Submit your post

Follow Us

जिसके नाम पर मारे गए, उस पाकिस्तान में गांधी की क्या जगह है?

15.93 K
शेयर्स

भारत और पाकिस्तान, दोनों मेरे मुल्क हैं. मैं पाकिस्तान जाने के लिए कोई पासपोर्ट नहीं लूंगा.

                                                                                                                            – महात्मा गांधी

गांधी को भावनात्मक दृष्टिदोष था. साफ देख पाएं, इसलिए चश्मा पहनते थे. मुल्क के बंटवारे के बाद बॉर्डर नहीं देख पा रहे थे मगर. जनवरी 1948 आ गई थी. विभाजन को पांच महीने बीत गए थे. गांधी की रट थी, पाकिस्तान जाऊंगा. उनको कुछ काम निपटाने थे भारत में. हिंदू-मुस्लिम हिंसा खत्म करानी थी. इरादा किया था कि इसके बाद पाकिस्तान जाएंगे. बिना वीजा और पासपोर्ट के. कहते थे, मेरा ही देश है. अपने देश जाने के लिए पासपोर्ट क्यों लूंगा? गांधी का क्या हश्र हुआ, ये सब इतिहास है. सत्यापित. सिद्ध. आज उनकी पुण्यतिथि पर पड़ोसी के यहां झांकने का दिल किया. उसने कैसे याद रखा है गांधी को? याद करता है कभी कि नहीं? सन 1947 के बाद पैदा होने वाली नस्लें गांधी को जानती हैं? उनका कोई नामलेवा है या नहीं वहां? कुछ वाकयों में देखिए, पाकिस्तान ने गांधी के साथ क्या सलूक किया है:

इस तस्वीर में गांधी जेल की अपनी कोठरी के अंदर सो रहे हैं.
इस तस्वीर में गांधी जेल की अपनी कोठरी के अंदर सो रहे हैं. ये कौन सी जेल है, ये नहीं मालूम.

पाकिस्तान के इतिहास की किताबों में ‘हिंदू विलेन’ हैं गांधी
पाकिस्तान ने अपनी इतिहास की किताबों में गांधी को जगह दी है. हिंदुओं के नेता के तौर पर. हिंदुत्व में गहरी आस्था रखने वाला. हिंदुओं का समर्थक. बंटवारे के लिए जिम्मेदार. अल्लाह के कानून की जगह हिंदुओं के कानून वाला देश बनाने का पक्षधर. ऐसा देश, जहां मुसलमानों को अछूत समझा जाता. जहां अंग्रेजों की गुलामी खत्म होने के बाद मुसलमानों को हिंदुओं का गुलाम बनना पड़ता. मुसलमानों की सच्ची आजादी का विरोधी. ऐसी आजादी का विरोधी, जहां मुसलमानों पर केवल मुसलमान ही राज करते. पाकिस्तानी इतिहास में गांधी को ऐसे ही ‘खलनायक’ की जगह दी गई है. जिन्होंने इतिहास के नाम पर केवल ऐसी ही कोर्स की किताबें पढ़ी हैं वहां, वो गांधी को ऐसे ही जानते हैं.

ये तस्वीर 23 अप्रैल, 1930 की है. गांधी अपने आश्रम के लोगों को 'द टाइम्स' अखबार पढ़कर देश-दुनिया की खबरें सुना रहे हैं.
ये तस्वीर 23 अप्रैल, 1930 की है. गांधी अपने आश्रम के लोगों को ‘द टाइम्स’ अखबार पढ़कर देश-दुनिया की खबरें सुना रहे हैं.

पाकिस्तान दुनिया की इकलौती जगह है, जहां गांधी को संत नहीं माना जाता. सबसे ऊंचे सरकारी महकमों से लेकर किसी छोटे-मोटे पत्रकार तक, सब गांधी को पाखंडी मानते हैं. ऐसा शख्स, जो कि भारत की आजादी के बाद वहां रहने वाले मुसलमानों के ऊपर हिंदुओं का राज कायम करना चाहता था.
                                                  : गांधी, द व्यू फ्रॉम पाकिस्तान (वॉशिंगटन पोस्ट में छपे एक लेख की पंक्तियां)

भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान समर्थकों के साथ महात्मा गांधी.
भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान समर्थकों के साथ महात्मा गांधी.

‘गांधी’ को पाकिस्तान ने बैन कर दिया
सर रिचर्ड ऐटनबरो की मशहूर ऑस्कर-विजेता फिल्म ‘गांधी’ पाकिस्तान में बैन कर दी गई थी. वहां उसे रिलीज करने की इजाजत नहीं दी गई.

