Submit your post

Follow Us

भारत-चीन युद्ध की वजह से नहीं हो पाई थी रतन टाटा की शादी!

रतन नवल टाटा… पूरा नाम. वालिद, नवल टाटा. पैदाइश 28 दिसंबर, 1937. एक शख्स, जिसने जिंदगी भर सिर्फ बिजनेस किया. और कुछ नहीं. फैसले लेता गया और फिर उन्हें सही साबित करता गया. अपनी जिद से, जुनून से, लगन से. लेकिन आज बात बिजनेसमैन रतन टाटा की नहीं, बल्कि एक इंसान रतन टाटा की. उनकी निजी जिंदगी के किस्सों की, जिनका असर उनकी पेशेवर जिंदगी पर भी पड़ा. नोश फरमाइए.


# जब फोर्ड से लिया अपमान का बदला

बात 1999 की है. टाटा को इंडिका कार मार्केट में लाए एक साल हो रहा था. 1998 में लॉन्च हुई ये हैचबैक कार टाटा के लिए कोई खास फायदेमंद साबित नहीं हुई, इसलिए रतन इससे पिंड छुड़ाने का मन बना रहे थे. बात आगे बढ़ी और पहुंची अमेरिकी कंपनी फोर्ड के पास. फोर्ड टाटा का ये कार वेंचर खरीदने में इंट्रेस्टेड थी. मीटिंग्स का दौर शुरू हुआ. पहली मीटिंग मुंबई में हुई और दूसरी अमेरिका में फोर्ड के हेडक्वॉर्टर डेट्रॉयट में. रतन वहां गए.

tata1

शुरुआत में तो सब ठीक था, लेकिन डेट्रॉयट में फोर्ड के अधिकारियों का ऐटिट्यूड बहुत ही भद्दा था. उन्होंने ये जताया कि टाटा का कार वेंचर खरीदकर वो टाटा पर अहसान करने जा रहे हैं. एक फोर्ड अधिकारी ने ये भी कहा, ‘जब आपको पैसेंजर कार के बारे में कुछ पता ही नहीं है, तो आपने इस बिजनेस में कदम ही क्यों रखा? आपके कार बिजनेस को खरीदकर हम आप पर अहसान ही करेंगे.’ डेट्रॉयट से लौटते समय रतन उदास थे. जाहिर है, ये बात उन्हें दिल पर लगी. रतन ने न कह दिया और डील कैंसल हो गई.

इसके 9 साल बाद वो मौका आया, जब रतन ने अपने अपमान का बदला लिया. 2008 में फोर्ड दीवालिया होने की कगार पर पहुंच गई थी. अमेरिकी कार सेक्टर में उसकी हालत खराब थी. तब टाटा ग्रुप ने फोर्ड के सबसे बड़े ब्रांड्स में से जैगुआर और लैंडरोवर को खरीदने का फैसला किया. इस डील के बाद खुद बिल फोर्ड ने रतन से कहा था, ‘JLR खरीदकर आप हम पर अहसान कर रहे हैं.’

# जूट का थैला लेकर ग्वालियर पहुंचे रतन टाटा

सिंधिया स्कूल में बच्चों के प्रॉजेक्ट्स देखते रतन टाटा
सिंधिया स्कूल में बच्चों के प्रॉजेक्ट्स देखते रतन टाटा

ये अक्टूबर, 2016 की बात है. रतन को ग्वालियर के सिंधिया स्कूल में होने वाले एक फंक्शन में शरीक होना था. स्कूली बच्चों के साथ. स्कूल की तरफ से मैनेजमेंट के कुछ लोग और एक स्टूडेंट एयरपोर्ट पर टाटा को रिसीव करने पहुंचे. उस बच्चे ने बाद में बताया, ‘मुझे लगा था कि उनके साथ ढेर सारे लोग होंगे. मुझे लगा कि उनके साथ सेक्रेटरीज की फौज होगी. बॉडीगार्ड, बाउंसर्स और ढेर सारे बैग होंगे. मैं काफी देर तक इन सारी चीजों का इंतजार करता रहा, लेकिन कोई आया ही नहीं.’

