Submit your post

Follow Us

वो शर्ट पहनता हूं तो लगता है, मैं भी पापा जैसा हो गया हूं

957
शेयर्स

मेरे पास लाल और काले रंग की एक चेक शर्ट थी. इतने छोटे में, जो छुटपन याद रह जाता है. मैं कभी वो शर्ट पहन के स्कूल गया. मैम थीं, मधु मैम. मुझे याद है वो केजी में हमें कैसे ‘पैसे पास होते तो चार चने लाते, चार में से एक चना चूहे को खिलाते’ याद कराती थीं. ‘वो गातीं थीं चूहे को खिलाते तो दांत टूट जाता, दांत टूट जाता तो बड़ा मजा आता’ मैं चूहे के लिए दुखी हो जाता था. मुझे लगता वो खाना कैसे खा पाएगा. अपराधबोध सा लगता, जैसे मैंने साजिश करके चूहे के दांत तोड़ दिए. मुझे चूहे के दांत टूटने पर दुःख होना उस दिन बंद हुआ जिस दिन मैंने गन्ने से एक चूहे को मार दिया था.

मधु मैम को जाने क्यों वो चेक शर्ट बहुत अच्छी लगी. बाद में उन्होंने वैसा कपड़ा बहुत खोजा, अपने ब्लाउज के लिए. मम्मी-पापा बताते हैं बाद में शायद उनने कहीं खोज भी लिया था. मुझे याद नहीं. मैनें उन्हें कभी पहने नहीं देखा. जब तक में मैं हाईस्कूल में पहुंचता मधु मैम नहीं रहीं. मुझे वजह नहीं पता, बस ये पता है वो नहीं रही. ठीक वैसे ही जैसे हमारे बचपन की सारी चीजें एक दिन नहीं रहतीं और हम ध्यान भी नहीं दे पाते वो कैसे खत्म हो गईं. मैंने मधु मैम के जाने के बाद उन्हें ध्यान किया था. मुझे लगता था वो अच्छी औरत थीं, वो किसी चूहे के दांत टूटने पर खुश नहीं होतीं. और मैं चाहता था कि उन्हें उसी चेक का ब्लाउज पीस मिल गया रहा हो.

चेक शर्ट मुझे थोड़े अजीब लगते हैं. वो फॉर्मल से नहीं होते, पर उसके आस-पास होते हैं. आप उन्हें लापरवाही से भी पहन सकते हो. शर्ट इन करना दुनिया के सबसे घटिया कामों में से है. हममें से हर किसी के पास एक शर्ट होती है. जो हमारी सेकेंड स्किन बन जाती है, वो शर्ट कभी पुरानी नहीं लगती, कभी गंदी नहीं लगती, उसे पहनने से पहले सोचना नहीं पड़ता. प्रेस नहीं करना होता, आप उसमें कभी बुरे नहीं लगते. ‘

मेरे पास एक चेक शर्ट है, कॉलेज के फेयरवेल के लिए ली थी, वो मेरी फेवरेट शर्ट है. वो शर्ट मैनें तब भी पहनी थी. जब पहली नौकरी पर पहले दिन गया था. जिस दिन शहर छोड़ा उस दिन भी. पहले इंटरव्यू में भी. उस दिन भी जब मेरा जन्मदिन था, और कंधे पर वो भाई, जिसने महीने भर एक्सीडेंट की चोटों से जूझने के बाद दम तोड़ दिया. घटनाओं के क्रम थोड़ा उलट- पुलट गए हैं. यादें रैंडम आती हैं. मैं याद करता हूं तो हर दुःख में या खुशी में खुद को उसी शर्ट में पाता हूं, जैसे वो शर्ट नहीं मैं हूं. और ये बहुत मिडिल क्लास सी बात है. वो शर्ट मुझे उस उम्र में मिली थी जब हमारा बढ़ना बंद हो जाता है, मैं पहले पापा को एक शर्ट सालों-साल पहनते देखता था. मेरी तो तीन महीने में छोटी हो जाती थी. अब शर्ट पहनता हूं तो लगता है मैं भी पापा जैसा हो गया हूं.

हमारी फेवरेट शर्ट हम जैसी होती है. अपनी तमाम अच्छाइयों-बुराइयों के बावजूद कभी बुरी नहीं लगती, जैसे हम खुद को कभी गलत नहीं लगते. हमें पता होता है पीठ तरफ एक जगह उसका धागा नुच गया है. एक जगह हल्दी छुआ गई थी. फिर साबुन से धुलकर लाल हो गई है. लेकिन हम उसे पहनते रहते हैं. क्योंकि हम ऐसे ही हैं. चीजें ऐसी ही होती हैं.


वीडियो देखें –

‘पानी की जगह हम लोग को गंगाजल मिल गया..जय श्रीराम”:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
My favorite shirt is my second skin

गंदी बात

हम रेप की कहानियां किस तरह सुनना चाहते हैं?

मसाला छिड़ककर या मलाई मारकर?

मलाइका अरोड़ा की कांख पर कुछ लोगों की आंख क्यों चढ़ गई?

कुछ ने तारीफ़ की. मगर कई लोग मुंह भी बना रहे हैं. लिख रहे हैं, वैक्स क्यों नहीं करवाया.

साइकल, पौरुष और स्त्रीत्व

एक तस्वीर बड़े दिनों से वायरल है. जिसमें साइकल दिख रही है. इस साइकल का इतिहास और भूगोल क्या है?

महिलाओं का सम्मान न करने वाली पार्टियों में आखिर हम किसको चुनें?

बीजेपी हो या कांग्रेस, कैंडिडेट लिस्ट में 15 फीसद महिलाएं भी नहीं दिख रहीं.

लोकसभा चुनाव 2019: पॉलिटिक्स बाद में, पहले महिला नेताओं की 'इज्जत' का तमाशा बनाते हैं!

चुनाव एक युद्ध है. जिसकी कैजुअल्टी औरतें हैं.

सर्फ एक्सेल के ऐड में रंग फेंक रहे बच्चे हमारे हैं, इन्हें बचा लीजिए

इन्हें दूसरों की कद्र न करने वाले हिंसक लोगों में तब्दील न होने दीजिए.

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बच्चे के ट्रांसजेंडर होने का पता चलने पर मां ने खुशी क्यों मनाई?

आप में से तमाम लोग सोच सकते हैं कि इसमें खुश होने की क्या बात है.

'मैं तुम्हारे भद्दे मैसेज लीक कर रही हूं, तुम्हें रेपिस्ट बनने से बचा रही हूं'

तुमने सोच कैसे लिया तुम पकड़े नहीं जाओगे?

औरत अपनी उम्र बताए तो शर्म से समाज झेंपता है वो औरत नहीं

किसी औरत से उसकी उम्र पूछना उसका अपमान नहीं होता है.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.