Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

ये सच है कोई कहानी नहीं, खून खून होता है पानी नहीं

312
शेयर्स

आज कार्ल लैंडस्टीनर का बर्थडे है. सुबह-सुबह गूगल ने बता ही दिया. नया वाला डूडल लगा के. मुझे मेरी नौवीं क्लास की बायोलॉजी की किताब याद आ गयी. जब पहली बार ये नाम पढ़ा था. बायोलॉजी वाली मैम साउथ इंडियन थीं. हर सवाल के जवाब पर पूछती थीं, ‘आर यू सुअर?’ जब ब्लड वाला चैप्टर पढ़ा रही थीं. तब इन महानुभाव का नाम आया था. कार्ल लैंडस्टीनर. बड़ा साइंटिस्ट.

लैंडस्टीनर ने बताया था कि सबका खून अलग-अलग ग्रुप का होता है. A, B, AB और O. फिर उसमें भी पॉजिटिव और नेगेटिव. तब लगा था, भाई वाह. क्या गज़ब आदमी रहा होगा. लेकिन फिर समझ आ गया. इन ब्लडग्रुप्स के चक्कर में कार्ल साहब ने बहुत बुद्धू बनाया हम लोगों को.

हमारे नाना पाटेकर चीख-चीख कर समझाते रह गए. हम सबका खून एक जैसा है. चाहे हिन्दू हो या मुसलमान.

फिर ये एक कार्ल लैंडस्टीनर नौवीं क्लास में आकर कह देते हैं कि हम सबका खून भी वर्ण व्यवस्था का शिकार है. A ब्लडग्रुप वाले B ब्लडग्रुप वालों को खून नहीं दे सकते. हर कोई अपने-अपने वाले से ही लेन-देन कर सकते हैं. कुछ O ब्लडग्रुप वालों जैसे ज्यादा ही दानी लोग होते हैं. वो सबको खून बांट सकते हैं. और जिन लोगों की अंटी से एक्को पइसा नहीं निकलता, AB ब्लड ग्रुप वाले. वो लोग बस सबसे ब्लड लेते रहते हैं.

कार्ल साहब कहते हैं, कि अगर किसी को खून चढ़ाना होता है तो उससे पहले ब्लड कम्पैटिबिलिटी भी चेक करनी पड़ती है. खून देने वाले और खून लेने वाले के बीच. नहीं तो जिसको गलत खून चढ़ा दिया, उसके खून के थक्के बन जाते हैं. रगों में बहना बंद हो जाता है. कुल मिला कर उसका बोरिया बिस्तर बंध जाता है. अब मैम ने पढ़ाया था. वो भी साउथ इंडियन इंग्लिश में. हर बात सच लगती थी. लेकिन फिर एक संडे ‘अमर अकबर एन्थोनी’ देख ली. कसम से. साइंस पर से पूरा विश्वास उठ गया.

ये फिल्म देख कर समझ आया. मनमोहन देसाई साहब कार्ल लैंडस्टीनर से बड़के वाले साइंटिस्ट थे. एक एपिक सीन. मां को खून देते हुए तीन बेटे. अमर, अकबर और एंथोनी. डॉक्टर ने किसी का भी ब्लड ग्रुप चेक नहीं किया. मोटे-मोटे ट्यूब से तीनों का खून निकाला जा रहा है. तीनों का खून एक बोतल में जाता है. बोतल उन तीनों के लेवल से ऊपर लटक रही है. और बिना किसी पंप के खून ऊपर चढ़ रहा है. ग्रैविटी के अपोज़िट. मतलब 10 सेकंड में मेडिकल साइंस और फिजिक्स के नियमों को रद्द कर दिया गया. फिर ये खून एक दूसरी बोतल में जाता है. जहां से एक पाइप से इसको मां के शरीर में भेजा जाता है. कार्ल लैंडस्टीनर यहां भी फुद्दू साबित हो गए. वो तो कहते थे कि किसी के शरीर से खून निकाल कर सीधे पेशेंट को नहीं चढ़ाया जा सकता. उसमे कुछ केमिकल मिलाने पड़ते हैं. तो क्या हमारे मनमोहन देसाई जी झूठ बोलेंगे?

