Submit your post

Follow Us

हत्या से ठीक पहले गांधी ने सरदार पटेल को क्या कसम दी?

12.77 K
शेयर्स

देश के पहले राष्ट्रपति चुनाव में कांग्रेस के भीतर भले ही उम्मीदवार राजेंद्र प्रसाद और राजगोपालाचारी हो, लेकिन असल में यह पटेल और नेहरू के बीच की अदावत का नतीजा था. आज़ादी के बाद पटेल भी प्रधानमंत्री पद के मज़बूत दावेदार थे. नेहरू के प्रधानमंत्री बनने के बाद पटेल ने संगठन पर अपनी पकड़ को और कसना शुरू किया. पटेल ने कभी भी नेहरू का तख्ता पलट करने की कोशिश नहीं की. वो बस किसी तरह से नेहरू को काबू में रखना चाहते थे. वजह थी एक वादा.

एक बूढ़े आदमी का आखरी वादा 

गांधी जी समय के इतने पाबंद थे कि लोग उनकी दिनचर्या को देख कर अपनी घड़ियां मिलाया करते. 30 जनवरी 1948, उस मनहूस दिन गांधी, वक़्त के पाबंद गांधी, शाम की प्रार्थना सभा में देर से पहुंचे. दिल्ली के बिड़ला भवन में एक हत्यारा, उनका पहले से इंतजार कर रहा था. नाम था नाथूराम गोड़से. यह कहानी सबको पता है. लेकिन ऐसा क्या था कि गांधी इस प्रार्थना सभा में 15 मिनट देरी से पहुंचे?

प्रार्थना सभा का तय समय पांच बजे था. गांधी जी और पटेल एक गंभीर मसले पर उलझे हुए थे. दरअसल पटेल नेहरू से खुश नहीं थे. वो गांधी से यह कहने आए थे कि अगर नेहरू ने अपने काम करने का तरीका नहीं बदला, तो वो अपने पद से इस्तीफा दे देंगे. गांधी जानते थे कि तमाम आदर्शवाद के बावजूद नेहरू बिना पटेल के इस नए देश को नहीं संभाल पाएंगे. उन्होंने पटेल से कुछ समय तक अपना इस्तीफा रोक कर रखने के लिए कहा.

उस समय पटेल को इस बात का रत्ती भर भी इल्हाम नहीं था कि यह बापू के साथ उनकी आखरी मुलकात साबित होगी. खैर पटेल गांधी को दिए अपने वादे पर पूरी जिंदगी टिके रहे.

जब नेहरू को अपना भाषण बीच में रोक देना पड़ा 

पटेल और राजेंद्र प्रसाद की नजदीकियां उस समय तक ढाई दशक से ज्यादा पुरानी थीं. ये सिलसिला 1923 में शुरू हुआ, जब प्रसाद नागपुर के झंडा सत्याग्रह में शामिल होने गए. इस आंदोलन का नेतृत्व सरदार पटेल कर रहे थे. प्रसाद लिखते हैं-

“यूं तो सरदार से मुलाकात थी ही. पर नागपुर में ही उनसे वो घनिष्ठता हुई, जो मेरे जीवन की सबसे सुखद स्मृतियों में हमेशा बनी रही. वहीं मेरे दिल में उनकी कार्य-कुशलता, गंभीरता, नेतृत्व शक्ति के प्रति महान आदर उत्पन्न हुआ.”

सरदार पटेल सोमनाथ मंदिर का पुनर्निर्माण करवाना चाहते थे. राजेंद्र बाबू उनके इस काम में कंधे से कंधा मिला कर खड़े थे. वो गुप्त रूप से राजेंद्र प्रसाद को अपना समर्थन दे चुके थे. लेकिन सार्वजानिक तौर पर उन्होंने अंत तक अपने पत्ते नहीं खोले. उन्होंने नेहरू को इस मुगालते में रखा कि वो उनके साथ हैं.

सरदार पटेल और नेहरू
सरदार पटेल और नेहरू

जब इस मामले ने काफी तूल पकड़ लिया, तो नेहरू ने इस मामले को सुलझाने के लिए 5 अक्टूबर, 1949 को संसदीय दल की बैठक बुलाई. नेहरू को तब तक उम्मीद थी कि पटेल उनके साथ हैं. मीटिंग शुरू हुई. नेहरू ने जैसे ही राजगोपालाचारी के नाम का प्रस्ताव रखा, भयंकर शोर-शराबा शुरू हो गया. इस मौके पर उन्होंने सरदार पटेल की तरफ मदद के लिए देखा. संकट की इस घड़ी में सरदार ने नेहरू का साथ छोड़ दिया. नेहरू जंग हार चुके थे. उन्होंने अपना भाषण बीच में रोक दिया. इस तरह राजा जी की बजाए राजेंद्र प्रसाद देश के पहले राष्ट्रपति बने.

महामहिम की पिछली कड़ियां यहां पढ़ें 

महामहिमः राजेंद्र प्रसाद और नेहरू का हिंदू कोड बिल पर झगड़ा किस बात को लेकर था

महामहिम : जब नेहरू को अपने एक झूठ की वजह से शर्मिंदा होना पड़ा


ये भी पढ़ें 

देश के सबसे बेबस राष्ट्रपति का किस्सा

वो आदमी, जिसे राष्ट्रपति बनवाने पर इंदिरा को मिली सबसे बड़ी सजा

रिटायर होने के बाद राष्ट्रपति रहने कहां जाते हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.