Submit your post

Follow Us

ज्ञानपीठ को अंग्रेजी में 'जनानपीठ' यानी 'jnanpith' क्यों लिखते हैं?

189
शेयर्स

मेरे बचपन के कुछ बड़े सवाल थे.

1. बच्चे कहां से आते हैं?
2. शराब कड़वी होती है फिर भी क्यों पीते हैं?
3. टीवी के अंदर इंसान कैसे घुसते हैं?
4. पुती हुई दीवारों पर जिस ‘शीघ्रपतन’ का जिक्र होता है, वो क्या होता है?
5. यज्ञ को अंग्रेजी में ‘yajna’ क्यों लिखते हैं?

उम्र के साथ सभी सवालों के जवाब मिल गए. आखिरी वाले का छोड़कर. आखिर ‘यज्ञ’ अंग्रेजी में ‘यजना’ और ‘ज्ञान’ अंग्रेजी में ‘जनान’ (jnan)क्यों हैं?

घोष को 54वां ज्ञानपीठ मिला है. ये पहली दफ़े है कि ये सम्मान अंग्रेजी में लेखन के लिए दिया गया हो.
घोष को 54वां ज्ञानपीठ मिला है. ये पहली दफ़े है कि ये सम्मान अंग्रेजी में लेखन के लिए दिया गया हो.

मगर आज इसका जवाब मिलेगा. क्योंकि मौका भी है, दस्तूर भी है. क्योंकि नामी अंग्रेजी लेखक अमिताव घोष को ज्ञानपीठ सम्मान दिया गया है. जिसे अंग्रेजी में कहते हैं Jnanpith.

क्या है Jnanpith यानी ज्ञानपीठ

1. ज्ञानपीठ एक संस्थान है. जिसका मालिक है साहू जैन परिवार. अब ये कौन हुए. ये हुए देश के सबसे पुराने इंडस्ट्रियलिस्ट में से एक.

2. बड़ी सी इस जॉइंट फैमिली ने आजादी के बाद देश में कई सारे संस्थान शुरू किए. इसी परिवार के साहू शांति प्रसाद जैन ने शुरू किया ‘भारतीय ज्ञानपीठ’. जो भारतीय साहित्य और उससे जुड़े रिसर्च को प्रमोट करने के लिए बनाया गया.

3. साहू जैन परिवार ही ‘बेनेट एंड कोलमन कंपनी लिमिटेड’ (जिसे आप अखबार वाले टाइम्स ऑफ़ इंडिया ग्रुप के नाम से जानते हैं) के मालिक भी हैं.

4. ज्ञानपीठ सम्मान ही साहू जैन ग्रुप का इकलौता पुरस्कार नहीं है. इंडिया में फिल्मफेयर अवॉर्ड यही देते हैं, ‘मिस इंडिया’ कॉन्टेस्ट भी यही करवाते हैं.

फिल्मफेयर अवॉर्ड 1954 में सबसे पहले दिए गए थे.
फिल्मफेयर अवॉर्ड 1954 में सबसे पहले दिए गए थे.

5. इनकी बिजनेस लिगेसी सौ-डेढ़ सौ नहीं, कम से कम एक हजार साल पुरानी है. कहा जाता है, इनके पूर्वज नट्टल साहू देश के सबसे पुराने व्यवसाइयों में से एक थे. नट्टल के जीवन का समय 9वीं से 12वीं शताब्दी के बीच बताया जाता है.

6. भारतीय ज्ञानपीठ को शुरू करने का सबसे बड़ा मकसद ही था जैन साहित्य को बचाना. जैन साहित्य मूल रूप से संस्कृत, पाली, प्राकृत, अपभ्रंश और मगधी में लिखा गया है. समय के साथ भारतीय ज्ञानपीठ ने मॉडर्न इंडियन लैंग्वेजेस, यानी भारत देश में बोली-लिखी जाने वाली तमाम भाषाओं में इन्वेस्ट किया. और इन भाषाओं में लेखन होता रहे, इसके लिए चालू किया ‘ज्ञानपीठ सम्मान’. 2015 में इस सम्मान में 11 लाख रूपये की राशि तय की गई थी.

