Submit your post

Follow Us

कबाड़ी का काम करते हैं नरेंद्र मोदी के भाई, भाभी मांजती हैं बर्तन

भारत में अब तक जितने भी प्रधानमंत्री हुए हैं, प्रधानमंत्री आवास में वो सभी अपने परिवार के साथ रहे हैं. नेहरू के साथ बेटी इंदिरा रहती थीं. उनके उत्तराधिकारी लाल बहादुर शास्त्री 1, मोतीलाल नेहरू मार्ग पर अपने पूरे कुनबे के साथ रहते थे. उनके साथ बेटा-बेटी, पोता-पोती सब रहते थे. इंदिरा गांधी के बेटे राजीव, संजय और उनका परिवार साथ रहते थे. यहां तक कि शादी न करने वाले अटल बिहारी वाजपेयी के साथ भी एक परिवार रहता था. 1998 में जब वो 7, रेसकोर्स पहुंचे, तो उनकी दत्तक पुत्री नम्रता और उनके पति रंजन भट्टाचार्य का परिवार भी साथ रहने आया.

प्रधानमंत्रियों की इस लिस्ट में अगर किसी का नाम नहीं है, तो वो हैं नरेंद्र मोदी. मोदी देश के पहले और इकलौते ऐसे प्रधानमंत्री हैं, जिनके भाई-भतीजे और परिवार के दूसरे सदस्य उनकी ऊंची अहमियत से दूर लगभग अनजान सी जिंदगी जी रहे हैं. आइए आपको प्रधानमंत्री के परिवार से मिलवाले हैं.


वृद्धाश्रम में सोमभाई मोदी
वृद्धाश्रम में सोमभाई मोदी

ये प्रधानमंत्री के सबसे बड़े भाई 75 साल के सोमभाई मोदी हैं. तस्वीर में वो वड़नगर में अपने वृद्धाश्रम के लोगों के साथ हैं. अक्टूबर में पुणे में एक NGO के कार्यक्रम में संचालक ने मंच से सबको बता दिया कि सोमभाई नरेंद्र मोदी के बड़े भाई हैं. सब चौंक गए. फिर सोमभाई ने सफाई दी, ‘मेरे और प्रधानमंत्री के बीच एक परदा है. मैं उसे देख सकता हूं पर आप नहीं देख सकते. मैं नरेंद्र मोदी का भाई हूं, प्रधानमंत्री का नहीं. प्रधानमंत्री मोदी के लिए तो मैं 123 करोड़ देशवासियों में से ही एक हूं, जो सभी उसके भाई-बहन हैं.’

प्रधानमंत्री आवास में अपनी मां के साथ नरेंद्र मोदी
प्रधानमंत्री आवास में अपनी मां के साथ नरेंद्र मोदी

सोमभाई नरेंद्र के पीएम बनने के बाद पिछले ढाई सालों से उनसे नहीं मिले हैं. भाइयों के बीच सिर्फ फोन पर ही बात हुई है. उनसे छोटे पंकज इस मामले में थोड़ा खुशकिस्मत हैं. गुजरात सूचना विभाग में अफसर पंकज अपने भाई से मिल लेते हैं, क्योंकि उनकी मां हीराबेन उन्हीं के साथ गांधीनगर के तीन कमरे के साधारण से घर में रहती हैं. पीएम पिछले दो महीने में दो बार अपनी मां से मिलने आ चुके हैं. मोदी मई, 2016 में अपनी मां को हफ्तेभर के लिए दिल्ली आवास लाए थे.


मोदी के इस्तेमाल किए आयरन के साथ अमृत मोदी
मोदी के इस्तेमाल किए आयरन के साथ अमृत मोदी

ये प्रधानमंत्री के बड़े भाई 72 साल के अमृतभाई मोदी हैं, जो एक प्राइवेट कंपनी में फिटर के पद से रिटायर हुए. 2005 में उनकी तनख्वाह 10 हजार रुपए थी. अब वो अहमदाबाद के घाटलोदिया इलाके में चार कमरों के मकान में रिटायरमेंट वाली जिंदगी जी रहे हैं. उनके साथ उनका 47 साल का बेटा संजय, उसकी पत्नी और दो बच्चे रहते हैं. संजय छोटा-मोटा कारोबार चलाते हैं और अपनी लेथ मशीन पर छोटे कल-पुर्जे बनाते हैं.

2009 में खरीदी गई कार घर के बाहर ढकी खड़ी रहती है. उसका इस्तेमाल खास मौकों पर ही होता है, क्योंकि पूरा परिवार ज्यादातर दो-पहिया वाहनों पर चलता है. संजय बताते हैं कि उनमें से किसी ने भी अभी तक प्लेन अंदर से नहीं देखा है. वो लोग नरेंद्र मोदी से सिर्फ दो बार मिले हैं. एक बार 2003 में बतौर मुख्यमंत्री उन्होंने गांधीनगर के अपने घर में पूरे परिवार को बुलाया था और दूसरी बार 16 मई, 2014 को एक बार फिर ये लोग उसी घर में आए थे.

