Submit your post

Follow Us

हेफनर ने सेक्स को फेमिनिज्म, होमो-सेक्सुअलिटी, एबॉर्शन और इकॉनमी सबसे जोड़ दिया था

मैं ह्यू हेफनर हूं. आपको लगता है कि आप मेरे बारे में सब जानते हैं: मैगजीन, महल, वो पार्टियां और औरतें. सब आपको पता है. पर आप इसका आधा भी नहीं जानते. (हेफनर पर अमेजॉन की सीरिज के ट्रेलर की शुरुआत में है ये बात.)

ह्यू हेफनर. ये नाम आते ही दिमाग में खूबसूरत लड़कियां, बड़े-बड़े महल, बड़े स्विमिंग पूल, टब, बड़ा बेडरूम, स्पोर्ट्स कार और लगातार सेक्स की तस्वीरें चौंधने लगती हैं. लगता है कि ये आदमी इंद्रजाल फैलाए हुए था जिसमें तमाम हूरें फंसती जा रही थीं. आम आदमी की दुनिया से परे इसी धरती पर इसने एक अलग लोक बसा रखा था. जिसके दर्शन उसकी मैगजीन प्लेबॉय से होते हैं. वो लोक जिसमें 86 साल के हेफनर 19 साल की लड़की से शादी का ऐलान करते हैं और शादी के दिन शादी तोड़ लेते हैं.

होगा कोई स्पोर्ट्समैन, ग्रेट एक्टर, पॉलिटिशियन या कलाकार. होंगे लोग फेमस. पर फैंटेसी की जो दुनिया हेफनर ने बसाई है वो लोगों के दिमाग पर चढ़ जाती है. ऐसा व्यक्ति इतिहास में नहीं हुआ है. सही गलत से परे वो अपनी इमेज जीता है, आपको भरोसा दिला देता है कि इसी दुनिया में कुछ भी किया जा सकता है. सही के नियमों को बदला जा सकता है.

Hugh_Hefner_1966
60 के दशक के हेफनर, अपने सिग्नेचर पाइप के साथ

पर उसने क्या किया था यहां तक पहुंचने के लिए

दिसंबर 1952 में 26 साल का हेफनर शिकागो की एक बस्ती में पुल पर खड़ा था. कड़कड़ाती ठंड में वो अपनी टूटती शादी और स्तरहीन नौकरी के बारे में सोच रहा था. ये दर्द इसलिए औऱ बढ़ गया था क्योंकि कुछ दिन पहले ही अपने स्कूल के एक प्रोग्राम में हेफनर ने जोक मारे थे, एक्टिंग की थी औऱ लोगों ने तालियां बजाई थीं. तो उसे लगने लगा था कि मेरी वही जिंदगी ठीक थी. स्कूल वाली. उन दिनों की एक्टिंग कर के खुश हो जाता हूं मैं.

कुछ सप्ताह बाद हेफनर ने अपनी मैगजीन शुरू की. इरादा था लोगों को खुश करने का. बस. दिसंबर 1953 में आए पहले अंक में मर्लिन मुनरो की 1949 की न्यूड तस्वीरें छपीं. हेफनर जिंदगी में कभी मुनरो से नहीं मिले थे. 15 साल के अंदर हेफनर ने प्लेबॉय को अमेरिका का एक अलग ब्रांड बना दिया. जहां कैनेडी और लिंकन की बात होती थी, मुहम्मद अली की बातें कोट की जाती थीं, हेफनर की बातें भी कोट की जाने लगीं. प्लेबॉय का साम्राज्य सिनेमा, म्यूजिक, क्लब, रिसॉर्ट्स, टेलीविजन शोज हर जगह पहुंच गया. प्लेबॉय का खरगोश का लोगो अमेरिकन ड्रीम का हिस्सा बन गया.

marilyn-monroe-1953
प्लेबॉय का पहला अंक

एस्क्वायर मैगजीन में काम करते थे हेफनर. पैसे नहीं बढ़ाए तो नौकरी छोड़ दी थी. इसी मैगजीन ने बाद में हेफनर का इंटरव्यू लिया जिसमें हेफनर ने कहा: मैं हजार से ऊपर औरतों के साथ सो चुका हूं.

