Submit your post

Follow Us

ब्लॉग: कॉन्डम में रंग भरकर मारने का त्यौहार ख़त्म, अब भीगी हुई लड़कियों की तस्वीरें देखें

24.95 K
शेयर्स

(2018 की होली से कुछ पहले दिल्ली में लेडी श्रीराम कॉलेज की दो लड़कियों ने एक शिकायत की. उनका कहना था कि उन्हें गुब्बारे फेंककर मारे गए और उन्हें गुब्बारे में वीर्य होने का शक था. ये आर्टिकल तभी लिखा गया था. बाद में फॉरेंसिक साइंस लैब की रिपोर्ट आई. रिपोर्ट में वीर्य नहीं पाया गया था. इस आर्टिकल से वो हिस्सा हटा दिया गया है.)

स्त्रीत्व छिपा हुआ होता है–मानसिक, शारीरिक और सांस्कृतिक तौर पर. इसलिए हम औरतों को ‘टेढ़ापन’, ‘छोटापन’, ‘शीघ्रपतन’ या ‘निल शुक्राणु’ के हकीमों की जरूरत नहीं पड़ती. ज्यादा से ज्यादा कोई हकीम ‘बांझपन’ ठीक करने का दावा कर सकता है मगर वो औरत के सेक्स नहीं, मां बनने से जुड़ी समस्या होती है. शहर के ‘आउटर’ की दीवारें पौरुष के वादों से पुती होती हैं. क्योंकि पौरुष आ या जा सकता है. स्त्रीत्व रिसीविंग एंड पर होता है. वो बस होता है.

PP KA COLUMN

स्त्रियों के पास इस होली भी फेंकने के लिए कुछ नहीं था. वो कॉन्डम इस्तेमाल नहीं करतीं कि उनमें पानी भरकर मार दें. मगर वो जरूरी नहीं है. प्रैक्टिकल भी नहीं. जो डर जाता है वो बदला लेने के बारे में नहीं सोचता.

होली पर खाना बनाने वाली दीदी नहीं आईं. मैंने उनके आने की उम्मीद भी न की थी. त्यौहार का दिन जायज़ तौर पर छुट्टी का दिन होता है. होली के बाद उनसे पूछा कि त्यौहार कैसा रहा. उन्होंने कहा वो तो बंगाली हैं, होली का क्रेज नहीं है. छुट्टी तो बस इसलिए ली थी कि सड़क पर निकलना खतरनाक हो सकता था.

इस तरह स्त्रीत्व और स्त्री घर के अंदर दुबके रहे.

holi 4
मैंने अपने घर और पड़ोस की औरतों को इतने उन्मुक्त रूप से हंसते, ठिठोली करते, गरियाते और नाचते कभी नहीं देखा जितना होली पर देखा है.

यूं भी नहीं है कि लड़कियां होली नहीं खेलती. भाई साहब, महिलाओं को एक दूसरे के ब्लाउज में हाथ डालकर रंग पोतते देख लें तो आप शरमा जाएं. महिलाओं को होली खेलते देखना एक सुखद दृश्य होता है. मैंने अपने घर और पड़ोस की औरतों को इतने उन्मुक्त रूप से हंसते, ठिठोली करते, गरियाते और नाचते कभी नहीं देखा जितना होली पर देखा है. मगर हां, किसी को कॉन्डम में रंग भरकर मारते नहीं देखा.

लड़कियां जब होली के नाम पर होने वाले यौन शोषण का विरोध करती हैं, उनपर हिंदू त्यौहारों पर अटैक करने का आरोप लगा दिया जाता है. इन पढ़ी-लिखी, अंग्रेजी में किटपिटाने वाली लड़कियों का क्या है. ये हमारी सभ्यता नहीं समझतीं. ‘वामियों’ के झांसे में आकर हिंदू त्यौहारों को बुरा कहती हैं.

holi 5
होली में होने वाला यौन शोषण ज्यादा डरावना लगता है कि क्योंकि ये लाइसेंस्ड होता है.

कितनी कमाल की बात है. जो लड़की (या लड़का), जिसे आप जानते नहीं, जो आपके साथ होली नहीं खेल रही, उसे आप गुब्बारे मारेंगे ही क्यों?

मारेंगे क्योंकि होली है. होली में बुरा नहीं मानना चाहिए. और अगर आप बुरा मानें तो इसे आपकी ही कमी बताई जाएगी क्योंकि आप उनका मज़ा खराब कर रहे होंगे. जबरन किसी अनजान के हाथों गुब्बारा खाकर अगर आपका मज़ा खराब होता है तो उससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता.

 

holi 6
होली का हर गीत प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से चोली छूने या बाहें मरोड़ने का लाइसेंस देता आ रहा है.

होली में होने वाला यौन शोषण ज्यादा डरावना लगता है कि क्योंकि ये लाइसेंस्ड होता है. किसी पुरुष पर किसी दूसरे पुरुष या औरत का यौन शोषण न करने का मॉरल प्रेशर नहीं होता. इसलिए रोज सर झुकाकर गली से निकलने वाला लड़का भी उस दिन शेर की तरह शिकार पर निकल सकता है और कोई उसे जज नहीं करेगा.