7. साहू शांति प्रसाद जैन की कहानी भी मस्त है. ये थे रामकिशन डालमिया के दामाद. रामकिशन डालमिया देश की सबसे बड़े इंडस्ट्रियलिस्ट थे. गन्ना और सीमेंट इनकी सबसे बड़ी इंडस्ट्री थी. जब इंडिया का विभाजन हुआ, मोहम्मद अली जिन्ना डालमिया को अपना घर बेच गए थे.

रामकिशन डालमिया ने दो अंग्रेज पत्रकारों यानी बेनेट और कोलमन से टाइम्स ऑफ़ इंडिया ग्रुप अक्वायर किया था. इनपर आरोप था कि इन्होंने ये कंपनी वैसे ही ली थी, जैसे बाज़ीगर में मदन चोपड़ा ने शाहरुख़ के पापा की कंपनी हथियाई थी. गबन करके. और 10 साल बाद फ़िरोज़ गांधी ने इनपर इन्क्वायरी बैठाई थी. मगर ये कहानी फिर कभी.

ऐसा दिखता है ज्ञानपीठ सम्मान.
ऐसा दिखता है ज्ञानपीठ सम्मान.

ज्ञानपीठ पर लौटते हैं

1. ये अवॉर्ड 1961 में शुरू हुआ. इंडिया भाषाओं को प्रमोट करने के लिए.

2. अभी तक 54 बार ये सम्मान दिया गया है. कुल 58 लेखकों को मिल चुका है. 4 बार इसे दो लोगों को दिया गया है. इसलिए.

3. इसके पहले ये अवॉर्ड कृष्णा सोबती, भालचंद्र नेमाड़े, कुंवर नारायण, निर्मल वर्मा, केदारनाथ सिंह जैसे कई बड़े नामों को मिला है.

4. टेक्निकली अंग्रेजी, इंडियन भाषा नहीं है. संविधान की 22 ‘भारतीय’ भाषाओं में अंग्रेजी को नहीं रखा गया है. मगर इस साल पहली बार ये सम्मान अंग्रेजी में लिखने वाले को मिला है. यानी अमिताव घोष.

कृष्णा सोबती, जिन्हें 2017 में ये सम्मान मिला था. 25 जनवरी 2019 को इनका निधन हो गया.
कृष्णा सोबती, जिन्हें 2017 में ये सम्मान मिला था. लंबे क्रांतिकारी लेखन के बाद 25 जनवरी 2019 को इनका निधन हो गया.

अमिताव घोष कौन हैं

– 62 साल उम्र, कलकत्ता में जन्म, दून स्कूल और फिर दिल्ली के स्टीफेंस कॉलेज से पढ़ाई. उसके बाद काफ़ी पढ़ाई.

– नौकरी तो पत्रकारिता से शुरू हुई. इंडियन एक्सप्रेस अखबार में. फिर प्रोफेसरी की. क्वीन्स और हार्वर्ड जैसे बड़ी यूनिवर्सिटीज में पढ़ाते रहे.

– 1986 में पहला उपन्यास आया था, ‘द सर्कल ऑफ़ रीजन’. अब तक कुल 9 उपन्यास आ चुके.

– फिलहाल न्यू यॉर्क में रहते हैं.

आप इनका लिखा हुआ क्या पढ़ें

अपनी ‘आइबिस’ ट्रिलजी के लिए अमिताव घोष साहित्यिक दुनिया में खासे जाने जाते हैं. ‘आइबिस’ पानी के जहाज का काल्पनिक नाम है. और ट्रिलजी का मतलब, तीन पार्ट्स में आई किताबें. ये तीन किताबें हैं:

1. सी ऑफ़ पॉपीज (2008)

2. रिवर ऑफ़ स्मोक (2011)

3. फ्लड ऑफ़ फायर (2015)

आइबिस ट्रिलजी की तीनों किताबें.
आइबिस ट्रिलजी की तीनों किताबें.

