Submit your post

Follow Us

लोकसभा चुनाव 2019: पॉलिटिक्स बाद में, पहले महिला नेताओं की 'इज्जत' का तमाशा बनाते हैं!

1.45 K
शेयर्स

ठोंक डाला. मार डाला. उड़ा दिया. बम मार दिया भाईस्साब. युद्ध और हिंसा. इनसे जुड़ी उपमाओं का इस्तेमाल कर बड़ी फील आती है. क्रिकेट से लेकर इलेक्शन तक. पबजी वाले हैं न हम.

इलेक्शन यानी सबसे बड़ा युद्ध. युद्ध में कोई जीतेगा. कोई हारेगा. पर हर युद्ध की तरह इसमें भी कुछ कैजुअल्टी होंगी. वो फौजी जो चाहे जीतें. चाहे हार जाएं. पर बेहद गंभीर तरीके से घायल जरूर हो जाएंगे. हमारे इलेक्शन्स में ये कैजुअल्टी औरतें होंगी.

PP KA COLUMN

1.

हाल ही में जयाप्रदा ने बीजेपी जॉइन की है. पुरुष नेता जितनी बार पार्टियां बदलते हैं. उसकी कोई गिनती नहीं है. पर जयाप्रदा ने किया तो सपा नेता फिरोज खान क्या बोले.

‘मैं एक दिन बस में था. जाम लगा हुआ था. उसी जाम में उनका (जया प्रदा) काफिला भी फंसा हुआ था, मुझे लगा कहीं यह जाम खुलवाने के लिए वह ठुमका ना लगाने लगें!…अब तो रामपुर की शामें बहुत रंगीन हो जाएंगी. रामपुर के लोग भी बहुत अच्छे हैं. वोट तो वे आजम खान को ही देंगे. लेकिन मजे जरूर लूटेंगे. मुझे चिंता है कहीं हमारे संभल के लोग भी मजे लूटने ना चले जाएं.’

2.

-प्रियंका गांधी वाड्रा. थोड़ा समय हो गया इन्हें पूर्वी उत्तर प्रदेश की जिम्मेदारी उठाते हुए. लेकिन नीचता बराबर जारी है. कैलाश विजयवर्गीय, बीजेपी के महासचिव. इनने कहा था:

‘कांग्रेस के पास लीडर नहीं है. इसलिए वो चॉकलेटी चेहरे के माध्यम से चुनाव में आना चाहते हैं.’

-कुछ समय पहले एक्ट्रेस पायल रोहतगी ने एक ट्वीट डाला था. लिखा था: ‘पॉर्न स्टार सनी लियोनी को खड़ा कर दो प्रियंका गांधी के साथ, वो बॉक्स ऑफिस के साथ बेडरूम स्टोरीज़ में भी हिट हैं.”

-सुब्रह्मण्यम स्वामी भी पीछे नहीं रहे थे. उन्होंने कहा था- ‘प्रियंका को बाईपोलर डिसऑर्डर है. वो लोगों को पीट देती हैं. अपनी बीमारी की वजह से वो इस लायक नहीं कि पब्लिक में रह पाएं. वो कभी भी अपना मानसिक संतुलन खो सकती हैं.’

अंग्रेजी में एक शब्द होता है विच हंटिंग. यानी औरत को चुड़ैल बताना. और उसे समाज को खतरा बताते हुए, उसके साथ हिंसा करना. जो औरतें नेता बनने, या किसी भी ऐसे फील्ड में घुसने की कोशिश करती हैं. जिसमें पुरुषों का बोलबाला है, उनकी विच हंटिंग शुरू हो जाती है. अब ट्विटर है. इंटरनेट लगभग मुफ्त है. तो शब्दों से काम चल जाता है.

3.

अलका लांबा खुद कई बार इस तरह के कमेंट्स का शिकार हो चुकीं हैं. मगर नासमझी औरत या मर्द देखकर नहीं आती. ईशा कोपिकर बीजेपी में शामिल हुईं तो अलका ने मानो प्रियंका का ‘बदला’ लेते हुए कहा.

‘बेटी बचाओ. कहीं चॉकलेट समझकर खा न लें.’

4.

विजयवर्गीय का चॉकलेट बयान बहुत दिनों तक लोगों को कल्लाया. इसलिए उन्होंने फैसला लिया कि वो उससे भी घटिया बयान देंगे. मध्यप्रदेश के CM कमलनाथ हैं. उनकी कैबिनेट के मंत्री सज्जन सिंह वर्मा. बोले:

‘ये बीजेपी का दुर्भाग्य है कि उनकी पार्टी में सब खुरदुरे चेहरे हैं. बड़े ऐसे चेहरे हैं, जिनको लोग नापसंद करते हैं. तो इसमें हम क्या करें? एक हेमा मालिनी हैं बेचारी. जिनको जगह-जगह नृत्य कराते रहते हैं, शास्त्रीय नृत्य.’

 

5.

बीजेपी-कांग्रेस से आगे बढ़ते हैं. किसी महिला का अपमान करना हो. तो मायावती लोगों की फेवरेट हैं. उन्होंने अपने पूरे करियर में काम कैसा किया. कितने विवादों में फंसी. ये मुद्दा अलग है. और असल भी है.

