Submit your post

Follow Us

टिंडर ने ब्रेक-अप वाली लड़की को डिप्रेशन से बचाया

2.35 K
शेयर्स

टिंडर आम तौर पर एक ऐसा प्लेटफॉर्म माना जाता है, जहां लोग आसानी से अपने लिए पार्टनर की तलाश करते हैं. जहां रिलेशनशिप के लिए ज्यादा ताम-झाम नहीं होता. टिंडर पर आप अपना प्रोफाइल बनाते हैं. और अगर आपकी पसंद का पार्टनर मिल गया तो आप वहां उससे बात करते हैं, अपना नंबर एक्सचेंज करते हैं. अगर सब कुछ सही चल रहा है तो ठीक है, वरना आप दूसरे पर्सन की तलाश करते हैं. और ऐसे में ही कुछ लोगों को उनका सच्चा प्यार भी मिल जाता है.

एक लड़की ने Quora पर अपनी स्टोरी सुनाई है. जो टिंडर को बिलकुल ही अलग तरीके से परिभाषित करती है. इस लड़की का लंबे समय से चल रहे रिलेशनशिप के बाद ब्रेक-अप हो गया था. जिसके बाद वो काफी डिस्ट्रेस्ड रहने लगी थी. और अपने डिस्ट्रेस को दूर करने के लिए उसने टिंडर पर अपना अकाउंट बनाया. जहां उसे एक लड़का मिला, जिसके साथ लड़की रिलेशनशिप में आ गई. और टिंडर के इस अनुभव ने उसकी जिंदगी बदल दी. पढ़िए उसकी कहानी, उसी की जुबानी.


 

हां, मैं एक खूबसूरत इंडियन लड़की हूं. और मैं एक अजनबी लड़के के साथ दो बार सो चुकी हूं, जिससे मेरी मुलाकात टिंडर पर हुई थी. “लकी मैन” उस लड़के को यही कहेंगे न आप? पर यहां मैं खुद को लकी मानती हूं. बताती हूं क्यों:

हाल ही में मेरा ब्रेक-अप हुआ था. जिसमें हम पिछले 3 सालों से रिलेशनशिप में थे. ब्रेक-अप के बाद मैं काफी डिस्ट्रेस्ड रहती थी. फिर मैंने महसूस किया कि मुझे डिस्ट्रेस से बाहर निकलना चाहिए. और नए लोगों से मिलना चाहिए. इसके लिए मैंने टिंडर का यूज किया. वहां मुझे 100 परसेंट मैच रेट के पार्टनर्स मिलने लगे. जो मेरे लिए कॉन्फिडेंस बूस्टर की तरह था. मैं ज्यादातर चैट कन्वर्सेशन का रिप्लाई नहीं करती थी. क्योंकि आने वाले दिनों में मेरे एग्जाम होने थे. एग्जाम खत्म होने के बाद टिंडर पर एक लड़के का मैसेज आया. जिसके साथ मेरा प्रोफाइल एक हफ्ते पहले ही मैच कर चुका था. मैं उस समय फ्री थी तो मैंने सोचा चलो इसके साथ चैट करते हैं.

क्या गजब का संयोग था, पता चला कि वो लड़का मेरी ही बिल्डिंग में रहता है. वह भी वही नेटिव लैंग्वेज बोलता है जो मैं बोलती हूं. उसी कॉलेज से पढ़ाई की है, जिससे मैंने की है. और एक कंपनी में सीईओ था. उस कंपनी की शुरुआत उसने मेरे एक पुराने बेस्ट फ्रेंड के साथ मिलकर की थी. एक-दूसरे के बारे में इतनी सारी बातें जानने के बाद हमने जल्द ही चैटिंग करना बंद कर दिया. और लगभग एक हफ्ते के बाद हमने मिलने का प्लान बनाया. उसके साथ पहली मुलाकात मेरे लिए पूरी तरह से सरप्राइजिंग थी. टिंडर पर पढ़ाकू टाइप दिखने वाला ये लड़का रियल में बहुत ही हैंडसम था. लंबा, वेल बिल्ड बॉडी. वो एकदम मस्त लग रहा था. उसे देखकर मैं बिलकुल एक टीनएज गर्ल की तरह हो गई. जो सिर्फ फिजिकल एपीयरेंस देख कर ही किसी को अपना क्रश बना लेती है. वैसे भी मेरे मन में लंबे लड़कों को लेकर एक स्पेशल फीलिंग रही है. मैंने उससे अचानक ही पूछ डाला, तुम्हारी एक्स कौन थी ?

दो कपल
एक कपल

मुझे उसकी सबसे खास बात ये लगी थी कि वो इस तरह के रिलेशनशिप को लेकर एक खुली सोच का बंदा था. वो चार साल तक सीरियस रिलेशनशिप में रह चुका था. उसके बाद से वो 12 महीनों में 13 महिलाओं के साथ सो चुका था. टिंडर पर उसके लगभग 50-60 प्रोफाइल्स मैच किए थे. मेरे ख्याल से टिंडर पर किसी लड़के के लिए इतने सारे मैच मिलना एक्सेप्शनल है. वह स्मोक करता है. आप उसको वुमैनाइजर कह सकते हैं. डेट पर जाने के लिए उसे सबसे वर्स्ट एक्जाम्पल मान जा सकता हैं. पर मेरे लिए वो बहुत स्पेशल है. मेरे अंदर ऐसे किसी बंदे के लिए इतनी चाहत कभी नहीं रही थी. कभी भी नहीं.

