Submit your post

Follow Us

शुक्र मनाओ, तुम्हारा ब्रेकअप हुआ है

रजत ‘सतारा’ के लिए.

 


 

PP KA COLUMN

कहते हैं पहले प्यार जैसा कोई प्यार नहीं होता. बेशक, नहीं होता. पहले प्यार के वक्त आप इतने बेवकूफ जो होते हैं. कुछ यूं होता है कि जो मिला, उसे मुंह से लगा लिया. महसूस होता है कि ‘मुच्चू-मुच्चू-नोनू-मोनू वाली गल्लां’ में जीवन कट जाएगा. साथ बूढ़े होंगे. फिर एक दिन उसका फेसबुक खुला छूट जाता है और आपको महसूस होता है कि ये तो कहीं और भी सेट है. दिल टूटता है. लड़कों की कलाइयां टूटती हैं जो उन्होंने किसी चीज पर दे मारी होती हैं. लड़कियों का मेकअप छूट जाता है. आंखें सूज जाती हैं. माथे पर साफ़ शब्दों में छप जाता है ‘आगे रास्ता बंद है, यहां दिल की मरम्मत चल रही है’.

दिल टूटना. कितना दर्दनाक फ्रेज है. ‘ब्रेकअप’ से कहीं ज्यादा दर्दनाक. और मैं बिलकुल भी दर्द के पक्ष में नहीं हूं. हल्के से सर दर्द में भी डिस्प्रिन गटकने वाली. लेकन दिल टूटने के पक्ष में हूं. आज और हमेशा. दो-तीन बार टूटे तो बेहतर होगा. लेकिन एक बार भी टूटे तो चलेगा.

दिल टूटने पर दुख होता है. और ये कोई हल्की बात नहीं. लोग जहर खाते हैं, छतों से कूद जाते हैं, फांसी लगा लेते हैं. जानें जाती हैं. किसी से दूर होना किसी इंसान के लिए इतनी भारी बात होती है कि वो ये तक नहीं सोचता कि मेरे सुसाइड करने के बाद मेरे घरवालों और उन तमाम दोस्तों का क्या होगा जिनके लिए वो ख़ास थे. और सबसे बड़ी बात, उस इंसान का क्या होगा, जिससे तुमने ब्रेकअप किया था. वो तो खुद को तुम्हारी मौत का जम्मेदार मानकर जाने कितने मेंटल ट्रॉमा से गुजरेगा. कुछ सुसाइड से नीच वाले लेवल पर रहते हैं. हाथ तोड़ते हैं, बेहोश होते हैं, अस्पताल में भर्ती होते हैं. और कुछ अकेले में रो-रोकर गहरे अवसाद का शिकार हो जाते हैं. क्लिनिकल डिप्रेशन, जिसे जाने में महीनों का वक्त लगता है. जो ब्रेकअप से गुजरे हैं, वो जानते हैं कि ये मात्र ‘एक पार्टनर गया, दूसरा आया’ वाली बात नहीं होती. हो सकता है आप सैकड़ों बार प्रेम करें. और हर व्यक्ति के जाने पर उतना ही दुख हो.

फिर मैं इस दुख के पक्ष में क्यों हूं?

कहते है जबतक पांवों में प्लास्टर न चढ़े, साइकल चलानी नहीं आती. प्रेम का लॉजिक मुझे वैसा ही लगता है. हमारा प्रेमी हमें पूरा करता है. बुरे समय में हिम्मत बांधता है. लेकन वही प्रेम अगर अझेल होने लगे, तो आप पर जोंक कि तरह चिपक जाता है. अंदर-अंदर ही आपका खून चूसता है और आपको मालूम भी नहीं पड़ता. अपने दिन-रात किसी के नाम कर देना बेशक एक अच्छी फीलिंग होती है. लेकिन जब आपके दिन-रात उस व्यक्ति के चंगुल से मुक्त होते हैं, तब आपको पता पड़ता है कि ये भी एक किस्म कि आजादी है.