ये ऐतिहासिक डांडी मार्च के समय की तस्वीर है, जब गांधी अपने समर्थकों के साथ नमक कानून तोड़ने जा रहे थे.
ये ऐतिहासिक डांडी मार्च के समय की तस्वीर है, जब गांधी अपने समर्थकों के साथ नमक कानून तोड़ने जा रहे थे.

गांधी की हत्या पर जिन्ना ने क्या कहा?
आपको पाकिस्तान के कायदे आजम जिन्ना का वो बयान पढ़ना चाहिए. जो उन्होंने गांधी की हत्या के बाद दिया था. उनके बयान से ऐसा लगा कि जैसे गांधी ने बस हिंदुओं की आजादी के लिए आंदोलन किए. बस हिंदुओं की आजादी के लिए अपना हाड़-मांस जलाया. वो भी तब, जब हत्या से ठीक पहले गांधी ने मुसलमानों की हिफाजत के सवाल पर ही अन्न-जल त्यागा था. जब दोनों देशों की सरकारें आजादी का जश्न मना रही थीं, तब गांधी नोआखाली में हिंदू-मुस्लिम नफरत खत्म करने के लिए गलियां नाप रहे थे. 1947 में शुरुआत से लेकर अब तक पाकिस्तान में गांधी की आधिकारिक पहचान ऐसी ही बनी हुई है.

गांधी के ऊपर हुए बेहद कायराना हमले के बारे में जानकर मैं हैरान हूं. इस हमले में उनकी मौत हो गई. हमारे राजनैतिक विचारों में चाहे जितना विरोध रहा हो, लेकिन ये सच है कि वो हिंदू समुदाय में पैदा होने वाले महानतम शख्सियतों में से एक थे. मैं काफी दुखी हूं और अपनी हिंदू समुदाय के प्रति अपनी संवेदना प्रकट करता हूं. गांधी की हत्या से भारत को जो नुकसान हुआ है, उसकी भरपाई नहीं की जा सकती. 

                                           : मुहम्मद अली जिन्ना, 30 जनवरी, 1948. (महात्मा गांधी की मौत पर बोलते हुए)

गांधी और जिन्ना एकसाथ.
मुहम्मद अली जिन्ना के साथ महात्मा गांधी.

दंगाइयों ने गांधी की प्रतिमा पर उतारा गुस्सा
साल 1931. कराची, पाकिस्तान. यहां एक महात्मा गांधी की एक मूर्ति लगाई गई. कांसे की. ये प्रतिमा मौजूदा कोर्ट रोड पर थी. पहले इस सड़क का नाम किंग्स वे हुआ करता था. यहीं, सिंध हाई कोर्ट की इमारत के उल्टी तरफ थी गांधी की मूर्ति. इंडियन मर्चेंट्स असोसिएशन ने लगवाई थी. प्रतिमा के नीचे, पैरों के पास लिखा था- महात्मा गांधी, स्वतंत्रता, सत्य और अहिंसा की नामी शख्सियत. 14 अगस्त, 1947. पाकिस्तान आजाद मुल्क बना. 1950 आते-आते गांधी की मूर्ति तोड़ दी गई. दंगा हुआ था. दंगाइयों ने गांधी की निर्जीव मूर्ति पर गुस्सा उतारा. उसे क्षत-विक्षत किया. 1981 में ये टूटी मूर्ति कराची स्थित भारतीय वाणिज्य दूतावास को सौंप दी गई. इस्लामाबाद स्थित भारतीय दूतावास ने मूर्ति की मरम्मत कराई. इसे अपने परिसर में लगाया. आज भी ये मूर्ति वहीं मौजूद है. पाकिस्तान में है, लेकिन फिर भी पाकिस्तान में नहीं.

ये गांधी की वही कांस्य प्रतिमा है, जो कराची स्थित सिंध हाई कोर्ट के बाहर स्थापित थी.
ये गांधी की वही कांस्य प्रतिमा है, जो कराची स्थित सिंध हाई कोर्ट के बाहर स्थापित थी (फोटो: तनवीर शहजाद)

गांधी के नाम पर एक बाग था, उसका भी नाम बदल दिया
कराची शहर में एक बाग था. ठीक उस जगह जहां 1799 में ईस्ट इंडिया कंपनी ने अपना पहला कारखाना खोला था. विक्टोरिया गार्डन. 1934 के पहले तक इसी नाम से जाना जाता रहा. 1934 में गांधी कराची गए. इसी विक्टोरिया गार्डन में उनका भव्य स्वागत हुआ. उनके प्रति सम्मान दिखाते हुए इस जगह का नाम बदलकर महात्मा गांधी गार्डन रख दिया. बंटवारे के बाद पाकिस्तान में जगहों और चीजों के नाम बदलने की रवायत शुरू हुई. ये शुरुआत तो भारत में भी हुई, हो रही है. पाकिस्तान में ये रोग पहले आया. इतिहास बदलना उसके हाथ में नहीं. सो वर्तमान बदलकर खुश हो रहा था. इसी कड़ी में गांधी गार्डन का नाम बदलकर कराची जुलॉजिकल गार्डन्स कर दिया गया.