मैं कभी हुक-अप टाइप की बंदी नहीं रही. इससे पहले मैं एक ही शख्स के साथ सोई थी, वो मेरा बॉयफ्रेंड था और उस समय मुझे लगता था कि आगे चल कर हम शादी करने वाले हैं. मैं एक ऐसे किसी आदमी के साथ फिजिकल रिलेशनशिप बनाना चाहती थी. जिसे मैं फिर से ना देखूं. जिसे आप मेरी गलत सोच भी कह सकते हैं. मैं एक आदर्शवादी लड़की बनकर थक चुकी थी. फिर हमारी मुलाकात हुई. हम फिजिकल हो गए. हमने सेक्स किया. रात भर हम प्यार करते रहे. वो मेरी जिंदगी की सबसे खूबसूरत रात थी. और मैंने महसूस किया कि उसकी बैड बॉय वाली इमेज झूठी है, हकीकत में वो बहुत ही स्वीट और केयरिंग है.

इसके बाद भी हम चैट पर बात करते रहे. और एक बार फिर हमने सेक्स किया. मुझे अहसास होने लगा था कि मैं खुद को इमोशनली और फिजिकली अलग नहीं रख सकती. ये अलग बात है कि महिलाएं इस तरह की नहीं होतीं हैं. मैं जानती थी कि अगर मैं इसी तरह उसके टच में रहूंगी तो मैं खुद को उससे दूर नहीं कर पाऊंगी. और हम फिर से सेक्स कर रहे होंगे. मैं ये भी जानती हूं कि मैं उसके साथ सिर्फ इसलिए फिजिकली नहीं हुई, कि उसकी इमेज एक ‘बैड बॉय’ की है. हमने अब बात करना छोड़ दिया है. एक-दूसरे के टच में नहीं हैं. ऐसा करना हमारे लिए बहुत मुश्किल था. फिर भी हमने ऐसा किया. असल में एक अजनबी के साथ सेक्स करने की बात को लेकर मैं गिल्ट फील कर रही थी. पर बाद में मैंने रियलाइज किया कि इसमें गिल्ट फील करने जैसी कोई बात नहीं है. बल्कि मुझे तो और खुश होना चाहिए. इस घटना ने मुझे एक गहरे डिप्रेशन में जाने से बचाया. इसने मेरे डार्केस्ट फेज में भी मुझे एक्साइटमेंट से भर दिया. इसने मुझे सिखाया कि मैं फिर खूबसूरत जिंदगी को जी सकती हूं. मैंने समझा कि इस दुनिया में हैंडसैम और स्मार्ट लोगों की कमी नहीं है. और मैं पिछले रिलेशनशिप से बेहतर रिलेशनशिप कायम कर सकती हूं. स्मोक करने वाले उस बैड बॉय को मैं इस सब के लिए शुक्रिया करना चाहूंगी. मेरे अंदर चोरी-छिपे आज भी ये चाहत है कि हम फिर से एक-दूसरे में खो जाएं. अगर ऐसा होता है तो मेरे लिए ये एक नशे की तरह होगा. शुक्रिया टिंडर.


ये स्टोरी आदित्य प्रकाश ने की है 


ये भी पढ़ें :

एबॉर्शन कराने वाली औरतों को माफ़ी मांगने की जरूरत क्यों है?

औरतों के पांव बांधे जाते थे, ताकि उनकी योनि में कसाव आ सके

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

कहानी कश्मीर की कोटा रानी की, जो झांसी की रानी और पद्मावती का मिलाजुला रूप थी

जिन पर अब एक फिल्म बन रही है.

क्या चीज है G7, जिसमें न रूस है, न चीन, जबकि भारत को इस बार बुलाया गया

रूस इस ग्रुप में था, लेकिन बाकी देशों ने उसे नाराज होकर निकाल दिया था.

इन 2 चमत्कारों की वजह से संत बनीं मदर टेरेसा

यहां जान लीजिए, वेटिकन सिटी में दी गई थी मदर टेरेसा को संत की उपाधि.

गायतोंडे को लड़कियां सप्लाई करने वाली जोजो, जो अपनी जांघ पर कंटीली बेल्ट बांधा करती थी

जिसकी मौत ही शुरुआत थी और अंत भी.

ABVP ने NSUI को धप्पा न दिया होता तो शायद कांग्रेस के होते अरुण जेटली

करीब चार दशक की राजनीति में बस दो चुनाव लड़े जेटली. एक हारे. एक जीते.

कैसे डिज्नी-मार्वल और सोनी के लालच के कारण आपसे स्पाइडर-मैन छिनने वाला है

सालों से राइट्स की क्या खींचतान चल रही है, और अब क्या हुआ जो स्पाइडर-मैन को MCU से दूर कर देगा.

इस्मत लिखना शुरू करेगी तो उसका दिमाग़ आगे निकल जाएगा और अल्फ़ाज़ पीछे हांफते रह जाएंगे

पढ़िए मंटो क्या कहते थे इस्मत के बारे में, उन्हीं की कलम से निकल आया है.

वो रेल हादसा, जिसमें नीलगाय की वजह से ट्रेन से ट्रेन भिड़ी और 300 से ज्यादा लोग मारे गए

उस दिन जैसे हर कोई एक्सिडेंट करवाने पर तुला था. एक ने अपनी ड्यूटी ढंग से निभाई होती, तो ये हादसा नहीं होता.

'मेरी तबीयत ठीक नहीं रहती, मुझे नहीं बनना पीएम-वीएम'

शंकर दयाल शर्मा जीके का एक सवाल थे. आज बड्डे है.

गुलज़ार पर लिखना डायरी लिखने जैसा है, दुनिया का सबसे ईमानदार काम

गुलज़ार पर एक ललित निबंध.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.