ये आजादी आपको जीना सिखाती है. हां, आपको अकेलापन महसूस होता है. लेकिन ये अकेलापन आपको अपने आप से परिचित कराता है. अपने कमरे की सीली दीवारों पर लटके जिस आईने में कल तक आप किसी और कि शक्ल देख रहे होते हैं, आज आप उसमें अपनी शक्ल देखते हैं. अपने नैन-नक्श देखते हैं, अपनी आंखों के नीचे पड़े काले घेरों को देखते हैं. अपनी उंगलियां देखते हैं जो अब किसी और की गर्दन पर नहीं फिरतीं. अपने झुके हुए कंधे देखते हैं. जब सारे कपड़े उतार आप नहाने घुसते हैं तो महसूस करते हैं कि जिस्म आपका है. आप कभी खुद के इतने करीब नहीं होते जितना ब्रेकअप के बाद होते हैं.

सुबहें बोझल होती हैं. बिस्तर नहीं छूटता. पर मैं इस फीलिंग के बारे में बात नहीं कर रही हूं. बात कर रही हूं उस फीलिंग की जब आप एक गहरी सांस लेते हैं और खुद से कहते हैं कि उठो, कॉलेज/ऑफिस जाना है. आज गैस सिलेंडर भरवाना है. फिर बिजली का बिल जमा करना है. कजिन की शादी की शॉपिंग करनी है. एक पुराने दोस्त से मिलना है. और आप उठ खड़े होते हैं. फिर उस आईने में अपनी शक्ल देखते हैं जिसमें सिर्फ आपका प्रतिबिंब दिखता है. सिर्फ आपका. आप शॉवर लेते हैं. शरीर की हरारत मिट जाती है. फिर आप निकल पड़ते हैं दिन से लोहा लेने, अकेले.

आपको लगा था कि आपसे फिर कभी प्रेम न होगा. पर दोस्त, दिल पर न, एक कोटिंग होती है असली, मजबूत कनपुरिया चमड़े की. आपको लगता है कि वो बहुत कमजोर है. पर असल में होता नहीं. ढीठ होता है. फिर से प्रेम कर बैठता है. और पहले प्यार सी फीलिंग्स फिर से वापस आ जाती हैं. लेकिन इस बार आप समझदार हो चुके होते हैं. देख-परखकर, ठोंक-पीटकर प्रेम करते हैं. डोलों के साइज, परफ्यूम की खुशबू, या आंखों के काजल से प्रेम नहीं करते. जिस्मों, शक्लों से प्रेम नहीं करते. बातों से प्रेम नहीं करते. आप एक इंसान से प्रेम करते हैं. उसके दिमाग, उसकी सोच से प्रेम करते हैं. तब आप मुस्कुराकर शुक्रिया अदा करते हैं उसका जो आपको छोड़कर गया.

इसलिए जो छोड़कर जाता है, उसके पीछे न भागो. वो तुम्हारे बुलाने से रुक भी गया, तो भी ये याद रखना, कि अपनी मर्ज़ी से नहीं रुका.

जानते हो, हमारी दिक्कत क्या है? हमसे रिजेक्शन झेला नहीं जाता. ‘उसने मुझसे ना कैसे कहा?’ टाइप का ईगो. अरे भाई उसका मन नहीं लग रहा था, वो चला गया. बिना मन के वो तुम्हारे साथ भी रहता तो तुम क्या उखाड़ लेते. इस बात का शुक्र मनाओ कि वो खुद ही चला गया. वरना एक दिन तुम उसका खुला हुआ फेसबुक देखते तो कितना दुख होता, नहीं?

बेवफाई कुछ नहीं होती, मेरे दोस्त. बॉलीवुड के लिरिक्स भरने के लिए एक शब्द भर है. अपने हिस्से का प्रेम करने और पाने का हक़ सबको है. अगर उसे किसी और से प्यार हो जाए तो तुम कुछ नहीं कर पाओगे. तुम्हें किसी और से प्यार हो जाए तो वो कुछ नहीं कर पाएगा. भले ही कितना भी समय साथ बिता लो. भले ही एक दूसरे को सारे पासवर्ड बता दो.

और हां, दिल टूटने के बाद जब दोबारा प्रेम करो, तो दूसरे व्यक्ति पर अविश्वास रखने के बजाय खुद पर विश्वास रखो. कि तुम एक मजबूत इंसान हो. और ब्रेकअप होना दुनिया की सबसे नॉर्मल चीज है. कभी कहीं तुम्हारा एक्स टकरा जाए तो मुस्कुरा कर कहना, ‘शुक्रिया दिल तोड़ने के लिए.’ क्योंकि दिल टूटना भी जरूरी है.