असल में रतन टाटा अकेले आए थे. बिना किसी तामझाम के. बाद में एयरपोर्ट के एक कर्मचारी ने मैनेजमेंट के लोगों को जूट का एक बैग दिया और बताया कि रतन इतना ही सामान लेकर आए हैं. इस घटना के बाद से उस बच्चे के मन में रतन टाटा के लिए इज्जत और भी बढ़ गई.

# भारत-चीन युद्ध की वजह से नहीं हो पाई रतन की शादी

रतन टाटा ने शादी नहीं की. जिंदगी भर काम ही करते रहे. अब भी कर रहे हैं. वैसे तो उन्हें अपनी लव-लाइफ के बारे में बात करना अच्छा नहीं लगता, लेकिन एकाध मौकों पर उन्होंने अपनी जिंदगी का ये पहलू साझा किया. CNN इंटरनेशनल को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि अमेरिका में पढ़ाई के दौरान उन्हें एक लड़की से प्यार हुआ था. दोनों का रिश्ता काफी मेच्योर था और दोनों शादी के लिए तैयार भी थे, लेकिन लड़की इंडिया नहीं आना चाहती थी.

पिता के साथ रतन
पिता के साथ रतन

उसी दौरान भारत और चीन के बीच जंग छिड़ गई थी. उस समय के हालात देखकर रतन की प्रेमिका बहुत डर गई थीं. उधर भारत में रतन की दादी की तबीयत काफी खराब हो गई थी, जिसकी वजह से उन्हें भारत लौटना पड़ा. रतन भारत आ गए, लेकिन उनकी प्रेमिका नहीं आईं. कुछ दिनों बाद उन्होंने अमेरिका में ही किसी और से शादी कर ली. उस इंटरव्यू में रतन ने कबूल किया था कि चार बार उनकी शादी बस होते-होते रह गई.

# मुंबई अटैक के बाद होटल ताज के कर्मचारियों की मदद

26/11 के हमले ने मुंबई को हिलाकर रख दिया था. उस हमले में होटल ताज भी निशाना बना था, जहां कई पर्यटक मार दिए गए थे. NSG कमांडोज और पुलिस की मदद से जब ऑपरेशन खत्म हुआ, तब रतन टाटा की दरियादिली देखने को मिली थी. उनके होटल में जितने भी लोग घायल हुए थे, उन सभी का इलाज टाटा ने ही कराया था. हॉस्पिटल में इलाज के दौरान रतन उन लोगों का हाल-चाल लेने भी पहुंचे थे.

taj

इसके अलावा होटल के आस-पास पाव-भाजी और मछली वगैरह का ठेला लगाने वाले जो लोग प्रभावित हुए थे, उन्हें भी रतन टाटा की तरफ से मदद मिली थी. इनमें से कुछ घायल हुए थे, जबकि गोलीबारी की वजह से कुछ लोगों के ठेले तबाह हो गए थे. क्रॉस-फायरिंग में एक ठेलेवाले की बच्ची भी घायल हुई थी. उसके शरीर में धंसी गोलियां निकालने का पूरा खर्च टाटा ने उठाया था. साथ ही, जितने दिन होटल बंद रहा, उतने दिनों तक होटल के सभी कर्मचारियों को पूरी सैलरी दी गई थी.

कहा जाता है कि टाटा कंपनी में नौकरी सरकारी नौकरी जैसी ही होती है. लोगों को सहूलियतें ही इतनी दी जाती हैं. हमले के दौरान ताज के कर्मचारियों ने भी पूरी जिम्मेदारी दिखाई थी. हमले के बाद कर्मचारियों ने भागने के बजाय होटल में मौजूद लोगों की मदद की थी और बाद में सुरक्षाकर्मियों की भी मदद की थी. ये बात इसलिए भी खास है, क्योंकि ताज हमले के प्रभावितों को महाराष्ट्र सरकार की तरफ मुआवजे के लिए लंबे समय तक भटकना पड़ा था.


ये भी पढ़ें:

जबराट लीडर रतन टाटा ने अभी जो काम किया है, लोग युगों तक याद रखेंगे!

धीरूभाई के बिजनेस का तरीका जिसमें अरब के शेख को हिंदुस्तान की मिट्टी बेच दी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.