान प्रेमियों को धर्म और जाति के बाहर शादी करने पर मार डाला जाता है. लड़कियों से मां-पिता और प्रेम के बीच किसी एक को चुनने को कहा जाता है. आपके लिए शादी करना जरूरी है, लेकिन आपको प्यार करने का हक़ नहीं है.

जहां मैं पैदा हुई, बड़ी हुई, वहां से लेकर आज तक का सफ़र कठिन रहा है. लेकिन ये दौर मेरे जीवन का सबसे जरूरी समय भी रहा है. मेरे रिश्तेदार मुझसे मेरी आती हुई ‘एक्सपायरी डेट’ के बारे में याद दिलाते रहते हैं. ये बताते हैं कि एक बार 30 साल की हो गई, तो शादी के बिना कितनी अकेली हो जाऊंगी. यहां तक कि भोपाल के साड़ी वाले, जिन्होंने मुझे छोटी उम्र से देखा है, अब मुझे साड़ी दिखाने मना कर देते हैं. अगर ऑफिस में पहनने के लिए साड़ी लेने जाऊं, तो कहते हैं ‘अब तो शादी के लिए ही साड़ी खरीदो बिटिया, देरी हो रही है. ‘मेरे घर वाले मेरे लिए दूल्हा खोजते रहते हैं. कई परिवार, जिनसे वो रिश्ते के लिए मिले हैं, उन्हें लगता है मैं ज्यादा सफल, ज्यादा स्ट्रॉन्ग औरत हूं. मैं उनके बेटे की पर्सनालिटी को दबा दूंगी. लेकिन कोई ये नहीं कहता कि लड़का लड़की से ज्यादा सफल है. बल्कि वो कहते हैं कि लड़की लकी है कि उसे ऐसा पति मिला.

मैं कैसे समझाऊं कि मैं महसूस करती हूं कि मैं लकी हूं कि मुझे मैं मिल गई हूं, अपने लिए. और खुद को पाने के बाद खोने का कोई इरादा नहीं है. ये आपके लिए मुझसे शादी न करने का पहला कारण है. आप कहें तो मैं 999 और बता सकती हूं.


ये आर्टिकल सबसे पहले अंग्रेजी वेबसाइट theladiesfinger.com पर पब्लिश हुआ. उसकी एडिटर हैं निशा सूज़न. उन्होंने हमें हिंदी ट्रांसलेशन छापने की इजाजत दी. उसके लिए खूब सारा थैंक्यू.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

दिनेश कार्तिक के शराबी बनने, आत्महत्या के बारे में सोचने के दावे का पूरा सच ये है!

दिनेश कार्तिक के शराबी बनने, आत्महत्या के बारे में सोचने के दावे का पूरा सच ये है!

DK को ट्रेनर और दीपिका पल्लीकल ने बचाया?

रत्ना पाठक शाह ने मां दीना पाठक को याद कर जो लिखा, उसे पढ़कर आप अमीर हो जाएंगे

रत्ना पाठक शाह ने मां दीना पाठक को याद कर जो लिखा, उसे पढ़कर आप अमीर हो जाएंगे

बेटी का खत, मां के नाम!

56 कलावंत जो नहीं रहे बीते सालः बस इतना याद रहे, इक साथी और भी था

56 कलावंत जो नहीं रहे बीते सालः बस इतना याद रहे, इक साथी और भी था

2022 का स्वागत, गुज़रे हुओं की याद के साथ.

बचपन से जवानी तक सलमान खान की 'पर्सनल हिस्ट्री'

बचपन से जवानी तक सलमान खान की 'पर्सनल हिस्ट्री'

32 बरस पहले एक बच्चा 'मैंने प्यार किया' से बना सलमान का दोस्त. कहानी अभी जारी है.

महामहिमः राजेंद्र प्रसाद और नेहरू का हिंदू कोड बिल पर झगड़ा किस बात को लेकर था?

महामहिमः राजेंद्र प्रसाद और नेहरू का हिंदू कोड बिल पर झगड़ा किस बात को लेकर था?

कहानी नेहरू और प्रसाद के बीच पहले सार्वजनिक टकराव की.

अरूसा आलम: जनरल रानी की बेटी, जिसने हिंदुस्तानी पंजाब की राजनीति के समीकरण बदल दिए

अरूसा आलम: जनरल रानी की बेटी, जिसने हिंदुस्तानी पंजाब की राजनीति के समीकरण बदल दिए

इस कहानी के पात्र हैं- पत्रकार अरूसा आलम, पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और पूर्व ISI चीफ जनरल फैज़ हमीद.

लता ने पल्लू खोंसा और बोलीं, 'दोबारा दिखा तो गटर में फेंक दूंगी, मराठा हूं'

लता ने पल्लू खोंसा और बोलीं, 'दोबारा दिखा तो गटर में फेंक दूंगी, मराठा हूं'

जानिए लता मंगेशकर के उस रूप के बारे में, जिससे बहुत कम लोग परिचित हैं.

यूपी का वो गैंगस्टर, जिसने रन आउट होते ही अंपायर को गोली मार दी

यूपी का वो गैंगस्टर, जिसने रन आउट होते ही अंपायर को गोली मार दी

फिल्मी कहानी से कम नहीं खान मुबारक की जिंदगी?

देश के 13वें उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू देश को इमरजेंसी की देन हैं

देश के 13वें उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू देश को इमरजेंसी की देन हैं

इन्होंने अटल के लिए सड़क बनाई थी और मोदी के लिए किले. अब उपराष्ट्रपति हैं.

मुख़्तार अंसारी, सुनहरा चश्मा पहनने वाला वो 'नेता' जो मीडिया के सामने बैठकर पिस्टल नचाता था

मुख़्तार अंसारी, सुनहरा चश्मा पहनने वाला वो 'नेता' जो मीडिया के सामने बैठकर पिस्टल नचाता था

गैंग्स्टर से नेता बने मुख़्तार अंसारी के क़िस्से.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.