Submit your post

Follow Us

दिल्लगी-ए-दिल्ली : यहां से शहर को देखो

180
शेयर्स

‘दी लल्लनटॉप’ में इन दिनों हमारे नए साथी हैं सावज राज सिंह. वे हमारे साथ इंटर्नशिप कर रहे हैं. सावज भारत के पश्चिमी अंतिम सिरे, ‘कच्छ का रण’ से आते हैं और ढाई महीने पहले ही राजधानी आये हैं. वे इस शहर को अपनी नई नज़रों से निरख रहे हैं. हमने फ़ौरन उनसे जानना चाहा, देश की सुदूर सीमा से आने वाला एक नौजवान इस फ्लाईओवरों और मेट्रो वाले शहर में क्या नया देखता है, क्या नया पाता है. क्या पता, उनकी नज़रों से देखें तो हम शहरी बाशिंदों को भी इस पहचाने शहर की गलियों, बाजारों में छिपे किसी नए शहर का पता मिल जाए.


29 फरवरी की रात अपने जन्मदिन के दिन जब सिंधु-अरब सागर तट से यमुना तट आ गया तब लगा जैसे किसी भयानक, डरावने कब्रिस्तान में आ गया हूं. डरावनी भीड़, वाहनों का भयंकर शोर, जल्दी-जल्दी आसपास से गुपचुप गुजरते भावनाहीन चेहरे, चमचमाती सड़कें और तारों की तरह टिमटिमाती इमारतें. कोई परिचित चेहरा नहीं और न किसी चेहरे पर स्नेह भरा स्मित. जैसे किसी कब्रिस्तान में सारी प्रेतात्माएं जाग गईं हैं और भटक रही हैं चौतरफा. इतना सारा कोलाहल होते हुए भी हर दिल में एक अजीब सा सन्नाटा पसरा हुआ था.

पारिवारिक वैचारिक मतभेद और मानसिक तनाव के चलते दिल्ली आया था तो सोचा था कि वहां रहकर कुछ काम कर लूंगा और साथ साथ मुख्यधारा के हिंदी साहित्य एवं कला को नजदीक से जान-समझ पाउंगा. पर यहां आते ही एकदम से दिल्ली शहर ने डरा दिया! पहली बार की ही मुलाकात में इस शहर ने अपने मिजाज़ के अनुरूप साफ-साफ धौंस जमाई मुझ अजनबी पर. मैं शुरू में तो अंदर से डरा हुआ था पर दिखावा इस तरह कर रहा था कि इस शहर को नाप कर छोडूंगा. इस आवारा, अकड़ू शहर को मुझे सहज तरीके से स्वीकार न करना और मुझसे भिड़ जाना मंहगा पड़ेगा. मैंने मन ही मन हुंकार भरी कि सांई मुझ सा अड़ियल ना देखा होगा कोई दूसरा.

शुरुआत में तो रोड क्रॉस करने में दिक्कत, मेट्रो में सफर करने में दिक्कत, यहां के खाने से दिक्कत. फिर धीरे-धीरे डर निकलता गया और मैं शहर का अभ्यस्त होता गया. शायद दिल्ली शहर का भी अब अकडूपन छूट रहा था. शहर ने अब स्वीकार कर लिया था कि यह जिद्दी बच्चा यहां से जाने वाला नहीं है, और वो धीरे-धीरे मेरे लिए दिल के दरवाजे खोल रहा था. हां, खाने से अब भी कुछ दिक्कतें थीं. यहां का मसालेदार खाना हजम नहीं होता. और एक डर बना रहता कि बाहर गया और पेट में इमरजेंसी दबाव आया तो शरीर महोदय की पूरी सरकार हिल जायेगी और बेज्ज़ती होगी सो अलग!

एक और मुश्किल थी. दिशाएं. पता ही नहीं चल पाता था कौन सी दिशा पूर्व या पश्चिम है, कौन सी उत्तर और दक्षिण. किसी से रास्ता पूछता और वो बताता पूर्व में, मैं पश्चिम की ओर चल देता. पर धीरे-धीरे अब सब सामान्य हो रहा है. मैं महानगरीय तहज़ीब और तमीज सीख रहा हूँ और एक दिन ‘सो कूल’ वाला शहरीपन भी आ ही जायेगा.

मैं कभी स्कूल, कॉलेज नहीं गया था तो शैक्षणिक संस्थान और सिस्टम देखने के लिए बड़ी उत्सुकता थी. दिल्ली यूनिवर्सिटी मेरे रहने के स्थान के काफी पास है तो अक्सर वहां जाना होता रहा है. इन सबको देख समझकर व्यक्तिगत रूप से मैं मानता हूं कि दिल्ली यूनिवर्सिटी में फैशन है, जबकि जेएनयू पैशन है. दिल्ली यूनिवर्सिटी से आप आकर्षित हो सकते हैं जबकि जेएनयू आप पर गहरा असर छोड़ता है. समूचे शैक्षणिक संदर्भ में मुझे गुजरात से दिल्ली मीलों आगे दिख रहा है.

पहले पहल प्रसिद्ध स्थापत्य, कला वाली जगहें घूमा. विविध संग्रहालय घूमे, बाग-बगीचे देखे और ग्राहकों से भरे बाजार देखे. पर कमबख्त गंवई दिल जा अटका स्लम क्षेत्रों पर और मन जा भटका जीबी रोड के वेश्यालयों में. ‘मजनू का टिल्ला’ की संकरी, बदबूदार गलियों में गूंजती खूबसूरत स्त्रियों की तीखी-खट्टी गालियाँ जैसे किसी आम्रवाटिका में कोकिल का टहुकना हो जो आमों में मिठास भर देता हो. पहाड़गंज में मजदूर का शराब पीकर, टुन्न होकर सारी दुनिया का सुल्तान बना फिरना हो. मंदिर, मस्जिद से ज्यादा पवित्र जीबी रोड की किसी वेश्या से स्नेहिल प्रसाद पाना हो. हालांकि जीबी रोड जाने में शुरुआत में डर लगता था. वहां के बारे में कुछ सुन रखा था तो कहीं न कहीं मगज में एक पूर्वाग्रह भी था. पर कुछ दिनों बाद मैं उनसे सहज हो गया और वो मुझसे. वहां की हर एक गणिका की एक कहानी है और हर कहानी हमारे समाज के खिलाफ एक आरोपपत्र है.

अक्सर दिल्ली दुनिया को जनपथ, राजपथ या कनॉट प्लेस, हौज़ खास वाली अपनी देह ही दिखाती है. लेकिन उसका दिल तो इन्हीं स्लम क्षेत्रों में धड़कता है. और अब तो कमबख्त दिल्ली से दिल्लगी सी हो गई है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.