Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

जब सब कुछ जानते हुए भी हर्षा भोगले को चुप रह जाना पड़ा

7.83 K
शेयर्स

कमेंटेटर के तौर पर हर्षा भोगले को कौन नहीं जानता. उनकी हाजिरजवाबी के किस्से चलते हैं. उनके कोट्स पर लिस्टिकल्स बनते हैं. पर सोचिए कि अपनी बातों से बड़े-बड़ों की बोलती बंद करा देने वाले हर्षा भोगले को चुप रह जाना पड़े तो?

किस्सा ये था कि 4 मार्च 1992 को सिडनी में वर्ल्डकप का मैच चल रहा था. भारत-पाकिस्तान की टीम आमने-सामने थी. और जैसा कि होता है ऐसे मौके पर देशभक्ति चरम पर होती है. दोनों देशों के झण्डे लहराए जा रहे थे.

एक सेकेंड, थोड़ा फ्लैशबैक में चलिए, ये वही मैच था जिसमें अपना पहला वर्ल्डकप खेल रहे सचिन ने 54 रन बनाए थे. इंडिया के कैप्टन थे मोहम्मद अज़हरुद्दीन और पाकिस्तान के इमरान खान. ये वही मैच था जिसमें इंडिया ने 216 रन बनाए थे, ये वही मैच था जिसमें लग रहा था पाकिस्तान जीत जाएगा, और ये वही मैच था जिसमें अंत में इंडिया 43 रन से जीत गया था और हां ये वही मैच था, जब इंडिया-पाकिस्तान वर्ल्डकप में पहली बार आमने-सामने थे और पाकिस्तान पहली बार हारा था, और आज तक हारता चला आ रहा है.

वापस लौटिए. देशभक्ति उफान पर थी, हर्षा भोगले ऑस्ट्रेलिया के पीटर रोबक के साथ कमेंट्री कर रहे थे. रोबक को दर्शकों के हाथ में भारत-पाक के अलावा एक तीसरा झंडा दिखा. उन्होंने हर्षा भोगले से जानना चाहा ये झंडा किसका है? हर्षा भोगले कुछ न बोले. उनका सवाल सुनकर भी अनसुना कर गए.

बाद में हर्षा भोगले ने बताया कि झंडा खालिस्तान का था. उन्होंने जान-बूझकर पीटर को नहीं बताया वरना वो खालिस्तान के बारे में और पूछ बैठते. उस समय भारत में खालिस्तान का मुद्दा गरम था. अगर ये बात वो पीटर रोबक से कह देते तो ये बात रेडियो पर चल जाती. और क्योंकि कमेंट्री का प्रसारण आकाशवाणी पर भी हो रहा था तो संभव था कि इस पर विवाद भी हो जाते. इस तरह बातें बनाने में माहिर हर्षा भोगले ने बात दबाकर भी बात बना दी. और एक बड़ा बवाल होने से बचा लिया.

एक बात और ये वही मैच था जिसमें मियांदाद और मोरे के बीच ये हुआ था.

Javed-Miandad-India-vs-Pakistan

तभी किरण मोरे को चिढ़ाने के लिए जावेद मियांदाद मेंढ़क की तरह कूद गए थे. किरण मोरे ने मियांदाद के खिलाफ अपील की थी. इस बात पर जावेद मियांदाद को गुस्सा आ गया. वो गेंद भी कौन फेंक रहा था खुद सचिन तेंदुलकर. उनकी बॉल पर जावेद ने मिड ऑफ पर शॉट लगाया औरभागे अपने रन के लिए. लेकिन जल्द ही खतरे का अहसास हुआ और क्रीज में वापस लौट गए. थ्रो आया और मोरे ने गिल्लियां उड़ा दी. जावेद मियांदाद ने उस खिसिया के जो मेंढ़क कूद लगाई, आज तक तस्वीर आप देखते हैं.  बाकी आगे जो हुआ वो आप जानते ही हो, पाकिस्तान 43 रन से हारा था.


वीडियो देखें –

फंसे हुए मैच को निकाल ले गई धोनी-जाधव की जोड़ी –

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
khalistan flags make appearance at india pakistan match in sydney on 4th march 1992

गंदी बात

सर्फ एक्सेल के ऐड में रंग फेंक रहे बच्चे हमारे हैं, इन्हें बचा लीजिए

इन्हें दूसरों की कद्र न करने वाले हिंसक लोगों में तब्दील न होने दीजिए.

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बच्चे के ट्रांसजेंडर होने का पता चलने पर मां ने खुशी क्यों मनाई?

आप में से तमाम लोग सोच सकते हैं कि इसमें खुश होने की क्या बात है.

'मैं तुम्हारे भद्दे मैसेज लीक कर रही हूं, तुम्हें रेपिस्ट बनने से बचा रही हूं'

तुमने सोच कैसे लिया तुम पकड़े नहीं जाओगे?

औरत अपनी उम्र बताए तो शर्म से समाज झेंपता है वो औरत नहीं

किसी औरत से उसकी उम्र पूछना उसका अपमान नहीं होता है.

#MeToo मूवमेंट इतिहास की सबसे बढ़िया चीज है, मगर इसके कानूनी मायने क्या हैं?

अपने साथ हुए यौन शोषण के बारे में समाज की आंखों में आंखें डालकर कहा जा रहा है, ये देखना सुखद है.

इंटरनेट ऐड्स में 'प्लस साइज़' मॉडल्स को देखने से फूहड़ नजारा कोई नहीं होता

ये नजारा इसलिए भद्दा नहीं है क्योंकि मॉडल्स मोटी होती हैं...

लेस्बियन पॉर्न देख जो आनंद लेते हैं, उन्हें 377 पर कोर्ट के फैसले से ऐतराज है

म्याऊं: संस्कृति के रखवालों के नाम संदेश.

सौरभ से सवाल

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.