Submit your post

Follow Us

आज मुलायम सिंह यादव ने अपने जीवन की सबसे बड़ी गलती कर दी

अखिलेश को मैंने ही सीएम बनाया था. वोट मेरे नाम से ही मिला था. अब हमने अखिलेश को फ्री कर दिया है. चुनाव आ रहा है. हमारी किसी भी पीढ़ी में कोई विवाद नहीं है. शिवपाल हैं पार्टी के इंचार्ज. सब कुछ देखेंगे. आने वाले चुनाव के बाद विधायक ही मुख्यमंत्री का चुनाव करेंगे. पहले कोई घोषणा नहीं है. हां, मेरे बिना सरकार नहीं बन सकती. मैंने ही छोटी पार्टी से शुरुआत की थी… अखिलेश को ज्यादा टाइम नहीं दे पाया था उनके बचपन में. मेरी बहन और शिवपाल ने ही पाला था उनको.

– मुलायम सिंह यादव

ये सारा राजनीतिक ज्ञान दे रहे थे समाजवादी पार्टी के फराओ मुलायम सिंह यादव. लखनऊ में. आज-कल उनको बड़ा सुकून सा आ रहा है बेटे अखिलेश को नीचा दिखाने में. पर यहां पर वही हो रहा है, जो बीस साल पहले हुआ था. जब मुलायम ने प्रधानमंत्री बनने का सपना देखा था. इसी स्पीच में मुलायम ने कहा कि 5 नवंबर को हम लोग चुनाव प्रचार शुरू करेंगे. जो कि समाजवादी पार्टी का 25वां जन्मदिवस भी है. मुलायम की इन बातों ने समाजवादी पार्टी को यू-टर्न लिवा दिया है. पहले यही माना जा रहा था कि पार्टी अखिलेश के नेतृत्व में चुनाव लड़ेगी.


उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर इंडिया टुडे ने एक सर्वे किया, जिसमें मुख्यमंत्री के तौर पर मायावती 31% वोटरों की पहली पसंद थीं. अखिलेश यादव 27% वोटरों की पसंद थे. और मुलायम सिंह यादव को 1% वोटरों ने पसंद किया. प्रियंका गांधी को 2% और शीला दीक्षित को 1% वोटरों ने मुख्यमंत्री लायक माना.

पर जब वोटरों से ये पूछा गया कि आप वोट किसको देंगे, तो ज्यादातर का जवाब था – बीजेपी को देंगे. राजनाथ सिंह को 18% और योगी आदित्यनाथ को 14% वोटरों ने पसंद किया था. मतलब बीजेपी के कैंडिडेट 32% के साथ हैं मैदान में.

हालांकि लॉ एंड ऑर्डर की बात आने पर 64% ने मायावती को ही चुना.


2007 में मायावती के मुख्यमंत्री बनने के बाद सपा की धज्जियां उड़ गई थीं. ये पार्टी गुंडे-मवालियों की पार्टी कही जाने लगी थी. स्थिति ये हो गई थी कि पार्टी के प्रेसिडेंट शिवपाल यादव को प्रोटेस्ट के दौरान एक कांस्टेबल ने थप्पड़ धर दिया था. उसके बाद अखिलेश यादव ने ही युवा नेता के तौर पर पार्टी को संभाला. उनके साथ आये उनके मित्र आनंद भदौरिया और सुनील सिंह साजन. इन लोगों ने पार्टी को रिवाइव किया. यात्राएं कीं. जीत भी गये. अखिलेश ने पार्टी की इमेज सुधारने के लिये गुंडों को टिकट देने से परहेज किया था. इसका फायदा मिला था. पर 2016 में स्थिति बदल गई. शिवपाल यादव अड़ गये.