कराची स्थित महात्मा गांधी गार्डन, जिसका कि अब नाम बदल दिया गया है, की एक पुरानी तस्वीर (फोटो: www.historickarachi.weebly.com)
कराची स्थित महात्मा गांधी गार्डन, जिसका कि अब नाम बदल दिया गया है, की एक पुरानी तस्वीर (फोटो: www.historickarachi.weebly.com)

एक जगह फिर भी मौजूद है गांधी की मूर्ति
साल 2010. पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद. यहां एक संग्रहालय खुला. नैशनल मोन्युमेंट म्यूजियम. यहां एक जगह जिन्ना और गांधी आमने-सामने खड़े हैं. मूर्तियों की शक्ल में. ऐसा लग रहा है मानो दोनों बहस कर रहे हों. गांधी का वहां जैसा चरित्र चित्रण किया जाता है, उस हिसाब से शायद इस मूर्ति का संदेश हम समझ सकते हैं. ‘हिंदुओं के नायक’ गांधी ‘मुस्लिमों के नायक’ जिन्ना से बहस करते हुए. बंटवारे के विरोध में. पक्का तो नहीं पता, लेकिन शायद इस दृश्य में जिन्ना की भूमिका मुख्य अभिनेता और गांधी की मौजूदगी किसी ‘सहयोगी कलाकार’ की तरह रची गई है.

म्यूजियम एक तरह से चेतना का प्रबंधन करते हैं. वे हमारे सामने इतिहास की व्याख्या करते हैं. बताते हैं कि दुनिया को किस नजर से देखा जाए. दुनिया में खुद को कैसे तलाशा जाए. सकारात्मक नजरिये से किया जाए, तो म्यूजियम बेहद शानदार शैक्षणिक संस्थान हैं. अगर नकारात्मक तरीके से किया जाए, तो वो दुष्प्रचार करने का तंत्र हैं.

                                                                                                  : हान्स हाक, मशहूर जर्मन कलाकार

इस्लामाबाद स्थित मॉन्युमेंट्स म्यूजियम में गांधी और जिन्ना की प्रतिमाएं.
इस्लामाबाद स्थित म्यूजियम में गांधी और जिन्ना की प्रतिमाएं (फोटो: नैशनल मोन्युमेंट म्यूजियम, पाकिस्तान)

नुकसान तो ले-देकर पाकिस्तान का ही है
जिन्ना और गांधी के बीच बहसें तो खूब होती थीं. मुलाकातों में भी. चिट्ठियों में भी. मगर गांधी के विरोध का जो तर्क था, वो इतिहास पाकिस्तान ने छुपा लिया. सही कहते हैं. सत्ता को जब अजेंडा पूरा करना होता है, तो इतिहास के साथ खिलवाड़ करना बड़ा कारगर साबित होता है. पाकिस्तान में गांधी इसी अजेंडे के शिकार हैं. इसमें नुकसान किसी और का नहीं, पाकिस्तान का ही है.

ये तस्वीर 2 मार्च, 1938 की है. हरिपुरा में आयोजित कांग्रेस बैठक के दौरान पशु फॉर्म खोले जाने के मौके पर मौजूद महात्मा गांधी.
ये तस्वीर 2 मार्च, 1938 की है. हरिपुरा में आयोजित कांग्रेस बैठक के दौरान पशु फॉर्म खोले जाने के मौके पर मौजूद महात्मा गांधी.

वो नेता, जिसे जिन्ना और गांधी दोनों अपना गुरु मानते थे. देखें वीडियो: 


ये भी पढ़ें: 

वो मुलाकात जिसके बाद चार्ली चैप्लिन ने महान फिल्म ‘मॉडर्न टाइम्स’ बनाई

पहली मुलाकात में ही ओशो ने गांधी को चुप करा दिया था

अब नोटों पर भी गांधी के रिप्लेसमेंट का वक्त आ गया है!

जुगुप्सा, संशय और अनिश्चितता से ग्रस्त था महात्मा का यौन-जीवन

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.