Submit your post

Follow Us

हिलेरी को प्रेसिडेंट घोषित कर मीडिया का दोगलापन दिखाया न्यूजवीक ने!

99
शेयर्स

अगर आप अखबार नहीं पढ़ते हैं, तो आपको ज्यादा जानकारी नहीं है. अगर आप अखबार पढ़ते हैं, तो आपको गलत जानकारी है.
– मार्क ट्वेन

अमेरिका में प्रेसिडेंट का चुनाव 8 नवंबर को है. कुछ लोग डरे हैं कि ट्रंप जीत जायेंगे तो क्या होगा अमेरिका का. क्या होगा दुनिया का. कुछ खुश हैं कि अगर हिलेरी जीत गईं तो क्या कहा जाएगा बिल क्लिंटन को. क्योंकि अभी तक सिर्फ पुरुष प्रेसिडेंट बने हैं अमेरिका में और उनकी बीवियों को फर्स्ट लेडी कहा जाता था. तो बिल क्या कहे जाएंगे. कुछ लोग कुछ नया होने के इंतजार में हैं कि वोट देने के लिए मन बनाया जाये.


पर पत्रिका न्यूजवीक ने पहले से ही तय कर लिया है कि कौन बनेगा प्रेसिडेंट. चुनाव होने से पहले ही हिलेरी की कवर पिक लगाकर मैडम प्रेसिडेंट का स्पेशल इश्यू निकाल दिया गया है. लीक कर दिया गया है. आएगा कल.


newsweek-hillary-edition1पूरी दुनिया में मीडिया, कॉर्पोरेट और नेताओं की मिलीभगत पर सवाल खड़े हो रहे हैं. कई जगह मीडिया पर आरोप लगा है कि ये लोगों के मन में खबरें भर दे रहे हैं. जो चाहें वो इमेज क्रिएट कर देते हैं. ऐसे में दुनिया के सबसे ताकतवर पोस्ट के लिए इतना कंफ्यूज करना कहां तक सही है? एक इंच भी नहीं. शुरू से ही गलत है, जब से जिसने भी सोचा कि ऐसा करना है.

अब इसके दो मतलब हैं-

1. ये लोग हिलेरी को सपोर्ट कर रहे हैं. पहले ही एनाउंस कर दिये तो ट्रंप के सपोर्टर कंफ्यूज हो जायेंगे.

2. ये लोग ट्रंप के लिये काम कर रहे हैं. ट्रंप के सपोर्टर गुस्से में दबा के वोट करेंगे.

जो भी हो पर इन लोगों ने वो काम किया है जो लंबे समय तक के लिए मीडिया की इमेज को तोड़ देगा. क्योंकि फिर लोगों का ट्रस्ट ही खत्म होने लगेगा. ट्रंप ने जो भी किया हो अपनी लाइफ में, उसका नतीजा उसके सामने आएगा चुनाव में. अगर पत्रिका वाले ट्रंप के खिलाफ षड़यंत्र रच रहे हैं तो ये फिर किस मोरलिटी के आधार पर ट्रंप को बुरा बताते हैं? खुद भी तो वही काम कर रहे हैं. अगर ये लोग ट्रंप के सपोर्ट में हैं तब तो एकदम ही आपराधिक विशेषांक निकाला है. ऐसा ही 2012 के चुनाव में भी किया था एक मैगजीन ने. ओबामा को लेकर.

अमेरिकी मीडिया का ये मैनिपुलेशन सिर्फ चुनाव तक ही सीमित नहीं रहा है-

1. सीरिया में बीबीसी के रिपोर्ट इयन पैनेल खड़े थे. एक बम फटा पास में. लोग घायल हुए. एक डॉक्टर भी था वहां. उसने तुरंत बता दिया कि ये नापाम है. बाद में इसको नाटो ने रासायनिक हथियार बताकर सीरिया पर हमला कर दिया. फिर सीरिया की सिचुएशन को सिविल वॉर बताया गया. इसके लिए फोटोशॉप की मदद ली गई-

manipulation

2. इराक में न्यूक्लियर बम होने की पूरी संभावना जताई थी अमेरिका ने. फिर अल-कायदा से लिंक खोजने लगे इराक का नहीं मिला. पर इन लोगों ने ढूंढ लिया. जॉर्डन का एक गुंडा जरकावी इराक से होकर अफगानिस्तान गया था. उसके आधार पर अमेरिका ने स्टोरी बना ली कि इराक का बम अल-कायदा के हाथ में जा सकता है. इस आधार पर इराक पर हमला कर दिया गया. एक अच्छे-भले देश को बर्बाद कर दिया गया.