2012 में ऐसा लगा था कि मुलायम अब फिर से प्रधानमंत्री के सपने देखेंगे और शिवपाल मुख्यमंत्री बनेंगे. पर ऐसा हो नहीं पाया था. अबकी बार शिवपाल ने सब कुछ बदल दिया. अखिलेश से बिना पूछे उनके दोस्तों को पार्टी से बाहर कर दिया गया. अखिलेश ने भ्रष्टाचार के आरोप में अपने मंत्री गायत्री प्रजापति को बर्खास्त कर दिया. पर शिवपाल के दबाव में गायत्री को फिर से बहाल कर लिया गया. यही नहीं, अखिलेश को पार्टी प्रेसिडेंट से हटाकर शिवपाल को बना दिया गया.

फिर शिवपाल यादव ने कैंडिडेट लिस्ट भी निकाल दी, जिसके बारे में अखिलेश को कुछ पता नहीं था. पर अखिलेश ने ये कह दिया कि अच्छा, अभी कैंडिडेट बदले भी जायेंगे. फिर अमनमणि त्रिपाठी को भी टिकट दिया गया, जिनके पिता अमरमणि त्रिपाठी मधुमिता शुक्ला की हत्या के आरोपों के घेरे में रहे हैं. जबकि अखिलेश के नजदीकी अतुल प्रधान को मना कर दिया गया. इसके बारे में अखिलेश ने कहा कि मैंने अपने सारे अधिकार छोड़ दिये हैं. सब अब जनता के पास हैं. फिर 14 विधानसभाओं के कैंडिडेट भी बदल दिये गये. वो अभी विधायक हैं और इस बारे में उनके नेता अखिलेश से पूछा भी नहीं गया. अखिलेश की इससे बड़ी बेइज्जती हुई मुख्तार अंसारी के मामले में. अखिलेश शुरू से ही मुख्तार के खिलाफ थे. पहले उनकी पार्टी कौमी एकता दल का सपा में विलय होते-होते रह गया. पर अब शिवपाल ने विलय करा ही दिया है.

ऐसे में समाजवादी पार्टी की इमेज फिर से गुंडों वाली पार्टी की बन ही जायेगी. इस बात का कितना फायदा होता है, ये मुलायम से ज्यादा कौन जानता है. 1996 से 1998 के दौर में मुलायम को दो बार लगा था कि प्रधानमंत्री बन जाऊंगा. पर एक बार लालू यादव ने पत्ता काट दिया था. और दूसरी बार वरिष्ठ पत्रकार कुलदीप नैय्यर ने सीपीआई के हरकिशन सिंह सुरजीत से कह दिया कि ये आप किसको प्रधानमंत्री बनाने जा रहे हैं, ये आदमी अपने विरोधियों को मरवा देता है.

चाहे जो भी हो, अखिलेश की इमेज यूपी में अच्छी तो है ही. चाहे उनकी लैपटॉप वाली स्कीम हो या मेट्रो योजना, लोग उनसे प्रभावित तो हैं. मुलायम ने तो लोहिया का नाम लेकर अपनी राजनीति शुरू की थी. पर लोहिया ने तो वंशवाद को नकार दिया था. अब अखिलेश लोहिया की बात कर रहे हैं. कहीं ऐसा ना हो कि लोहिया की राजनीति को फॉलो करते हुये बाप-बेटे की झंझट वंशवाद को खत्म ही कर दे.


ये भी पढ़ें:

अखिलेश-डिंपल को टक्कर देने आया जयंत-चारु का नया जोड़ा

शिवपाल यादव ने फिर भगा दिया अखिलेश के इन दो खास आदमियों को!

मुख्तार अंसारी समाज में नासूर है, पर पॉलिटिक्स में ‘नेल पॉलिश’ है

शिवपाल यादव समाजवादी पार्टी की टूटी टांग हैं या बैसाखी?

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

Lefthanders Day: बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

Lefthanders Day: बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मेरा बाएं-हत्था होना लोगों को चौंकाता है. और उनका सवाल मुझे चौंकाता है.

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.