Submit your post

Follow Us

नरेंद्र मोदी सच में हिंदू विरोधी हैं, ये रहे सबूत

हिंदू महासभा ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हिंदू विरोधी हैं. और हिंदू समाज को धोखा दे रहे हैं. हिंदू महासभा के नाम में ‘हिंदू’ है इसलिए वो ये बात कह सकते हैं. मजाल कोई और ऐसा कह जाए. हिंदू महासभा की राष्ट्रीय सचिव पूजा शकुन पांडे ये भी कह गईं कि हिंदू समाज आज अनाथ की स्थिति में है. कम से कम हिंदू महासभा को ऐसा नहीं कहना चाहिए, याद रखिए ये वही लोग हैं, जो वैलेंटाइन डे मनाने वाले जोड़ों की शादी कराते फिरते हैं. दुनिया-जहान का कन्यादान कराने वाले अनाथ कैसे हो सकते हैं?

हिंदू महासभा ने इतना गलत भी नहीं कहा है, जो खांटी दक्षिणपंथी हैं और जिन्होंने मन ही मन मोदी से उम्मीदें पाल ली थीं. उनके साथ मोदी ने सच में धोखा किया है. कुछ वादे मोदी ने किए थे, कुछ लोगों ने खुद ही सोच लिए थे.

जैसा सोचा गया था, वैसा कुछ नहीं हुआ. न लाहौर को बैंगलोर में मिलाया गया, न कराची रांची के किनारे लगी. ‘धारा हर मोड़ बदल कर लाहौर से गुजरेगी गंगा, इस्लामाबाद की छाती पर लहराएगा भारत का झंडा’ कहने वालों के साथ भी धोखा ही हुआ है. पाकिस्तान नहीं, नवाज़ के केक के टुकड़े जरूर हुए. साड़ियां और शॉल का लेन-देन होता है. पाकिस्तान पर एटम बम भी नहीं छोड़ा गया, दाऊद अब भी पकड़ से बाहर है. सर्जिकल स्ट्राइक के बाद उरी अटैक से ज्यादा जवान मारे गए हैं. (ओ सॉरी, भले ये फैक्ट है, भले हमारे जवान मारे गए हैं लेकिन हमें ये चीज नहीं कहनी चाहिए थी, क्योंकि ये सरकार के अगेंस्ट जा सकती है. ठीक है, आप इस फैक्ट को भूल जाइए.)

मोदी सच में हिंदू विरोधी हैं, अब तक गाय को राष्ट्रीय पशु नहीं बनाया. गौमाता घोषित नहीं किया. उल्टे गाय की रक्षा के लिए दिन-रात एक किए रहने वाले ‘गौ-रक्षक उद्यमियों’ को गोरखधंधा करने वाला कह डाला. ये नहीं कि गौहत्या बंद करा दें, गाय मारने वालों को फांसी चढ़ाएं, बल्कि कहा 70 फीसदी गौ-सेवक फर्जी हैं. गोरखधंधे करते हैं. उन लोगों का सपोर्ट भी नहीं किया, जिनने गौ-माता के लिए लोगों को सरेआम पीटा था.  

इतना ही नहीं मोदी ने देश को हिंदूराष्ट्र भी घोषित नहीं किया. उल्टे शांति-वांति की बात करते हैं, कहते हैं कि बातचीत से हल निकालें. सबसे ज्यादा दुःख तो इस बात का कि बेचारे कहते-कहते थक गए 2014 में मोदी आएंगे, समवन को मारेंगे. कुछ न हुआ, और तो और बेचारे साक्षी महाराज और योगी आदित्यनाथ कुछ कहते हैं तो रिस्पांस तक नहीं मिलता. डांट पड़ती है. सवाल पूछिए, मोदी भक्तों को गुस्सा क्यों आता है, मोदी भक्त गाली क्यों देते हैं? वजह यही है, मोदी ऐसा कुछ नहीं कर रहे जैसा खांटी हिंदूवादियों ने सोचा था. न वो मार-काट ही करते, न एक रात में किसी के खिलाफ मोर्चा खोल देते, न किसी पर हावी होते हैं.

हिंदूवादियों को सबसे बड़ा दुःख जो  है वो ये कि राम मंदिर के निर्माण का वादा अटका सो अटका. बुलेट ट्रेन आ रही है. स्मार्ट सिटी ले आएंगे, स्टार्ट अप इंडिया की बात कर लेंगे. राम मंदिर का जिक्र तक नहीं करते. सरदार पटेल की मूर्ति का नाम न लें कोई दिक्कत नहीं लेकिन राम मंदिर के बारे में कुछ तो कह दें. मोदी के शासन में सच में ई-हिंदुओं और ऐसे हिंदुओं के साथ बहुत बुरा हुआ है. उनका हवा में फुलाया फुग्गा फूट गया है.


ये भी पढ़िए:

पर्सन ऑफ द इयर के अलावा इन कैटेगरीज में मोदी हैं नंबर वन

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.