3. फिर ये भी खबर आई कि ISIS ने ही सारे वीडियो बना के नहीं भेजे थे. अमेरिका पर आरोप लगा कि लगातार लड़ाई करने के लिए खुद ही इन लोगों ने ये वीडियो बनवाए थे.

James-Foley-video


ये एकदम ट्राइड एंड टेस्टेड फॉर्मूला है. पहले जनता को कुछ भी ऐसा बता दो जिससे वो शॉक हो जाए. डिस्ट्रैक्ट कर दो. कुछ देर के लिए सोचना बंद कर दे. उतने में वो काम करवा लो. लोगों के इमोशनल पक्ष को झिंझोड़ दो. तर्क ना करने दो. तर्क करने वाले को देशद्रोही बता दो. किसी को खोजने ना दो. औसत बुद्धि की बातों को प्रमोट करो. लोग कुछ जानना शुरू करें, उससे पहले ही कुछ और बता दो. ताकि ध्यान कहीं और चला जाये. लोगों को खुद पर ही दोष डालने के लिए प्रेरित करो. जो असली अपराधी हैं वो तो परिस्थिति के वशीभूत होकर कर रहे हैं. लोगों के मन में क्या सही है की जगह डाल दो कि फलाना नेता सही है क्योंकि उसका कोई ऑप्शन नहीं है. कह दो कि अभी के लिये यही सही है. कड़वी दवा का उदाहरण दे दो.

लोगों को बार-बार अहसास दिलाओ कि वो छोटे बच्चे हैं. उनको सीखने ही ना दो. जिससे उनकी आत्म-मुग्धता बढ़ती रहे. हर चीज को समस्या बता दो. जिसको लोग सोच भी ना रहे हों. फिर तुरंत समाधान भी बताओ. लोगों को खोजने ही ना दो. इतना डरा दो कि लोग तुरंत मान लें.


ट्रंप ने इन्हीं चीजों का इस्तेमाल किया. अमेरिका को ग्रेट बनाने की बात की. लोगों को बेरोजगारी का डर दिखाया. हिलेरी के ई-मेल, जिसमें कुछ नहीं था, उसको अमेरिका के लिए खतरा बना दिया. इसमें वो सारी चीजें गुम हो गईं जो ट्रंप के कांडों से आई थीं. क्योंकि वो सारी चीजें अमेरिका के खिलाफ नहीं थीं. उससे सुरक्षा खराब नहीं हो रही थी.

मीडिया का मैनिपुलेशन अब स्मॉग की तरह हो गया है. हर सांस के साथ जहर अंदर जा रहा है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
newsweek hilary madam president ahead of elections media manipulation

गंदी बात

साइकल, पौरुष और स्त्रीत्व

एक तस्वीर बड़े दिनों से वायरल है. जिसमें साइकल दिख रही है. इस साइकल का इतिहास और भूगोल क्या है?

महिलाओं का सम्मान न करने वाली पार्टियों में आखिर हम किसको चुनें?

बीजेपी हो या कांग्रेस, कैंडिडेट लिस्ट में 15 फीसद महिलाएं भी नहीं दिख रहीं.

लोकसभा चुनाव 2019: पॉलिटिक्स बाद में, पहले महिला नेताओं की 'इज्जत' का तमाशा बनाते हैं!

चुनाव एक युद्ध है. जिसकी कैजुअल्टी औरतें हैं.

सर्फ एक्सेल के ऐड में रंग फेंक रहे बच्चे हमारे हैं, इन्हें बचा लीजिए

इन्हें दूसरों की कद्र न करने वाले हिंसक लोगों में तब्दील न होने दीजिए.

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बच्चे के ट्रांसजेंडर होने का पता चलने पर मां ने खुशी क्यों मनाई?

आप में से तमाम लोग सोच सकते हैं कि इसमें खुश होने की क्या बात है.

'मैं तुम्हारे भद्दे मैसेज लीक कर रही हूं, तुम्हें रेपिस्ट बनने से बचा रही हूं'

तुमने सोच कैसे लिया तुम पकड़े नहीं जाओगे?

औरत अपनी उम्र बताए तो शर्म से समाज झेंपता है वो औरत नहीं

किसी औरत से उसकी उम्र पूछना उसका अपमान नहीं होता है.

आपको भी डर लगता है कि कोई लड़की फर्जी आरोप में आपको #MeToo में न लपेट ले?

तो ये पढ़िए, काम आएगा.

#MeToo मूवमेंट इतिहास की सबसे बढ़िया चीज है, मगर इसके कानूनी मायने क्या हैं?

अपने साथ हुए यौन शोषण के बारे में समाज की आंखों में आंखें डालकर कहा जा रहा है, ये देखना सुखद है.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.