हेफनर यहीं नहीं रुके. 1969 में वियतनाम वॉर के दौरान अमेरिकी सैनिकों को इनकी मैगजीन की जरूरत पड़ती थी. खुद को खुश रखने के लिए. फैंटेसी जरूरी थी युद्ध की क्रूरता में जिंदा रहने के लिए.

soldier
वियतनाम युद्ध का सैनिक, यही फोटो हर जगह पॉपुलर हुई थी

टाइम मैगजीन के कवर से लेकर शहरों के बोर्ड तक स्विमिंग पूल के किनारे अपनी तमाम गर्लफ्रेंड्स के साथ बैठे हेफनर की तस्वीरें हर जगह छा गईं. मीडिया रोज हेफनर की जिंदगी के किस्से सुनाता. हेफनर ने भी स्टूडियो में बैठकर पाइप पीते हुए परंपरागत नैतिकता को थोड़ा बदलने का हुक्म दे दिया. कहा कि मैं अमेरिका की सेक्शुअल क्रांति का चेयरमैन माओ हूं. इस गोरिल्ला लड़ाई की रवायत मुझसे सीखिए.

hugh_hefner_04_kb_141010_22x15_1600
हेफनर अब स्टार बन चुके थे

हेफनर की रिस्क टेकिंग एबिलिटी बहुत ज्यादा थी. चार्ल्स ब्यूमो की स्टोरी ‘द क्रुकेड मैन’ होमोसेक्सुअलिटी पर थी. एस्क्वायर ने इसे छापने से मना कर दिया. हेफनर ने प्लेबॉय में छाप दिया. लोग नाराज हुए पर हेफनर का कहना था कि अगर होमोसेक्सुअल सोसाइटी होती औऱ वो लोग हीटरोसेक्सुअल लोगों को परेशान करते तब तो आपका इनको परेशान करना सही है.

1963 में हेफनर को गिरफ्तार कर लिया गया. क्योंकि प्लेबॉय में जेन मैन्सफील्ड के न्यूड फोटो छपे थे. केस चला और हेफनर को सजा नहीं हुई.

jayne
जेन मैन्सफील्ड के फोटो वाला अंक

हेफनर के किस्से बढ़ते ही गए, इतने कि प्लेबॉय एक अलग कल्चर बन गया

सबका एक ही सपना था. सही लड़की मिल जाए, शादी कर लो, शहर से थोड़ा दूर घर ले लो, फिर दोस्तों के साथ घूमो. लड़की घर पर रहे बच्चों के साथ. मुझे ये चीज सैड कर देती थी. (हेफनर)

इस मैगजीन का सबसे फेमस फीचर था प्लेमेट. जो बीच में आता था. इसमें एक ऐसी औरत होती थी जो कल्पना की औरत थी. वो आर्ट, पॉलिटिक्स और म्यूजिक की दीवानी थी. वो सोफिस्टिकेटेड थी, दिमाग की तेज थी और बेहद खुशनुमा थी. वो मर्दों के पीछे शादी के लिए नहीं भागती थी. वो सेक्स को एंजॉय करती थी, इसलिए मर्दों से मिलती थी. इन सारी औरतों की एक खास बात थी. ये अपने पहले की मॉडल्स से अलग थीं. ये ऐसी औऱतें थीं जो अमेरिकी लोगों के आस-पास रहती थीं. ऐसा किसी मैगजीन के इतिहास में नहीं हुआ था.

बात यहां से आगे बढ़ने लगी. केस चलते रहे. और 1969 में हेफनर ने अपनी मैगजीन में प्यूबिक बालों समेत फोटो लगा दी. 1972 में फुल फ्रंटल न्यूड फोटो लगा दी. ये चीजें अमेरिकी सैनिकों को सबसे ज्यादा पागल बनाती थीं क्योंकि अमेरिका दुनिया में कई जगह लड़ रहा था. हेफनर ने बाकी लोगों के लिये भी कॉलम रखा था. द प्लेबॉय एडवाइजर में आप सेक्स से लेकर दारू और घर के डिजाइन किसी चीज के बारे में पूछ सकते थे. ये मैगजीन सबको वो सपना दिखाती थी जो लोग पैसे कमाने के बाद करने का सोचते थे. द ग्रेट अमेरिकन ड्रीम के बाद का लेवल था ये. सैनिक लड़ाई से लौटने के बाद ये सब करने का सोचते थे. हेफनर लोगों के दिमाग में घुस गए थे.

