Submit your post

Follow Us

पुरुष, जो सुर्खियां बने. औरतें, जो आंकड़े बनकर रह गईं

225
शेयर्स

himanshiये पोस्ट हिमांशी शर्मा ने अपने फेसबुक पर अंग्रेजी में लगाई थी. हम उसे ट्रांसलेट कर आपको पढ़ा रहे हैं. हिमांशी ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अंग्रेजी में एमए किया है. और सामाजिक और राजनैतिक मुद्दों पर अक्सर छोटी-छोटी टिप्पणियां लिखती रहती हैं.


 

कुछ दिनों से अखबार में आई एक खबर मुझे परेशान कर रही है.

छोटे कद की वजह से ‘इन्फीरियॉरिटी कॉम्प्लेक्स’ से जूझ रहा एक आदमी दिल्ली और आस-पास के इलाकों में तकरीबन 1500 लड़कियों को मैसेज, वीडियो और फ़ोन कॉल के जरिए परेशान कर रहा था. उसके फ़ोन से 2100 लड़कियों के कॉन्टैक्ट बरामद हुए. उसके भेजे गए वॉट्सऐप और SMS बताते हैं कि अप्रैल से लेकर जुलाई तक उसने लगभग 1500 औरतों को परेशान किया है.

-द हिंदू, 7 जुलाई

शॉर्ट में कहिए तो 1500 औरतों को हैरेस करने के मामले में एक आदमी को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस रिपोर्ट्स के मुताबिक उसे छोटा कद होने के कारण ‘इन्फ़ीरिऑरिटी कॉम्प्लेक्स’ था. यानी हीन भावना का शिकार था. जिसकी वजह से औरतें उससे आकर्षित नहीं होती थीं. पुलिस को आदमी के फ़ोन में 2 हजार से भी ज्यादा लड़कियों के नंबर मिले. जिनको उसने खुद तय किए हुए खूबसूरती और उम्र के पैमानों पर बांटा हुआ था. और A, AA, A++ तरह के नामों से उनकी प्रोफाइल पिक्चर सेव कर रखी थी.

मैं चाहती हूं, आप सोचें. डेढ़ हजार या 2 हजार की संख्या के बारे में नहीं. लेकिन उन औरतों के बारे में. मुझे पता है, इस तरह की कोई भी खबर पढ़ते ही हमारा इंस्टिंक्ट सबसे पहले हमें बड़ी सी संख्या देखने पर मजबूर करता है. संख्याएं ख़बरों के लिहाज से पढ़ने वालों को एक अजीब-सी ताजगी से भर देती है. मैं चाहती हूं आप सोचें कि ये आंकड़ा किस तरह उन औरतों का डर, परेशानी, चिड़चिड़ापन और बेचैनी को बयां करने में नाकाम रहता है. उनकी मानसिक अवस्था को बयां करने में नाकाम रहता है, जिससे जूझते हुए उन्होंने ये सब किया होगा: बीमारियां, मानसिक तनाव, किसी करीबी की मौत और न जाने क्या-क्या. पुलिस ने 1500 में से लगभग 500 नंबरों पर फ़ोन किया. और पाया कि जब-जब उन औरतों ने अपराधी को घर वालों से धमकी दिलवाने की कोशिश की, उसने यह बताया कि वो लड़की का पुराना प्रेमी है. जिसकी वजह से कई परिवार टूटने के कगार पर पहुंच गए. कई पति-पत्नियों के रिश्तों में दरार पड़ी.

ये आंकड़ा हमें नहीं बताता कि सताई जाने वाली औरतें किस दौर से गुजरीं. वो मात्र इस आंकड़े का हिस्सा बनकर रह जाती हैं. वो आंकड़ा, जो परोक्ष रूप से अपराधी को औरतों को हैरेस करने का ‘रिकॉर्ड’ बनाने जैसी ‘उपलब्धि’ दिलाता है. हम इस आंकड़े को पढ़ते हैं तो सिर्फ यही सोचते हैं कि आज तक किसी और ने इतनी सारी औरतों को हैरेस नहीं किया. लेकिन मैं चाहती हूं कि आप याद रखें कि 1500 औरतें 1500 अलग कपड़े पहनती थीं, उनके 1500 दिमाग अलग-अलग थे. और वो 1500 अलग-अलग तरीकों से परेशान हुई थीं.