जाते जाते एक गाना सुन जाओ. जॉन लेनन का नाम सुना है? ‘द बीटल्स’ वाले? उनका उनकी पत्नी सिंथिया से तलाक हो गया था. जापानी सिंगर योको ओनो से अफेयर के चलते. दोनों का कॉमन फ्रेंड था, पॉल मेकर्टनी. सिंथिया ब्रेकअप से दुखी थीं. तब ये गाना पॉल ने सिंथिया और जॉन लेनन के बेटे के लिए लिखा था. लेकिन सिंथिया और जॉन को भी ये गाना खूब पसंद था. सिर्फ उन्हें ही नहीं, पूरी दुनिया को.

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

अरूसा आलम: जनरल रानी की बेटी, जिसने हिंदुस्तानी पंजाब की राजनीति के समीकरण बदल दिए

अरूसा आलम: जनरल रानी की बेटी, जिसने हिंदुस्तानी पंजाब की राजनीति के समीकरण बदल दिए

इस कहानी के पात्र हैं- पत्रकार अरूसा आलम, पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और पूर्व ISI चीफ जनरल फैज़ हमीद.

लता ने पल्लू खोंसा और बोलीं, 'दोबारा दिखा तो गटर में फेंक दूंगी, मराठा हूं'

लता ने पल्लू खोंसा और बोलीं, 'दोबारा दिखा तो गटर में फेंक दूंगी, मराठा हूं'

जानिए लता मंगेशकर के उस रूप के बारे में, जिससे बहुत कम लोग परिचित हैं.

यूपी का वो गैंगस्टर, जिसने रन आउट होते ही अंपायर को गोली मार दी

यूपी का वो गैंगस्टर, जिसने रन आउट होते ही अंपायर को गोली मार दी

फिल्मी कहानी से कम नहीं खान मुबारक की जिंदगी?

देश के 13वें उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू देश को इमरजेंसी की देन हैं

देश के 13वें उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू देश को इमरजेंसी की देन हैं

इन्होंने अटल के लिए सड़क बनाई थी और मोदी के लिए किले. अब उपराष्ट्रपति हैं.

मुख़्तार अंसारी, सुनहरा चश्मा पहनने वाला वो 'नेता' जो मीडिया के सामने बैठकर पिस्टल नचाता था

मुख़्तार अंसारी, सुनहरा चश्मा पहनने वाला वो 'नेता' जो मीडिया के सामने बैठकर पिस्टल नचाता था

गैंग्स्टर से नेता बने मुख़्तार अंसारी के क़िस्से.

जैन हवाला केस क्या है, जिसके आरोपों के छींटे बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ के ऊपर पड़ रहे हैं

जैन हवाला केस क्या है, जिसके आरोपों के छींटे बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ के ऊपर पड़ रहे हैं

इस केस में आरोप लगने के बाद आडवाणी को इस्तीफा देना पड़ा था.

इलॉन मस्क, जिसे असल दुनिया का आयरन मैन कहा जाता है

इलॉन मस्क, जिसे असल दुनिया का आयरन मैन कहा जाता है

जो स्कूल में बच्चों से पिट जाता था, वो दुनिया के सबसे अमीर इंसानों की लिस्ट में कैसे पहुंचा.

मेसी: पवित्रता की हद तक पहुंच चुका एक सुंदर कलाकार

मेसी: पवित्रता की हद तक पहुंच चुका एक सुंदर कलाकार

दुनिया के सबसे धाकड़ लतमार के जन्मदिन पर एक 'ललित निबंध'. पढ़िए प्यार से. पढ़िए चपलता से.

जिदान को उस रोज़ स्वर्ग से निष्कासित देवता के आदमी बनने की खुशी थी

जिदान को उस रोज़ स्वर्ग से निष्कासित देवता के आदमी बनने की खुशी थी

सामने की टीम का लड़का उसकी कमीज खींच रहा था, इसने कहा चाहिए क्या मैच के बाद देता हूं..

संजय गांधी: जोखिम का इतना शौक कि चप्पल पहनकर ही प्लेन उड़ाने लगते थे

संजय गांधी: जोखिम का इतना शौक कि चप्पल पहनकर ही प्लेन उड़ाने लगते थे

23 जून 1980 को पेड़ काटकर उतारी गई थी संजय गांधी की लाश.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.