12-13 साल के लड़के, जिनका कंठ भी शायाद न फूटा हो, खुद घरों की छतों के ऊपर से नीचे से चलकर जा रही लड़की के मुकाबले ताकतवर पाते हैं. बित्ते भर के ये लौंडे किसी लड़के पर रंग फेंकने की जुर्रत नहीं करते, मगर कॉलेज और स्कूल में पढ़ने वाली लड़कियों पर पिचकारी चलाने के पहले नहीं सोचते. उस दिन इनके मां और पापा इन्हें जी भर के मस्ती करने की छूट देते हैं. और यौन शोषण की शुरूआती ट्रेनिंग में उनका साथ देते हैं.

बैकग्राउंड में जो गीत बज रहे होते हैं वो भी कमाल के होते हैं. हम गीतों की चीरफाड़ किए बिना उन्हें हर होली पर बजाते हैं.

तेरी कलाई है, हाथों में आई है
मैंने मरोड़ा तो, लगती मलाई है

या फिर

जा रे जा, डोंट टच माय चोली

ये उदाहरण हैं. होली का हर गीत प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से चोली छूने या बाहें मरोड़ने का लाइसेंस देता आ रहा है. आप मुझपर बिना बात गीतों में यौन शोषण खोजने का आरोप लगा सकते हैं मगर ठहरकर ये भी सोचें कि मज़े के लिए मोड़ी जा रही कलाई हर बार लड़की की ही क्यों होती है.

मगर ये सब मैं आपसे होली के बाद कह रही हूं क्योंकि औरत के शरीर को त्यौहार के बहाने पब्लिक प्रॉपर्टी मानने का बजनेस यहां खत्म नहीं होता. अगले दिन अखबार में ख़बरें छपती हैं जो हमें बताती हैं कि होली देश के कई हिस्सों में किस तरह धूमधाम से मनाई गई. जैसे मॉनसून के आगमन पर छपती हैं. और लू के चलने पर छपती हैं. और हर बार मौसमों की मार जाने क्यों औरत का शरीर ही झेल रहा होता है.

Newspaper Screenshot
एक हिंदी अखबार की कटिंग.

और यूं आईं होली की तस्वीरों की गैलरी.

News Website Screenshot
हिंदी वेबसाइट का स्क्रीनशॉट.

जाते-जाते सड़क पर उन्मुक्त नाचती उर्मिला के साथ छोड़कर जा रही हूं. बात यहां भी रंग की ही है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

EXCLUSIVE: विराट कोहली को किस क्रिकेटर ने मारे थे जोरदार थप्पड़?

बड्डे के दिन इसके बारे में बात इसलिए कर रहे हैं क्यूंकि विराट के हर फैन को पूरी कहानी पढ़कर अच्छा लगेगा.

लक्ष्मण ट्रबलशूटर नाम तिहारो!

पांच मैच: जब सारी उम्मीदें मर गईं और लक्ष्मण गेंदबाज़ों के साथ मैच जिता लाए. आज बड्डे है उनका.

ऐश्वर्या से प्यार के वो किस्से, जो आपको कहीं और नहीं मिलेंगे

गॉसिप भरी दुनिया में ये सच्चा है, अच्छा है.

कौन है ये आदमी, जिसकी वजह से पाकिस्तान में एकबार फिर इतना बवाल मचा हुआ है?

पाकिस्तान में समय का पहिया घूमा है. जैसा उन्होंने नवाज के आगे किया, वैसा अब उनके आगे हो रहा है.

सरदार पटेल ने RSS पर बैन क्यों लगाया था?

बैन लगने और हटने की पूरी कहानी. पटेल संघ को लेकर क्या सोचते थे और उन्होंने क्या-क्या कहा...

31 अक्टूबर, 1984: सलमा ने बालों में गुलाब नहीं लगाया था, सारा देश जान गया कि कुछ बुरा हुआ है

उस दिन और उसके बाद जो हुआ, उनकी आंच अब भी राजनीति में उबाल ला देती है!

मादी शर्मा: पीएम के साथ तस्वीर से लेकर कश्मीर में विवादित डेलिगेशन भेजने तक

ये पूरी कवायद कुछ बेहद पेचीदा सवाल हमारे लिए छोड़ जा रही है.

मर जाने के बाद बगदादी की लाश के साथ क्या हुआ?

इस ऑपरेशन का एक हीरो है- US डिफेंस डिपार्टमेंट का एक कुत्ता. जबकि ट्रंप बोले थे- बगदादी कुत्ते की मौत मरा.

आतिशबाज मिट्ठूलाल: ऐसी क़ाबिलियत कि इंदिरा गांधी और जैल सिंह भी उठ खड़े हुए

दिवाली की खास पेशकश. जबरदस्त पटाखा है. पढ़ लो.

कौन था बगदादी? कैसे खड़ा किया उसने अपना स्टेट? जानिए शुरुआत से अंत तक की उसकी पूरी कहानी

बगदादी जिन विदेशियों को मारता था, उन्हें नारंगी रंग के कपड़े क्यों पहनाता था?

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.