इन किताबों में बात हुई है अफ़ीम की खेती की. पॉपी का मतलब होता है अफ़ीम का फूल. किताबों में जिक्र है अफ़ीम के व्यवसाय का, जो अंग्रेज (ईस्ट इंडिया कंपनी), इंडिया और चीन के बीच करवा रहे थे.

यूरोप और चीन के बीच व्यवसाय था. वहां से आता था सिल्क, चीनी मिट्टी और चाय. मगर चीन अपने व्यवसाइयों को खुलकर बिजनेस नहीं करने देता था. इकॉनमी को क्लोज कर रखा था. तो अंग्रेज इंडिया में अफ़ीम उगाकर, अवैध तरीके से चीन में भेजते. और बदले में चीन के वो प्रोडक्ट लेते, जिनका जिक्र ऊपर हुआ है.

अंग्रेज चाहते थे अफ़ीम का बिजनेस लीगल हो जाए. चीन आर्थिक और नैतिक वजहों से ऐसा नहीं कर रहा था. जब चीन ने गुस्से में अपने सारे पानी के रास्ते बंद कर लिए. तो अंग्रेजों से अपनी नेवी से वहां अटैक करवा दिया. बात बढ़ती गई और चीन के साथ अंग्रेजों का हुआ युद्ध. जिसको कहा गया ओपियम वॉर यानी अफ़ीम युद्ध.

इन तीनों किताबों में उन भारतीय बंधुआ मजदूरों की कहानी है. जिन्हें जहाज़ों में भरकर खेती के लिए मॉरिशस भेजा जाता. उन बंधुआ मजदूरों की भी कहानी है जो युद्ध में फंस गए.

अब सबसे पहले वाले सवाल का जवाब

अमिताव घोष को जो अवॉर्ड मिला है वो है ज्ञानपीठ. पर अंग्रेजी में लिखा जाता है ‘जनान’पीठ. ऐसा क्यों है, ये जानने के लिए हमने प्रोफ़ेसर हरीश त्रिवेदी से बात की. प्रोफेसर हरीश त्रिवेदी दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ाते हैं और इंडिया में मॉडर्न साहित्य के सबसे बड़े ज्ञाताओं में से एक माने जाते हैं. और फ़िलहाल ज्ञानपीठ के सिलेक्शन बोर्ड के मेंबर भी हैं. उन्होंने बताया:

1. ‘ज्ञ’ संस्कृत की ध्वनि है. जिसका उच्चारण है [ज + ञ]. जो पढ़ने में आएगा ‘ज्यं’ जैसा. संस्कृत, पाली, प्राकृत में यही उच्चारण है इसका. इस ‘ज्यं’ की आवाज़ को अंग्रेजी में ‘jn’ लिखा गया.

2. हिंदी में इसका उच्चारण बदला. हिंदी के कई उच्चारण मूल संस्कृत में नहीं हैं. जैसे ‘पढ़ने’ वाला ‘ढ़’. या सड़क वाला ‘ड़’. ऐसी ही ध्वनि है ‘ग्यं’ की.

'हिंदुस्तानी' फिल्म 1996 में आई थी. कमल हासन ने हिंदुस्तानी का किरदार किया था. ये विजिलान्टे सीरियल किलर था. यानी कानून अपने हाथ में लेकर करप्ट लोगों की हत्या करता था. इस सीन में पुलिस वाले उसकी लिखावट देखते हुए बात कर रहे हैं कि ये व्यक्ति जरूर वृद्ध होगा, क्योंकि 'अ' और 'झ' पुराने तरीके से लिखा गया है. ये बदलती लिपि का उदाहरण है.
‘हिंदुस्तानी’ फिल्म 1996 में आई थी. कमल हासन ने हिंदुस्तानी का किरदार किया था. ये विजिलान्टे सीरियल किलर था. यानी कानून अपने हाथ में लेकर करप्ट लोगों की हत्या करता था. इस सीन में पुलिस वाले उसकी लिखावट देखते हुए बात कर रहे हैं कि ये व्यक्ति जरूर वृद्ध होगा, क्योंकि ‘अ’ और ‘झ’ पुराने तरीके से लिखा गया है. ये बदलती लिपि का उदाहरण है.