इस सीन में इत्ते लोग रोए हैं. मां बेटों का रिश्ता इतनी ख़ूबसूरती से दिखाया गया है. क्या कार्ल लैंडस्टीनर की रिसर्च पर कभी कोई इमोशनल हुआ होगा?

फिर साइंटिस्ट लोग तो ये भी कहते हैं. कोई अंग ट्रांसप्लांट करना हो तो उसके लिए भी खून चेक करना पड़ता है. वहां पर भी ये A, B, AB और O का चक्कर आ जाता है. लेकिन हमारी फिल्मों के पास इसका भी जवाब है. हार्ट उठाओ, खींच के फेंको. सीधे जाकर पेशेंट के सीने में लग जाए. हार्ट में बत्तियां जलने लग जाएं. मतलब बिना खून निकले दिल बॉडी में फिट हो गया. डॉक्टर भी खुश हो गया. कोई बड़ी बात नहीं हैं. ऐसे तो यहां दिल, फेफड़े, गुर्दे उड़ते ही रहते है. आ गया होगा कहीं से. मोटा सा सूजा लेकर सिल भी देता है. ऊन जैसी रस्सी से. बस पेशेंट एकदम टनाटन. तो कार्ल लैंडस्टीनर साहब, आप अपना साइंस रखिए अपने पास. हमारे सिनेमा के पास हर बात का जवाब है. क्योंकि यही तो कला है. बाकि सब तो विज्ञान है.

वैसे देर से ही सही, हैप्पी वाला बड्डे कार्ल लैंडस्टीनर. 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Its Karl Landsteiner’s 148th birthday who invented the idea of blood groups

गंदी बात

#MeToo मूवमेंट इतिहास की सबसे बढ़िया चीज है, मगर इसके कानूनी मायने क्या हैं?

अपने साथ हुए यौन शोषण के बारे में समाज की आंखों में आंखें डालकर कहा जा रहा है, ये देखना सुखद है.

तनुश्री-नाना मसले पर अमिताभ बच्चन ने ये बात कहकर अपना दोहरापन साबित कर दिया

'पिंक'? वो तो बस फिल्म थी दोस्तों.

इंटरनेट ऐड्स में 'प्लस साइज़' मॉडल्स को देखने से फूहड़ नजारा कोई नहीं होता

ये नजारा इसलिए भद्दा नहीं है क्योंकि मॉडल्स मोटी होती हैं...

लेस्बियन पॉर्न देख जो आनंद लेते हैं, उन्हें 377 पर कोर्ट के फैसले से ऐतराज है

म्याऊं: संस्कृति के रखवालों के नाम संदेश.

कोर्ट के फैसले को हमें ऑपरा सुनते एंड्र्यू के कमरे तक ले जाना है

साढ़े 4 मिनट का ये सीक्वेंस आपके अंदर बसे होमोफ़ोबिया को मार सकता है.

राधिका आप्टे से प्रोड्यसूर ने पूछा 'हीरो के साथ सो लेंगी' और उन्होंने घुमाके दिया ये जवाब!

'बर्थडे गर्ल' राधिका अपनी पीढ़ी की सबसे ब्रेव एक्ट्रेसेज़ में से हैं.

'स्त्री': एक आकर्षक वेश्या जो पुरुषों को नग्न तो करती थी मगर उनका रेप नहीं करती

म्याऊं: क्यों 'स्त्री' एक ज़रूरी फिल्म है.

भारत के LGBTQ समुदाय को धारा 377 से नहीं, इसके सिर्फ़ एक शब्द से दिक्कत होनी चाहिए

सबकी फिंगर क्रॉस्ड हैं, सुप्रीमकोर्ट का एक फैसला शायद सब-कुछ बदल दे!

'पीरियड का खून बहाती' देवी से नहीं, मुझे उसे पूजने वालों से एक दिक्कत है

चार दिन का ये फेस्टिवल असम में आज से शुरू हो गया है.

सौरभ से सवाल

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.

ऑफिस के ड्युअल फेस लोगों के साथ कैसे मैनेज करें?

पर ध्यान रहे. आप इस केस को कैसे हैंडल कर रहे हैं, ये दफ्तर में किसी को पता न चले.

ललिता ने पूछा सौरभ से सवाल. मगर अधूरा. अब क्या करें

कुछ तो करना ही होगा गुरु. अधूरा भी तो एक तरह से पूरा है. जानो माजरा भीतर.