संजय के पास वो आयरन है, जिससे नरेंद्र मोदी 1969-1971 में अहमदाबाद में रहने के दौरान इस्तेमाल करते थे. उन्होंने घरवालों को इसे कबाड़ में नहीं बेचने दिया और संभालकर रखा है. कहते हैं, ‘अगर काका इसे देखें, तो उन्हें ऐसा लगेगा, जैसे टाइटेनिक का अवशेष मिला हो. ये घर भी उन्हें म्यूजियम जैसा लगेगा.’ इस घर में सिन्नी ब्रांड का वो पंखा अब भी है, जिसे मोदी गर्मी में इस्तेमाल करते थे.


ashokbhai-modi

ये मोदी के चचेरे भाई अशोकभाई हैं, जो मोदी के दिवंगत चाचा नरसिंह दास के बेचे हैं. ये वड़नगर के घीकांटा बाजार में एक ठेले पर पतंगें, पटाखे और खाने-पीने की छोटी-मोटी चीजें बेचते हैं. अब उन्होंने डेढ़ हजार रुपए महीने के किराए पर 8×4 फुट की दुकान किराए पर ले ली है, जिससे उन्हें करीब चार हजार रुपए मिल जाते हैं. पत्नी वीणा के साथ एक स्थानीय जैन व्यापारी के साप्ताहिक गरीबों को खाना खिलाने के आयोजन में काम करके तीन हजार रुपए और जुटा लेते हैं. इसमें अशोकभाई खिचड़ी और कढ़ी बनाते हैं और वीणा बरतन मांजती हैं. ये तीन कमरों के एक मकान में रहते हैं.


पेट्रोल पंप पर पेट्रोल भरते भरतभाई मोदी
पेट्रोल पंप पर पेट्रोल भरते भरतभाई मोदी

ये अशोक के बड़े भाई 55 साल के भरतभाई हैं, जो वड़नगर से 80 किमी दूर पालनपुर के पास लालवाड़ा गांव में एक पेट्रोल पंप पर 6 हजार रुपए महीने में अटेंडेंट का काम करते हैं और हर 10 दिनों में घर जाते हैं. वड़नगर में उनकी पत्नी रमीलाबेन पुराने भोजक शेरी इलाके में घर में ही किराना सामान बेचकर महीने में लगभग तीन हजार रुपए कमा लेती हैं. तीसरे भाई 48 साल के चंद्रकांत अहमदाबाद के एक पशुगृह में हेल्पर का काम करते हैं.


घर-घर फेरी लगाकर कबाड़ जुटाते हैं अरविंद
घर-घर फेरी लगाकर कबाड़ जुटाते हैं अरविंद

ये अशोक और भरत के चौथे भाई 61 साल के अरविंद हैं, जो कबाड़ी का काम करते हैं. वो वड़नगर और आसपास के गांवों में फेरी लगाकर पुराने तेल के टिन और ऐसा कबाड़ खरीदते हैं, फिर उसे ऑटो या बस से ले आते हैं. बड़े व्यापारियों को ये बेचकर उन्हें महीने में 6-7 हजार रुपए की कमाई हो जाती है, जो उनके और पत्नी रजनीबेन के लिए काफी है. उनका कोई बच्चा नहीं है.


प्रहलाद मोदी
प्रहलाद मोदी

नरेंद्र के परिवार के कुछ सदस्य उनके सबसे छोटे भाई प्रह्लाद मोदी से दूरी बनाए रखते हैं. वो गल्ले की दुकान चलाते हैं और गुजरात राज्य सस्ता गल्ला दुकान मालिक संगठन के अध्यक्ष हैं. वो सार्वजनिक वितरण प्रणाली में पारदर्शिता लाने के मामले में मुख्यमंत्री मोदी की पहल से नाराज रहते हैं और दुकान मालिकों पर छापा डालने के खिलाफ प्रदर्शन कर चुके हैं.


मुख्यमंत्री बनने के बाद अपने परिवार के साथ मोदी
मुख्यमंत्री बनने के बाद अपने परिवार के साथ मोदी

RSS का नियम है कि प्रचारक को परिवार से दूरी बनानी होती है. इसी वजह से वो परिवार से दूर रहने लगे थे. मोदी कुनबा आज भी उसी तरह गुमनाम जिंदगी जी रहा है, जैसी वो 2001 में नरेंद्र के पहली बार सीएम बनने के समय जीता था. मोदी खुद इस बात की तारीफ करते हुए कहते हैं, ‘इसका श्रेय मेरे भाइयों और भतीजों को दिया जाना चाहिए कि वो साधारण जीवन जी रहे हैं और कभी मुझ पर दबाव बनाने की कोशिश नहीं की. आज की दुनिया ऐसा वाकई दुर्लभ है.’

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.