Submit your post

Follow Us

ये है योग के योगा बनने की पूरी टाइमलाइन

206
शेयर्स

हमारे एक चाचा हैं. उनके सामने भूल के भी किसी बीमारी का ज़िक्र नहीं करना होता है. अगर कहीं बता दिया कि आपको फलाना बीमारी है, तो बस! कोई न कोई ऐसा योग निकल आएगा, जिससे आपकी वो फलाना बीमारी सही हो सकती है और बात यहीं ख़तम नहीं होगी. चाचा बाकायदे वो योग कर के दिखाएंगे और आपसे भी करवा के ही मानेंगे.

21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है. इसी बहाने हम सब को अपने ऐसे वाले चाचा याद आ जाएंगे. ज़रा सोचिए चाचा के अलावा ऐसी क्या क्या बातें हैं जो हमारे लिए योग से जुड़ी हैं?

भारत में योग की शुरुआत करीब 5000 साल पुरानी है. मोहनजोदड़ो के एक तरह के सील पर योग की मुद्रा में बैठे बाबाजी की तस्वीर खुदी है. उनके आसपास कुछ जानवर घूमते रहते हैं. इन बाबाजी को पशुपति शिव माना जाता है. भागवत गीता में कृष्ण ने सैकड़ों बार योग शब्द इस्तेमाल किया है. गौतम बुद्ध और उपनिषदों की सलाह में भी योग के कई तरीकों की बात की गई है. पतंजलि अपने योग सूत्र में ध्यान, अध्यात्म और योग के आसन, तीनों की बात करते हैं. इसके अलावा गोरखनाथ का हठ योग भी है. हर दूसरी चीज़ की तरह योग भी समय के साथ बदलता गया, और इसमें ढेरों नए तरीके शामिल होते गए.

अब योग करना हम आपको क्या ही सिखा पाएंगे. वक्त के साथ योग के तरीकों और उसकी समझ में जो भी बदलाव आएं हैं, उसके बारे में ही बता देते हैं आपको.

1) मोहनजोदड़ो के योग वाले बाबा के बाद ऋग वेद में ‘योगम’ की बात की जाती है. इसे ‘योग’ यानी ‘जोड़’ से समझा जाता था. जिसमें मन और शरीर के योग की बात की जाती है.

2) कठोपनिषद में पहली बार योग शब्द का इस्तेमाल किया गया. इसे दिमाग और शरीर के एक होने और अपने ‘हायर सेल्फ’ से जुड़ने का एक माध्यम माना गया है. इसी उपनिषद में ‘प्राण’ यानी प्राण वायु की बात भी पहली बार की गई थी.

3) योग षड् दर्शन, यानी भारतीय दर्शन (फिलोसोफी) के छह स्कूलों में से एक है. योग स्कूल में भी सांख्य स्कूल की तरह ज्ञान पाने के कुछ प्रमाणित तरीके हैं. और इसी तरह ब्रह्मांड को dualism से समझा जाता है. यानी ब्रह्मांड ‘पुरुष’ और ‘प्रकृति’ से बना है. यहां ‘पुरुष’ का मतलब है कांशसनेस और प्रकृति का मतलब है मैटर या substance. हालांकि योग दर्शन को जो चीज़ अलग बनाती है, वो है इसका भगवान से दूर होना. योग काफी हद तक नास्तिक फिलोसोफी है.

4) शक्ति कल्ट में देवी पूजा की जाती थी. ये फीमेल सेक्सुअलिटी और तंत्र से जुड़ा हुआ था. तंत्र में योग, प्राणायाम और मंत्र के साथ कुछ सीक्रेट वाले पूजा-पाठ, सब मिले जुले थे. रीढ़ की हड्डी और उससे जुड़े शरीर के चक्र, जिनका ख्याल रख कर आप स्वस्थ रह सकते हैं. और जिन्हें जगा कर आप आध्यात्मिक रूप से जग सकते हैं. इन्ही चक्रों को योग और शक्ति कल्ट, दोनों में इस्तेमाल किया जाता है.

5) योग की बात होती है तो पतंजलि का नाम ज़रूर लिया जाता है. इनकी किताब ‘योग सूत्र’ में अष्टांग योग यानी योग के आठ स्टेजों की बात की गई है. योग के ‘आसन’ यानी पोजीशन को उन आठ स्टेजों में से एक बताया है. अष्टांग योग को यज्नावाल्क्य अपनी पत्नी, गार्गी से हुई बातचीत में भी समझाते हैं.

6) बुद्धिज़्म में योग का कांसेप्ट नहीं है. लेकिन ध्यान, प्राणायाम और मंत्र की बातें ज़रूर की जाती है, जो योग से सीधे तरीके से जुड़ी हुई हैं.

7) अब हठ योग के बारे में बात करते हैं. माना जाता है कि हठ योग की शुरुआत शिव से हुई थी. उन्हें लगा कि उस सुनसान जगह पर कोई नहीं है और पार्वती को हठ योग के बारे में बताने लगे. जबकि वहां एक शातिर मछली छिपी हुई थी. उसने सब कुछ सुन लिया. मछली इतनी सयानी कि उसने ये सारी बातें फैला दीं. ये ज्ञान पहुंच गया गोरखनाथ तक. उन्होंने तंत्र और शारीरिक अनुसाशन को मिला कर हठ योग की शुरुआत कर दी.

8) 1893 में स्वामी विवेकानंद ने पहली बार विश्व धर्म सम्मलेन में दुनिया को योग के बारे में बताया. वहीं पर उन्होंने ‘राज योग’ के बारे में भी बताया. राज योग का इस्तेमाल नक्षत्रों की पोजीशन और ज्योतिष विज्ञान समझने के लिए किया जाता है.

9) इसके बाद तो दुनिया के कई हिस्सों से कई तरह के योग निकले. जैसे परमहंस योगानंद का ‘क्रिया योग’, स्वामी विष्णुदेवनंद का ‘सिवानंद योग’. ये सब 1920 से 1940 के दशक की बात थी.

10) आध्यात्मिक गुरु ओशो ने भी योग और ध्यान को अध्यात्म आजमाने का एक तरीका बताया है. फिर 1980 के दौर में बिक्रम चौधरी 26 नए तरीके के योग ले कर आएं. ये एक तेज़ तापमान वाले गरम कमरे में किए जाने वाले योग पोजीशन थे, जिनका कॉपीराइट भी कराया गया था. इन्हें ‘bikram’s hot yoga’ का नाम दिया गया. बाद में सेक्सुअल हैरेसमेंट का केस भी चला.


(ये स्टोरी पारुल ने लिखी है.)

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.