मैं ये भी चाहती हूं कि इस कथित अपराधी से आप सिम्पथी दिखाएं. सिर्फ इसलिए कि छोटे कद की वजह से उसे लो-कॉन्फिडेंस की समस्या थी. मुझे इस बात पर कोई शक नहीं है कि उसने अपने हिस्से का अपमान सहा होगा. लोगों ने उसे प्रताड़ित किया होगा, मजाक उड़ाया होगा. ठीक उसी तरह जैसे हर उस इंसान के साथ होता है, जो आम सोच के मुताबिक ‘ठीक’ नहीं दिखता. लेकिन उसी समय ये भी याद रखें कि ये आदमी, जो खुद प्रताड़ित हुआ, दूसरों को प्रताड़ित करने में कोई कसर छोड़ता. इस पुरुष के लिए औरतें केवल वो वॉट्सऐप के नंबर थीं, जिनके ऊपर वो अपना गुस्सा निकाल सकता था. वो गुस्सा, जो दुनिया के प्रति था.

मैं आपको ये भी याद दिलाना चाहती हूं कि उन 1500 में से सिर्फ 5 औरतों ने उस आदमी के खिलाफ FIR लॉज की थी. सोचिए, दुनिया में औरत को हैरेस करने के अलावा क्या कोई ऐसा अपराध है जो कोई आदमी 1500 बार करे और उसके खिलाफ केवल 5 FIR हों. कोई जवाब नहीं होगा आपके पास. इस बात को आप तब याद करें, जब अगली बार आप कहें कि रेप के आधे से ज्यादा इल्जाम फर्जी होते हैं. अगर आप यौन शोषण को एक छोटी समस्या समझते हैं, तो शायद आप भी इसी समस्या का हिस्सा हैं.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

'मेरी तबीयत ठीक नहीं रहती, मुझे नहीं बनना पीएम-वीएम'

शंकर दयाल शर्मा जीके का एक सवाल थे. आज बड्डे है.

गुलज़ार पर लिखना डायरी लिखने जैसा है, दुनिया का सबसे ईमानदार काम

गुलज़ार पर एक ललित निबंध.

जब गुलजार ने चड्डी में शर्माना बंद किया

गुलज़ार दद्दा, इसी बहाने हम आपको अपने हिस्से की वो धूप दिखाना चाहते हैं, जो बीते बरसों में आपकी नज़्मों, नग़मों और फिल्मों से चुराई हैं.

...मन को मैं तेरी नज्में नज़्में रिवाइज़ करा देता हूं

उनके तमाम किरदार स्क्रीन पर अपना स्कैच नहीं खींचते. आपकी मेमोरी सेल में अपना स्पेस छोड़ जाते हैं.

जब केमिकल बम लिए हाईजैकर से 48 लोगों को बचाने प्लेन में घुस गए थे वाजपेयी

कंधार कांड का वो किस्सा, जो लालजी टंडन ने सुनाया था.

शम्मी कपूर के 22 किस्से: क्यों नसीरुद्दीन शाह ने उन्हें अपना फेवरेट एक्टर बताया

'राजकुमार' फिल्म के गाने की शूटिंग के दौरान कैसे हाथी ने उनकी टांग तोड़ दी थी?

'मैं नहीं कहता तब करप्शन अपवाद था, पर अब तो माहौल फ़िल्म से बहुत ब्लैक है': कुंदन शाह (Interview)

आज ही के दिन 12 अगस्त, 1983 को रिलीज़ हुई थी इनकी कल्ट 'जाने भी दो यारो'.

बॉलीवुड का सबसे विख्यात और 'कुख्यात' म्यूजिक मैन, जिसे मार डाला गया

जिनकी हत्या की इल्ज़ाम में एक बड़ा संगीतकार हमेशा के लिए भारत छोड़ने पर मजबूर हुआ.

मालदीव्ज़ के पूर्व उपराष्ट्रपति चोरी से भारत में क्यूं घुस रहे थे?

एक महीने पहले ही कहा था,'जांच का सामना करूंगा, मालदीव्ज़ छोड़कर नहीं जाऊंगा.'

हम्ज़ा बिन लादेन: ओसामा का फेवरेट बेटा, जिसे वो अल-क़ायदा का लीडर बनाना चाहता था

हम्ज़ा बिन ओसामा बिन मुहम्मद बिन अवद बिन लादेन. उर्फ़ सलमान-अल-ख़यर के मारे जाने की खबर.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.