Hugh-Hefner-with-Carla-and-Melissa-Howe
हेफनर अपनी मॉडल्स के साथ

हेफनर ने सेक्स को फेमिनिज्म, होमोसेक्सुअलिटी, एबॉर्शन, लोगों पर जुल्म और इकॉनमी सबसे जोड़ दिया. अमेरिकी के क्रांतिनायक मैल्कम एक्स से लेकर नाजी नेता जॉर्ज लिंकन से लेकर आम लोगों तक का इंटरव्यू छाप दिया. इसी के साथ एडिटोरियल भी आने लगा कि वियतनाम में अमेरिका अच्छा नहीं कर रहा है. सैनिकों के बारे में भी हेफनर ने दबा के छापा. सैनिक प्लेबॉय को अपनी समस्याएं बताते थे. कहते कि आप के चलते हम अपनी समस्याएं भूल जाते हैं.

हेफनर के बुरे दिन भी आए, पर जो सुधर जाए वो हेफनर कैसे बन सकता है

1964 में हेफनर ने प्लेबॉय फाउंडेशन बना दिया जो कि सेंसर से लड़ने के लिए था. इंसान की सेक्सुअलिटी पर रिसर्च इसका काम था. लड़ाई में थके हुए अमेरिका की सेक्सुअल एनर्जी को हेफनर बाहर निकाल रहे थे. 1972 तक हेफनर ने अरबों रुपये कमा लिए. एक प्राइवेट जेट था इनका जिसको सभी लोग एक बार अंदर से देखना चाहते थे. इसमें लिविंग रूम था, डिस्को था, मूवी थिएटर था, बार तो था ही. हेफनर के लिए एक गोल बेड भी था.

पर 1975 के बाद हेफनर की क्रांति को चैलेंज करने वाले लोग आ गए. पेंटहाउस मैगजीन आ गई जिसको किसी भी चीज से परहेज नहीं था. किसी भी मतलब किसी भी.

penthouse
पेंटहाउस मैगजीन

इसके जवाब में हेफनर ने भी खूब न्यूड फोटो निकालने शुरू किये. पर इसी बीच एक और झटका लगा हेफनर को. फेमिनिस्ट आइकॉन ग्लोरिया स्टीनेम अपनी पहचान छुपाकर प्लेबॉय में वेटरेस के तौर पर काम करने लगीं. औऱ फिर इनको एक्सपोज किया. इसके बाद पीटर बोगानोविच की किताब ने प्लेबॉय के एक स्टाफ के मर्डर का जिक्र किया. इसके बाद हेफनर को हार्ट अटैक आ गया. हेफनर ने शादी कर ली. फैमिली लाइफ गुजारने लगे. और पहली पत्नी से हुई बेटी क्रिस्टी को प्लेबॉय का सीईओ बना दिया. मैगजीन नये फैशन में भी शामिल हो गई. औऱ नये तरीके से पैसे कमाने लगी. कपड़े, शोज और तमाम चीजों ने फिर पैसा बना दिया. हेफनर दुनिया की मदद करने निकल गये. फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन अवॉर्ड भी देने लगे. इसके बाद प्लेबॉय टीवी सीरिज बनाने में भी आ गई. 2005 में द गर्ल नेक्स्ट डोर के नाम से फेमस सीरिज बनाई.

2010 में हेफनर ने 86 साल की उम्र में फिर शादी करने की घोषणा की. पर शादी के दिन ही शादी तोड़ ली. बिजनेस पर ध्यान देने लगे. इसके बाद कंपनी में बदलाव आने लगे. मार्च 2016 में प्लेबॉय के कवर पर बिकिनी पहली मॉडल सारा मैकडैनिएल दिखीं. और पहली बार प्लेबॉय बिना न्यूडिटी के दिखा. जून 2016 में प्लेबॉय महल बिक गया.

2017 में प्लेबॉय ने फिर न्यूड फोटो छापने शुरू कर दिये.