3. अब हिंदी ने संस्कृत का अक्षर ‘ज्ञ’ रख लिया है. पर उसका उच्चारण ‘ज्यं’ से बदलकर ‘ग्यं’ कर दिया है. पर शुद्धतावादी अब भी इसे ‘ज्यं’ ही पढ़ते हैं. और अंग्रेजी में ‘jn’ ही लिखते हैं.

4. इसी अक्षर ‘ज्ञ’ को मराठी ने भी रखा हुआ है. मगर उसका उच्चारण मराठी में है ‘द्यं’.

मतलब लिखा हुआ शब्द ‘ज्ञान’ 3 तरीकों से पढ़ा जा सकता है:

table

5. ऐसी कई शुद्ध ध्वनियां हैं जिनके उच्चारण में हम भेद नहीं कर पाते. जैसे ‘श’ और ‘ष’. ‘रि’ का उच्चारण ‘ऋ’ से कितना अलग है, इसका आम उच्चारण में ध्यान नहीं रखा जाता. कई पत्रकारीय संस्थान ‘ऋतिक’ (एक्टर का नाम) से ‘रितिक’ की ओर बढ़ चुके हैं, उच्चारण की सहजता के चलते.

इसलिए किसी का नाम अगर ‘प्रज्ञा’ हो. तो उसको अंग्रेजी में Pragya लिखते हैं हम. मगर असल बात तो ये है कि ‘ज्ञ’ को ‘gy’ लिखने से ‘ञ’ की साउंड का लोप हो जाता है. और ‘प्रज्ञा’ का उच्चारण ‘प्रग्या’ हो जाता है. चमका?

और जाते-जाते

अमिताव घोष को गूगल करिएगा. अगर लिखने-पढ़ने में रुचि हो तो उनकी किताबें मंगाकर जरूर पढ़िएगा. और ज्ञानपीठ को जनानपीठ न कहिएगा.


 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
in the light of amitav ghosh receiving jnanpith award, know why gyan is written as jnan in hindi

गंदी बात

हीरो की हिंसा और शोषण को सहने वाली बेवकूफ नायिकाएं

हमें क्रोध और हिंसा क्यों रोमैंटिक लगते हैं?

नौकरानी, पत्नी और 'सेक्सी सेक्रेटरी' का 'सुख' एक साथ देने वाली रोबोट से मिलिए

ब्लॉग: हमारे कुंठित समाज को टेक्नोलॉजी का तोहफा.

हम रेप की कहानियां किस तरह सुनना चाहते हैं?

मसाला छिड़ककर या मलाई मारकर?

मलाइका अरोड़ा की कांख पर कुछ लोगों की आंख क्यों चढ़ गई?

कुछ ने तारीफ़ की. मगर कई लोग मुंह भी बना रहे हैं. लिख रहे हैं, वैक्स क्यों नहीं करवाया.

साइकल, पौरुष और स्त्रीत्व

एक तस्वीर बड़े दिनों से वायरल है. जिसमें साइकल दिख रही है. इस साइकल का इतिहास और भूगोल क्या है?

महिलाओं का सम्मान न करने वाली पार्टियों में आखिर हम किसको चुनें?

बीजेपी हो या कांग्रेस, कैंडिडेट लिस्ट में 15 फीसद महिलाएं भी नहीं दिख रहीं.

लोकसभा चुनाव 2019: पॉलिटिक्स बाद में, पहले महिला नेताओं की 'इज्जत' का तमाशा बनाते हैं!

चुनाव एक युद्ध है. जिसकी कैजुअल्टी औरतें हैं.

सर्फ एक्सेल के ऐड में रंग फेंक रहे बच्चे हमारे हैं, इन्हें बचा लीजिए

इन्हें दूसरों की कद्र न करने वाले हिंसक लोगों में तब्दील न होने दीजिए.

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बच्चे के ट्रांसजेंडर होने का पता चलने पर मां ने खुशी क्यों मनाई?

आप में से तमाम लोग सोच सकते हैं कि इसमें खुश होने की क्या बात है.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.