अगर नीचता की ऊंचाइयां होतीं. तो ये वो जगह होती, जहां से मायावती पर टिप्पणियां की जाती हैं. कुछ समय पहले की बात. महेंद्र नाथ पांडे. शॉर्ट में एमएन पांडे. उत्तर प्रदेश में बीजेपी के अध्यक्ष हैं. एक सभा में भाषण दे रहे थे. भाषण देते हुए सपा और बसपा के बीच हुए गठबंधन को लेकर बोले:

‘मैंने सोशल मीडिया पर देखा एक नौजवान ने पोस्ट कर दिया कि श्री अखिलेश जी, माया जी को शॉल पहना रहे हैं. तो नौजवान लिखता है नीचे- अखिलेश के मुंह से कि- ‘ये वही शॉल है जो गेस्ट हाउस में पिता जी ने उतारा था.’

गेस्ट हाउस यानी गेस्ट हाउस कांड. 2 जून 1995 . यूपी के राजनीतिक इतिहास का एक काला दिन. इस दिन मायावती लखनऊ में स्टेट गेस्ट हाउस में ठहरी हुई थीं. उन्होंने मुलायम सरकार से समर्थन वापस ले लिया था. गुस्से में उबलते सपा विधायक और गुंडों ने वहां हंगामा काट दिया. मायावती के साथ उस दिन ‘बदसलूकी’ हुई, ऐसा कहना अंडरस्टेटमेंट होगा. उनकी मानें तो उनके कमरे का दरवाजा पीटा गया. भद्दी गालियां सुनाई गईं. और वो बाल-बाल बचकर निकली थीं. इस कांड के बाद से ही सपा और बसपा के बीच तीखी तलवार खिंच गई थी. अखिलेश के बाद दरार कम हुई. पर जबतक मायावती को वो रात याद न दिलाई जाए. तब तक इलेक्शन में fun कैसे आएगा. कुछ दिनों पहले मायावती ने मोदी पर सवाल उठाते हुए कहा. जो खुद इतने शाही अंदाज़ में रहता है. वो खुद को कभी चाय वाला और कभी चौकीदार बताता है. बीजेपी विधयाक सुरेंद्र नाथ सिंह ने जवाब दिया:

‘मायावती जी क्या कहेंगी. वो खुद रोज फेशियल करवाती हैं. और हमारे नेता को शौकीन कहती हैं. वस्त्र पहनना शौकीन होने की बात नहीं होती. शौकीन होने की बात वो होती है, कि बाल पका हुआ है और बाल रंगवाकर मायवती आज भी अपने को जवान साबित करती हैं. 60 साल की उम्र हो गई, लेकिन सारे बाल काले हैं, इसको कहते हैं बनावटी शौक.’

*

इनमें से कोई बयान नया नहीं है. न पुराना है. समय, साल और सत्ता बदलते हैं. तो इन औरतों के नाम बदल जाते हैं. बयान वही रहते हैं. पॉलिटिक्स यानी शक्तिप्रदर्शन के खेल में, औरतों से अपेक्षित है कि वो वैसी ही रहें. जैसी कई साल पहले थीं. रजवाड़ों के खानदान से आएं. सर पर पल्लू रखें. और वो करें जो उनके पति, पिता या ससुर कर गए. वफादारी दिखाएं. समझदारी नहीं.

पर वो तो करेंगी जो उन्हें करना है. आज आइटम सॉन्ग. कल राजनीति. दोनों गर्व से. आप देखते जाइए.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
how each election in india is an occasion to repeatedly disgrace women by passing sexist and derogatory remarks

आरामकुर्सी

जिनको 'क्रूरता' के लिए याद रखा गया, उन्होंने लता मंगेशकर को सोने का कुंडल इनाम दिया

एक ऐसी एक्ट्रेस की कहानी, जिसकी जिंदगी किसी फिल्म से कम नहीं थी.

आसाराम के 3 क्रिमिनल केसेज़ की असली कहानियां जो विचलित करने वाली हैं

इन्हें पढ़कर शायद उसके पुराने समर्थकों की बंद आंखें भी फटी रह जाएं.

वो शर्ट पहनता हूं तो लगता है, मैं भी पापा जैसा हो गया हूं

हममें से हर किसी के पास एक शर्ट होती है, जो हमारी सेकेंड स्किन बन जाती है. आपकी फेवरेट कौनसी है?

गांधी के चंपारण सत्याग्रह के 102 साल, पर हीरो कोई और भी था

ऐसे रची गई थी निलहों से मुक्ति की कहानी.

कांग्रेस का ये नेता देश के सबसे अमीर स्कूल में पढ़ने वाला सबसे गरीब स्टूडेंट था

पुजारी गैर-हिंदू लड़की से शादी कराने के बदले व्हिस्की मांग रहा था, तो इन्होंने मंदिर में शादी नहीं की.

भारत में सबसे लंबे समय तक लगातार चुनाव जीतने वाले केएम मणि नहीं रहे

कोट्टायम के पाला ने अपने इतिहास में एक ही विधायक देखा था - केएम मणि.

वो नेता जिसके जीतने पर अखबारों ने छापा- बाबू ने बॉबी को हरा दिया!

आज उस नेता का जन्मदिन है, जो पचास साल तक संसद में रहा जो कि वर्ल्ड रिकॉर्ड है.

मार्टिन लूथर ने कहा,'आज मेरा एक सपना है', पूरा अमेरिका उनके पीछे चल पड़ा

पढ़िए 'I Have a dream' और जानिए कि आखिर क्यों ये पूरी दुनिया में आज तक का सबसे ज़्यादा चर्चित भाषण है.

फील्ड मार्शल मानेकशॉ को 7 गोलियां लगी, डॉक्टर्स ने पूछा तो बोले- अरे कुछ नहीं, एक गधे ने लात मार दी

जिन्होंने इंदिरा गांधी से कहा था कि नाक मेरी भी लंबी है लेकिन मैं इसे दूसरों के मामले में नहीं घुसाता.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.