The March/April 2017 cover of March 2017 Playmate, Elizabeth Elam, is shown in this handout photo provided February 13, 2017. Courtesy Gavin Bond/Playboy Enterprises, Inc/Handout via REUTERS ATTENTION EDITORS - THIS IMAGE WAS PROVIDED BY A THIRD PARTY. EDITORIAL USE ONLY. NO RESALES. NO ARCHIVE
प्लेबॉय 2017 का अंक

प्लेबॉय महल

यही घर था हेफनर का. लॉस एंजिलिस में बसा हुआ जहां हेफनर की फेमस पार्टियां होती थीं. 60 और 70 के दशक में हर कोई यहां जाना चाहता था. 5 एकड़ में बसा हुआ ये महल 22 कमरों का था. दारू की एक अलग कोठरी थी. पाइप पीने के लिए अलग कमरा. तीन चिड़ियाघर थे. टेनिस कोर्ट था. एक झरना था. स्विमिंग पूल तो था ही. और भी जितनी चीजें सोच सकते हैं, सब थीं. 2007 में यहीं पर फेमस मिडसमर नाइट्स ड्रीम पार्टी हुई थी. 2016 में प्लेबॉय महल 120 अरब रुपये में बिक गया.

hugh-hefners-iconic-playboy-mansion-is-going-on-sale-for-200-million
प्लेबॉय महल

हेफनर ने कुछ बातें भी की हैं जिन्हें आजकल के सेलिब्रिटी कोट करते रहते हैं:

# जिंदगी इतनी छोटी है कि किसी और का सपना नहीं जिया जा सकता.
#  मक्का जाने के रास्ते कई हैं.
#  उमर बस एक नंबर है.
# अगर आप जिंदगी पर और खुद पर हंस नहीं सकते तो समझिए कि बूढ़े हो गए.
#  अपने अंदर के उस बच्चे से मिलते रहो जो असंभव सपने देखता था.
# मेरे मां-बाप वंडरफुल लोग थे. उन्होंने मेरे अंदर आदर्शवाद भरा जिसके लिए मैं आभारी हूं.
# सबसे मजेदार बात है कि एक आदमी अपनी फैंटेसी तो जी ही रहा है, वो ना जाने कितने लोगों की फैंटेसी जी रहा है.

हेफनर कहते हैं: हम दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में रहते हैं. मैंने एक हिस्सा बनाने में मदद की. नये लोगों को इसके बारे में कुछ नहीं पता. दुनिया में जो अश्लीलता है उसका सेक्स से कुछ खास लेना-देना नहीं है.

जब गर्लफ्रेंड होली मैडिसन ने हेफनर को छोड़ा था तो तमाम लड़कियां हेफनर से शादी करने के लिए उनके घर के बाहर पहुंच गईं. पर मैडिसन ने ह्यू हेफनर पर ये आरोप लगाए थे:

hefner
हेफनर और होली मैडिसन

#  होली मैडिसन ने आरोप लगाया था कि जो भी लड़की महल में घुसती उसे हेफनर के साथ सोना पड़ता था.
#  लड़कियों को पैसा और सेलिब्रिटी का स्टेटस मिलता पर वहां वो जेल के कैदियों की तरह रहती थीं. हेफनर अपने साथ ही बाहर ले जाते थे उनको.
#  मैडिसन ने ये भी कहा कि हेफनर अपने पुराने दिनों के सेक्स वीडियो चलाते, गांजा मारते और उनके साथ बैठकर लड़कियां देखती रहतीं.
# लड़कियों के ब्रेस्ट इम्प्लांट से लेकर हर तरह की सर्जरी हेफनर ही करवाते.
#  महल में आने वाली हर लड़की की तस्वीर रखते थे हेफनर. एक लॉगबुक भी मेनटेन करते थे. जिसमें सारी डिटेल होती कि किसके साथ सेक्स किया, किस पोजीशन में किया और किसकी परफॉर्मेंस कैसी थी, इसकी ग्रेडिंग होती थी.

अमेजॉन सीरिज का वो ट्रेलर:


ये आर्टिकल ऋषभ ने लिखा है.

 

 

Also Read:

जापान मोदी से ज्यादा इस इंडियन को मानता है, जिसका किरदार इरफान निभाएंगे

ट्रेन के स्लीपर डिब्बे में घटी एक दिल छू लेने वाली कहानी

इस आर्टिस्ट ने 6 घंटे के लिए लोगों को अपने साथ कुछ भी करने की छूट दी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.